taaja khabar.....30 करोड़ को कोरोना वैक्सीन देने के लिए चुनाव जैसी महातैयारी, पोलिंग बूथ जैसे बनेंगे 'वैक्सीन बूथ' ....लक्ष्मी विलास बैंक के DBIL में विलय को कैबिनेट की मंजूरी, NIIF को 6 हजार करोड़ ​पूंजी ...स्मृति ईरानी बोलीं- घुसपैठियों की मदद कर रहे ओवैसी और केसीआर..पंजाब के सभी शहरों में फिर से नाइट कर्फ्यू, मास्क न पहनने पर लगेगा 1000 का जुर्माना...बंगालः दिलीप घोष की रैली में आ रहे बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला, TMC पर धमकाने का आरोप...'लव जिहाद' पर कानून किसी धर्म के खिलाफ नहीं, किसी धर्म के पक्ष में नहीं : वीएचपी ....वरिष्ठ कांग्रेस नेता अहमद पटेल का निधन, एक महीने पहले हुए थे कोरोना पॉजिटिव.....विजय कुमार सिन्हा बने बिहार विधानसभा के स्पीकर, हंगामे के बीच हुई वोटिंग में महागठबंधन के अवध बिहारी को हराया ,....‘बोल दो कोरोना हो गया’, सुशील मोदी का दावा- लालू ने किया BJP MLA को फोन, ऑडियो जारी...गांगुली होंगे BJP का चेहरा? टीएमसी सांसद बोले- उन्हें नहीं पता गरीबों की दिक्कत, टिक नहीं पाएंगे...यूपी के बाद हरियाणा सरकार भी बनाएगी लव जिहाद पर कानून, अनिल विज बोले- योगी जिंदाबाद...अमेरिका के नए विदेश मंत्री ऐंटनी ब्लिंकेन पाकिस्तान के लिए बुरी खबर? ...नीतीश कुमार और अशोक चौधरी का सदन में रहना गलत नहीं, कानून विशेषज्ञ....

Hanumangarh


मतदाता सूचियों में नाम जोड़ने, हटाने एवं संशोधन करने के आवेदन लिए जाएगे शिविर में कोरोना गाइडलाइन की सख्ती से की जाए पालना-श्री अशोक असीजा हनुमानगढ़, 27 नवंबर। निर्वाचन विभाग द्वारा मतदाता सूचियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के दौरान 29 नवम्बर 2020 को व 6 दिसम्बर 2020 को विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के समस्त मतदान केन्द्रों पर विशेष शिविर आयोजित किए जांएगे। उपजिला निर्वाचन अधिकारी श्री अशोक असीजा ने बताया कि इन विशेष शिविरों के दौरान बीएलओ एवं मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय राजनैतिक दलों द्वारा नियुक्त बीएलए समन्वय करते हुए प्रातः 9 बजे से सायं 6 बजे तक मतदान केन्द्रों पर उपस्थित रहकर मतदाता सूचियों में नाम जोड़ने, हटाने एवं संशोधन करने के आवेदन प्राप्त करेंगे। उपजिला निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि शिविर के दौरान भारत सरकार व राज्य सरकार द्वारा कोविड-19 की गाइडलाइन की पालना सुनिश्चित की जाए। शिविर में आने वाले मतदाताओं के मास्क लगा हो, हैंड सैनेटाइजर, थर्मल स्कैनर का प्रयोग अवश्य रूप से किया जाए। श्री असीजा ने बताया कि शिविर के निर्धारित समय में बीएलओ/सुपरवाइजर के अनुपस्थित पाए जाने पर नियमानुसार अनुशासनिक कार्यवाही की जाएगी।
चुनाव पर्यवेक्षक श्री ताराचंद मीना ने रावतसर - पीलीबंगा के 105 मतदान केन्द्रों का किया निरीक्षण
शादी समारोह में कोरोना गाइडलाइन की पालना का विभिन्न समाज सेवी संस्थाओं ने लिया संकल्प
होटल और मैरिज पैलेस संचालक शादी में आने वाले और ठहरने वाले लोगों का आवश्यक रूप से रिकॉर्ड संधारण करें- कलेक्टर
जिला कारागृह का किया निरीक्षण

