taaja khabar...कोरोना से तबाही पर बोले पीएम मोदी- जिस दर्द से देशवासी गुजरे हैं, उसे मैं भी महसूस कर रहा हूं....चित्रकूट जेल के अंदर गैंगवॉर, दो गैंगस्टर की हत्या, तीसरा पुलिस कार्रवाई में मारा गया..995.40 रुपये में मिलेगी रूसी कोरोना वैक्सीन की एक डोज, देश में बनने पर हो सकती है सस्‍ती...गुजरात, असम सहित कई राज्यों को भेजी कोवैक्सीन की खेप...जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं...हमास कर रहा रॉकेट की बारिश, इजरायली 'लौह कवच' आयरन डोम कर रहा तबाह...PM Kisan में 50 लाख नए लोगों को भी मिलेंगे 2000-2000 रुपए, ऐसे कर सकते हैं अपना अकाउंट चेक...केंद्र ने कहा, राज्यों को निशुल्क भेजी जाएगी करीब एक करोड़ 92 लाख कोरोना वैक्सीन...पत्रकारों के लिए मध्यप्रदेश सरकार का अहम ऐलान, कोरोना संक्रमित होने पर इलाज का खर्च देगी राज्य सरकार...दवाओं की कालाबाजारी करने वालों पर भड़के प्रधानमंत्री, राज्य सरकारों को दिया कड़ी कार्रवाई का आदेश...कोरोना के एक दिन में नए मामलों से अधिक ठीक होने वालों का आंकड़ा, इस दौरान 4000 संक्रमितों की मौत..कोरोना महामारी के बीच सांसों के साथ अपनों ने छोड़ा हाथ, संघ निभा रहा मानवता का रिश्ता...

Hanumangarh


हनुमानगढ़, 14 मई। कोरोना महामारी संक्रमण की गांव में चैन तोड़ने को लेकर जिला कलक्टर श्री नथमल डिडेल ने शुक्रवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए 141 ग्राम पंचायतों के सरपंचों, उप सरपंचों और ग्राम स्तरीय कोरोना कोर कमेटी के सदस्यों को प्रेरित किया। जिला कलक्टर ने सुबह 11 से 12 बजे तक कुल 141 ग्राम पंचायतों के सरपंचों, उपसरपंचों और ग्राम स्तरीय कोर कमेटी के सदस्यों से सीधी बात करके उन्हें गांव में कोरोना महामारी की चैन तोड़ने को लेकर कहा कि कोरोना की चैन सभी गांवों में टूट जाएगी तो जिला मुख्यालय पर पॉजिटिव केस आना बंद हो जाएंगे औऱ जिला कोरोना मुक्त हो सकेगा। गौरतलब है कि गुरूवार को जिला कलक्टर ने कुल 70 ग्राम पंचायतों के सरपंचों, उपसरपंचों और ग्राम पंचायत स्तरीय कोर कमेटी के सदस्यों से वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए बात की थी। जिला कलक्टर ने कहा कि गांव में शादी वगैरह हों तो फिलहाल उसे टाल दें। गांवों में लोग कहीं एक जगह पर इकट्ठा ना हों। जिन घरों में लोग पॉजिटिव आ रहे हैं वे होम आइसोलेशन का पालन करें। उनके संपर्क में आए लोगों में अगर खांसी जुकाम के लक्ष्ण हो तो तुरंत कोविड जांच करवाएं। साथ ही जो लोग बाहरी राज्यों से आ रहे हैं लेकिन उनका आटीपीसीआर टेस्ट नहीं करवाया हुआ है तो वे 15 दिन तक होम आइसोलेशन में रहें। इसको लेकर पूरी निगरानी गांव के सरपंच, उपसरपंच और ग्राम पंचायत स्तरीय कोरोना कोट कमेटी के सदस्य भी रखे। जिला कलक्टर ने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर खतरनाक है। जिस प्रकार सरपंचों, उपसरपंचों ने पहली लहर में गांवों की पहरेदारी करवाई थी। दूसरी लहर में भी उसी तरह की पहरेदारी की जरूरत है ताकि हम कोरोना की चैन को तोड़ सकें। जिला कलक्टर ने मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना को लेकर कहा कि गांव के सभी परिवारों का इस योजना के अंतर्गत रजिट्रेशन करवाना सुनिश्चित करें ताकि एक परिवार को मात्र साढ़े आठ सौ रूपए में 5 लाख के स्वास्थ्य बीमा का लाभ मिल सके। इस योजना के अंतर्गत कोरोना का इलाज भी शामिल कर लिया गया है। लिहाजा जिस दिन इस योजना के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन करवा देंगे उसी दिन से इस योजना का लाभ मिलना शुरू हो जाएगा। इसको लेकर सभी सरपंच, उपसरपंच और कोर कमेटी के सदस्य देख लें कि इस योजना के लाभ से गांव का कोई भी परिवार ना चूके।
युवाओं में निशुल्क टीकाकऱण के लिए नगर परिषद के उपसभापति ने एक साल की सैलरी का चैक जिला कलक्टर को सौंपा
जनता ट्रक यूनियन ने 1 लाख 20 हजार और जितेन्द्रा ट्रांसपोर्ट कंपनी ने 51 हजार का चैक जिला कलक्टर को सौंपा
शनिवार आएगी कोविशील्ड की 10 हजार डोज, रविवार होगा टीकाकरण
पूर्व मंत्री डॉ. रामप्रताप की प्रेरणा से नगर परिषद के पूर्व चेयरमैन ने 15 ऑक्सीजन कंंसंट्रेटर जिला प्रशासन को सौंपे

