taaja khabar...गगनयान के 4 एस्ट्रोनॉट्स के नामों का ऐलान:PM मोदी ने कहा- ये 140 करोड़ लोगों की उम्मीदों को स्पेस में ले जाने वाली शक्तियां ..राज्यसभा चुनाव- काउंटिंग जारी, देर शाम तक नतीजे:UP में 7 सपा विधायकों की क्रॉस वोटिंग, हिमाचल में कांग्रेस के 9 MLA पर शक..लोकसभा चुनाव: दिल्ली में AAP ने किया उम्मीदवारों का ऐलान, जानिए किसे कहां से मिला टिकट..लोकसभा चुनाव से पहले बिहार में बड़ा 'खेला', RJD- कांग्रेस के तीन विधायकों ने बदला पाला, BJP खेमे में हुए शामिल..लोकसभा चुनाव में 15 प्रत्याशी बदल सकती है बीजेपी:दो बार जीत रहे उम्मीदवारों के कट सकते हैं टिकट; 7 सीटों को पार्टी मान रही मुश्किल..खेतों में फार्म पौण्ड बनाने पर किसानों को मिलेगा 1 लाख 35 हजार रूपये तक का अनुदान..

हनुमानगढ़


हनुमानगढ़,हनुमानगढ़ जिले में लोकसभा चुनाव को लेकर आयोजित भाजपा की बैठक में नोहर के बाद गुरुवार को हनुमानगढ़ में भी हंगामा हुआ। जिला कार्यालय में बैठक लेने आए मंत्री सुमित गोदारा के सामने भाजपा कार्यकर्ताओं ने हनुमानगढ़ से पार्टी प्रत्याशी अमित सहू से भीतरघात करने का आरोप लगाते हुए जिलाध्यक्ष देवेन्द्र पारीक सहित कुछ कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई की मांग रखी। उन्होंने मंत्री सुमित गोदारा के सामने भाजपा जिलाध्यक्ष मुर्दाबाद की नारेबाजी की। लोकसभा चुनाव के दृष्टिगत पदाधिकारियों के साथ लोकसभा चुनाव प्रबंधन को लेकर मंत्री सुमित गोदारा के अध्यक्षता में जिला कार्यालय में बैठक शुरू हुई। दरअसल मंत्री श्रीगंगानगर लोकसभा क्षेत्र के विधानसभा में जाकर भाजपा कार्यकर्ताओं की बैठक ले रहे हैं। बैठक में चुनावो को लेकर आगामी रणनीति पर चर्चा की जा रही थी। विरोध का पहले से था आभास, मोबाइल करवाये गए थे बंद मिली जानकारी के अनुसार बैठक शुरू होने से पूर्व ही अन्दर जाने वाले सभी कार्यकर्ताओं, पदाधिकारियों के मोबाइल स्वीच ऑफ करवा लिए गए थे। बताया जा रहा हैं कि मंत्री सुमित गोदारा को हंगामे की आशंका पूर्व में ही थी। इसलिए बैठक में पत्रकारों को भी नहीं आने दिया गया। सूचना यह भी है कि हंगामा होने के बाद जब एक आध मोबाइल से फोटो खींची तो उसका मोबाइल लेकर फोटो डिलीट करवाने की बात सामने आई है। बैठक शुरू होते ही भितरघात के लगे आरोप मिली जानकारी के अनुसार अन्दर जैसे ही बैठक शुरू हुई तो कार्यकर्ताओं ने विधानसभा चुनाव में हुई भीतरघात का मुद्दा मंत्री के समक्ष उठाते हुए कार्रवाई की मांग की। जिस पर दूसरे पक्ष ने एतराज जताया। इस दौरान दोनों पक्षों में वाद-विवाद हो गया। हंगामा बढ़ता देख मंत्री सुमित गोदारा, लोकसभा संयोजक बलवीर बिश्रोई, सांसद निहालचंद मेघवाल ने सभी को शांत करने का प्रयास किया। आक्रोशित पार्टी कार्यकर्ताओं का आरोप था कि कुछ पार्टी कार्यकर्ताओं और पदाधिकारियों ने जिलाध्यक्ष देवेन्द्र पारीक के साथ मिलकर हनुमानगढ़ से निर्दलीय प्रत्याशी गणेश बंसल का समर्थन किया और पार्टी प्रत्याशी अमित सहू से भीतरघात किया। इस कारण पार्टी प्रत्याशी अमित सहू की हार हुई और निर्दलीय प्रत्याशी गणेश बंसल चुनाव जीत गए। एक तरफ जिंदाबाद तो दूसरी तरफ लगे मुर्दाबाद के नारे आक्रोशित कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाए की बैठक में कुछ कांग्रेस कार्यकर्ता शामिल हुए हैं। वहीं, भीतरघात करने वाले कुछ कार्यकर्ताओं को बाकायदा जिला कार्यकारिणी में जगह दी गई है। भाजपा जिला कार्यालय