अपना जिला

राजकुमार हिसारिया बने हनुमानगढ़ के नगर पिता

हनुमानगढ़। वार्ड चुनाव में परचम फहराने के बाद बुधवार को हुए सभापति के चुनाव में भी भाजपा ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की है। भाजपा के राजकुमार हिसारिया रिकार्ड अंतर से सभापति का चुनाव जीत नगर पिता बन गए हैं। उन्होंने कांगे्रस के मनोज सैनी को 33 मतों से पराजित किया। राजकुमार हिसारिया वार्ड 21 से निर्दलीय राजेन्द्र उर्फ गोनू को पांच सौ से अधिक मतों से हरा कर पार्षद चुने गए थे। सभापति पद के लिए उनका नाम तब चर्चा में आया जब उन्होंने वार्ड चुनाव के लिए नामांकन भरा। उन्हें जल संसाधन मंत्री की पहली पसंद बताया जा रहा था। उनके वार्ड चुनाव जीतते ही उनकी ताज पोशी तय हो गई थी। मात्र औपचारिकता भर रह गई थी जो बुधवार को पूरी हो गई। वार्ड चुनाव में भाजपा के 27 व कांग्रेस के 7 पार्षद निर्वाचित हुए थे। शेष 11 निर्दलीय चुनाव जीतने में सफल रहे। सभापति के प्रबल दावेदार माने जा रहे निर्दलीय गणेश बंसल के मंसूबों पर भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलने से पानी फिर गया। 7 निर्दलीयों के भाजपा को समर्थन की घोषणा के बाद सभापति का चुनाव मात्र औपचारिकता भर रह गया था। निर्दलीय गणेश बंसल और सुमित रिणवा ने भी राजकुमार का नाम सामने आने के बाद उन्हें समर्थन की घोषणा कर दी थी। कांग्रेस ने भी औपचारिकता पूरी करने के लिए वार्ड 24 से निर्वाचित मनोज सैनी का पर्चा सभापति के लिए भरवाया। जब परिणाम सामने आया तो उसके पाले का एक पार्षद का मत भाजपा के खाते में मिला। कांग्रेस प्रत्याशी को पार्टी का ही एक मत कम मिला। भाजपा के राजकुमार हिसारिया को 39 और मनोज सैनी को 6 मत मिले और हिसारिया को 33 मतों से सभापति निर्वाचित घोषित कर दिया गया। इतने अधिक मतों से भाजपा की जीत का श्रेय जल संसाधन मंत्री डा.रामप्रताप की रणनीति को दिया जा रहा है। आपको बता दें कि नए सभापति राजकुमार हिसारिया हनुमानगढ़ के प्रतिष्ठित कारोबारी श्री बनवारीलाल हिसारिया के बेटे हैं। आप तीन भाई और तीन ही बेटों के पिता हैं। आपकी स्नातक तक की शिक्षा हनुमानगढ़ में ही हुई । इन्होंने एमए जयपुर विश्वविद्यालय से करने के बाद वर्ष 1976 में जयपुर से ही लॉ किया परन्तु वकालत करने के बजाय व्यवसाय को प्राथमिकता दी। वे ग्वार गम के कारोबारी हैं और जंक्शन औद्योगिक क्षेत्र में उनकी फैक्ट्री है। हिसारिया के नगर पिता बनने से लोगों को शहर के चहुंमुखी विकास की आस जगी है। साथ ही उनके कुछ परम मित्रों की वजह से आशंकाएं सताने लगी हैं। जानकारों का कहना है कि श्री हिसारिया राजनीति में पूरी तरह से रचे बसे नहीं हैं। जबकि इस बार कई धुरंधर जो उनके करीबी माने जा रहे हैं परिषद में चुन लिए गए हैं जो उनकी निकटता का नाजायज फायदा उठा उनके लिए परेशानी का सबब बन सकते हैं। Date:- (Wed Nov 26, 2014 At 7:15 PM)

