अपना जिला

भाजपा का होता कांग्रेसीकरण

(मदन अरोड़ा) पिछले दिनों आरएसएस ने भाजपा के कांगे्रसीकरण को लेकर चिंता जताते हुए भाजपा नेतृत्व को आगाह किया था। इसका कितना असर हुआ , कहना मुश्किल है लेकिन हनुमानगढ़ जिले के बारे में तो कहा जा सकता है कि आरएसएस की चेतावनी पूरी तरह से नकार दी गई है। पैरासूट से उतारे गए जिलाध्यक्ष को लेकर जो आशंकाएं जताई जा रही थी। वे सही साबित होती दिख रही हैं। हनुमानगढ़ नगर परिषद चुनावों को लेकर जो खबरें सामने आ रही हैं। उससे लग रहा है कि जिलाध्यक्ष प्रदीप बेनीवाल अपने कांग्रेसी साथियों को आगे ला संगठन और सता में अपना दबदबा बनाने के प्रयास में हैं। कुछ पूर्व कांगे्रसियों द्वारा दावा किया जा रहा है कि नगर परिषद चुनाव में उनकी भाजपा की टिकट पक्की हो गई है और उन्हें तैयारी करने के लिए कह दिया गया है। इनमें सेे कईयों को आजकल मंत्री ड़ा. रामप्रताप के भी करीब देखा जा रहा है। ड़ा. रामप्रताप के मंत्री बनने की खुशी भी इन कांग्रेसियों को भाजपा के समर्पित कार्यकर्ताओं से ज्यादा हुई है। कांग्रेस में रहते चौ. विनोद कुमार के साथ रह सता सुख भोगा । अब ड़ा. रामप्रताप के साथ रह सता का सुख भोगेंगे। राजनीतिक गलियारों में कहा जा रहा है कि जिलाध्यक्ष प्रदीप बेनीवाल और ड़ा. रामप्रताप के आपसी रिश्ते काफी मधुर हैं। संगठन की सेहत के लिए होने भी चाहिएं। परन्तु बड़ा सवाल ये है कि क्या इसकी कीमत पार्टी के निष्ठावान कार्यकर्ताओं को चुकानी होगी। पार्टीनिष्ठ कार्यकर्ता पूरे पांच साल पार्टी और अपने नेता के लिए जी-जान लगा देता है। चुनावों में वह मारकाट तक करने को तैयार रहता है। लेकिन जब पार्टी सता में आती है तो ज्यादातर की उम्मीदों पर पानी फिर जाता है। जैसा आने वाले नगर परिषद चुनावों में होता दिख रहा है। लोकसभा या विधान सभा चुनावों में आम कार्यकर्ता को इस बात का अहसास होता है कि टिकट उन्हें नहीं मिलने वाली । इसलिए वे अपने नेता के पीछे पूरी ताकत के साथ खड़े होते हैं। परन्तु उन्हें निकाय और पंचायत चुनावों में चुनाव में पार्टी उम्मीदवार बनने की आस होती है। उन्हें भरोसा होता है कि यदि टिकट उसे नहीं भी मिली तो पार्टी के ही किसी निष्ठावान कार्यकर्ता का हीे मिलेगी। लेकिन जब यह आस टूटती है तो चोट गहरे तक लगती है। जैसे हालात हैं कई कार्यकर्ताओं के दिल टूटेंगे। गहरे तक चोट लगना तय है। पर बड़ा सवाल यह है कि जिस नेता के लिए उन्होंने सालों तक कंधे से कंधा मिला कर दिन रात काम किया। वे ड़ा. रामप्रताप के मंत्री बनने के बाद उनके साथ कितने कदम चलते हैं। पार्टी निष्ठ कार्यकर्ताओं को टिकट मिले यह ड़ा.रामप्रताप की पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। उनका दायित्व भी यही बनता है कि तमाम रिश्तों - संबंधों को एक तरफ रख अपने कार्यकर्ता के साथ मजबूती से खड़े हों। उन्हें जिलाध्यक्ष के साथ अपने रिश्तों से ज्यादा कार्यकर्ताओं की भावनाओं को तरजीह देनी चाहिए। यदि वे भी अवसरवादी नेताओं की तरह कार्यकर्ताओं की भावनाओं को रौंदते हुए आगे बढ़ गए तो पांच साल बाद सता देख भाजपा में घुसे कांग्रेसी तो उनका साथ छोड़ चुके होंगे और पार्टी निष्ठ कार्यकर्ता भी उनसे किनारा कर जाएंगे। उन्हें फिर उसी तरह की दिक्कतों का सामना करना होगा ,जैसा इस बार चुनावों में टिकट के वक्त करना पड़ा । निष्ठावान कार्यकर्ताओं की ताकत को कमतर आंकने की भूल की कीमत उन्हें भविष्य में चुकानी ही पड़ेगी। कार्यकर्ताओं के पास ऐसे हालात में दो ही विकल्प बचते हैं,एक कायरों की तरफ चुपचाप दुबक कर घर बैठ जाएं और दूसरा सभी एकजुट हो दलबदलू उम्मीदवार की टिकट पार्टी को लौटाने के लिए चुनाव में अपने प्रत्याशी उतारें और उन्हें जीताने के लिए दिन रात एक कर दें। आरएसएस को भी चाहिए कि पार्टी में गंदगी की सफाई के लिए पार्टी निष्ठ कार्यकर्ताओं का सहयोग करे। आपसी ख्ंिाचतान के चलते यदि पार्टी की ओर से उतारे गए प्रत्याशी चुनाव हारते हैं तो इससे जिलाध्यक्ष का कुछ बिगडऩे वाला नहीं है लेकिन सिंचाई मंत्री ड़ा. रामप्रताप की छवि पर गलत असर पडऩा तय है।Date:- (Thu Oct 30, 2014 At 1:12 PM)

