taaja khabar....भारत ने तीसरे टेस्ट में साउथ अफ्रीका को पारी और 202 रनों से हराया, सीरीज में क्लीन स्वीप....महाराष्ट्र-हरियाणा महाएग्जिट पोल: देवेंद्र फडणवीस और खट्टर की बंपर वापसी का अनुमान....केजरीवाल और उनके मंत्रियों के इलाज पर 4 साल में 50 लाख से ज्यादा खर्च....भारतीय शटलर पीवी सिंधु ने 'भारत की लक्ष्मी' अभियान को किया सपॉर्ट...दिल्ली पुलिस के ऑपरेशन लंगड़ा से मचेगी स्नैचरों में खलबली....पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद की धमकी, अबकी युद्ध में 4-6 दिन तोपें नहीं चलेंगी, सीधे परमाणु जंग होगी...कमलेश तिवारी मर्डर: हिंदू समाज पार्टी में घुसने के लिए अशफाक शेख ने चुराई थी हिंदू सहकर्मी की आईडी...महाराष्ट्र, हरियाणा के एग्जिट पोल्स क्यों दे रहे कांग्रेस को टेंशन, कश्मीर पर बदलेगी स्टैंड?....INX केस: गिरफ्तारी के 2 महीने बाद पी चिदंबरम को बेल, मगर जारी रहेगी जेल ...

Hanumangarh


- विश्व आयोडीन अल्पता विकार नियंत्रण सप्ताह पर कार्यशाला आयोजित हनुमानगढ़। आयोडीन हमारे सम्पूर्ण स्वास्थ्य के लिये बहुत ही आवश्यक है और इसकी कमी से होने वाली समस्याओं को आयोडीन अल्पता विकार कहा जाता है। आयोडीन की कमी से होने वाली समस्याओं का पता कई बार तुरंत नहीं लगता, लेकिन इससे कई बार गंभीर स्वास्थ्य समस्याओं को जन्म देते हैं। यह बात सोमवार को सीएमएचओ डॉ. अरुण कुमार ने प्रात: 11 बजे सीएमएचओ कार्यालय में विश्व आयोडीन अल्पता विकार नियंत्रण सप्ताह के आज प्रथम दिन आयोजित जिला स्तरीय कार्यशाला में कही। डॉ. अरुण कुमार ने बताया कि मानव शरीर के लिए बहुत कम मात्रा में आयोडीन की आवश्यकता होती है। हमारे शरीर की थायरायड ग्रंथि को ठीक प्रकार से काम करने के लिए आयोडीन की आवश्यकता होती है। आयोडीन बढ़ते शिशु के दिमाग के विकास और थायराइड प्रक्रिया के लिए अनिवार्य एक माइक्रोपोषक तत्व है। यह हमारे शरीर के तापमान को भी विनियमित करता है, विकास में सहायक है और भ्रुण के पोषक तत्वों का एक अनिवार्य घटक है। शरीर में आयोडीन को संतुलित बनाने का कार्य थाइरोक्सिन हार्मोंस करता है, जो मनुष्य की अंतस्त्रावी ग्रंथि थायराइड ग्रंथि से स्त्रावित होता है। आयोडीन की कमी से मुख्य रुप से घेंघा रोग होता है। इस बीमारी में गर्दन में थायरायड ग्रंथि वाले स्थान पर सूजन आ जाती है। हमारे शरीर को प्रतिदिन अपने आहार में 100 से 150 माइक्रोग्राम आयोडीन की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि आयोडीन मानव शरीर में नहीं बनता, इसे बाहरी वस्तुओं के साथ लिया जाता है। ज्यादातर नमक में मिले आयोडीन शरीर के लिए पर्याप्त होता है। आयोडीन की कमी से चेहरे पर सूजन, गले में सूजन, मस्तिष्क की कार्यप्रणाली में बाधा, वजन बढऩा, रक्त में कोलेस्ट्रोल का स्तर बढऩा और ठंड बर्दाश्त न होना आदि रोग होते हैं। गर्भवती महिलाओं में आयोडीन की कमी से गर्भपात, नवजात शिशुओं का वजन कम होना, शिशु में आयोडीन की कमी से उसमें बौद्धिक और शारीरिक विकास आदि समस्याएं होती हैं। शरीर में आयोडीन की बहुत कम मात्रा में आवश्यकता होती है, लेकिन यह बहुत ही आवश्यक है। कार्यशाला में स्वास्थ्य कार्यकर्ता नवाबदीन भाटी ने एमबीआई किट की मदद से नमक में आयोडीन की मात्रा को जानने की विधि को उपस्थितजनों के सामने प्रदर्शित किया। कार्यशाला में समस्त बीसीएमओ, नमक के थोक व खुदरा विक्रेता, महिला एंव अन्य सीएमएचओ स्टाफ उपस्थित था। -
पुलिस शहीद दिवस पर शहीदों को किया याद, पौधरोपण और रक्तदान कर दी श्रद्धांजलि
शहर में साइकिल ट्रैक बनाने को लेकर प्रशासन ने शुरू की कवायद
लक्ष्य आधारित हों हमारे प्रयास: जिला कलक्टर
खुंजा नहर पर घाट निर्माण को लेकर पूर्वांचलवासियों का चक्काजाम कल