देश-प्रदेश

26/11 का हमला कभी खत्म न होने वाला दर्द: मोदी

काठमांडू सार्क सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई में आज ही के दिन छह साल पहले हुए आतंकवादी हमले का जिक्र करते हुए कहा कि भारत इस दर्द को भूला नहीं सकता है। उन्होंने कहा कि सार्क देश भौगलिक रूप से आस-पास है, लेकिन समय की मांग है कि वे साथ-साथ भी रहें। उन्होंने सदस्य देशों के बीच व्यापार और निवेश के लिए उपयुक्त माहौल बनाने को जोरदार वकालत की । मोदी ने मरीजों और कारोबारियों के लिए वीजा प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए भारत की ओर से पहल की भी घोषणा की। दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन के 18वें सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमने आतंकवाद और सीमा पार अपराध से लड़ने के लिए हमने, जो संकल्प कियाा है उसे पूरा करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आज जब हम मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले की भयावहता को याद कर रहे हैं, तो हमें जिन्दगियां जाने का अपार दुख महसूस हो रहा है। आर्थिक मोर्चे पर सार्क देशों से प्रक्रिया सरल करने की मांग करते हुए मोदी ने कहा कि आपसी मतभेद विकास में बाधक हैं और इस वजह से हम आपस में क्षमता से काफी कम व्यापार करते हैं। उन्होंने कहा कि कारोबार के नियम को आसान बनाने के लिए पहल करना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत अब सार्क देशों के लिए 3-5 साल के लिए बिजनेस वीजा देगा। इसके साथ ही उन्होंने यह घोषणा भी की कि इलाज के लिए आने वाले रोगी और उसके एक सहायक को भारत तत्काल मेडिकल वीजा उपलब्ध कराएगा। अपने भाषण की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री ने सार्क नेताओं से कहा, 'मैंने पूरे विश्व की शुभकामनाओं के साथ कार्यभार संभाला लेकिन मुझे जिसने प्रेरित किया, वह आपकी निजी मौजूदगी थी। जब हम सार्क की बात करते हैं तो हमें आम तौर पर दो प्रतिक्रियाएं निराशावाद और संशयवाद सुनने को मिलती हैं। हम उस गति से आगे बढ़ने में विफल रहे हैं, जिसकी हमारे लोग उम्मीद और इच्छा रखते हैं। सार्क देशों के साथ भारत का व्यापार काफी कम है। मेरा मानना है कि यह न तो ठीक है और न ही दीर्घकालिक है। एक अच्छा पड़ोस पूरी दुनिया की आकांक्षा है और विश्व में सामूहिक प्रयासों की सबसे ज्यादा आवश्यकता दक्षिण एशिया में है।' इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए आंतकवाद के मुद्दे पर कुछ भी नहीं बोला था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान विवाद-मुक्त दक्षिण एशिया के लिए प्रतिबद्ध हैं, हमारी समस्याओं को सुलझाने के लिए विश्वास पर आधारित संबंधों की जरूरत है। चीन को सार्क में शामिल करने की पैरवी करते हुए शरीफ ने कहा कि पर्यवेक्षकों की सक्रिय भूमिका से इस तरह के संवाद से सार्क समूह को मदद मिलेगी। चीन एक पर्यवेक्षक देश के तौर पर सार्क से 2005 में जुड़ा है। भारत नहीं चाहता कि चीन को सार्क का सदस्य बनाया जाए, क्योंकि उसे आशंका है कि वह इसका इस्तेमाल क्षेत्र में प्रभाव बढ़ाने के लिए करेगा। चीनी पूर्ण सदस्य न बनने की स्थिति में सार्क प्लस वन देश या फिर सार्क में डायलॉग पार्टनर की भूमिका के लिए दबाव डालता रहा है। कल मोदी के काठमांडू पहुंचने के बाद दोनों देशों ने 11 समझौतों पर दस्तखत किए। इनमें नेपाल को एक अरब डॉलर के कर्ज, मोटर वीइकल्स समझौता, बनारस और काठमांडू के बीच ट्विन सिटी को-ऑपरेशन और पुलिस सहयोग के समझौते शामिल हैं। इस मौके पर मोदी ने भारत की ओर से काठमांडू में बनाए गए 200 बिस्तरों वाले ट्रॉमा सेंटर को भी नेपाल को सौंपा। भगवान बुद्ध के जन्मस्थल लुंबिनी, जनकपुर और मुक्तिनाथ न जाने के अपने निर्णय के बारे में मोदी ने कहा कि समय कम होने के कारण वह वहां नहीं जा सके। उन्होंने दावा किया कि पिछले 25 वर्षों से रुके हुए द्विपक्षीय फैसलों पर अब कदम बढ़ाए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा, 'मेरी पहली और दूसरी यात्रा के बीच नेपाल में जिंदगियां बदलने के लिए और भारत को खुशी देने के लिए फैसले किए गए हैं।' 26 और 27 नवंबर को शिखर सम्मेलन में मोदी विभिन्न मुद्दों पर भारत की सोच सामने रखने के साथ ही अफगानिस्तान के राष्ट्रपित अशरफ गनी, बांग्लादेश की प्राइम मिनिस्टर शेख हसीना और श्रीलंका के राष्ट्रपि महिंदा राजपक्षे से मुलाकात करेंगे। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से मिलने का मोदी का कोई कार्यक्र नहीं है।