देश-प्रदेश

. असम, बंगाल, केरल और तमिलनाडु में भगवा झंडा फहराने की तैयारी में भाजपा

नई दिल्ली। महाराष्ट्र और हरियाणा में भाजपा को मिली भारी जीत के बाद अब पार्टी केरल, असम, बंगाल और तमिलनाडु में अपनी स्थिति को मजबूत करने पर फोकस कर रही है। पार्टी ने इसके लिए रणनीतियां बनानी शुरू कर दी हैं। एक अंग्रेजी अखबार ने पार्टी कार्यकर्ताओं के हवाले से लिखा है कि इन राज्यों में सा 2016 में चुनाव होने हैं और इसके लिए पार्टी मतदाताओं को इस तरह से पार्टी को वोट देने के लिए तैयार कर रही है कि अगर आप पीएम मोदी द्वारा किए जा रहे विकास का हिस्सा बनना चाहते हो तो भाजपा को वोट दो। पार्टी अपनी रणनीति के तहत बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं को मजबूत करने का काम कर रही है। पार्टी बूथ स्तर पर स्थानीय मुद्दो को उठाकर, मोदी सरकार की उपलब्धियां बताकर अपने आपको पार्टी के साथ जोड़ रही है। साथ ही वह राज्य में मौजूद सरकार पर निशाना साध रही है। हालांकि, इन राज्यों में मुस्लिम जनसंख्या बहुत ज्यादा है, ऎसे में भाजपा सोच रही है कि इससे पार्टी को वोटों के धुव्रीकरण में मदद मिलेगी। पार्टी ने असम और बंगाल में बांग्लादेश से अवैध रूप से आने वाले मुस्लिम लोगों के मुद्दे को उठाकर हिंदू वोटरों को लुभाने की कोशिश की है। लोकसभा चुनाव में भाजपा ने असम में पहली बार 14 सीटों में से सात सीटों पर जीत हासिल की है। वहीं पश्चिम बंगाल में पार्टी को वोट शेयर मजबूत करने में मदद मिली है। जबकि तमिलनाडु में जयललिता का जेल जाना पार्टी के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।

अपना जिला

मुम्बई के पास सड़क हादसे में रोड़ांवाली के तीन जनों की मौत ,दो घायल

हनुमानगढ़। मुम्बई के समीप हुए एक सड़क हादसे में रोड़ांवाली के तीन जनों की मौत हो गई जबकि दो जने गम्भीर रूप से घायल हुए हैं। मिली जानकारी के अनुसार रोड़ांवाली के धन धन सत गुरू के अनुयाई बाबा के सत्संग में भाग लेने के लिए मुम्बई गए थे। बुधवार को लौटते समय मुम्बई के समीप हुए एक सड़क हादसे में भाटिया परिवार के तीन जनों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि दो गम्भीर रूप से घायल हो गए।Date:- (Wed Oct 29, 2014 At 7:06 PM)

