taaja khabar...कोरोना से तबाही पर बोले पीएम मोदी- जिस दर्द से देशवासी गुजरे हैं, उसे मैं भी महसूस कर रहा हूं....चित्रकूट जेल के अंदर गैंगवॉर, दो गैंगस्टर की हत्या, तीसरा पुलिस कार्रवाई में मारा गया..995.40 रुपये में मिलेगी रूसी कोरोना वैक्सीन की एक डोज, देश में बनने पर हो सकती है सस्‍ती...गुजरात, असम सहित कई राज्यों को भेजी कोवैक्सीन की खेप...जब असम पहुंचे बंगाल के गवर्नर धनखड़ तो पैरों में गिर पड़ी महिलाएं...हमास कर रहा रॉकेट की बारिश, इजरायली 'लौह कवच' आयरन डोम कर रहा तबाह...PM Kisan में 50 लाख नए लोगों को भी मिलेंगे 2000-2000 रुपए, ऐसे कर सकते हैं अपना अकाउंट चेक...केंद्र ने कहा, राज्यों को निशुल्क भेजी जाएगी करीब एक करोड़ 92 लाख कोरोना वैक्सीन...पत्रकारों के लिए मध्यप्रदेश सरकार का अहम ऐलान, कोरोना संक्रमित होने पर इलाज का खर्च देगी राज्य सरकार...दवाओं की कालाबाजारी करने वालों पर भड़के प्रधानमंत्री, राज्य सरकारों को दिया कड़ी कार्रवाई का आदेश...कोरोना के एक दिन में नए मामलों से अधिक ठीक होने वालों का आंकड़ा, इस दौरान 4000 संक्रमितों की मौत..कोरोना महामारी के बीच सांसों के साथ अपनों ने छोड़ा हाथ, संघ निभा रहा मानवता का रिश्ता...

कोयला घोटाला मामला: ट्रायल के लिए भरत पराशर की जगह सुप्रीम कोर्ट ने नियुक्त किए दो नए जज

नई दिल्ली, चर्चित कोयला घोटाले से जुड़े मामलों का ट्रायल पूरा करने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को विशेष जज भरत पराशर की जगह दो नए जजों को नियुक्त किया है। इस क्रम में सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने दो ज्यूडिशियल अधिकारियों अरुण भारद्वाज (Arun Bhardwaj) और संजय बंसल (Sanjay Bansal) की नियुक्ति की। दरअसल दिल्ली हाईकोर्ट की ओर से विशेष जज भरत पराशर की जगह नए जज के लिए आग्रह किया गया था। सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल के एक पत्र का संज्ञान लिया जिसमें जज पराशर की जगह लेने वाले किसी अन्य उचित पीठासीन न्यायिक अधिकारी को तैनात करने या नामित करने की अनुमति मांगी गई थी। ये मामले वर्ष 2014 से लंबित हैं। इससे पहले विशेष जज भरत पराशर (Bharat Parashar) इन मामलों को देख रहे थे। उन्होंने करीब 40 मामलों की सुनवाई की और अब उनकी जगह दो नए जज आ रहे हैं। चीफ जस्टिस एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली बेंच ने पांच न्यायिक अधिकारियों के नामों पर विचार किया जो दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा सुझाए गए थे। चीफ जस्टिस ने कहा कि सभी जज अच्छे हैं। इस बेंच में ए एस बोपन्ना (A S Bopanna) और वी रामा सुब्रह्मण्यण (V Ramasubramanian) भी शामिल हैं। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस ने हाई कोर्ट की ओर से पेश किए गए पांच नामों पर विचार करने के बाद दो नामों को तय किया है। सुप्रीम कोर्ट में स्पेशल पब्लिक प्रॉसिक्यूटर (PP) आर एस चीमा ने कहा कि एक जज के बजाय दो जजों की नियुक्ति की जानी चाहिए उन्होंने कहा कि 41 केस पेंडिंग हैं, ऐसे में दो जज होने चाहिए। इसके बाद दो नामों को तय किया गया है। सुप्रीम कोर्ट ने वर्ष 2014 में उन 214 कोयला ब्लॉक का आवंटन खारिज कर दिया था, जिन्हें केंद्र सरकार ने 1993 से 2010 के बीच आवंटित किया था। सुप्रीम कोर्ट ने यह आदेश कई जनहित याचिकाओं पर सुनवाई करते हुए लिया था। साथ ही कोर्ट ने इस मामले में विशेष सीबीआई जज को मुकदमा चलाए जाने का भी आदेश दिया था।

Top News