taaja khabar....टीकाकरण को गति देने के लिए केंद्र देगा विदेशी कोविड वैक्सीन को झटपट अनुमति, प्रकिया होगी तेज...दार्जिलिंग में बोले शाह- दीदी ने भाजपा-गोरखा एकता तोड़ने का प्रयास किया, देना है मुंहतोड़ जवाब...और मजबूत हुई भारतीय वायुसेना, 6 टन के लाइट बुलेट प्रूफ वाहनों को एयरबेस में किया गया शामिल...इस साल मानसून में सामान्य से बेहतर होगी बारिश, स्काइमेट वेदर का पूर्वानुमान....सुशील चंद्रा ने देश के मुख्य चुनाव आयुक्त का पदभार संभाला...प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैसाखी त्योहार पर कड़ी मेहनत करने वालों किसानों की तारीफ की...Sputnik V को मंजूरी के बाद अब जल्द मिलेगी डोज, भारत में एक साल में बनेगी 85 करोड़ खुराक....'टीका उत्सव' के तीसरे दिन दी गईं 40 लाख से ज्यादा डोज, अब तक 10.85 करोड़ लोगों को लगी वैक्सीन....शरीर में नई जगह छिपकर बैठ रहा कोरोना, अब RT-PCR टेस्ट से भी नहीं हो रहा डिटेक्ट...

नक्सलियों के एंबुश को जवानों ने ऐसे किया तहस-नहस, बैरक में लौटने पर पता चला 24 साथी हुए शहीद

रायपुर छत्तीसगढ़ के बीजापुर-सुकमा बॉर्डर पर शनिवार को सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ (Sukama Encounter Latest News) में 24 जवान शहीद हुए हैं। इनमें डीआरजी, एसटीएफ, कोबरा बटालियन और बस्तर बटालियन के जवान बताए जा रहे हैं। डीजी सीआरपीएफ कुलदीप सिंह (DG CRPF Kuldeep Singh) ने बताया हमारे जवान जुनागुडा में ऑपरेशन को अंजाम देकर लौट रहे थे, तभी नक्सलियों ने कंट्री मेड बैरल ग्रेनेड लॉन्चर से फायरिंग (Naxal Attack Bijapur) शुरू कर दी। हालांकि, जवानों ने भी नक्सलियों पर करारा पलटवार किया। बताया जा रहा कि बीजापुर के तर्रेम इलाके में शनिवार दिन में नक्सलियों ने जवानों को अपने एंबुश में फंसा लिया। नक्सलियों ने जवानों को तीन तरफ से घेर कर हमला किया। जवान घने जंगल में थे और हिडमा की बटालियन पहाड़ के ऊपर से फायरिंग कर रहे थे। जिस फॉर्मेशन से जवानों की टीम लौट रही थी उसके बाद भी जिस तरह से उन पर जब फायरिंग शुरू हो गई तो वे हतप्रभ रह गए। डीजी सीआरपीएफ कुलदीप सिंह ने बताया कि नक्सलियों के इस हमले के जवानों ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया। उन्होंने ग्रेनेड लॉन्च करके उनके एंबुश को ब्रेक कर आगे निकले। इस दौरान हमारे 4-5 जवान घायल हो गए। इसके बाद जवानों ने दो पार्टियां बना ली। डीजी सीआरपीएफ ने कहा कि जवानों ने रणनीति में बदलाव करते हुए फॉरमेशन में बदलाव किया। इसमें आगे और पीछे जवानों की दोनों पार्टियां थीं और बीच में घायल जवान थे। इस दौरान ग्रामीणों ने भी जवानों को घेरने की कोशिश की। उन्होंने दूसरा एंबुश लगाने की कोशिश की और दूर से एलएमजी से फायरिंग शुरू कर दी। इसके बाद भी हमारे जवान उन्हें भेदते हुए आगे निकलते चले गए। तब तक हमने आस-पास के जिलों से जीडी बटालियंस को मौके पर भेज चुके थे। नक्सली हमले में 22 जवान शहीद, सर्च ऑपरेशन जारी जानकारी के मुताबिक, सभी जवानों के वापस बैरक में लौट आने पर जानकारी में पता चला कि 21 जवान जिनमें 8 डीआरजी, 6 एसटीएफ और 7 कोबरा के जवान नहीं मिल रहे हैं। इन लापता 21 जवानों की तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया। जिसमें अब तक 20 जवानों के शव मिल गए हैं। बाकी के 2 जवानों के शव उनके साथी साथ में ले आए थे। घायल जवानों ने बताया है कि नक्सली यू-शेप में दोनों पहाड़ियों के बीच घेरकर 100 से 200 मीटर की दूरी से फायर कर रहे थे। इस हमले में कुल 31 जवान घायल हुए हैं, जिनमें सीआरपीएफ के 16 जवानों का इलाज जारी है। रायपुर में 7 जवानों का इलाज चल रहा है, जिसमें 2 जवानों की हालत गंभीर है। एनकाउंटर में मार गए हैं 9 नक्सली, कई हुए घायल सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, कुछ दिन पहले ही सुरक्षाबलों ने नक्सलियों को चैलेंज किया गया था कि वे सामने आकर लड़ें। नक्सली अक्सर रात के अंधेरे में या चोरी-छिपे घात लगाकर हमला करते हैं और सुरक्षाबलों के पहुंचने से पहले ही वहां से निकल जाते हैं। सुरक्षाबलों ने उन्हें चुनौती दी थी कि वे सीधा मुकाबला करें। सुकमा में हुए ताजा हमले को इसी का नतीजा माना जा रहा है। वहीं, सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ में 9 नक्सलियों भी मारे गए हैं। कईयों के घायल होने की भी खबर है।

Top News