अपना जिला

डा.रामप्रताप के मंत्री बनने पर दीवाली के बाद फिर दीवाली,बधाई देने वालों का लगा तांता, पटाके चलाए,मिठाई बांटी

हनुमानगढ़। हनुमानगढ़ के विधायक एवं पूर्व मंत्री डा. रामप्रताप को केबिनेट मंत्री बनाए जाने पर समूचे इलाके में दीवाली सा माहौल है। डा. रामप्रताप के मंत्री बनने की खबर मिलते ही सुबह से ही समर्थकों, पार्टी कार्यकर्ताओं व शुभचिंतको का घर पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। सभी ने एक दूसरे व घर पर उपस्थित परिजनों अमित व व हरीश सहू को बधाई दी और पटाके चला खुशी का इजहार किया। समर्थकों ने डा. रामप्रताप के केबिनेट मंत्री के रूप में शपद लिए जाने के बाद शाम को भगतसिंह चौक पर पटाके चलाए और गुलाल लगा कर एक दूसरे को बधाई दी। इसके बाद बाजार में जुलूस निकाला गया। डा. रामप्रताप को सोमवार को मंत्रिमंडल के हुए पहले विस्तार में मंत्री बनाया गया है। उन्हें रविवार रात को ही मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का जयपुर पहुंचने का संदेश मिल गया था। फूडग्रेन मर्चेंटस एसोसिएशन के अध्यक्ष आशीष हिसारिया, सचिव अमित मदान, नगरपालिका के पूर्व अध्यक्ष अमरसिंह राठौड़ व राजकुमार तंवर, विपिन चलाना, भाजपा नेता प्रेम बंसल, अशोक गाबा, कृष्ण वर्मा,हरिमोहन महर्षि, देवेन्द्र पारीक, कालूराम शर्मा,पवन खुराना, व्यापार मंडल शिक्षण समिति के अध्यक्ष बालकृष्ण गोल्याण, पंजाबी महा सभा के जिलाध्यक्ष चरणदास पाहूजा,सेवाराम सिंधी,पूर्व पार्षद दीपक बंसल, डा. सुरेन्द्र छाबड़ा, पूर्व पार्षद रामसिंह सिद्धू व विजय अग्रवाल, भाजपा नेता कृष्ण पुरोहित, अरोड़वंश सभा के अध्यक्ष सतीश कटारिया, भुवनेश ग्रोवर ने डा. रामप्रताप के मंत्री बनने पर खुशी का इजहार करते हुए बधाई दी। Date:- (Mon Oct 27, 2014 At 6:03 PM)