hot news


नई दिल्ली, 10 अक्टूबर 2019,जब से अमित शाह ने गृह मंत्री का कार्यभार संभाला है, तभी से गृह मंत्रालय हमेशा से ही चर्चा का विषय बना हुआ है. गृह मंत्रालय कब क्या कर रहा है, इसपर हर किसी की नज़र है. राष्ट्रपति भवन के पास नॉर्थ ब्लॉक में मौजूद गृह मंत्रालय के दफ्तर में अब चप्पे-चप्पे नज़र रखी जा रही है, दफ्तर में हर जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं. इस मामले में ताजा अपडेट ये है कि पिछले हफ्ते से CCTV कैमरे लगने की शुरुआत जो हुई है अभी तक मंत्रालय की अहम लोकेशन पर पूरी हो चुकी है. नॉर्थ ब्लॉक-साउथ ब्लॉक में मौजूद दफ्तरों पर सुरक्षा काफी कड़ी रहती है, इसी के तहत यहां पर इन सभी काम को किया जा रहा है. गृह मंत्रालय की पूरी सुरक्षा CISF के हाथ में है, जो कि इन CCTV कैमरों की मदद से हर किसी पर नजर रखेंगे. CISF ने इनके अलावा बॉडी कैमरा, एक्स-रे मशीन और मेटल डोर डिटेक्टर भी सुरक्षा में तैनात किए हुए हैं. इनमें काफी सीसीटीवी कैमरे पहले फ्लोर पर लगेंगे, जहां पर गृह मंत्री, गृह राज्य मंत्री, गृह सचिव, सीबीआई डायरेक्टर, IB चीफ, ज्वाइंट सेक्रेटरी रहते हैं. गृह मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक, इसे A रूटीन अपग्रेडशन कहा जाता है. ना सिर्फ गृह मंत्रालय बल्कि CCTV के कैमरे अब वित्त मंत्रालय में भी लगाए जा रहे हैं. CCTV से क्या होगा? साफ है कि इन कैमरों के लग जाने के बाद गृह मंत्रालय के हर कोने पर नज़र रहेगी और ये भी पता चलता रहेगा कि कौन किससे मिल रहा है. खास बात ये है कि मंत्रालय में मौजूद मीडिया रूम में भी कैमरे लगाए गए हैं, यानी कौन पत्रकार कब किससे मिल रहा है इसपर भी मंत्रालय की नज़र रहेगी. गृह मंत्रालय में हो रहे इस बदलाव पर मंत्रालय के अफसरों ने भी खुशी जताई है और इस बात का जिक्र किया है कि अब कौन-कब आ रहा है, इसपर आसानी से नज़र रखी जा सकेगी.
66वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों का ऐलान, अंधाधुन बेस्ट हिंदी फिल्म, आयुष्मान और विकी कौशल बेस्ट ऐक्टर
विवादित वीडियो मामला: मुश्किल में एजाज खान, कोर्ट ने 1 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा
आर्टिकल 15 रिलीज, लोग बोले- आयुष्मान खुराना की एक और ब्लॉकबस्टर फिल्म
जल्द इंड‍िया लौट रहे हैं ऋषि कपूर, इस फिल्म में जूही चावला संग करेंगे काम