अपना जिला

हनुमानगढ़ की लड़कियों ने फिर बाजी मारी

हनुमानगढ़ प्राविधिक शिक्षा मण्डल, जोधपुर द्वारा कल देर रात प्रथम, द्वितीय व तृतीय वर्ष इंजिनियरिंग-२०१४ का परिणाम घोषित किया गया। श्रीदेवी महिला पॉलिटेक्निक की छात्राओं का परिणाम अति उत्तम रहा। प्रथम वर्ष में स्नेहा सेठी ८५.८५ के साथ प्रथम व प्रियंका ८५.६३ प्रतिशत अंकों के साथ द्वितीय स्थान पर रही। द्वितीय वर्ष कम्प्यूटर साईंस की हरदीप कौर ८१.२७ के साथ प्रथम व हिमानी ७९.२१ प्रतिशत अंकों के साथ दूसरे स्थान पर रही। द्वितीय वर्ष की आर्किटेक्चर शाखा की रेणु बाला ७९.३५ के साथ प्रथम व मनप्रीत कौर ७१.८७ प्रतिशत अंकों के साथ द्वितीय स्थान पर रही। द्वितीय वर्ष इलेक्ट्रोनिक्स शाखा में अमनदीप ८४.१८ व सुरभि ८१.१९ प्रतिशत अंकों के साथ द्वितीय स्थान पर रही। तृतीय वर्ष आई.टी. शाखा की शालू अमलानी ८०.०३ के साथ प्रथम व ईषा जिन्दल ७७.५७ प्रतिशत अंकों के साथ द्वितीय स्थान प्राप्त किया। तृतीय वर्ष की कम्प्यूटर साईंस शाखा की आरती शर्मा ८४.४४ अंकों के साथ प्रथम तथा दिव्या शर्मा ७९.८२ प्रतिशत अंकों के साथ द्वितीय स्थान पर रही। तृतीय वर्ष इलेक्ट्रोनिक्स शाखा की ज्योतिका अग्रवाल ८५.१३ अंकों के साथ प्रथम व सुमन ८१.४६ प्रतिशत अंकों के साथ द्वितीय स्थान पर रही। तृतीय वर्ष आर्किटेक्चर शाखा की दीक्षा ७९.६८ अंकों के साथ प्रथम व प्रियंका रानी ७८.६२ प्रतिशत अंकों के साथ द्वितीय स्थान प्राप्त किया। कॉलेज का परिणाम शत प्रतिशत रहा। इस वर्ष डिप्लोमा उत्तीर्ण करने वाली छात्राओं में से २३ छात्राओं ने डिप्लोमा में विशेष योग्यता (ओनर्स) से डिप्लोमा हासिल किया। प्राचार्य राजकुमार जैन ने सभी छात्राओं, अभिभावकों व स्टाफ को उत्कृष्ट परिणाम पर बधाई दी। Date:- (Wed Nov 26, 2014 At 6:07 PM)