hot news


नई दिल्ली, 10 अक्टूबर 2019,जब से अमित शाह ने गृह मंत्री का कार्यभार संभाला है, तभी से गृह मंत्रालय हमेशा से ही चर्चा का विषय बना हुआ है. गृह मंत्रालय कब क्या कर रहा है, इसपर हर किसी की नज़र है. राष्ट्रपति भवन के पास नॉर्थ ब्लॉक में मौजूद गृह मंत्रालय के दफ्तर में अब चप्पे-चप्पे नज़र रखी जा रही है, दफ्तर में हर जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं. इस मामले में ताजा अपडेट ये है कि पिछले हफ्ते से CCTV कैमरे लगने की शुरुआत जो हुई है अभी तक मंत्रालय की अहम लोकेशन पर पूरी हो चुकी है. नॉर्थ ब्लॉक-साउथ ब्लॉक में मौजूद दफ्तरों पर सुरक्षा काफी कड़ी रहती है, इसी के तहत यहां पर इन सभी काम को किया जा रहा है. गृह मंत्रालय की पूरी सुरक्षा CISF के हाथ में है, जो कि इन CCTV कैमरों की मदद से हर किसी पर नजर रखेंगे. CISF ने इनके अलावा बॉडी कैमरा, एक्स-रे मशीन और मेटल डोर डिटेक्टर भी सुरक्षा में तैनात किए हुए हैं. इनमें काफी सीसीटीवी कैमरे पहले फ्लोर पर लगेंगे, जहां पर गृह मंत्री, गृह राज्य मंत्री, गृह सचिव, सीबीआई डायरेक्टर, IB चीफ, ज्वाइंट सेक्रेटरी रहते हैं. गृह मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक, इसे A रूटीन अपग्रेडशन कहा जाता है. ना सिर्फ गृह मंत्रालय बल्कि CCTV के कैमरे अब वित्त मंत्रालय में भी लगाए जा रहे हैं. CCTV से क्या होगा? साफ है कि इन कैमरों के लग जाने के बाद गृह मंत्रालय के हर कोने पर नज़र रहेगी और ये भी पता चलता रहेगा कि कौन किससे मिल रहा है. खास बात ये है कि मंत्रालय में मौजूद मीडिया रूम में भी कैमरे लगाए गए हैं, यानी कौन पत्रकार कब किससे मिल रहा है इसपर भी मंत्रालय की नज़र रहेगी. गृह मंत्रालय में हो रहे इस बदलाव पर मंत्रालय के अफसरों ने भी खुशी जताई है और इस बात का जिक्र किया है कि अब कौन-कब आ रहा है, इसपर आसानी से नज़र रखी जा सकेगी.
66वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों का ऐलान, अंधाधुन बेस्ट हिंदी फिल्म, आयुष्मान और विकी कौशल बेस्ट ऐक्टर
विवादित वीडियो मामला: मुश्किल में एजाज खान, कोर्ट ने 1 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा
आर्टिकल 15 रिलीज, लोग बोले- आयुष्मान खुराना की एक और ब्लॉकबस्टर फिल्म
जल्द इंड‍िया लौट रहे हैं ऋषि कपूर, इस फिल्म में जूही चावला संग करेंगे काम

