taaja khabar...सावधान! चीन से आ रहे हैं खतरनाक सीड पार्सल, केंद्र ने राज्यों और इंडस्ट्री को किया सतर्क....लद्दाख से अरुणाचल प्रदेश तक हवाई हमले की ताकत जुटा रहा चीन, सैटलाइट तस्‍वीर से खुलासा..स्वतंत्रता दिवस से पहले गड़बड़ी की बड़ी साजिश, दिल्ली में भी विदेश से आए 'जहरीले' कॉल....सुशांत सिंहः बीजेपी ने कहा, राउत और आदित्य का CBI करे नार्को, राहुल और प्रियंका गांधी तोड़ें चुप्पी..विदेश मंत्री जयशंकर बोले- भारत और चीन पर दुनिया का बहुत कुछ निर्भर करता है...चीन को बड़ा झटका देने की तैयारी, गडकरी ने बताया क्या है प्लान...कोरोना पर खुशखबरी, देश में 70% के पास पहुंचा कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट...सुशांत के पिता पर टिप्पणी कर फंसे शिवसेना नेता संजय राउत, परिवार करेगा मानहानि का केस...राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट, घर वापसी कराने की कोशिशें तेज ...पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव हुए, अस्पताल में भर्ती ...कोरोना पॉजिटिव पाए गए केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, AIIMS में भर्ती ...दिल्ली हिंसा: आरोपी गुलफिशा ने किए चौंकाने वाले खुलासे, 'सरकार की छवि खराब करना था मकसद' ...

sports

मुंबई भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के मौजूदा संविधान में सर्वसम्मति से संशोधन का प्रस्ताव करते हुए बोर्ड की वार्षिक आम बैठक (एजीएम) में रविवार को लोढ़ा समिति के मूल सुधारों में ढिलाई देने पर बात की गई। इन संशोधनों को पारित कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट की स्वीकृति की जरूरत होगी जिस पर 3 दिसंबर को सुनवाई की संभावना है। गांगुली और शाह को 2 कार्यकाल प्रस्तावित संशोधन कूलिंग-ऑफ पीरियड में बदलाव से संबंधित है जिससे मौजूदा अध्यक्ष सौरभ गांगुली और सचिव जय शाह के लिए लगातार दो कार्यकाल मिल सकते हैं। संशोधनों में यह भी प्रस्ताव है कि 70 साल का नियम केवल पदाधिकारियों और शीर्ष परिषद के सदस्यों पर ही लागू होना चाहिए। होंगे बड़े बदलाव बीसीसीआई ने भी मौजूदा संविधान में एक और नियम को बदलते हुए चयनकर्ताओं के कार्यकाल को पांच से घटाकर चार साल का कर दिया है। इस बदलाव से एमएसके प्रसाद के नेतृत्व वाली चयन समिति का कार्यकाल खत्म हो गया है। इसके अलावा, फिक्सिंग और भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद केपीएल के आयोजन को रोके रखा है। आईसीसी-सीईसी के लिए शाह बीसीसीआई के सचिव जय शाह आईसीसी की मुख्य कार्यकारी समिति (सीईसी) में बीसीसीआई का प्रतिनिधित्व करेंगे। बोर्ड के सीईसी प्रतिनिधि, सीईओ राहुल जोहरी थे, जब प्रशासकों की समिति (CoA) बोर्ड के मामलों को देख रही थी। जय शाह को हाल में बोर्ड सचिव नियुक्त किया गया है, जब गांगुली ने पिछले महीने कार्यभार संभाला था। शाह को बोलने से ज्यादा सुनना पसंद गुजरात क्रिकेट संघ (GCA) में अपना पद छोड़ने के बाद बीसीसीआई सचिव पद संभालने वाले शाह ने अभी तक बोर्ड के मामलों पर ज्यादा बात नहीं की है। जिन लोगों ने उन्हें काम करते देखा है, वे कहते हैं, जय बोलने से ज्यादा सुनना पसंद करते हैं। नए सचिव ने पहले ही आईसीसी के मामलों को दिलचस्पी के साथ समझना शुरू कर दिया है। अनुभव पर ध्यान सुप्रीम कोर्ट जाने के अलावा, बीसीसीआई ने प्रस्ताव दिया है कि कूलिंग-ऑफ की अवधि केवल तभी समाप्त हो जानी चाहिए जब मौजूदा पदाधिकारी दो कार्यकाल (छह वर्ष) समाप्त कर चुका हो। इसके