अपना जिला

शहरी सरकार बनाने के लिए घरों से निकले लोग, रिकार्ड मतदान

हनुमानगढ़। शहरी सरकार बनाने के लिए शनिवार को नगर परिषद के हुए चुनाव में मतदान के पिछले रिकार्ड टूट गए। मतदान समाप्ति के एक घंटा पूर्व पांच बजे तक रिकार्ड 77.38 फीसदी मतदान हो चुका था। मतदान को लेकर लोगों में कितना उत्साह था, इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि एक मतदाता को उसके परिजन एंबुलेंस में लेकर मतदान करवाने के लिए मतदान केन्द्र पर पहुंचे। मतदान में हमेशा पीछे रहने वाले व्यापारी वर्ग में भी इस बार मतदान के प्रति पूरा उत्साह देखा गया। मतदान के साथ ही बोर्ड के गठन को लेकर सट्टा बाजार सक्रिय हो गया है। अध्यक्ष कौन बनेगा इसे लेकर अभी सट्टा नहीं लगाया जा रहा। अलबता सीटों को लेकर सट्टा लग रहा है। सटोरियों का मानना है कि जो सबसे ज्यादा पैसा खर्च कर पार्षदों की खरीद- फरोख्त करेगा ,वही अध्यक्ष बनने में कामयाब होगा । एक निर्दलीय के बारे में कहा जा रहा है कि उसने पांच करोड़ रूपए इसके लिए तैयार कर रखे हैं। सटोरियों के अनुसार स्पष्ट बहुमत किसी को भी मिलता नहीं दिख रहा है। सटोरियों की माने तो बीजेपी को सर्वाधिक 20 के आसपास सीटें मिलेंगी जबकि कांग्रेस को 6-7 सीट और शेष निर्दलीयों को जाती दिख रही हैं। बाजार में चर्चाओं के अनुसार पार्षदों की बोली 30-35 लाख के बीच रहेगी। Date:- (Sat Nov 22, 2014 At 6:24 PM)

बहुत कुछ

संभागीय आयुक्त ने नगर परिषद चुनाव को लेकर की समीक्षा

हनुमानगढ़। बीकानेर संभागीय आयुक्त सुबीर कुमार ने गुरुवार शाम हनुमानगढ़ पहुंच कर नगर परिषद चुनाव को लेकर जिले के आला अधिकारियों की बैठक ली और चुनाव को स्वच्छ और निष्पक्ष ढंग से करवाने के दिशा निर्देश दिए। गुरूवार शाम को सर्किट हाउस पहुंचे कमीश्नर ने बैठक में जिले में लॉ एंड आर्डर की स्थिति को लेकर चर्चा की। वहीं चुनाव को लेकर अब तक की गई तैयारियों को लेकर फीडबैक लिया। जिला कलेक्टर पी सी किशन ने बताया कि जिले में लॉ एंड आर्डर की स्थिति अच्छी है.वहीं संवेदनशील इलाकों को चिन्हित कर लिया गया है और चुनाव को हर हाल में स्वच्छ और निष्पक्ष पूर्ण संपन्न करवाया जाएगा। वहीं एसपी शरत कविराज ने बताया कि मतदान दिवस पर करीब छह सौ पुलिस के जवानों को तैनात कर चुनाव को निष्पक्ष ढंग से संपन्न करवाया जाएगा। चुनाव को लेकर संवेदनशील माने जाने वाले क्षेत्रों में पुलिस नफरी भी बढ़ा दी गई है। बैठक में संभागीय आयुक्त सुबीर कुमार के अलावा जिला कलेक्टर पीसी किशन, जिला पुलिस अधीक्षक शरत कविराज, एडीएम केएम दूडिया, एडीशनल एसपी महेन्द्र हिंगोनिया, रिटर्निंग अधिकारी डॉ नरेन्द्र कुमार थोरी, डीवाईएसपी अतर सिंह पूनियां, जंक्शन थाना इंचार्ज नारायण सिंह भाटी समेत कई अधिकारी शामिल थे। Date:- (Fri Nov 21, 2014 At 1:51 PM)

 
bang bang trailer

खास खबरें

  •   Bookmark and Share
  •   Bookmark and Share
  •   Bookmark and Share
  •   Bookmark and Share