बहुत कुछ

जिला मुख्यालय पर विभिन्न स्थानों पर लगे अन्नकूट के भण्डारे

हनुमानगढ़। जिला मुख्यालय पर विभिन्न धार्मिक , सामाजिक संगठनों द्वारा शुक्रवार को अन्नकूट भण्डारे का आयोजन किया गया अन्नकूट भण्डारे का प्रमुख कार्यक्रम टाउन स्थित फूडग्रेन मर्चेन्टस एसोसिएशन द्वारा आयोजित किया गया। इस मौके पर संस्था के अध्यक्ष आशीष हिसारिया, सचिव अमित मदान,उपाध्यक्ष रविन्द्र सिंगला, सहसचिव जसपाल सिंह, कोषाध्यक्ष कृष्ण घोड़ेला ने पूजा अर्चना कर भण्डारे की शुरूआत कर सेवा की। इस मौके पर धान मण्डी के व्यापारियों ने अन्नकूट के भण्डारे में शामिल हो प्रशाद ग्रहण किया। इस अवसर पर पूर्व अध्यक्ष पवन कन्दोई,जगदीश प्रसाद,मोहन लाल आदि ने भी भन्डारे में सेवा दी। अरोड़वंश धर्मशाला में आयोजित भण्डारे की शुरूआत अरोड़वंश सभा के अध्यक्ष सतीश कटारिया ने पूजा अर्चना के साथ की। इस मौके पर उपाध्यक्ष राजेन्द्र डोडा, सचिव जसपाल छाबड़ा, कोषाध्यक्ष कशमीरी लाल मिढ़ा, सहसचिव असीम सेतिया, प्रचार मंत्री राजेश मरेजा, युवा अरोड़वंश के अध्यक्ष विकास डोडा, राजपाल नागपाल, साजन धुडिय़ा, प्रेम सेतिया, अशोक चुघ, अविनाश मिढ़ा, कशमीरी लाल छाबड़ा सहित अरोड़वंश समाज के सैकड़ों लोग उपस्थित थे। वार्ड नं. 15 व 17 के वार्डवासियों द्वारा पंजाबी मोहल्ला में अन्नकूट के भन्डारे का आयोजन किया गया । इस अवसर पर वार्डवासियों द्वारा ढोल नगाड़ों के साथ नाचते गाते भटनेर दूर्ग स्थित श्याम बाबा के मन्दिर में पहुंचकर पूजा अर्चना कर अन्नकूट भन्डारे का भोग लगाकर श्रद्धालुओं में वितरण किया। भन्डारे में कड़ी छिचड़ा व पूड़ी छोले का प्रसाद वितरण किया गया । इस अवसर पर बन्सी लाल स्वामी,लाजपत राय,कन्हैया लाल,हैप्पी कपूर,पवन,दिनेश स्वामी,हेमराज,बालकृष्ण स्वामी,बिल्लू सैन,अमर सिंह,मनोज पान्डे,देवीलाल,महावीर प्रसाद,सन्दीप कुमार,कमलेश,मन्जु पान्डे,प्रदीप ऐरी,कमलेश आदि ने सहयोग किया। इसी प्रकार टाउन स्थित राजकीय चिकित्सालय के सामने अग्रसेन भवन में भी भण्डारे का आयोजन किया गया। भण्डारे की शुरूआत अग्रोहा विकास ट्रस्ट के अध्यक्ष राज कुमार अग्रवाल, सचिव वीपी गोयल, एडवोकेट रतन लाल नागौरी द्वारा महाराज अग्रसेन को भोग लगाकर व पूजा अर्चना कर की। Date:- (Sat Oct 25, 2014 At 5:52 PM)

 
bang bang trailer

खास खबरें

  •   Bookmark and Share
  •   Bookmark and Share
  •   Bookmark and Share
  •   Bookmark and Share