hot news


नई दिल्ली, 10 अक्टूबर 2019,जब से अमित शाह ने गृह मंत्री का कार्यभार संभाला है, तभी से गृह मंत्रालय हमेशा से ही चर्चा का विषय बना हुआ है. गृह मंत्रालय कब क्या कर रहा है, इसपर हर किसी की नज़र है. राष्ट्रपति भवन के पास नॉर्थ ब्लॉक में मौजूद गृह मंत्रालय के दफ्तर में अब चप्पे-चप्पे नज़र रखी जा रही है, दफ्तर में हर जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं. इस मामले में ताजा अपडेट ये है कि पिछले हफ्ते से CCTV कैमरे लगने की शुरुआत जो हुई है अभी तक मंत्रालय की अहम लोकेशन पर पूरी हो चुकी है. नॉर्थ ब्लॉक-साउथ ब्लॉक में मौजूद दफ्तरों पर सुरक्षा काफी कड़ी रहती है, इसी के तहत यहां पर इन सभी काम को किया जा रहा है. गृह मंत्रालय की पूरी सुरक्षा CISF के हाथ में है, जो कि इन CCTV कैमरों की मदद से हर किसी पर नजर रखेंगे. CISF ने इनके अलावा बॉडी कैमरा, एक्स-रे मशीन और मेटल डोर डिटेक्टर भी सुरक्षा में तैनात किए हुए हैं. इनमें काफी सीसीटीवी कैमरे पहले फ्लोर पर लगेंगे, जहां पर गृह मंत्री, गृह राज्य मंत्री, गृह सचिव, सीबीआई डायरेक्टर, IB चीफ, ज्वाइंट सेक्रेटरी रहते हैं. गृह मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक, इसे A रूटीन अपग्रेडशन कहा जाता है. ना सिर्फ गृह मंत्रालय बल्कि CCTV के कैमरे अब वित्त मंत्रालय में भी लगाए जा रहे हैं. CCTV से क्या होगा? साफ है कि इन कैमरों के लग जाने के बाद गृह मंत्रालय के हर कोने पर नज़र रहेगी और ये भी पता चलता रहेगा कि कौन किससे मिल रहा है. खास बात ये है कि मंत्रालय में मौजूद मीडिया रूम में भी कैमरे लगाए गए हैं, यानी कौन पत्रकार कब किससे मिल रहा है इसपर भी मंत्रालय की नज़र रहेगी. गृह मंत्रालय में हो रहे इस बदलाव पर मंत्रालय के अफसरों ने भी खुशी जताई है और इस बात का जिक्र किया है कि अब कौन-कब आ रहा है, इसपर आसानी से नज़र रखी जा सकेगी.
66वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों का ऐलान, अंधाधुन बेस्ट हिंदी फिल्म, आयुष्मान और विकी कौशल बेस्ट ऐक्टर
विवादित वीडियो मामला: मुश्किल में एजाज खान, कोर्ट ने 1 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा
आर्टिकल 15 रिलीज, लोग बोले- आयुष्मान खुराना की एक और ब्लॉकबस्टर फिल्म
जल्द इंड‍िया लौट रहे हैं ऋषि कपूर, इस फिल्म में जूही चावला संग करेंगे काम