अपना जिला

राजकुमार हिसारिया बने हनुमानगढ़ के नगर पिता

हनुमानगढ़। वार्ड चुनाव में परचम फहराने के बाद बुधवार को हुए सभापति के चुनाव में  भी भाजपा ने ऐतिहासिक जीत दर्ज की है। भाजपा के राजकुमार हिसारिया रिकार्ड अंतर से सभापति का चुनाव जीत नगर पिता बन गए हैं। उन्होंने कांगे्रस के मनोज सैनी को 33 मतों से पराजित किया। राजकुमार हिसारिया वार्ड 21 से निर्दलीय राजेन्द्र उर्फ गोनू को पांच सौ से अधिक मतों से हरा कर पार्षद चुने गए थे। सभापति पद के लिए उनका नाम तब चर्चा में आया जब उन्होंने वार्ड चुनाव के लिए नामांकन भरा। उन्हें जल संसाधन मंत्री की पहली पसंद बताया जा रहा था। उनके वार्ड  चुनाव जीतते ही उनकी ताज पोशी तय हो गई थी। मात्र औपचारिकता भर रह गई थी जो बुधवार को पूरी हो गई। वार्ड चुनाव में भाजपा के 27  व कांग्रेस के 7 पार्षद निर्वाचित हुए थे। शेष 11 निर्दलीय चुनाव जीतने में सफल रहे। सभापति के प्रबल दावेदार माने जा रहे निर्दलीय गणेश बंसल के मंसूबों पर भाजपा को स्पष्ट बहुमत मिलने से पानी फिर गया।  7 निर्दलीयों के भाजपा को समर्थन की घोषणा के बाद सभापति का चुनाव मात्र औपचारिकता भर रह गया था। निर्दलीय गणेश बंसल और सुमित रिणवा ने भी राजकुमार का नाम सामने आने के बाद उन्हें समर्थन की घोषणा कर दी थी। कांग्रेस ने भी औपचारिकता पूरी करने के लिए वार्ड 24 से निर्वाचित मनोज सैनी का पर्चा सभापति के लिए भरवाया। जब परिणाम सामने आया तो उसके पाले का एक पार्षद का मत भाजपा के खाते में मिला। कांग्रेस प्रत्याशी को पार्टी का ही एक मत कम मिला। भाजपा के राजकुमार हिसारिया को 39 और मनोज सैनी को 6 मत मिले और हिसारिया को 33 मतों से सभापति निर्वाचित घोषित कर दिया गया।  इतने अधिक मतों से भाजपा की जीत का श्रेय जल संसाधन मंत्री डा.रामप्रताप की रणनीति को दिया जा रहा है। आपको बता दें कि नए सभापति राजकुमार हिसारिया हनुमानगढ़ के प्रतिष्ठित कारोबारी श्री बनवारीलाल हिसारिया के बेटे हैं। आप तीन भाई और तीन ही बेटों के पिता हैं। आपकी स्नातक तक की शिक्षा हनुमानगढ़ में ही हुई । इन्होंने एमए जयपुर विश्वविद्यालय से करने के बाद वर्ष 1976 में जयपुर से ही लॉ किया परन्तु वकालत करने के बजाय व्यवसाय को प्राथमिकता दी। वे ग्वार गम के कारोबारी हैं और जंक्शन औद्योगिक क्षेत्र में उनकी फैक्ट्री है।  हिसारिया के नगर पिता बनने से लोगों को शहर के चहुंमुखी विकास की आस जगी है। साथ ही उनके कुछ परम मित्रों की वजह से आशंकाएं सताने लगी हैं। जानकारों का कहना है कि श्री हिसारिया राजनीति में पूरी तरह से रचे बसे नहीं हैं। जबकि इस बार कई धुरंधर जो उनके करीबी माने जा रहे हैं परिषद में चुन लिए गए हैं जो उनकी निकटता का नाजायज फायदा उठा उनके लिए परेशानी का सबब बन सकते हैं।    Date:- (Wed Nov 26, 2014 At 7:15 PM)
See More.... Bookmark and Share

Hot News

 