rajasthan


राजस्थान के भरतपुर में 10वीं की छात्रा के साथ पड़ोसी गांव के युवक ने दुष्कर्म किया. घटना के समय लड़की घर में अकेली थी. परिवार के सभी सदस्य शादी समारोह में गये हुए थे. उसी दौरान आरोपी अपने तीन दोस्तों के साथ उसके घर पर आ गया और रेप की घटना को अंजाम दिया. घर में घुसने के बाद उसने लड़की को चाकू दिखाकर दुष्कर्म किया, इस दौरान उसके तीन दोस्त घर के बाहर निगरानी कर रहे थे. आरोपी जैसे ही वहां से भागे, तो लड़की ने शोर मचाना शुरू कर दिया. मौके पर पड़ोसी आ गये, सूचना पर थाना पुलिस भी पहुंच गई. पुलिस ने मामले की छानबीन शुरू कर दी है. थाना बयाना के एक गांव की रहने वाली 10वीं कक्षा की छात्रा के साथ ये घिनौनी वारदात हुई. बताया गया कि रात में पूरा परिवार शादी समारोह में हिंडौन गया हुआ था. छात्रा घर में अकेली थी. देर रात उसके घर में पड़ोसी गांव का रहने वाला मनीष धाकड़ घुस आया. उसके पास चाकू था. आरोपी ने चाकू दिखाकर किशोरी को धमकाया और उसके साथ रेप किया. इस दौरान मनीष के तीन साथी घर के बाहर निगरानी कर रहे थे. आरोपी जैसे ही लड़की के घर से बाहर निकलने के लिए हुआ, तो लड़की ने शोर मचाना शुरू कर दिया. शोरगुल की आवाज सुनकर पड़ोसी जाग गये. पड़ोसियों द्वारा जब तक आरोपियों को पकड़ा जाता, तब तक आरोपी मनीश धाकड़ छत से कूदकर गली में पहुंच गया. वहां पहले से इंतजार कर रहे अपने तीन साथियों के साथ वह बाइक से फरार हो गया. बताया गया है कि छत से कूदने के दौरान आरोपी के पैर में भी चोट लग गई. वहीं जब घटना के बारे में छात्रा के पिता को जानकारी हुई, तो वे देर रात शादी समारोह से घर वापस आ गये. सूचना पर थाना पुलिस भी मौके पर पहुंच गई. पुलिस ने पीड़ित छात्रा के बयान के बाद आरोपी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली है. पुलिस ने छात्रा का मेडिकल कराया है. बयाना थाना प्रभारी मदन लाल मीणा ने बताया कि पीड़िता छात्रा के बयान के आधार पर पुलिस ने कार्रवाई शुरू कर दी है. आरोपी मनीष पर पॉक्सो एक्ट लगाया गया है. पुलिस आरोपी और उसके साथियों को जल्द गिरफ्तार कर लेगी.
एक गलती जो जानलेवा बना रही है कोरोनाराजस्थान: कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सभी जिलों में फिर से लागू होगी धारा- 144 वायरस को, इससे बचेंगे तो सुरक्षित रहेंगे आप
गहलोत का बड़ा बयान, कहा- BJP ने देश को बांटने और साम्प्रदायिक सौहार्द काे बिगाड़ने के लिए बनाया लव जिहाद
जोधपुर नगर निगम दक्षिण में BJP को स्पष्ट बहुमत, उत्तर में कांग्रेस जीती
निजी स्कूलों ने किया अनिश्चितकालीन हड़ताल का ऐलान, सरकार से की ये गुजारिश