में बैठक के दौरान हुए हंगामे के बाद बाहर जहां जिलाध्यक्ष देवेन्द्र पारीक के समर्थन में मंडल पदाधिकारियों, जिला पदाधिकारियों ने जिंदाबाद के नारे लगाए। वहीं, दूसरी और आक्रोशित अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं ने जिलाध्यक्ष मुर्दाबाद के नारे लगाए। पीलीबंगा में भी दो गुटों में नजर आई भाजपा हनुमानगढ़ के बाद मंत्री सुमित गोदारा पीलीबंगा विधानसभा में कार्यकर्ताओं की बैठक लेने गए। पीलीबंगा में भी भाजपा दो गुटों में बंटी हुई नजर आई। दरअसल पूर्व विधायक धर्मेंद्र मोची और पूर्व विधायक द्रोपती मेघवाल के कार्यकर्ता अलग-अलग जगह पर बैठे हुए नजर आए। साथ ही बैठक समापन के बाद भाजपा प्रत्यासी रहे धर्मेंद्र मोची के गुट व कार्यकर्ताओं ने मंत्री सुमित गोदारा से अलग में बात करते हुए भाजपा प्रत्यासी को हराने वाले व्यक्तियों पर कार्रवाई करने की मांग रखी। कार्यकर्ताओ ने विरोध दर्ज करवाते हुए कहा कि ऐसे व्यक्तियों की वजह से ही भाजपा हारती है। भाजपा प्रत्यासी बोले ऐसी कोई बात नहीं भितरघात को लेकर सवाल पर भाजपा प्रत्यासी रहे अमित सहू ने बताया कि आज मंत्री सुमित गोदारा विधानसभा कार्यकर्ताओ की बैठक लेने आए थे। सहू बोले पार्टी एक बहुत बड़ा परिवार है। ऐसी कोई बात नहीं है। आपस में कोई नाराजगी की बात थी तो मंत्री महोदय ने सुनी है। आपस में सामंजस्य का कोई भाव रहा है तो उसे पूरा करने का प्रयास मंत्री महोदय करेंगे। जिलाध्यक्ष बोले शीर्ष नेतृत्व को सूचित किया, जल्द कार्रवाई करेंगे भितरघात के आरोप लगाने के मामले में भाजपा जिलाध्यक्ष देवेंद्र पारीक से सवाल पर पारीक बोले कि जिले भर में पार्टी कार्यकर्ताओं में लोकसभा चुनावों को लेकर खासा उत्साह है। पारीक बोले कुछ लोग स्वार्थवश पार्टी के अंदर जानबूझकर स्वयम्बू नेता बने लोग व्यक्तिगत हित पूरे नहीं होने के चलते वो गलत वातावरण खराब कर रहे हैं। हमने पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को इस के बारे में अवगत करवाया है। जो लोग वातावरण बिगाड़ रहे हैं उनके खिलाफ कार्रवाई करेंगे।
15 खाद्य नमूने लिये गये
व्यापार मंडल कॉलेज में एचआईवी एड्स स्वास्थ्य जागरूकता प्रशिक्षण कार्यशाला
टाउन के पंचायत समिति सभागार में हुई जिला परिषद साधारण सभा की बैठक
एनएमपीजी में जिला स्तरीय अन्तरमहाविद्यालय खेल प्रतियोगिता शुरू

hot news


नई दिल्ली, 10 अक्टूबर 2019,जब से अमित शाह ने गृह मंत्री का कार्यभार संभाला है, तभी से गृह मंत्रालय हमेशा से ही चर्चा का विषय बना हुआ है. गृह मंत्रालय कब क्या कर रहा है, इसपर हर किसी की नज़र है. राष्ट्रपति भवन के पास नॉर्थ ब्लॉक में मौजूद गृह मंत्रालय के दफ्तर में अब चप्पे-चप्पे नज़र रखी जा रही है, दफ्तर में हर जगह सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं. इस मामले में ताजा अपडेट ये है कि पिछले हफ्ते से CCTV कैमरे लगने की शुरुआत जो हुई है अभी तक मंत्रालय की अहम लोकेशन पर पूरी हो चुकी है. नॉर्थ ब्लॉक-साउथ ब्लॉक में मौजूद दफ्तरों पर सुरक्षा काफी कड़ी रहती है, इसी के तहत यहां पर इन सभी काम को किया जा रहा है. गृह मंत्रालय की पूरी सुरक्षा CISF के हाथ में है, जो कि इन CCTV कैमरों की मदद से हर किसी पर नजर रखेंगे. CISF ने इनके अलावा बॉडी कैमरा, एक्स-रे मशीन और मेटल डोर डिटेक्टर भी सुरक्षा में तैनात किए हुए हैं. इनमें काफी सीसीटीवी कैमरे पहले फ्लोर पर लगेंगे, जहां पर गृह मंत्री, गृह राज्य