अलावा 70 साल उम्र वाला नियम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर आईसीसी में प्रतिनिधित्व पर लागू नहीं हो। इसके लिए तर्क दिया गया है कि किसी व्यक्ति के अनुभव को ध्यान में रखा जाए। चयनकर्ताओं का कार्यकाल 1 साल कम एक अन्य प्रमुख फैसले में एजीएम ने राष्ट्रीय चयन समितियों के कार्यकाल को पांच साल से घटाकर चार का कर दिया। बीसीसीआई के नए संविधान, जिसमें कई मोर्चों पर सदस्य लड़ रहे हैं, में राष्ट्रीय चयनकर्ताओं के लिए कार्यकाल चार साल से बढ़ाकर पांच का कर दिया था। प्रसाद के नेतृत्व वाली सिलेक्शन कमिटी अब नहीं इससे एमएसके प्रसाद के नेतृत्व वाली चयन समिति का कार्यकाल खत्म हो गया है जिसमें गगन खोड़ा, सरनदीप सिंह, जतिन परांजपे और देवांग गांधी शामिल हैं। एजीएम के बाद बोलते हुए, बीसीसीआई अध्यक्ष सौरभ गांगुली ने भी कहा कि उस सिलेक्शन कमिटी का कार्यकाल समाप्त हो गया है। हालांकि, सिंह, परांजपे और गांधी के पास एक साल का कार्यकाल बचा है, लेकिन देखना होगा कि क्या बीसीसीआई इस पर विचार करेगा। केपीएल पर फिलहाल रोक कर्नाटक प्रीमियर लीग (केपीएल) में जिस तरह से फिक्सिंग और भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं, उस से बीसीसीआई भी ‘सचेत’ है। गांगुली ने कहा कि इसी के चलते अभी केपीएल को रोक दिया है। उन्होंने कहा, 'हमें भ्रष्टाचार-रोधी सिस्टम को ठीक करना होगा। राज्यों ने इसे हमारे संज्ञान में लाया है। यह कोई नहीं चाहता। हम एक सिस्टम बनाएंगे।'
इंदौर भारतीय टीम ने अपने गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन की बदौलत बांग्लादेश को सीरीज के पहले टेस्ट मैच में 150 रन पर ऑलआउट कर दिया। पेसर मोहम्मद शमी ने सर्वाधिक 3 विकेट, इशांत शर्मा, उमेश यादव और ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने 2-2 विकेट झटके। बांग्लादेश ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया लेकिन यह सही साबित होते नजर नहीं आ रहा है। बांग्लादेश के लिए मुशफिकुर रहीम ने 43, कप्तान मोमिनुल हक ने 37 और विकेटकीपर बल्लेबाज लिटन दास ने 21 रन का योगदान दिया। उनके अलावा मोहम्मद मिथुन (13) और महमूदुल्लाह (10) ही दहाई के आंकड़े तक पहुंच पाए। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में यह भारत का छठा और बांग्लादेश का पहला मैच है। इबादत का विकेट, 150 पर सिमटा बांग्लादेश बांग्लादेश की पहली पारी 150 रन पर सिमटी। पेसर उमेश यादव ने 59वें ओवर की तीसरी गेंद पर इबादत हुसैन (2) को बोल्ड किया। इसी के साथ बांग्लादेश की पारी का अंत हो गया। उमेश का यह दूसरा विकेट रहा। पारी में सर्वाधिक 3 विकेट मोहम्मद शमी के नाम रहे। तैजुल रन आउट, 9वां विकेट गिरा बांग्लादेश का 9वां विकेट तैजुल इस्लाम (1) के रूप में गिरा। वह जडेजा और साहा के प्रयासों से रन आउट हुए। चायकाल के बाद इशांत ने लिटन को बनाया शिकार चायकाल के बाद पहली ही गेंद पर पेसर इशांत शर्मा ने लिटन दास (21) को शिकार बनाया और बांग्लादेश का 8वां विकेट भी 140 के स्कोर पर गिर गया। शमी ने एक ही ओवर में दिए 2 झटके पेसर मोहम्मद शमी ने चायकाल से ठीक पहले एक ही ओवर में 2 विकेट झटक लिए। उन्होंने 54वें ओवर की पांचवीं गेंद पर मुशफिकुर रहीम को बोल्ड किया। रहीम ने 105 गेंदों की अपनी पारी में 4 चौके और 1 छक्का जड़ा। अगली ही गेंद पर मेहदी हसन मिराज (0) को शमी ने शिकार बनाया। शमी का यह तीसरा विकेट है। अश्विन ने झटके 2 विकेट बांग्लादेश संभाल पाता इससे पहले ही आर. अश्विन ने पहले मोमिनुल हक (37) और फिर महमुदुल्लाह (10) को आउट करते हुए बांग्लादेश का स्कोर 115/5 कर दिया। लंच तक बांग्लादेश 63/3 बांग्लादेश ने लंच तक 3 विकेट पर 63 रन बनाए। कप्तान मोमिनुल हक 22 और मुशफिकुर रहीम 14 रन बनाकर क्रीज पर हैं। पहले सत्र में उमेश यादव, इशांत शर्मा और मोहम्मद शमी ने 1-1 विकेट लिया। 