rajasthan


जयपुर देशभर में जहां कोरोना की दूसरी लहर कहर बरपा रही है। वहीं इसी बीच देश के कई राज्यों में इसकी रोकथाम के लिए लगातार पाबंदियां बढ़ती जा रही है। राजस्थान में भी कोरोना संक्रमण की रफ्तार को रोकने के लिए 'महामारी रेड अलर्ट जन अनुशासन पखवाड़ा लागू किया गया है। इसके तहत प्रदेश में जहां बेवजह घूमने वालों को संस्थागत क्वारंटीन करने के आदेश दिए गए हैं। वहीं अन्य कई जरूरी पाबंदियां भी लगाई गई है। इसी क्रम में अब राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत ने संपूर्ण लॉकडाउन को लेकर अपना समर्थन जताते हुए देशव्यापी लॉकडाउन की मांग की है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी के देशव्यापी लॉकडाउन का समर्थन करते हुए राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को कहा कि अगर सही तरीके से योजना बनाई जाए तो कोविड -19 के संक्रमण को फैलने से रोकने में मदद मिल सकती है। उन्होंने कहा कि पहले से ही देश में ऑक्सीजन, दवाओं और अन्य उपकरणों की कमी है और देश को जल्द ही डॉक्टर, चिकित्सा कर्मचारियों की कमी का सामना करना पड़ सकता है। गहलोत के बयान के बाद जानकारों का कहना है कि प्रदेश में आज कल में संपूर्ण लॉकडाउन की घोषणा हो जाएगी। इधर सीएम ने ट्वीट करके भी यह साफ संकेत दे दिए हैं कि वो संपूर्ण लॉकडाउन लगाने की तैयारी में हैं। यह लिखा सीएम गहलोत ने ट्वीट में दरअसल सीएम गहलोत ने एक ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने लिखा है कि "मैं राहुल गांधी के दिए नेशनल लॉकडाउन के मत का पूरी तरह से समर्थन करता हूं। गहलोत ने कहा कि अब राष्ट्रीय लॉकडाउन ही एकमात्र विकल्प बचा है। उन्होंने आगे लिखा है कि हमारे डॉक्टर, मेडिकल कर्मचारी राष्ट्र के लिए लगातार एक साल से अत्यधिक काम के बोझ में जी रहे है। हमने उनमें से कई को खो दिया है। विशेषज्ञों और डॉक्टरों का मानना है कि बढ़ती संख्या के बीच अब हमे ऑक्सीजन, दवाओं और अन्य उपकरणों की कमी का सामना करना पड़ रहा हैं। जल्द ही मेडिकल स्टाफ की कमी भी होगी। गहलोत ने कहा - होने लगी ऑक्सिजन- दवाईयों की शॉर्टेज कांग्रेस नेता राहुल गांधी के देशव्यापी बंद के आह्वान का समर्थन करते हुए, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने गुरुवार को कहा कि अगर सही तरीके से योजना बनाई जाए तो यह कोविद -19 की श्रृंखला को तोड़ने में मदद कर सकता है। उन्होंने कहा कि पहले से ही ऑक्सिजन, दवाओं और अन्य उपकरणों की कमी है और देश को जल्द ही चिकित्सा कर्मचारियों की कमी का सामना करना पड़ सकता है। सीएम ने कहा, सुनियोजित किया गया लॉकडाउन सीएम गहलोत में जहां अपने ट्वीट में चिकित्सकों को लेकर बात की है। वहीं गरीब तपके और मजदूरों को लेकर भी बात रखी है। उन्होंने लिखा है कि प्रवासियों को कष्टों से बचने के लिए लॉकडाउन की योजना ठीक से बनाई जा रही है। यह योजना प्रवासी कामगार मददगार हो सकते हैं। बता दें कि बुधवार को हुई कैबिनेट की मीटिंग के दौरान सीएम गहलोत ने लॉकडाउन के फैसले को लेकर 5 सदस्यीय मंत्रियों के कमेटी का गठन किया है। बताया जा रहा है कि मंत्रियों की अधिकारियों से बातचीत के बाद आने वाले सुझावों के बाद अब प्रदेश में संपूर्ण लॉकडाउन लगना तय है।
राजस्थान में बुधवार को कोराना वायरस संक्रमण के 16,815 नए मामले सामने आए,गंगानगर में 836,हनुमानगढ में 602नए मामले सामने आए
राजस्थान में आज से 18+ लोगों का वैक्सीनेशन: सीएम गहलोत ने पीएम मोदी से की फ्री कोरोना टीके की अपील, जानिए क्या कहा
राजस्थान में पाबंदियां और सख्त होंगी:CM गहलोत बोले- संक्रमण रोकने के लिए कर्फ्यू आगे भी लागू रखें, गाइडलाइन और सख्त बनाएं; 1-2 दिन में ऐलान होगा
सीएम गहलोत की मोदी सरकार से गुहार, कहा- इमरजेंसी के तौर पर 201 मीट्रिक टन ऑक्सिजन आज ही की जाए आवंटित