मंत्री, गृह सचिव, सीबीआई डायरेक्टर, IB चीफ, ज्वाइंट सेक्रेटरी रहते हैं. गृह मंत्रालय सूत्रों के मुताबिक, इसे A रूटीन अपग्रेडशन कहा जाता है. ना सिर्फ गृह मंत्रालय बल्कि CCTV के कैमरे अब वित्त मंत्रालय में भी लगाए जा रहे हैं. CCTV से क्या होगा? साफ है कि इन कैमरों के लग जाने के बाद गृह मंत्रालय के हर कोने पर नज़र रहेगी और ये भी पता चलता रहेगा कि कौन किससे मिल रहा है. खास बात ये है कि मंत्रालय में मौजूद मीडिया रूम में भी कैमरे लगाए गए हैं, यानी कौन पत्रकार कब किससे मिल रहा है इसपर भी मंत्रालय की नज़र रहेगी. गृह मंत्रालय में हो रहे इस बदलाव पर मंत्रालय के अफसरों ने भी खुशी जताई है और इस बात का जिक्र किया है कि अब कौन-कब आ रहा है, इसपर आसानी से नज़र रखी जा सकेगी.
66वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों का ऐलान, अंधाधुन बेस्ट हिंदी फिल्म, आयुष्मान और विकी कौशल बेस्ट ऐक्टर
विवादित वीडियो मामला: मुश्किल में एजाज खान, कोर्ट ने 1 दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा
आर्टिकल 15 रिलीज, लोग बोले- आयुष्मान खुराना की एक और ब्लॉकबस्टर फिल्म
जल्द इंड‍िया लौट रहे हैं ऋषि कपूर, इस फिल्म में जूही चावला संग करेंगे काम

राजस्थान


लोकसभा चुनाव में 15 प्रत्याशी बदल सकती है बीजेपी:दो बार जीत रहे उम्मीदवारों के कट सकते हैं टिकट; नए चेहरों पर लगाएगी दांव,कैलाश मेघवाल हो सकते हैं श्रीगंगानगर से उम्मीदवार मदन अरोड़ा।लोकसभा चुनावों को लेकर बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व राजस्थान में पहले चरण में आधा दर्जन सीटों पर प्रत्याशी घोषित कर सकता है। इन सीटों पर प्रत्याशियों के नामों का पैनल तैयार किया जा चुका है। ये वे सीटें हैं, जिन पर बीजेपी खुद को हर लिहाज से सेफ मानकर चल रही है।इनमें लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़लाकी कोटा,दुष्यंत सिंह की झालावाड़ बारां,अर्जुन मेघवाल की बीकानेर,प्रदेशाध्यक्ष सीपी जोशी की चितौड़,राहुल कस्वां की चुरू और बांसवाड़ा सीट शामिल है।इन पर आज गुरुवार को होने वाली केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में अंतिम मुहर लग सकती है और 48 घण्टों में 1-2 मार्च तक इनकी घोषणा भी हो सकती है। इसमें पार्टी पीएम मोदी और अमित शाह सहित 100 से 125 उम्मीदवारों की घोषणा कर सकती है। राजस्थान में पार्टी सभी 25 सीट पर जीत के साथ क्लीन स्वीप की रणनीति पर चल रही है।इस बार पिछले चुनाव में समझौते में छोड़ी गई नागौर सीट पर भी भाजपा उम्मीदवार उतारने की तैयारी में है।यहां से मिर्धा या मदेरणा परिवार से किसी को उतारा जा सकता है।हालिया सर्वों में 25 की 25 पर जीत की संभावनाओं से पार्टी का मनोबल काफी बढ़ा है।पूरी कवायद सभी सीटों पर जीत को लेकर हो रही है। पार्टी इस बार 15 सीटों पर उम्मीदवार बदल सकती है और नए चेहरों के साथ चुनावी मैदान में उतरेगी।इनमें 6 सीट वे हैं जहां से सांसदों को विधायक़ी का चुनाव लड़वाया गया था।इनमें 3 सांसद दीया कुमारी ,राज्यवर्धन सिंह और बाबा बालक नाथ चुनाव जीते थे ।ऐसे में उनकी रिक्त की गई सीट जयपुर ग्रामीण,अलवर और राजसमंद पर नया उम्मीदवार तो उतारा ही जायेगा।विधान सभा चुनाव हारने वाले सांसदों अजमेर से भागीरथ चौधरी,जालोर सिरोही से देवजी पटेल और झुंझुनू से नरेंद्र खीचड़ को भी पार्टी दुबारा टिकट देने के मूड में नहीं है।यहां से भी नए चेहरे उतारा जाना तय है।