बहुत कुछ

निकाय चुनाव: भाजपा की हैट्रिक

जयपुर। विधानसभा और लोकसभा चुनाव के बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मंगलवार को निकाय नतीजों में भी जीत की तिकड़ी लगाई। प्रदेश के 46 निकायों में से भाजपा को 25 में स्पष्ट बहुमत मिला है, जबकि कांग्रेस 4 पर ही सिमट कर रह गई है। छह नगर निगमों में से जयपुर समेत पांच नगर निगमों में भाजपा बोर्ड बनाएगी। जयपुर में भाजपा ने शानदार प्रदर्शन कर दो-तिहाई सीटों पर जीत का परचम फहरा कर महापौर पद पर कब्जा जमाया। पिछले निकाय चुनाव में छह में से चार नगर निगमों में कांग्रेस का कब्जा था। जयपुर, कोटा, बीकानेर और जोधपुर नगर निगम भाजपा ने कांग्रेस से छीन लिए हैं। बुधवार को महापौर व अध्यक्ष और गुरूवार को उप महापौर व उपाध्यक्ष का चुनाव होगा। 17 निकायों में निर्दलीयों की मदद से ही बोर्ड बनेगा। इन 17 निकायों में से 13 निकायों में भाजपा की सीटें ज्यादा है, जबकि चार में कांग्रेस की सीटें ज्यादा है। पिछले दिनों राज्य की चार सीटों पर हुए विधानसभा उपचुनावों में ये तीन पर कांग्रेस की जीत के बाद पार्टी निकाय चुनावों में बेहतर प्रदर्शन की आस कर रही थी, लेकिन जनता ने उसकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया। अन्य दलों का वर्चस्व नहीं निकाय चुनाव भाजपा-कांग्रेस और निर्दलीयों में ही बंटकर रह गया। दूसरे दलों का बहुत ज्यादा वर्चस्व नहीं दिखा। बसपा को राजगढ़ में तीन और भरतपुर में एक वार्ड में सफलता मिली, जबकि माकपा को उदयपुर और सूरतगढ़ में एक-एक वार्ड में सफलता मिली। सीकर में एनसीपी ने एक में जीत दर्ज की। 17 में निर्दलीय किंगमेकर ब्यावर, अलवर, भिवाड़ी, मांगरोल, भरतपुर, राजगढ़, श्रीगंगानगर, सूरतगढ़, भीनमाल, जालोर, बिसाऊ, पिलानी, पाली में। (हालांकि, भाजपा के पाष्ाüद ज्यादा) - टोंक, बाड़मेर, झुंझुनूं, मकराना (यहां कांग्रेस के पाष्ाüद ज्यादा) - पिलानी, भरतपुर, मकराना में भाजपा-कांग्रेस दोनों से ज्यादा निर्दलीय जीते। किसे कहां बहुमत 25 में भाजपा को जयपुर, बीकानेर, कोटा, उदयपुर, जोधपुर (यह सभी नगर निगम) पुष्कर, बांसवाड़ा, छबड़ा, चित्तौड़गढ़, निंबाहेड़ा, रावतभाटा, चूरू, हनुमानगढ़, जैसलमेर, फलोदी, सांगोद, डीडवाना, सुमेरपुर, माउंट आबू, पिण्डवाड़ा, शिवगंज, सिरोही, आमेट, नाथद्वारा, कानोड। 4 में कांग्रेस को : बालोतरा, कैथून, नीम का थाना, सीकर। विश्वास की जीत यह जनता के अटूट प्रेम व विश्वास की जीत है। जनता के समर्थन के बदले मैं भी उनके सम्मान में कोई कमी नहीं रखूंगी। वसुंधरा राजे, मुख्यमंत्री जनादेश स्वीकार जनादेश स्वीकार है। सभी ने एकजुट हो प्रचार किया था। हमारे वोट के प्रतिशत में इजाफा हुआ है। पंचायत चुनावों में बेहतर करेंगे। सचिन पायलट 11/26/2014 1:11:36 AM
See More.... Bookmark and Share