bahut kuchh


नई दिल्ली, कोरोना मरीजों के इलाज के लिए रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) की दवा 2 डीआक्सी-डी ग्लूकोज (2-डीजी) की 10 हजार डोज का पहला बैच अगले हफ्ते की शुरुआत में लॉन्‍च किया जाएगा। ये जानकारी डीआरडीओ के अधिकारियों ने दी है। अधिकारियों ने कहा कि भविष्य में दवा के इस्तेमाल के लिए उत्पादन में तेजी लाने का काम किया जा रहा है। ये दवा डीआरडीओ के वैज्ञानिकों की एक टीम ने बनाई है। ऐसा माना जा रहा है कि दवा 2-डीजी कोरोना के इलाज में गेम चेंजर साबित हो सकती है। कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए यह दवा किसी संजीवनी से कम नहीं है। 2डीजी के साइड इफेक्ट के बारे में डॉक्‍टर्स बताते हैं कि सामान्य कोशिकाओं का मेटाबालिज्म (भोजन को ऊर्जा में परिवर्तित करने की प्रक्रिया) संक्रमित कोशिकाओं से बिल्कुल अलग होती है। दवा की मात्रा सामान्य कोशिकाओं तक कम ही जाती है और उन्हें कोई नुकसान नहीं पहुंचाती। कोविड-19 के हर स्‍ट्रेन पर कारगर डीआरडीओ के वैज्ञानिकों के मुताबिक, 2डीजी कोरोना के हर स्ट्रेन से लड़ने में सक्षम है। इस दवा का मैकेनिज्म वायरस के प्रोटीन के बजाय, मानव कोशिकाओं के ही प्रोटीन में बदलाव कर देता है, जिससे वायरस कोशिका के अंदर पनाह ही नहीं ले पाता है। वहीं बाकी की एंटी वायरल दवाएं वायरस के ही प्रोटीन पर ही वार करतीं हैं और जब वायरस में म्युटेशन हो जाता है तो दवाइयां काफी हद तक निष्प्रभावी हो जाती हैं। इससे वायरस किसी भी स्ट्रेन का हो वह बेकार है। हैदराबाद स्थित डॉ. रेड्डी लैब द्वारा 2डीजी पर चलाए गए क्लीनिकल ट्रायल के प्रमुख वैज्ञानिक रहे आइएनएमएस के डॉ. अनंत नारायण भट्ट और डॉ. सुधीर चांदना ने देखा है कि तीसरे चरण के ट्रायल में यह दवा कई वैरिएंट्स पर प्रभावी है।
बंगाल में कोरोना से एक दिन में पांच चिकित्सकों की मौत, अब तक 127 चिकित्सकों की मृत्यु
पश्चिम बंगाल में 15 दिनों का फुल लॉकडाउन
कांग्रेस का पीम मोदी पर जोरदार हमला, कहा वायरस तो नहीं दिखता, लेकिन आपकी नाकामी साफ दिख रही है
पीएम मोदी की आलोचना वाले वाले पोस्टर चिपकाने पर दिल्ली में 17 FIR दर्ज, 15 गिरफ्तार