इनके अलावा 9 से 10 सीट पर और उम्मीदवार बदले जाने की पूरी संभावना है।इनमें श्रीगंगानगर संसदीय सीट भी शामिल है।5 बार सांसद रह चुके निहालचंद मेघवाल को भी बदले जाने की चर्चा है और उनकी जगह आरएसएस से जुड़े और टीचर की नौकरी छोड़ लंबे समय से राजनीति में सक्रिय अनुसूचित जाति-जनजाति प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष कैलाश मेघवाल को टिकट दे सकती है।दूसरी लिस्ट में इनकी उम्मीदवारी की घोषणा की जा सकती है।निहालचंद की अभी तक चुनावों में रही भूमिका ,उनकी वजह से होने वाले भितरघात से होने वाले नुकसान का आकलन करने के बाद ही निहालचंद का भविष्य तय किया जाएगा।इनके अलावा पार्टी लगातार दो बार एक सीट से जीतने वाले कुछ सांसदों का पत्ता काट सकती है।जयपुर शहर,भीलवाड़ा,दौसा,करोली-धौलपुर,टोंक -सवाई माधोपुर,उदयपुर सीट पर नए चेहरे उतार सकती है। सर्वे रिपोर्ट और परफॉर्मेंस के आधार पर प्रदेश बीजेपी इन सीटों पर पैनल तैयार कर रही है, जिसे केंद्रीय चुनाव समिति के समक्ष रखा जाएगा। वहीं 7 सीटें ऐसी हैं, जिसे बीजेपी आसान नहीं मान रही है। इन सीटों पर चेहरा बदलना लगभग तय हो चुका है। इनके अलावा 8 ऐसी लोकसभा सीटें और हैं, जिन पर भी बीजेपी नया प्रत्याशी उतार सकती है।तीन बार कोर कमेटी की हो चुकी बैठकों में सभी 25 सीटों को लेकर मंथन हो चुका है। दिल्ली में 29 फरवरी को केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक प्रस्तावित है। इस बैठक में आधा दर्जन के करीब राजस्थान के उम्मीदवारों पर मुहर लगा एक दो दिन में इनकी घोषणा हो सकती है। बीजेपी पहले चरण में राजस्थान, यूपी सहित देशभर की कई लोकसभा सीटों पर प्रत्याशी घोषित कर सकती है। लोकसभा सीटों को ए और बी कैटेगरी में बांटा- विधानसभा चुनावों की तर्ज पर ही बीजेपी ने प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों को भी ए और बी कैटेगरी में बांटा है। ए कैटेगरी में उन सीटों को शामिल किया गया है, जिन सीटों को हर तरह से सेफ माना जा रहा है। ए कैटेगरी में जयपुर शहर, जयपुर ग्रामीण, झालावाड़-बारां, कोटा-बूंदी, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, अजमेर, पाली, जोधपुर, जालोर, बीकानेर, उदयपुर, सीकर, डूंगरपुर-बांसवाड़ा, श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़, झुंझुनूं, चूरू और राजसमंद लोकसभा सीटें शामिल हैं। वहीं बी कैटेगरी में करौली-धौलपुर, दौसा, भरतपुर, टोंक-सवाई माधोपुर, बाड़मेर, अलवर और नागौर लोकसभा सीटों को रखा गया है। लगातार दो बार जीत रहे सांसदों की टिकट पर संकट- अगर बगावत का खतरा नहीं मंडराया तो पार्टी लगातार दो बार चुनाव जीतने वाले सांसदों के प्रति नाराजगी को देखते हुए उनके टिकट भी काट सकती है। इन पर है टिकट का संकट - जयपुर शहर से रामचरण बोहरा, टोंक-सवाई माधोपुर से सुखबीर सिंह जौनपुरिया, करौली-धौलपुर मनोज राजोरिया, उदयपुर से अर्जुनलाल मीणा, श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ से निहालचंद मेघवाल और भीलवाड़ा से सुभाष बहेड़िया सांसद हैं। दौसा से जसकौर मीणा सांसद हैं, इस सीट से ये पहली बार जीती हैं। डूंगरपुर-बांसवाड़ा से कनकमल कटारा भी पहली बार जीते हैं।
खेतों में फार्म पौण्ड बनाने पर किसानों को मिलेगा 1 लाख 35 हजार रूपये तक का अनुदान
अतिरिक्त मुख्य सचिव—आमजन का जीवन बचाना ही हमारा पहला और आखिरी लक्ष्य हो