अपना जिला

भाजपा का होता कांग्रेसीकरण

(मदन अरोड़ा)
पिछले दिनों आरएसएस ने भाजपा के कांगे्रसीकरण को लेकर चिंता जताते हुए भाजपा नेतृत्व को आगाह किया था। इसका कितना असर हुआ , कहना मुश्किल है लेकिन हनुमानगढ़ जिले के बारे में तो कहा जा सकता है कि आरएसएस की चेतावनी पूरी तरह से नकार दी गई है। पैरासूट से उतारे गए जिलाध्यक्ष को लेकर जो आशंकाएं जताई जा रही थी। वे सही साबित होती दिख रही हैं। हनुमानगढ़ नगर परिषद चुनावों को लेकर जो खबरें सामने आ रही हैं। उससे लग रहा है कि जिलाध्यक्ष प्रदीप बेनीवाल अपने कांग्रेसी साथियों को आगे ला संगठन और सता में अपना दबदबा बनाने के प्रयास में हैं। कुछ पूर्व कांगे्रसियों द्वारा दावा किया जा रहा है कि नगर परिषद चुनाव में उनकी भाजपा की टिकट पक्की हो गई है और उन्हें तैयारी करने के लिए कह दिया गया है। इनमें सेे कईयों को आजकल मंत्री ड़ा. रामप्रताप के भी करीब देखा जा रहा है। ड़ा. रामप्रताप के मंत्री बनने की खुशी भी इन कांग्रेसियों को भाजपा के समर्पित कार्यकर्ताओं से ज्यादा हुई है। कांग्रेस में रहते चौ. विनोद कुमार के साथ रह सता सुख भोगा । अब ड़ा. रामप्रताप के साथ रह सता का सुख भोगेंगे। राजनीतिक गलियारों में कहा जा रहा है कि जिलाध्यक्ष प्रदीप बेनीवाल और ड़ा. रामप्रताप के आपसी रिश्ते काफी मधुर हैं। संगठन की सेहत के लिए होने भी चाहिएं। परन्तु बड़ा सवाल ये है कि क्या इसकी कीमत पार्टी के निष्ठावान कार्यकर्ताओं को चुकानी होगी। पार्टीनिष्ठ कार्यकर्ता पूरे पांच साल पार्टी और अपने नेता के लिए जी-जान लगा देता है। चुनावों में वह मारकाट तक करने को तैयार रहता है। लेकिन जब पार्टी सता में आती है तो ज्यादातर की उम्मीदों पर पानी फिर जाता है। जैसा आने वाले नगर परिषद चुनावों में होता दिख रहा है। लोकसभा या विधान सभा चुनावों में आम कार्यकर्ता को इस बात का अहसास होता है कि टिकट उन्हें नहीं मिलने वाली । इसलिए वे अपने नेता के पीछे पूरी ताकत के साथ खड़े होते हैं। परन्तु उन्हें निकाय और पंचायत चुनावों में चुनाव में पार्टी उम्मीदवार बनने की आस होती है। उन्हें भरोसा होता है कि यदि टिकट उसे नहीं भी मिली तो पार्टी के ही किसी निष्ठावान कार्यकर्ता का हीे मिलेगी। लेकिन जब यह आस टूटती है तो चोट गहरे तक लगती है। जैसे हालात हैं कई कार्यकर्ताओं के दिल टूटेंगे। गहरे तक चोट लगना तय है। पर बड़ा सवाल यह है कि जिस नेता के लिए उन्होंने सालों तक कंधे से कंधा मिला कर दिन रात काम किया। वे ड़ा. रामप्रताप  के मंत्री बनने के बाद उनके साथ कितने कदम चलते हैं। पार्टी निष्ठ कार्यकर्ताओं को टिकट मिले यह ड़ा.रामप्रताप की पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। उनका दायित्व भी यही बनता है कि तमाम रिश्तों - संबंधों को एक तरफ रख अपने कार्यकर्ता के साथ मजबूती से खड़े हों।  उन्हें जिलाध्यक्ष के साथ अपने रिश्तों से ज्यादा कार्यकर्ताओं की भावनाओं को तरजीह देनी चाहिए। यदि वे भी अवसरवादी नेताओं की तरह कार्यकर्ताओं की भावनाओं को रौंदते हुए आगे बढ़ गए तो पांच साल बाद सता देख भाजपा में घुसे कांग्रेसी तो उनका साथ छोड़ चुके होंगे और पार्टी निष्ठ कार्यकर्ता भी उनसे किनारा कर जाएंगे। उन्हें फिर उसी तरह की दिक्कतों का सामना करना होगा ,जैसा इस बार चुनावों में टिकट के वक्त करना पड़ा । निष्ठावान कार्यकर्ताओं की ताकत को कमतर आंकने की भूल की कीमत उन्हें भविष्य में चुकानी ही पड़ेगी। कार्यकर्ताओं के पास ऐसे हालात में दो ही विकल्प बचते हैं,एक कायरों की तरफ चुपचाप दुबक कर घर बैठ जाएं और दूसरा सभी एकजुट हो दलबदलू उम्मीदवार की टिकट पार्टी को लौटाने के लिए चुनाव में अपने प्रत्याशी उतारें और उन्हें जीताने के लिए दिन रात एक कर दें। आरएसएस को भी चाहिए कि पार्टी में गंदगी की सफाई के लिए पार्टी निष्ठ कार्यकर्ताओं का सहयोग करे। आपसी ख्ंिाचतान के चलते  यदि पार्टी की ओर से उतारे गए प्रत्याशी चुनाव हारते हैं तो इससे जिलाध्यक्ष का कुछ बिगडऩे वाला नहीं है लेकिन सिंचाई मंत्री ड़ा. रामप्रताप की छवि पर गलत असर पडऩा तय है।Date:- (Thu Oct 30, 2014 At 1:12 PM)
See More.... Bookmark and Share

Hot News

 

