taaja khabar....PNB ने अन्य बैंकों को चिट्ठी लिख किया सचेत, 10 अधिकारी निलंबित.....PNB केस की INSIDE स्टोरी: 7 साल पहले हुआ था फ्रॉड, सरकार की सख्ती से खुलासा....बिहार के आरा में आतंकियों के कमरे में धमाका, बड़ी साजिश नाकाम, 4 फरार.....तीन दिन में तीन यात्राएं, चुनावी मोड में बीजेपी, निशाना 2019 पर...मोदी केयर' पर केंद्र ने राज्यों की बुलाई बैठक, ममता पहले ही झाड़ चुकी हैं पल्ला....
आप' स्थापना दिवस: बिना न्यौता पहुंचेंगे विश्वास, बैठेंगे लोगों के बीच!
नई दिल्ली आम आदमी पार्टी के बीच कथित अंदरूनी कलह समय-समय पर सामने आती रही है। अब एक बार फिर से पार्टी के संस्थापक सदस्य कुमार विश्वास और पार्टी लीडरशिप के बीच विवाद उभर सकता है। जानकारों का कहना है कि विश्वास पार्टी में अलग-थलग पड़ चुके हैं। विश्वास के करीबी एक बुद्धिजीवी ने पुष्टि की कि उन्हें पार्टी के पांचवें स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में भाग लेने के लिए न्यौता तक नहीं मिला है। एक महीने में यह दूसरा मौका है, जिसमें पार्टी के बड़े कार्यक्रम में विश्वास को दरकिनार किया जा रहा है। 26 नवंबर को पार्टी का स्थापना दिवस है। पार्टी 5 साल पूरे कर रही है, इसलिए कार्यक्रम का नाम क्रांति के 5 साल दिया गया है। सभी विधायक अपने-अपने क्षेत्र व सोशल मीडिया के माध्यम से पोस्टर आदि लगाकर लोगों को रामलीला मैदान पहुंचने के लिए कह रहे हैं। पार्टी के बड़े नेता भी समारोह में शिरकत करने के लिए कार्यकर्ताओं व लोगों से अपील कर रहे हैं, लेकिन हैरान करने वाली बात है कुमार विश्वास को निमंत्रण नहीं मिला है। नवंबर में राष्ट्रीय परिषद की मीटिंग में भी विश्वास के साथ ऐसा बर्ताव हुआ था। उन्हें बोलने तक नहीं दिया गया था। विश्वास के एक अन्य करीबी ने कहा कि पार्टी की टॉप लीडरशिप व एक खास गुट ने मुख्यमंत्री केजरीवाल के इर्द-गिर्द जाल फैला रखा है। ये कहीं न कहीं विश्वास से खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं। पंजाब और दिल्ली के एमसीडी चुनाव परिणाम के बाद कुमार विश्वास के बोलने पर पार्टी के बड़े नेता व एक खास खेमा असहज है। उधर, विश्वास के समर्थक बुद्धिजीवी ने कहा कि निमंत्रण आने न आने से उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता क्योंकि उन्होंने खुद को कभी पार्टी कार्यकर्ता से ज्यादा नहीं समझा। रविवार को वह पार्टी स्थापना दिवस समारोह में जाएंगे और कार्यकर्ताओं के बीच मंच के नीचे बैठकर कार्यक्रम का हिस्सा बनेंगे। फिलहाल यह बताना मुश्किल है कि वह कितने बजे रामलीला मैदान पहुंचेंगे, क्योंकि वह आज मेरठ से गाजियाबाद लौटेंगे। कल ही उनकी भतीजी की शादी हुई है। आप के बागी विधायक कपिल मिश्रा ने भी कुमार विश्वास को निमंत्रण न दिए जाने के मामले को तूल देते हुए सुबह-सुबह एक ट्वीट किया, 'भैया, कोई निमंत्रण हो या न हो, कल AAP के पांच साल पूरे होने पर आपको जरूर रामलीला मैदान जाना चाहिए, मंच से खुलकर अपनी बात रखनी चाहिए। यह बंद कमरे में होने वाली NC नहीं है, कल खुलकर बोलिये'। प्रोटोकॉल में फंसेगी टॉप लीडरशिप कुमार विश्वास आप के संस्थापक सदस्य होने के साथ-साथ पीएसी मेंबर भी हैं। ऐसे में अगर वह रामलीला मैदान पहुंचते हैं और कार्यकर्ताओं के बीच मंच के नीचे बैठते हैं तो यह प्रोटोकॉल के विपरीत होगा क्योंकि पीएसी के सदस्य मंच पर ही बैठते हैं। पार्टी की टॉप लीडरशिप के लिए यह मजबूरी हो जाएगी कि वे कुमार को मंच पर बैठने के लिए आमंत्रित करें। हालांकि जानकारों को इसमें भी संशय दिख रहा है कि कुमार को मंच पर बोलने दिया जाएगा या नहीं?

Top News

http://www.hitwebcounter.com/