देश-प्रदेश

26/11 का हमला कभी खत्म न होने वाला दर्द: मोदी

काठमांडू सार्क सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मुंबई में आज ही के दिन छह साल पहले हुए आतंकवादी हमले का जिक्र करते हुए कहा कि भारत इस दर्द को भूला नहीं सकता है। उन्होंने कहा कि सार्क देश भौगलिक रूप से आस-पास है, लेकिन समय की मांग है कि वे साथ-साथ भी रहें। उन्होंने सदस्य देशों के बीच व्यापार और निवेश के लिए उपयुक्त माहौल बनाने को जोरदार वकालत की । मोदी ने मरीजों और कारोबारियों के लिए वीजा प्रक्रिया को आसान बनाने के लिए भारत की ओर से पहल की भी घोषणा की। दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन के 18वें सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमने आतंकवाद और सीमा पार अपराध से लड़ने के लिए हमने, जो संकल्प कियाा है उसे पूरा करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आज जब हम मुंबई में 2008 में हुए आतंकी हमले की भयावहता को याद कर रहे हैं, तो हमें जिन्दगियां जाने का अपार दुख महसूस हो रहा है। आर्थिक मोर्चे पर सार्क देशों से प्रक्रिया सरल करने की मांग करते हुए मोदी ने कहा कि आपसी मतभेद विकास में बाधक हैं और इस वजह से हम आपस में क्षमता से काफी कम व्यापार करते हैं। उन्होंने कहा कि कारोबार के नियम को आसान बनाने के लिए पहल करना होगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत अब सार्क देशों के लिए 3-5 साल के लिए बिजनेस वीजा देगा। इसके साथ ही उन्होंने यह घोषणा भी की कि इलाज के लिए आने वाले रोगी और उसके एक सहायक को भारत तत्काल मेडिकल वीजा उपलब्ध कराएगा। अपने भाषण की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री ने सार्क नेताओं से कहा, 'मैंने पूरे विश्व की शुभकामनाओं के साथ कार्यभार संभाला लेकिन मुझे जिसने प्रेरित किया, वह आपकी निजी मौजूदगी थी। जब हम सार्क की बात करते हैं तो हमें आम तौर पर दो प्रतिक्रियाएं निराशावाद और संशयवाद सुनने को मिलती हैं। हम उस गति से आगे बढ़ने में विफल रहे हैं, जिसकी हमारे लोग उम्मीद और इच्छा रखते हैं। सार्क देशों के साथ भारत का व्यापार काफी कम है। मेरा मानना है कि यह न तो ठीक है और न ही दीर्घकालिक है। एक अच्छा पड़ोस पूरी दुनिया की आकांक्षा है और विश्व में सामूहिक प्रयासों की सबसे ज्यादा आवश्यकता दक्षिण एशिया में है।' इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने सम्मेलन को संबोधित करते हुए आंतकवाद के मुद्दे पर कुछ भी नहीं बोला था। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान विवाद-मुक्त दक्षिण एशिया के लिए प्रतिबद्ध हैं, हमारी समस्याओं को सुलझाने के लिए विश्वास पर आधारित संबंधों की जरूरत है। चीन को सार्क में शामिल करने की पैरवी करते हुए शरीफ ने कहा कि पर्यवेक्षकों की सक्रिय भूमिका से इस तरह के संवाद से सार्क समूह को मदद मिलेगी। चीन एक पर्यवेक्षक देश के तौर पर सार्क से 2005 में जुड़ा है। भारत नहीं चाहता कि चीन को सार्क का सदस्य बनाया जाए, क्योंकि उसे आशंका है कि वह इसका इस्तेमाल क्षेत्र में प्रभाव बढ़ाने के लिए करेगा। चीनी पूर्ण सदस्य न बनने की स्थिति में सार्क प्लस वन देश या फिर सार्क में डायलॉग पार्टनर की भूमिका के लिए दबाव डालता रहा है। कल मोदी के काठमांडू पहुंचने के बाद दोनों देशों ने 11 समझौतों पर दस्तखत किए। इनमें नेपाल को एक अरब डॉलर के कर्ज, मोटर वीइकल्स समझौता, बनारस और काठमांडू के बीच ट्विन सिटी को-ऑपरेशन और पुलिस सहयोग के समझौते शामिल हैं। इस मौके पर मोदी ने भारत की ओर से काठमांडू में बनाए गए 200 बिस्तरों वाले ट्रॉमा सेंटर को भी नेपाल को सौंपा। भगवान बुद्ध के जन्मस्थल लुंबिनी, जनकपुर और मुक्तिनाथ न जाने के अपने निर्णय के बारे में मोदी ने कहा कि समय कम होने के कारण वह वहां नहीं जा सके। उन्होंने दावा किया कि पिछले 25 वर्षों से रुके हुए द्विपक्षीय फैसलों पर अब कदम बढ़ाए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कहा, 'मेरी पहली और दूसरी यात्रा के बीच नेपाल में जिंदगियां बदलने के लिए और भारत को खुशी देने के लिए फैसले किए गए हैं।' 26 और 27 नवंबर को शिखर सम्मेलन में मोदी विभिन्न मुद्दों पर भारत की सोच सामने रखने के साथ ही अफगानिस्तान के राष्ट्रपित अशरफ गनी, बांग्लादेश की प्राइम मिनिस्टर शेख हसीना और श्रीलंका के राष्ट्रपि महिंदा राजपक्षे से मुलाकात करेंगे। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ से मिलने का मोदी का कोई कार्यक्र नहीं है।
See More.... Bookmark and Share


Hanumangarh live | Hanumangarh News | Hanumangarh News | Raj News | Hanumangarh Rajasthan | News in Hanumangarh | hanumangarh Town in Hanumangarh | hanumangarh | hanumangarh | hanumangarh | hanumangarh | hanumangarh