taaja khabar..चेहरे ढके थे, पर चाल बता रही थी रियाज-गौस का पूरा हाल, कोर्ट में उठाकर ले गए पुलिसवाले..कन्हैयालाल के हत्यारों को मिल नहीं रहे वकील, दो और साथी हुए गिरफ्तार..कन्हैया लाल केस को लेकर सरकार का एक्शन, उदयपुर SP और IG पर गिरी गाज, राजस्थान में 32 IPS का ट्रांसफर..अमरावती में उदयपुर जैसी घटना? 54 साल के केमिस्ट की गला काटकर हत्या, NIA टीम कर रही जांच..20 करोड़ लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य, हर घर तिरंगा अभियान चलाएगी बीजेपी..हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की पत्नी को जान से मारने की धमकी, लखनऊ पुलिस ने बढ़ाई सुरक्षा..दिल्ली की अदालत ने जुबैर की जमानत याचिका खारिज की, 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा..नुपुर शर्मा को 18 जून को नोटिस जारी किया गया था, हुई थी पूछताछ: दिल्ली पुलिस..

पीएफआई की रैली में बच्‍चे ने लगाए भड़काऊ नारे, केरल पुलिस ने दर्ज किया मामला, एनसीपीसीआर ने मांगी रिपोर्ट

तिरुवनन्तपुरम: राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने केरल में एक राजनीतिक रैली के दौरान कथित तौर पर एक बच्चे को भड़काऊ नारे लगाने देने के लिए जिम्मेदार लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने की सोमवार को मांग की। दरअसल, 21 मई को अलाप्पुझा में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) द्वारा आयोजित गणतंत्र बचाओ रैली के दौरान एक व्यक्ति के कंधे पर बैठे एक लड़के का एक छोटा सा वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था, जिसमें वह कथित रूप से भड़काऊ नारे लगा रहा था। केरल के पुलिस प्रमुख को लिखे एक पत्र में, आयोग ने कहा कि उसे बच्चे के भड़काऊ नारे लगाने के बारे में शिकायत मिली है। आयोग ने कहा क‍ि वीडियो में पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) का झंडा साफ दिख रहा है। शिकायतकर्ता ने आगे आरोप लगाया है कि इस वीडियो के समाज में फैलने के बाद भी केरल पुलिस बच्चे के माता-पिता और पीएफआई के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। शिकायत में आरोप लगाया है कि सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी ऑफ इंडिया (एसडीपीआई) और पीएफआई इस तरह बच्चों का इस्तेमाल समुदाय में नफरत, दुश्मनी और सांप्रदायिक हिंसा फैलाने के लिए कर रहे हैं।

Top News