बहुत कुछ

.पीएनबी लूटकांड: मकान मालिक ने की आत्महत्या, दो अपराधी गिरफ्तार

सोनीपत। जिले के गोहाना में सुरंग बनाकर पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) मेें की गई डकैती के मामले में मकान मालिक के आत्महत्या करने से नया मोड आ गया है, लूट के इस मामले में जहां पुलिस ने दो आरोपियों को पकड़ लिया, वहीं दूसरी ओर पुलिस द्वारा पूछताछ कर छोड़े गए मकानमालिक ने छोड़े जाने के कुछ समय बाद ही आत्महत्या करली। खबर के मुताबिक गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस नेे लॉकर तोड़कर करोड़ों रूपए के जेवर लूटने वाले दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया, आरोपियों द्वारा ईंट भट्टे में छुपाए हुए दस किलो जेवरात भी बरामद कर लिए गए हैं। पुलिस सूत्रों ने बताया कि आरोपियों में से एक टैक्नीशियन है। सुरंग खोदने में आरोपियों को 1 माह का समय लगा था, और रविवार को इन्होंने चोरी की वारदात को अंजाम दिया। दो आरोपी अभी फरार हैं। मकान मालिक ने की आत्महत्या पीएनबी लूटकांड में जिस मकान का सुरंग खोदने के लिए उपयोग किया गया था, उसके मकान मालिक द्वारा आत्महत्या करने से मामले में नया मोड़ आ गया है। पुलिस वारदात के बाद से मकान मालिक से लगातार पूछताछ कर रही थी। पुलिस ने मकान मालिक के खिलाफ 120 बी के तहत मामला दर्ज कर पूछताछ करने के बाद गुरूवार दोपहर को छोड़ दिया था, जिसके बाद शाम के समय मकान मालिक का शव एक कार से बरामद किया गया। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है। हालांकि पुलिस सूत्र मामले में कुछ भी कहने से बच रहे है। पूछताछ के बाद मकान मालिक की आत्महत्या ने काफी सवाल खड़े कर दिए हैं। 10/30/2014 6:51:35 AM
See More.... Bookmark and Share


देश-प्रदेश

. असम, बंगाल, केरल और तमिलनाडु में भगवा झंडा फहराने की तैयारी में भाजपा

नई दिल्ली। महाराष्ट्र और हरियाणा में भाजपा को मिली भारी जीत के बाद अब पार्टी केरल, असम, बंगाल और तमिलनाडु में अपनी स्थिति को मजबूत करने पर फोकस कर रही है। पार्टी ने इसके लिए रणनीतियां बनानी शुरू कर दी हैं। एक अंग्रेजी अखबार ने पार्टी कार्यकर्ताओं के हवाले से लिखा है कि इन राज्यों में सा 2016 में चुनाव होने हैं और इसके लिए पार्टी मतदाताओं को इस तरह से पार्टी को वोट देने के लिए तैयार कर रही है कि अगर आप पीएम मोदी द्वारा किए जा रहे विकास का हिस्सा बनना चाहते हो तो भाजपा को वोट दो। पार्टी अपनी रणनीति के तहत बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं को मजबूत करने का काम कर रही है। पार्टी बूथ स्तर पर स्थानीय मुद्दो को उठाकर, मोदी सरकार की उपलब्धियां बताकर अपने आपको पार्टी के साथ जोड़ रही है। साथ ही वह राज्य में मौजूद सरकार पर निशाना साध रही है। हालांकि, इन राज्यों में मुस्लिम जनसंख्या बहुत ज्यादा है, ऎसे में भाजपा सोच रही है कि इससे पार्टी को वोटों के धुव्रीकरण में मदद मिलेगी। पार्टी ने असम और बंगाल में बांग्लादेश से अवैध रूप से आने वाले मुस्लिम लोगों के मुद्दे को उठाकर हिंदू वोटरों को लुभाने की कोशिश की है। लोकसभा चुनाव में भाजपा ने असम में पहली बार 14 सीटों में से सात सीटों पर जीत हासिल की है। वहीं पश्चिम बंगाल में पार्टी को वोट शेयर मजबूत करने में मदद मिली है। जबकि तमिलनाडु में जयललिता का जेल जाना पार्टी के लिए फायदेमंद साबित हो सकता है।
See More.... Bookmark and Share


Hanumangarh live | Hanumangarh News | Hanumangarh News | Raj News | Hanumangarh Rajasthan | News in Hanumangarh | hanumangarh Town in Hanumangarh | hanumangarh | hanumangarh | hanumangarh | hanumangarh | hanumangarh