लोकसभा चुनाव में 15 प्रत्याशी बदल सकती है बीजेपी:दो बार जीत रहे उम्मीदवारों के कट सकते हैं टिकट; 7 सीटों को पार्टी मान रही मुश्किल
स्पीकर देवनानी बोले- राजस्थान में धर्मांतरण इंटरनेशनल साजिश:देश विरोधी ताकतें कमजोर जगह चुनती हैं; कांग्रेस ने कानून अटकाया

बहुत कुछ


कोलकाता,पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में महिलाओं से यौन उत्पीड़न और जमीन हड़पने के आरोपी TMC नेता शेख शाहजहां को टीएमसी ने 6 साल के लिए पार्टी से सस्पेंड कर दिया है। पार्टी के फैसले का ऐलान करते हुए टीएमसी लीडर डेरेक ओ' ब्रायन ने कहा कि एक पार्टी है, जो सिर्फ बोलती रहती है। तृणमूल जो कहती है, वो करती है। शेख को बंगाल पुलिस ने गुरुवार 29 फरवरी की सुबह नॉर्थ 24 परगना के मीनाखान इलाके से उसे गिरफ्तार किया गया। वह 55 दिन से फरार था। पुलिस ने उसे बशीरहाट कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 10 दिन की पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। कोलकाता पुलिस ने जांच क्रिमिनल इन्वेस्टीगेशन डिपार्टमेंट (CID) को सौंप दी है। साउथ बंगाल के ADG सुप्रतिम सरकार ने कहा कि वह 5 जनवरी को ED अफसरों पर हुए हमले के मुख्य आरोपियों में शामिल था। उसे इसी मामले में गिरफ्तार किया गया है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में पुलिस सूत्रों के हवाले से कहा जा रहा है कि ED की टीम पर हमले में शेख शाहजहां ने अपनी भूमिका कबूल कर ली है। बेल के लिए वकील हाईकोर्ट पहुंचा, कोर्ट बोला- गिरफ्तार ही रहने दो गिरफ्तारी के तुरंत बाद शेख शाहजहां के वकील जमानत के लिए हाईकोर्ट पहुंचे। कोर्ट ने कहा, "उसे गिरफ्तार ही रहने दो। अगले 10 साल तक ये आदमी आपको बहुत व्यस्त रखेगा। आपको इस केस के अलावा कोई और चीज देखने का मौका नहीं मिलेगा। उसके खिलाफ 42 केस दर्ज हैं। वो फरार भी था। जो कुछ भी आपको चाहिए, आप सोमवार को आइए। हमारे पास उसके लिए कोई सहानुभूति नहीं है।" संदेशखाली की CBI जांच पर हाईकोर्ट में सुनवाई सोमवार को कलकत्ता हाईकोर्ट सोमवार को संदेशखाली मामले की जांच CBI को सौंपे जाने की याचिका पर सुनवाई करेगा। साउथ बंगाल के ADG सुप्रतिम सरकार ने बताया कि इस गिरफ्तारी में सेक्शुअल असॉल्ट का कोई मामला नहीं है। शाहजहां के खिलाफ कई मामले दर्ज किए गए हैं। 7, 8 और 9 फरवरी को जो मामले दर्ज हुए हैं, वे सभी 2-3 साल पहले की घटनाओं के हैं, पर जांच-पड़ताल में समय लगेगा। शुभेंदु अधिकारी बोले- शाहजहां की पुलिस से डील, फाइव स्टार सुविधाएं मिलेंगीं पश्चिम बंगाल में भाजपा नेता शुभेंदु अधिकारी ने कहा कि शेख शाहजहां को गिरफ्तार तो कर लिया गया है, लेकिन वह एक डील के तहत कल रात 12 बजे से ममता पुलिस की सुरक्षित कस्टडी में है। कल रात पुलिस उसे बेरमजूर-II में ग्राम पंचायत इलाके में ले गई थी, जहां उसने प्रभावशाली मध्यस्थों की मदद से ममता की पुलिस से डील की कि पुलिस कस्टडी और ज्यूडिशियल कस्टडी में उसकी अच्छे से देखभाल की जाएगी। जेल में उसे फाइव स्टार होटल जैसी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगीं। यहां तक कि उसे फोन भी दिया जाएगा जिसकी मदद से वह तोलामूल पार्टी को वर्चुअली चला सकेगा। भाजपा नेता सुकांत मजूमदार बोले- भाजपा ने दबाव डाला, तब सरकार ने गिरफ्तारी की शेख शाहजहां की गिरफ्तारी को लेकर बंगाल भाजपा अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने कहा कि भाजपा की तरफ से लगातार इस मुद्दे पर प्रदर्शन किए गए, जिसकी वजह