taaja khabar.....जापान में नमो-नमो से चीन को लगी मिर्ची, अमेरिका के सुर बदले, भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत..विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- प्रदेश में कोई भी सरेआम अपराध करे, सरकार को स्वीकार नहीं...कमीशनखोरी के आरोप में डॉ. विजय सिंगला?, भगवंत मान कैबिनेट से बर्खास्त..ज्ञानवापी मस्जिद मामले में जिला जज की अदालत में आज की कार्यवाही पूरी, मुकदमे में अब 26 मई को होगी अगली सुनवाई..पीएफआई की रैली में बच्‍चे ने लगाए भड़काऊ नारे, केरल पुलिस ने दर्ज किया मामला, एनसीपीसीआर ने मांगी रिपोर्ट..भारत को बोलने की इजाजत देने वाली संस्थाओं पर ‘सुनियोजित हमला’ हो रहा : राहुल गांधी..विनय कुमार सक्सेना को दिल्ली का उपराज्यपाल नियुक्त किया गया..सरकारी स्कूलों में रिक्तियों, अवसंरचना की कमी संबंधी याचिका पर अदालत ने पूछा दिल्ली सरकार का रुख..प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली अंतरराज्यीय परिषद का पुनर्गठन, शाह स्थायी समिति के अध्यक्ष..

किसान आंदोलन: बंद पड़ी दिल्ली की सीमा खोलने पर सुप्रीम कोर्ट ने 43 किसान संगठनों को जारी किया नोटिस

नई दिल्ली, किसान आंदोलन के चलते बाधित पड़ी दिल्ली की सीमा खोलने की मांग पर सुप्रीम कोर्ट ने 43 किसान संगठनों को नोटिस जारी किया है। बता दें कि किसान आंदोलन के चलते यूपी और हरियाणा को दिल्ली से जोड़ने वाली सड़कें बंद पड़ी हैं, जिसको खुलवाने की मांग सुप्रीम कोर्ट से की गई थी। अब इसपर कोर्ट ने तमाम किसान संगठनों को नोटिस जारी कर दिया है। हरियाणा सरकार ने अर्जी दाखिल कर 43 किसान संगठनों के पदाधिकारियों को मामले में पक्षकार बनाए जाने की मांग की है। इस मामले पर अदालत अब 20 अक्टूबर को सुनवाई करेगी। वहीं, इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में किसान महापंचायत की याचिका पर सुनवाई के दौरान अटार्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने लखीमपुर खीरी की घटना का जिक्र करते हुए कहा ऐसी दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं नहीं होनी चाहिए। इस पर कोर्ट ने कहा जब ऐसी घटनाएं होती हैं तो कोई जिम्मेदारी नहीं लेता। सुप्रीम कोर्ट विचार करेगा कि क्या किसी मामले के अदालत में लंबित रहने के दौरान विरोध प्रदर्शन जारी रखा जा सकता है। क्या विरोध प्रदर्शन का अधिकार पूर्ण अधिकार है। बता दें कि किसान महापंचायत की ओर से सुप्रीम कोर्ट में जंतर मंतर पर सत्याग्रह की इजाजत मांगी गई है। सुनवाई करते हुए कोर्ट ने कहा हम इस पर विचार करेंगे। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों पर रोक लगा रखी है। सुनवाई के दौरान कोर्ट ने कहा, 'हमने कानूनों के अमल पर रोक लगा रखी है। केंद्र ने भी कहा है कि वह फिलहाल उन्हें लागू नहीं करना चाहता। फिर विरोध किस बात का करना चाहते हैं?' सुप्रीम कोर्ट ने इसी दौरान कहा कि मामला लंबित रहते याचिकाकर्ता विरोध प्रदर्शन कैसे कर सकता है। आप जल्द सुनवाई के अनुरोध कर सकते हैं। वहीं, किसानों की तरफ से वकील ने कहा कि हम सिर्फ कानून का विरोध नहीं कर रहे। और भी मांगें हैं।

Top News