taaja khabar....टीकाकरण को गति देने के लिए केंद्र देगा विदेशी कोविड वैक्सीन को झटपट अनुमति, प्रकिया होगी तेज...दार्जिलिंग में बोले शाह- दीदी ने भाजपा-गोरखा एकता तोड़ने का प्रयास किया, देना है मुंहतोड़ जवाब...और मजबूत हुई भारतीय वायुसेना, 6 टन के लाइट बुलेट प्रूफ वाहनों को एयरबेस में किया गया शामिल...इस साल मानसून में सामान्य से बेहतर होगी बारिश, स्काइमेट वेदर का पूर्वानुमान....सुशील चंद्रा ने देश के मुख्य चुनाव आयुक्त का पदभार संभाला...प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैसाखी त्योहार पर कड़ी मेहनत करने वालों किसानों की तारीफ की...Sputnik V को मंजूरी के बाद अब जल्द मिलेगी डोज, भारत में एक साल में बनेगी 85 करोड़ खुराक....'टीका उत्सव' के तीसरे दिन दी गईं 40 लाख से ज्यादा डोज, अब तक 10.85 करोड़ लोगों को लगी वैक्सीन....शरीर में नई जगह छिपकर बैठ रहा कोरोना, अब RT-PCR टेस्ट से भी नहीं हो रहा डिटेक्ट...

कोरोना को लेकर सरकार की चेतावनी, अगले चार हफ्ते रहेंगे काफी भयावह, लापरवाही पड़ेगी भारी

नई दिल्ली, देश में कोरोना के बढ़ते मामलों और टीकाकरण की स्‍थिति को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कहा कि देश में कुल कोविड मामलों में से 92 फीसद मरीज रिकवर हो चुके हैं। 1.3 फीसद मौतें हुई हैं। लगभग 6 फीसद नए कोविड मामले हैं। महाराष्ट्र में साप्ताहिक पॉजिटिविटी रेट फरवरी में 6 फीसद हो गई थी। अब यह 24 फीसद हो गई है, जो चिंता का विषय है। सबसे अधिक कोरोना के मामले वाले जिलों में 7 महाराष्ट्र के हैं। देश के कुल मामलों में से लगभग 58 फीसद मामले महाराष्ट्र में आ रहे हैं। कोविड से मृत्यु के मामलों के लगभग 34 फीसद महाराष्ट्र में दर्ज किए जा रहे हैं। महाराष्ट्र में फरवरी के दूसरे सप्ताह में 3,000 दैनिक औसत मामलों की तुलना में औसत दैनिक नए मामले 44,000 से अधिक हो गए। औसत दैनिक मृत्यु भी 32 से 250 हो गई है। जो लोग इन्फेक्टेड हैं या आइसोलेटेड हैं, वहां पर कड़ाई की जरूरत, अभी छत्तीसगढ़ सबसे ज्यादा चिंता का विषय है। छोटा राज्य होने के बावजूद कोरोना के कुल 6 प्रतिशत मामले छत्तीसगढ़ से आए हैं और मौतों का कुल 3 प्रतिशत छत्तीसगढ़ से है। कोरोना की दूसरी लहर की शुरूआत से ही छत्तीसगढ़ में न केवल इंफेक्शन ज्यादा आए हैं बल्कि मौतें भी ज्यादा हुई हैं! छत्तीसगढ़ में प्रतिदिन होने वाली मौतों के आंकड़े 38 दर्ज की गई हैं, और औसत केस 4900 से अधिक दर्ज की गई है। हमारा मकसद किसी राज्य पर उंगली उठाना नहीं है, ये एक मिलजुलकर काम करने की एक्सरसाइज है, जिसमें भारत सरकार राज्य सरकारों के साथ मिल कर काम कर रही है, इसलिए हम छत्तीसगढ़ का जिक्र कर रहे हैं। छत्तीसगढ़ के आस पास बड़ी आबादी वाले राज्यों में न केवल औसत केस कम हैं, साथ ही मौतें भी कम हुई हैं। अब आरटीपीसीआर टेस्ट बढ़ाने का अनुरोध राज्य सरकार से किया गया है। देश भर में कोरोना के 3 प्रतिशत केस पंजाब से आ रहे हैं, देश में कोरोना से होने वाली कुल मौतों का 4 प्रतिशत आंकड़ा पंजाब से आ रहा हैं। एक्टिव केस और मौतों के आंकड़ों के मामले में दिल्ली और हरियाणा की स्थिति पंजाब से बहुत बेहतर है। पंजाब में आरटीपीसीआर का शेयर 76 प्रतिशत है जो काफी हद तक संतेषजनक है, लेकिन छत्तीसगढ़ में इसे सुधारने की जरूरत है। कर्नाटक में भी केस लगातार बढ़ रहे हैं, पहले 399 केस हुआ करते थे जो अब बढ़ कर 4376 हो गए हैं। मामलों में 4 गुना इज़ाफा परेशानी का सबब है। कर्नाटक में आरटीपीसीआर का शेयर 90 प्रतिशत होना काफी संतोषजनक है, और ये लगातार बढ़ाए जा रहे हैं। सोमवार को देश में वैक्सीन के 43 लाख डोज लगाए गए जिसके चलते हमने आज सुबह तक 8 करोड़ 31 लाख डोज लगाए हैं। राजेश भूषण ने कहा कि हमने महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ और पंजाब में 15 उच्च स्तरीय मल्‍टी डिसिप्‍लनरी स्वास्थ्य टीमों को तैनात किया है। वे महाराष्ट्र के 30 जिलों, छत्तीसगढ़ के 11 जिलों और पंजाब के 9 जिलों में जाएंगे। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि बहुत से लोग पूछते हैं कि हमें सभी के लिए टीकाकरण क्यों नहीं खोलना चाहिए। इस तरह के टीकाकरण अभियान के दो उद्देश्य हैं - मौतों को रोकना और स्वास्थ्य सेवा प्रणाली की रक्षा करना। इसका उद्देश्य उन लोगों को वैक्सीन का उपलब्‍ध करना नहीं है जो इसे चाहते हैं, बल्‍कि जिन्हें इसकी आवश्यकता है। नीति आयोग के सदस्‍य डा. वीके पॉल ने कहा कि देश में महामारी का प्रभाव बढ़ गया है। चेतावनी देने के बाद भी स्थिति को ध्यान में नहीं रखा गया। कोरोना महामारी की स्थिति बदतर हो गई है और पिछली बार की तुलना में कोविड मामलों में वृद्धि की गति अधिक है। पीएम मोदी ने कोविड प्रबंधन के लिए जन भागदारी और जन आंदोलन का आह्वान किया है। हम अभी भी महामारी को नियंत्रित कर सकते हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटे में भारत में कोरोना वायरस के 96,982 नए मामले आने के बाद कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 1 कोरड़ 26 लाख 86 हजार 49 हो गई है। इस दौरान हुई 446 नई मौतों के बाद कुल मौतों की संख्या 1 लाख 65 हजार के पार हो गई है। देश में लगातार 27 दिनों से नए मामलों में हो रही बढ़ोतरी के बाद सक्रिय मामलों की संख्या भी बढ़कर 7 लाख 88 हजार 223 हो गई, जो कुल मामलों का 6.21 फीसद है।

Top News