से बंगाल सरकार उसे गिरफ्तार करने को मजबूर हुई। सरकार तो अब तक शेख शाहजहां को आरोपी मानने से ही इनकार कर रही थी। शाहजहां और उसके दो साथियों पर महिलाओं से गैंगरेप का आरोप संदेशखाली में शेख शाहजहां और उसके दो साथियों शिबू हाजरा और उत्तम सरदार पर आरोप है कि वे महिलाओं का लंबे समय से गैंगरेप कर रहे थे। इस केस में शिबू हाजरा और उत्तम सरदार समेत 18 लोगों को पुलिस पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। शाहजहां शेख TMC का डिस्ट्रिक्ट लेवल का नेता है। राशन घोटाले में ED ने 5 जनवरी को उसके घर पर रेड की थी। तब उसके 200 से ज्यादा सपोर्टर्स ने टीम पर अटैक कर दिया था। अफसरों को जान बचाकर भागना पड़ा। तभी से शाहजहां फरार था। हाईकोर्ट ने बंगाल सरकार से कहा था- शाहजहां को गिरफ्तार करो​​​​​ शाहजहां शेख की गिरफ्तारी को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस टीएस शिवज्ञानम ने सोमवार को आदेश दिया था कि पुलिस हर हाल में 4 मार्च को अगली सुनवाई में शाहजहां को कोर्ट में पेश करे। उसकी गिरफ्तारी पर कोई स्टे नहीं है। कोर्ट ने हैरानी जताई कि संदेशखाली में अत्याचार की घटनाओं की सूचना 4 साल पहले पुलिस को दी गई थी। यौन उत्पीड़न समेत 42 मामले हैं, लेकिन उनमें चार्जशीट दायर करने में चार साल लगा दिए गए। नॉर्थ 24 परगना जिले के संदेशखाली में हुआ क्या है नॉर्थ 24 परगना जिले के संदेशखाली में महिलाओं ने TMC नेता शेख शाहजहां और उनके समर्थकों पर यौन उत्पीड़न और जमीन हड़पने का आरोप लगाया था। इसके बाद संदेशखाली में स्थानीय महिलाओं ने प्रदर्शन किया था। उन्होंने आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की थी। शाहजहां कैसे मजदूर से माफिया बना आरोपी शाहजहां संदेशखाली में कहां से आया, ये कोई नहीं जानता। 2000-2001 में वो मत्स्य केंद्र में मजदूर था। सब्जी भी बेची। फिर ईंट-भट‌्ठे पर काम करने लगा। यहीं उसने मजदूरों की यूनियन बनाई। फिर सीपीएम से जुड़ा। सिंगूर और नंदीग्राम आंदोलन में वामदलों की जमीन खिसकी तो 2012 में वो तृणमूल के तत्कालीन महासचिव मुकुल रॉय और उत्तर 24 परगना जिले के ताकतवर नेता ज्योतिप्रिय मलिक के सहारे पार्टी से जुड़ गया। जिस राशन घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय शाहजहां को खोज रहा है, उसी केस में मलिक जेल में हैं। गांव वालों ने बताया कि शाहजहां के पास सैकड़ों मछली पालन केंद्र, ईंट भट्‌ठे, सैकड़ों एकड़ जमीन हैं। वो 2 से 4 हजार करोड़ की संपत्ति का मालिक है। ED अफसरों पर शेख समर्थकों ने ही हमला किया था पश्चिम बंगाल में कोरोना के दौरान कथित तौर पर हुए हजारों करोड़ रुपए के राशन घोटाले में ED ने 5 जनवरी को राज्य में 15 ठिकानों पर छापा मारा था। टीम नॉर्थ 24 परगना जिले के संदेशखाली गांव में शेख शाहजहां और शंकर अध्य के घर भी रेड डालने गई थी। इस दौरान उन पर TMC समर्थकों ने जानलेवा हमला किया था। इसमें तीन अधिकारी घायल हो गए थे। इसके बाद से शाहजहां फरार है। शेख शाहजहां के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है। संदेशखाली केस को लेकर कलकत्ता हाईकोर्ट की डिवीजन बेंच ने 20 फरवरी को बंगाल सरकार को फटकार लगाई। कोर्ट ने कहा- शुरुआती तौर पर ये साफ है कि टीएमसी नेता शाहजहां ने लोगों को नुकसान पहुंचाया। जिस शाहजहां पर रेप और जमीन हड़पने के आरोप हैं, ऐसा लगता है कि वो पुलिस की पहुंच से बाहर है।