bahut kuchh


नई दिल्ली , 27 नवंबर 2020,भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की केंद्रीय चुनाव समिति ने बिहार में होने वाले आगामी राज्यसभा उपचुनाव-2020 के लिए सुशील कुमार मोदी को उम्मीदवार बनाया है. यह जानकारी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने दी है. ये सीट रामविलास पासवान के निधन के बाद खाली हुई थी. हाल ही में एलजेपी के बिहार चुनाव में अलग लड़ने के बाद बीजेपी ने उसे साइड लाइन कर दिया है. अगर ऐसा नहीं होता तो ये सीट एलजेपी के खाते में जानी चाहिए थी. इधर, बीजेपी सुशील कुमार मोदी का कद बढ़ाने की तैयारी में है. सुशील मोदी अब राज्यसभा के रास्ते केंद्र में जा सकते हैं, जहां उन्हें बड़ी जिम्मेदारी देने की चर्चाएं हैं. बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव-2020 में एनडीए सरकार बनने के बाद सुशील मोदी की डिप्टी सीएम के पद से छुट्टी हो गई थी. इसके बाद से कयास लगाए जा रहे थे कि बीजेपी उन्हें केंद्र में सेट करना चाहती है. 1990 में सक्रिय राजनीति में आए सुशील मोदी 1990 में सक्रिय राजनीति में आए और पटना सेंट्रल विधानसभा सीट से चुने गए. 1995 और 2000 में भी वे विधानसभा पहुंचे. 1996 से 2004 के बीच वे बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रहे. पटना हाई कोर्ट में उन्होंने लालू प्रसाद के खिलाफ जनहित याचिका डाली जिसका खुलासा चर्चित चारा घोटाले के रूप में हुआ था. 2004 में सुशील मोदी ने लोकसभा का चुनाव लड़ा और भागलपुर से विजयी रहे. सुशील मोदी बीजेपी का सबसे बड़े चेहरा रहे 2005 में बिहार चुनावों में एनडीए को बहुमत मिला. नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने तो सुशील मोदी को उपमुख्यमंत्री की जिम्मेदारी मिली. साथ में वित्त मंत्रालय और कई अन्य विभागों की जिम्मेदारी संभाली थी. 2010 में एनडीए की फिर जीत हुई और नीतीश सरकार में सुशील मोदी फिर उपमुख्यमंत्री बने. वित्त मंत्री के रूप में जुलाई 2011 में सुशील मोदी को GST पर बनी राज्यों के वित्त मंत्रियों की समिति का चेयरमैन बनाया गया था. वहीं, 2020 के चुनाव में भी सुशील मोदी बीजेपी का सबसे बड़े चेहरा रहे. बीजेपी इस बार बड़े भाई की भूमिका है. जेडीयू इस बार 43 सीटों पर जीती है जबकि बीजेपी को 74 सीटें मिली हैं.
मुस्लिम वोटों पर ही टिकी है ओवैसी की सियासत, 51 में से सिर्फ 5 उम्मीदवार हिंदू
आजम खान की मुसीबतें बढ़ीं, जल निगम घोटाले की SIT जांच में पाए गए दोषी
विरोधियों पर बरसे CM उद्धव ठाकरे, बोले- हावी हुए तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊंगा
कंगना की HC में बड़ी जीत, दफ्तर तोड़ने पर बीएमसी अफसरों से वसूला जाएगा हर्जाना