rajasthan


जयपुर, 19 अक्टूबर 2019,राजस्थान सरकार ने दो विधानसभा उपचुनाव और स्थानीय निकाय के चुनाव से पहले सवर्णों को बड़ा तोहफा दिया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने घोषणा की है राज्य में सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थाओं में आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्णों यानी ईडब्ल्यूएस के 10 फीसदी आरक्षण के लिए अब परिवार की कुल आय ही मात्रा आधार होगी. इसके लिए जमीन और मकान का प्रावधान खत्म कर दिया गया है. नए नियम के अनुसार, परिवार की कुल वार्षिक आय अधिकतम आठ लाख रुपये को ही सवर्ण आरक्षण का आधार माना गया है. इससे पहले राजस्थान में बड़े शहरों में 100 वर्ग गज और छोटे शहरों में 200 वर्ग गज से ज्यादा की जमीन और शहरी क्षेत्रों में मकान होने पर आरक्षण का प्रावधान नहीं था. सवर्णों में खुशी का माहौल सवर्ण आरक्षण की सीमा को खत्म होने से बड़ी संख्या में लोगों को फायदा मिलेगा, क्योंकि सवर्णों की मांग थी कि कई बार उनके पास पैतृक संपत्ति तो है, लेकिन पैसे नहीं है जिसकी वजह से वह गरीबी का जीवन जी रहे हैं .मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के इस निर्णय से सवर्णों में खुशी का माहौल है. राज्य सरकार के अनुसार, जल्दी इसके बारे में अधिसूचना जारी कर नौकरियों में आरक्षण दिया जाएगा. ईडब्ल्यूएस आरक्षण में संपत्ति का प्रावधान जोड़ देने की वजह से गरीब सवर्णों को आरक्षण पत्र मिलने में परेशानी हो रही थी
जम्मू-कश्मीर: शरीफ खान ने आतंकियों से मांगी थी 'जिंदगी की भीख', इकराम ने बताया पूरा किस्सा
जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग में सुरक्षाबलों को बड़ी कामयाबी, 3 आतंकी ढेर
गहलोत सरकार ने बंद की मीसा बंदियों की पेंशन, कहा- वे हकदार नहीं
गुजरात में शराब की खपत सबसे अधिक, घर-घर में पी जाती है शराब: अशोक गहलोत

bahut kuchh


22 अक्टूबर 2019, राजस्थान में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) नेताओं के साथ बदसलूकी पर मायावती भड़क गई हैं. बसपा अध्यक्ष मायावती ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस पार्टी ने पहले राजस्थान में बसपा विधायकों को तोड़ा और अब मूवमेन्ट को अघात पहुंचाने के लिए वहां वरिष्ठ लोगों पर हमला करवा रही है जो अति-निन्दनीय व शर्मनाक है. मायावती ने कहा कि कांग्रेस अम्बेडकरवादी मूवमेन्ट के खिलाफ काफी गलत परंपरा डाल रही है, जिसका जैसे को तैसा जवाब लोग दे सकते हैं. कांग्रेस पार्टी को अपनी ऐसी घिनौनी हरकतों से बाज आ जाना चाहिए. दरअसल मयावती की टिप्पणी ऐसे वक्त में आई है बीएसपी के राष्ट्रीय कॉर्डिनेटर रामजी गौतम और सीताराम सिला(प्रदेश प्रभारी) को बसपा के नाराज कार्यकर्ताओं ने मुंह काला करके गधों पर बैठाकर घुमाया था. यह कांड बसपा प्रदेश कार्यालय के सामने हुआ था. बसपा कार्यकर्ताओं ने रामजी गौतम के साथ मारपीट की थी. जब BSP नेताओं में हुई मारपीट राजस्थान में बसपा एक बार फिर से अस्तित्व तलाश रही है. बहुजन समाज पार्टी के 6 विधायकों के पार्टी छोड़कर कांग्रेस में शामिल होने के बाद बुलाई गई कार्यकारिणी की बैठक में पार्टी नेताओं के बीच में जमकर लात-घूंसे चले थे. उसके बाद बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने राजस्थान में बहुजन समाज पार्टी की पूरी कार्यकारिणी को भंग कर दिया था.
बालाकोटे और मेंढर सेक्टर में PAK ने तोड़ा सीजफायर, एक महिला घायल
सावरकर पर सिंघवी के ट्वीट से सोनिया हुईं खफा, फोन करवाकर मांगी सफाई
क्या है नोबेल विजेता अभिजीत बनर्जी और पत्नी एस्तेय डिफ्लो का गरीबी हटाने वाला फॉर्म्युला
अभिजीत बनर्जी ने कहा, 'पीएम ने सचेत किया, मोदी-विरोधी बयान दिलाने की कोशिश करेगा मीडिया'