हिमाचल में सुक्खू सीएम बने रहेंगे:कांग्रेस ने कहा- सभी मतभेद दूर किए,ऑपरेशन लोटस फेल रहा; अयोग्य करार दिए 6 विधायक हाईकोर्ट पहुंचे
भारत की GDP अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 8.4% रही:पिछली तिमाही में 7.6% थी; मैन्युफैक्चरिंग-माइनिंग सेक्टर का बेहतर परफॉर्मेंस
क्या कह रहा है जी न्यूज़ ओपिनियन पोल!किसकी बन रही है सरकार,किसान आंदोलन का कितना है असर
CAA पर नोटिफिकेशन किसी भी वक्त:इससे पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफगानिस्तान से आए गैर मुस्लिम शरणार्थियों को नागरिकता मिलेगी

मौसम


देश विदेश


तिरुवनंतपुरम/चेन्नई/मुंबई,प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को केरल के तिरुवनंतपुरम स्थित विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर (VSCC) पहुंचे। उनके साथ ISRO चीफ एस सोमनाथ भी मौजूद थे। प्रधानमंत्री ने यहां लगभग 1800 करोड़ रुपए के तीन स्पेस इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट्स का उद्घाटन और देश के पहले मैन्ड स्पेस मिशन गगनयान का रिव्यू किया। प्रधानमंत्री ने गगनयान मिशन पर भेजे जाने वाले एस्ट्रोनॉट्स के नामों का ऐलान भी किया और उन्हें एस्ट्रोनॉट विंग्स दिए। जिन एस्ट्रोनॉट्स को गगनयान मिशन पर भेजा जाएगा, उनमें- ग्रुप कैप्टन प्रशांत बालकृष्णन नायर, ग्रुप कैप्टन अजीत कृष्णन, ग्रुप कैप्टन अंगद प्रताप और विंग कमांडर शुभांशु शुक्ला शामिल हैं। चारों की ट्रेनिंग रूस में हुई है। प्रधानमंत्री ने इस दौरान कहा कि कुछ देर पहले देश पहली बार 4 गगनयान यात्रियों से परिचित हुआ। ये सिर्फ 4 नाम या 4 इंसान नहीं हैं, ये वो चार शक्तियां हैं जो 140 करोड़ भारतीयों की आकांक्षाओं को अंतरिक्ष तक ले जाने वाली हैं। 40 साल बाद कोई भारतीय अंतरिक्ष में जा रहा है, लेकिन इस बार वक्त भी हमारा है, काउंट-डाउन भी हमारा है और रॉकेट भी हमारा है। PM मोदी की स्पीच की 5 बातें... 1. आज जल, थल, नभ और अंतरिक्ष में ऐतिहासिक कार्यों का यश मिल रहा प्रधानमंत्री ने कहा- मैं चाहता हूं कि हर कोई हमारे अंतरिक्ष यात्रियों का खड़े होकर अभिनंदन करे। हर राष्ट्र की विकास यात्रा में कुछ क्षण ऐसे आते हैं जो वर्तमान के साथ ही आने वाली पीढ़ियों को भी परिभाषित करते हैं। आज भारत के लिए यह ऐसा ही क्षण है, हमारी आज की पीढ़ी बहुत सौभाग्यशाली है जिसे जल, थल, नभ और अंतरिक्ष में ऐतिहासिक कार्यों का यश मिल रहा है। 2. चार लोग 140 करोड़ भारतीयों की आकांक्षाओं को अंतरिक्ष तक ले जाएंगे प्रधानमंत्री ने कहा- कुछ देर पहले देश पहली बार 4 गगनयान यात्रियों से परिचित हुआ। ये सिर्फ 4 नाम या 4 इंसान नहीं हैं, ये वो चार शक्तियां हैं जो 140 करोड़ भारतीयों की आकांक्षाओं को अंतरिक्ष तक ले जाने वाली हैं। 40 साल बाद कोई भारतीय अंतरिक्ष में जा रहा है, लेकिन इस बार वक्त भी हमारा है, काउंटडाउन भी हमारा है और रॉकेट भी हमारा है। 3. 2035 तक अंतरिक्ष में भारत का अपना स्पेस स्टेशन होगा मोदी ने कहा- पिछले साल भारत वह पहला देश बना जिसने चंद्रमा के साउथ पोल पर तिरंगा फहराया। आज शिव-शक्ति पॉइंट पूरी दुनिया को भारत के सामर्थ्य से परिचित करा रहा है। 2035 तक अंतरिक्ष में भारत का अपना स्पेस स्टेशन होगा। इसकी मदद से भारत अंतरिक्ष का अध्ययन कर सकेगा। अमृत काल के इस दौर में भारतीय एस्ट्रोनॉट हमारे अपने रॉकेट पर सवार होकर चंद्रमा की सतह पर उतरेंगे। 