weather


desh videsh


नई दिल्ली भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के सीनियर वैज्ञानिक ने सनसनीखेज दावा किया है। तपन मिश्रा ने खुद को मारने की कोशिश के आरोप लगाए हैं। सोशल मीडिया पर दावा किया कि उन्हें खाने में जहर देकर मारने की कोशिश की गई थी। हालांकि उन्होंने यह भी बताया कि जान का दुश्मन कौन है, इस बारे में कोई आइडिया नहीं है। अहमदाबाद स्पेस एप्लिकेशन सेंटर के पूर्व निदेशक तपन मिश्रा ने फेसबुक पोस्ट में लिखा कि 3 साल पहले बेंगलुरु में इसरो के हेडक्वार्टर में एक कार्यक्रम के दौरान उनकी जान लेने की कोशिश की गई थी। 23 मई 2017 को खाने के दौरान डोसे की चटनी में आर्सेनिक ट्राइऑक्साइड मिलाया गया था। इसकी वजह से पूरे शरीर में ब्लड क्लॉटिंग के बाद हार्ट अटैक से मौत हो जाती है। वैज्ञानिक ने बताया कि खाना अच्छा नहीं लगने की वजह से उन्होंने कम ही खाया, जिससे जान तो बच गई लेकिन शरीर पर रिएक्शन देखने को मिला। उन्होंने बताया कि दो साल तक इलाज चला। पोस्ट के साथ मेडिकल रिपोर्ट और पैरों की तस्वीर भी शेयर की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इसके बाद दो और बार भी उन्हें मारने की कोशिश हुई। इसी जनवरी महीने में रिटायर होने जा रहे तपन ने बताया कि उन्हें त्वचा संबंधी समस्याएं, फंगल इन्फेक्शन, दिल का दौरा, न्यूरोलॉजिकल समस्याएं, हड्डियों में सेंसेशन होता रहा। उन्होंने विक्रम साराभाई से लेकर अन्य कई वैज्ञानिकों की रहस्यमयी मौत का जिक्र करते हुए कहा कि इससे पहले कोई घटना हो जाए, लोगों को पता चलना चाहिए कि मेरे साथ क्या हुआ। तपन ने स्पष्ट रूप से किसी के बारे में नहीं कहा लेकिन इतना बताया कि कुछ बाहरी ताकतें नहीं चाहतीं कि इसरो के वैज्ञानिक आगे बढ़ें और कम लागत में सारे सिस्टम तैयार करें। उन्होंने इसे अंतरराष्ट्रीय जासूसी हमला करार देते हुए कहा कि कमर्शल और सैन्य महत्व के उपकरण बनाने वाले वैज्ञानिकों को रास्ते से हटाने के लिए निशाना बनाया जा रहा है।
योगी लाएंगे लव जिहाद पर कानून, सीधे विरोध-समर्थन से बच रहे हैं विपक्षी दल
प्रॉपर्टी कार्ड देकर बोले PM, तकलीफ हो तो भी बच्चों को पढ़ाइए, राजमिस्त्री बनने पर मजबूर मत करिए
शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट की सख्त टिप्पणी,
पं. दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर बोले पीएम मोदी- किसानों, श्रमिकों से वादे बहुत किए काम नहीं किया, अब काम हुआ तो फैला रहे झूठ

taaja khabar


taaja khabar...काला धनः भारत को स्विस बैंक में जमा भारतीयों के काले धन से जुड़ी पहली जानकारी मिली...SPG सिक्यॉरिटी पर केंद्र सख्त, विदेश दौरे पर भी ले जाना होगा सिक्यॉरिटी कवर, कांग्रेस बोली- निगरानी की कोशिश....खराब नहीं हुआ था इमरान का विमान, नाराज सऊदी प्रिंस ने बुला लिया था वापस ....करीबियों की उपेक्षा से नाराज हैं राहुल गांधी? ताजा घटनाक्रम और कुछ कांग्रेस नेता तो इसी तरफ इशारा कर रहे हैं....2 राज्यों के चुनाव से पहले राहुल गांधी गए कंबोडिया? पहले बैंकॉक जाने की थी खबर...2019 में चिकित्सा क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार का ऐलान, 3 वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से मिला...चीन सीमा पर तोपखाने की ताकत बढ़ा रहा भारत, अरुणाचल प्रदेश में तैनात करेगा अमेरिकी तोप....J-K: पुंछ में PAK ने की फायरिंग, सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब ...राफेल में मिसाइल लगाने वाली कंपनी बोली, ‘भारत को मिलेगी ऐसी ताकत जो कभी ना थी’ ..

Top News