weather


desh videsh


वॉशिंगटन, 22 अक्टूबर 2019,जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए हुए दो महीने से अधिक हो गया है. पाकिस्तान के द्वारा इस मसले को लगातार दुनिया के कई मंचों पर उठाया गया है, लेकिन वह इस मसले को भारत के खिलाफ इस्तेमाल करने में नाकाम रहा है. अब अमेरिका ने एक बार फिर अनुच्छेद 370 पर भारत का समर्थन किया है, ट्रंप प्रशासन की ओर से कहा गया है कि भारत के द्वारा जम्मू-कश्मीर पर जो फैसला किया गया है, वह उसका समर्थन करते हैं. हालांकि, अमेरिका की ओर से जम्मू-कश्मीर में लगी पाबंदियों पर चिंता जताई गई है. अमेरिका के विदेश मंत्रालय के दक्षिण एशिया डिपार्टमेंट की असिस्टेंट सेक्रेटरी एलिस वेल्स की ओर से कहा गया है कि भारत ने इसके पीछे तर्क दिया है कि इससे जम्मू-कश्मीर में विकास की रफ्तार बढ़ेगी, साथ ही कई कानूनों को लागू किया जा सकेगा. एलिस वेल्स ने कहा, ‘हम भारत के तर्कों का सम्मान करते हैं और फैसले का समर्थन करते हैं. अमेरिका इन हालातों पर नज़र बनाए हुए है, हालांकि हमारी ये भी उम्मीद है कि अभी जो पाबंदियां लगी हुई हैं वह जल्द ही खत्म होंगी’. उन्होंने कहा कि भारत को सभी फैसले मानवाधिकार के आधार पर लेने चाहिए, जल्द ही इंटरनेट और फोन सुविधा को जल्द शुरू करना चाहिए. आपको बता दें कि 5 अगस्त को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को पंगु करने का काम किया था, साथ ही जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाया गया था. इसी के बाद से ही इस विषय की दुनियाभर में चर्चा है. मोदी सरकार की ओर से जबसे ये फैसला लिया गया है, तो पाकिस्तान को काफी दिक्कत हुई है. पाकिस्तान लगातार इस मसले को दुनिया के सामने उठा रहा है, लेकिन अधिकतर देशों ने इस मसले पर भारत के फैसले का समर्थन किया है और इसे भारत का आंतरिक मामला बताया है. पाकिस्तान की ओर से कश्मीर के मसले पर अपने देश में कई तरह के प्रदर्शन भी किए गए थे.
पाक आर्मी और ISI की नई साजिश, ड्रोन की मदद से घुसपैठ के लिए रास्ते की तलाश
भारतीय सेना के एक्शन से पाकिस्तान में हड़कंप, अब दुनिया को दे रहा सफाई
पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद की धमकी, अबकी युद्ध में 4-6 दिन तोपें नहीं चलेंगी, सीधे परमाणु जंग होगी
पाकिस्तानः आजादी मार्च पर इमरान को झटका, सरकार के साथ प्रदर्शनकारियों की वार्ता रद्द

taaja khabar


taaja khabar...काला धनः भारत को स्विस बैंक में जमा भारतीयों के काले धन से जुड़ी पहली जानकारी मिली...SPG सिक्यॉरिटी पर केंद्र सख्त, विदेश दौरे पर भी ले जाना होगा सिक्यॉरिटी कवर, कांग्रेस बोली- निगरानी की कोशिश....खराब नहीं हुआ था इमरान का विमान, नाराज सऊदी प्रिंस ने बुला लिया था वापस ....करीबियों की उपेक्षा से नाराज हैं राहुल गांधी? ताजा घटनाक्रम और कुछ कांग्रेस नेता तो इसी तरफ इशारा कर रहे हैं....2 राज्यों के चुनाव से पहले राहुल गांधी गए कंबोडिया? पहले बैंकॉक जाने की थी खबर...2019 में चिकित्सा क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार का ऐलान, 3 वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से मिला...चीन सीमा पर तोपखाने की ताकत बढ़ा रहा भारत, अरुणाचल प्रदेश में तैनात करेगा अमेरिकी तोप....J-K: पुंछ में PAK ने की फायरिंग, सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब ...राफेल में मिसाइल लगाने वाली कंपनी बोली, ‘भारत को मिलेगी ऐसी ताकत जो कभी ना थी’ ..

Top News