4. गगनयान में इस्तेमाल हुए अधिकतम इक्विपमेंट्स भारत में बने हैं PM बोले- मुझे ये जानकर बेहद खुशी हुई कि गगनयान में इस्तेमाल हुए अधिकतम इक्विपमेंट्स भारत में बने हैं। ये गजब इत्तफाक है कि जब भारत दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए टेकऑफ कर रहा है, तभी भारत का गगनयान भी हमारे स्पेस सेक्टर को नई ऊंचाई तक ले जाने वाला है। 5. महिला वैज्ञानिकों के बिना ​​​​​​किसी मिशन की कल्पना नहीं की जा सकती मोदी ने कहा- 21वीं सदी का भारत दुनिया को अपने सामर्थ्य से चौंका रहा है। पिछले 10 वर्षों में हमने लगभग 400 सैटेलाइट लॉन्च किए हैं, जबकि इससे पहले के 10 वर्षों में मात्र 33 सैटेलाइट लॉन्च किए गए थे। हमारे स्पेस सेक्टर में वुमन पावर को बहुत महत्व दिया जा रहा है। चंद्रयान हो या गगनयान, महिला वैज्ञानिकों के बिना ऐसे किसी भी मिशन की कल्पना भी नहीं की जा सकती। 4 एस्ट्रोनॉट्स के बारे में 4 बातें... 1. चुने गए चारों एस्ट्रोनॉट्स इंडियन बेंगलुरु स्थित एयरफोर्स के एयरक्राफ्ट एंड सिस्टम टेस्टिंग एस्टिब्लिशमेंट के टेस्ट पायलट्स हैं। 2. एस्ट्रोनॉट बनने के लिए बड़ी संख्या में पायलट्स ने एप्लिकेशन दी थी। इनमें से 12 ने सितंबर 2019 में पहले लेवल का सिलेक्शन प्रोसेस कम्प्लीट किया था। इसके बाद कई राउंड के सिलेक्शन राउंड के बाद 4 को सिलेक्ट किया गया। 3. जून 2019 में ISRO और रूस की स्पेस एजेंसी के बीच पायलट्स की ट्रेनिंग के लिए करार हुआ था। इसके बाद इन पायलट्स को रूस के यूरी गागरिन कॉस्मोनॉट ट्रेनिंग सेंटर भेजा गया। यहां पर फरवरी 2020 से मार्च 2021 तक इनकी ट्रेनिंग हुई। 4. कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि इन एस्ट्रोनॉट्स में से किसी एक को अमेरिकी स्पेस एजेंसी NASA भी ट्रेनिंग देगी। यह ट्रेनिंग 2024 के आखिर में इंटरनेशल स्पेस स्टेशन के एक मिशन के लिए होगी।
PM मोदी ने द्वारका में स्कूबा डाइविंग की:बोले- दिव्य अनुभव था; देश के सबसे लंबे केबल स्टे ब्रिज का भी उद्घाटन किया
काशी में PM मोदी का राहुल पर निशाना:बोले- उनके खुद के होश ठिकाने नहीं...यूपी के बच्चों को नशेड़ी बता रहे
'कालचक्र बदल गया है, नए युग की शुरुआत हो चुकी है...' संभल में कल्कि धाम मंदिर का शिलान्यास कर बोले PM मोदी
भाजपा अधिवेशन में मोदी बोले- कांग्रेस देश बांटने में जुटी:कहा- कांग्रेस ने सेना पर सवाल उठाए, राफेल की राह में भी रोड़े अटकाए

ताजा खबर


taaja khabar...काला धनः भारत को स्विस बैंक में जमा भारतीयों के काले धन से जुड़ी पहली जानकारी मिली...SPG सिक्यॉरिटी पर केंद्र सख्त, विदेश दौरे पर भी ले जाना होगा सिक्यॉरिटी कवर, कांग्रेस बोली- निगरानी की कोशिश....खराब नहीं हुआ था इमरान का विमान, नाराज सऊदी प्रिंस ने बुला लिया था वापस ....करीबियों की उपेक्षा से नाराज हैं राहुल गांधी? ताजा घटनाक्रम और कुछ कांग्रेस नेता तो इसी तरफ इशारा कर रहे हैं....2 राज्यों के चुनाव से पहले राहुल गांधी गए कंबोडिया? पहले बैंकॉक जाने की थी खबर...2019 में चिकित्सा क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार का ऐलान, 3 वैज्ञानिकों को संयुक्त रूप से मिला...चीन सीमा पर तोपखाने की ताकत बढ़ा रहा भारत, अरुणाचल प्रदेश में तैनात करेगा अमेरिकी तोप....J-K: पुंछ में PAK ने की फायरिंग, सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब ...राफेल में मिसाइल लगाने वाली कंपनी बोली, ‘भारत को मिलेगी ऐसी ताकत जो कभी ना थी’ ..

Top News