taaja khabar.....जापान में नमो-नमो से चीन को लगी मिर्ची, अमेरिका के सुर बदले, भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत..विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- प्रदेश में कोई भी सरेआम अपराध करे, सरकार को स्वीकार नहीं...कमीशनखोरी के आरोप में डॉ. विजय सिंगला?, भगवंत मान कैबिनेट से बर्खास्त..ज्ञानवापी मस्जिद मामले में जिला जज की अदालत में आज की कार्यवाही पूरी, मुकदमे में अब 26 मई को होगी अगली सुनवाई..पीएफआई की रैली में बच्‍चे ने लगाए भड़काऊ नारे, केरल पुलिस ने दर्ज किया मामला, एनसीपीसीआर ने मांगी रिपोर्ट..भारत को बोलने की इजाजत देने वाली संस्थाओं पर ‘सुनियोजित हमला’ हो रहा : राहुल गांधी..विनय कुमार सक्सेना को दिल्ली का उपराज्यपाल नियुक्त किया गया..सरकारी स्कूलों में रिक्तियों, अवसंरचना की कमी संबंधी याचिका पर अदालत ने पूछा दिल्ली सरकार का रुख..प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली अंतरराज्यीय परिषद का पुनर्गठन, शाह स्थायी समिति के अध्यक्ष..

असम को लेकर गलत बयान देने पर भारत ने OIC को लगाई फटकार

नई दिल्ली,भारत ने असम में अतिक्रमण विरोधी अभियान से संबंधित एक घटना को लेकर गलत बयान देने के लिए इस्लामी सहयोग संगठन (ओआइसी) को जमकर फटकार लगाई है। भारत ने कहा है कि ओआइसी को उसके आंतरिक मामलों पर बयानबाजी करने का कोई हक नहीं है। दरअसल असम में बेदखली अभियान से संबंधित एक घटना के बारे में भ्रामक बयान देने के लिए ओआईसी की भारत ने आलोचना की और कहा कि समूह के पास देश के आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है। विदेश मंत्रालय (MEA) के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने सख्त लहजे में कहा कि भारत ऐसे सभी अनुचित बयानों को खारिज करता है और उम्मीद करता है कि भविष्य में ऐसा कोई संदर्भ नहीं दिया जाएगा। विदेश मंत्रालय (MEA) के प्रवक्ता अरिंदम बागची (Arindam Bagchi) ने कहा कि भारत इस तरह के अवांछित बयानों को खारिज करता है और उम्मीद करता है कि भविष्य में ऐसी बयानबाजी नहीं होगी। उन्होंने कहा कि ओआइसी ने असम की दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर तथ्यात्मक रूप से गलत और भ्रामक बयान देकर भारत के आतंरिक मामलों में टिप्पणी की है। तीन अक्टूबर को जारी एक बयान में ओआईसी जनरल सचिवालय ने बेदखली अभियान की आलोचना की और आरोप लगाया कि यह मुस्लिम समुदाय के खिलाफ अभियान का एक हिस्सा है। बयान में कहा गया कि OIC के महासचिवालय ने संकेत दिया कि मीडिया में आईं खबरें शर्मनाक हैं और वह इस मामले में भारत गणराज्य में सरकार और अधिकारियों से एक जिम्मेदार रुख की अपील करता है। बता दें कि असम के दरांग जिले में पिछले महीने अतिक्रमण विरोधी अभियान में दो लोगों की मौत हो गई थी और पुलिसकर्मियों समेत कई लोग घायल हो गए थे। तीन अक्टूबर को जारी बयान में ओआइसी ने अतिक्रमण विरोधी अभियान को मुस्लिमों के खिलाफ अभियान बताया था।

Top News