weather


desh videsh


नई दिल्ली ,03 नवंबर 2020,फरीदाबाद के निकिता हत्याकांड के बाद 'लव जिहाद' शब्द फिर से चर्चा में आ गया है. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दो दिन पहले जौनपुर की रैली में लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने का ऐलान किया. उनके बयान के बाद हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने भी कहा कि वे भी प्रदेश में 'लव जिहाद' रोकने के लिए कानून लाएंगे. दोनों नेताओं के बयान इस मामले में महत्वपूर्ण हैं कि 'लव जिहाद' शब्द अभी तक केवल राजनीतिक और धार्मिक मंचों से ही इस्तेमाल होता रहा है. सरकार के स्तर पर न तो केंद्र और न ही राज्यों में इसे लेकर कोई आधिकारिक बात कही गई है. यही तर्क देकर एआईएमआईएम के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी सीएम योगी को संविधान का पाठ पढ़ा रहे हैं लेकिन यूपी के विपक्षी दलों की बात की जाए तो वे 'लव जिहाद' पर अपनी राय रखने से बच रहे हैं. सीएम योगी ने लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने की बात कहते हुए उसमें जोड़ा कि जो लोग स्वरूप छिपाकर बहन-बेटियों की इज्जत के साथ खिलवाड़ करते हैं, उनको पहले से चेतावनी है कि अगर वे सुधरे नहीं, तो अब राम नाम सत्य की यात्रा निकलने वाली है. योगी आदित्यनाथ ने लव जिहाद के कानून बनाने की बात को लेकर इलाहाबाद हाई कोर्ट के एक फैसले का भी जिक्र किया, जिसमें हाई कोर्ट ने कहा था कि सिर्फ शादी के लिए धर्म परिवर्तन को स्वीकार नहीं किया जा सकता. सीएम योगी के लव जिहाद पर कानून बनाने की बात पर ओवैसी ने कहा कि योगी को लव जिहाद पर आर्टिकल 21 का अच्छी तरह से अध्ययन करना चाहिए. अगर जानकारी नहीं है तो अच्छे वकील से जानकारी लें. ओवैसी ने स्पेशल मैरिज एक्ट का उल्लेख करते हुए कहा कि ऐसे मामलों में स्पेशल मैरिज एक्ट लागू होना चाहिए. दूसरी ओर यूपी की पार्टियां लव जिहाद के मुद्दे पर सीधे विरोध और समर्थन से बचते हुए इसे योगी का राजनीतिक पैंतरा बता रही हैं. यूपी विधानसभा में सपा की ओर से नेता प्रतिपक्ष राम गोविंद चौधरी ने कहा कि सूबे में बीजेपी सरकार बनने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ कानून ही तो बना रहे हैं. वास्तविकता यह है कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार अपराध पर नियंत्रण करने में नाकाम रही है. कानून-व्यवस्था की स्थिति लगातार खराब हो रही है. सीएम योगी हिटलर की तरह काम कर रहे हैं. वहीं, कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष ललितेश पति त्रिपाठी ने कहा कि लोगों का ध्यान भटकाने के लिए ऐसे बयान बीजेपी और सीएम योगी देते रहते हैं. सूबे में किसान से लेकर नौजवान तक परेशान हैं और यूपी की कानून व्यवस्था की हालत काफी खराब है. इसे छिपाने के लिए ही सीएम योगी इस तरह से बयान और कानून बनाने की बात कर रहे हैं. कांग्रेस नेता ने कहा कि सीएम ने जिस तरह का बयान दिया है, वो एक जनप्रतिनिधि की भाषा नहीं हो सकती है.
प्रॉपर्टी कार्ड देकर बोले PM, तकलीफ हो तो भी बच्चों को पढ़ाइए, राजमिस्त्री बनने पर मजबूर मत करिए
शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी,
पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर बोले पीएम मोदी- किसानों, श्रमिकों से वादे बहुत किए काम नहीं किया, अब काम हुआ तो फैला रहे झूठ
भारतीय दबाव के आगे झुका नेपाल, विवादित नक्‍शे वाली किताब पर लगाई रोक

taaja khabar


taaja khabar...काला धनः भारत को स्विस बैंक में जमा भारतीयों के काले धन से जुड़ी पहली जानकारी मिली...SPG सिक्यॉरिटी पर केंद्र सख्त, विदेश दौरे पर भी ले जाना होगा सिक्यॉरिटी कवर, कांग्रेस बोली- निगरानी की कोशिश....खराब नहीं हुआ था इमरान का विमान, नाराज सऊदी प्रिंस ने बुला लिया था वापस ....करीबियों की उपेक्षा से नाराज हैं राहुल गांधी? ताजा घटनाक्रम और कुछ कांग्रेस नेता तो इसी तरफ इशारा कर रहे हैं....2 राज्यों के चुनाव से पहले राहुल गांधी गए कंबोडिया? पहले बैंकॉक जाने की थी खबर...2019 में चिकित्सा क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार का ऐलान, 3 वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से मिला...चीन सीमा पर तोपखाने की ताकत बढ़ा रहा भारत, अरुणाचल प्रदेश में तैनात करेगा अमेरिकी तोप....J-K: पुंछ में PAK ने की फायरिंग, सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब ...राफेल में मिसाइल लगाने वाली कंपनी बोली, ‘भारत को मिलेगी ऐसी ताकत जो कभी ना थी’ ..

Top News