24 ओवर में 50 के पार बांग्लादेश बांग्लादेश के 50 रन 24 ओवर में पूरे हुए, 24वें ओवर की अंतिम गेंद पर (उमेश यादव का ओवर) मोमिनुल ने चौका लगाया और टीम का स्कोर 3 विकेट पर 53 रन पहुंचाया। शमी ने मिथुन को बनाया शिकार बांग्लादेश का तीसरा विकेट 31 के टीम स्कोर पर गिरा और पेसर मोहम्मद शमी ने मोहम्मद मिथुन (13) को LBW आउट किया। यह मैच में शमी का पहला विकेट है। अश्विन को मिला 15वां ओवर ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन को पारी का 15वां ओवर मिला। इससे पहले कप्तान विराट कोहली ने पेस अटैक इशांत, उमेश और शमी को गेंद थमाई थी। अश्विन ने अपने पहले ओवर में 2 रन दिए। इशांत ने शादमान को किया आउट 7वें ओवर की आखिरी गेंद पर बांग्लादेश का दूसरा विकेट गिरा। इशांत ने शादमान इस्लाम (6) को ऋद्धिमान साहा के हाथों कैच आउट कराया। स्कोर 12/2 उमेश ने दिलाई पहली सफलता भारतीय टीम को पहली सफलता उमेश यादव ने दिलाई। तेज गेंदबाज उमेश यादव ने छठे ओवर की आखिरी गेंद पर इमरुल कायेस (6) को अजिंक्य रहाणे के हाथों कैच कराया। स्कोर 12/1 चौथे ओवर में खुला खाता बांग्लादेश का खाता पारी के चौथे ओवर की दूसरी गेंद पर खुला। उमेश यादव की गेंद पर इमरुल कायेस ने सिंगल लिया और टीम को पहला रन भी मिला। बांग्लादेश की पारी शुरू शादमान इस्लाम और इमरुल कायेस ने बांग्लादेश की पारी का आगाज किया। इशांत शर्मा ने पहला ओवर किया। शादमान अपने करियर का पांचवां टेस्ट मैच खेल रहे हैं जबकि कायेस का यह 38वां टेस्ट मैच है। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में अब तक अपराजित रही भारतीय टीम ने इस चैंपियनशिप में अब तक 2 टेस्ट सीरीज खेली हैं। उसने वेस्ट इंडीज को कैरेबियाई धरती पर 2 टेस्ट मैचों की सीरीज में 2-0 से और साउथ अफ्रीका को भारत में खेली गई 3 मैचों की टेस्ट सीरीज में 3-0 से हराया। दूसरी ओर बांग्लादेश टीम की बात करें तो उसने आज तक टेस्ट मैचों में भारत को नहीं हराया है। हालांकि टी20 इंटरनैशनल मैचों में भी उसने भारत को इस दौरे से पहले नहीं हराया था लेकिन टी20 सीरीज के पहले ही मैच में उसने भारत को हराकर इतिहास रचा। पिच और मौसम का हाल पिच की बात करें तो एक दिन पहले ही क्यूरेटर ने इसे 'लाइव विकेट' बताया था। हालांकि इसे बल्लेबाजी के लिए मुफीद माना जाता है। मैच से एक दिन पहले यहां कुछ घास भी नजर आ रही थी, जो शुरुआत में तेज गेंदबाजों के लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। मौसम की बात करें तो आसमान साफ रहने की संभावना है और दोपहर में अधिकतम तापमान 20-28 डिग्री सेल्सियस तक हो सकता है। टीम इस प्रकार है- प्लेइंग-XI भारत रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल, चेतेश्वर पुजारा, विराट कोहली (कप्तान), अजिंक्य रहाणे, रविंद्र जडेजा, ऋद्धिमान साहा (विकेटकीपर), रविचंद्रन अश्विन, इशांत शर्मा, उमेश यादव और मोहम्मद शमी प्लेइंग-XI बांग्लादेश शादमान इस्लाम, इमरुल कायेस, मोहम्मद मिथुन, मोमिनुल हक (कप्तान), मुशफिकुर रहीम, महमूदुल्लाह, लिटन दास (विकेटकीपर), मेहदी हसन, तैजुल इस्लाम, अबु जायेद और इबादत हुसैन
मुंबई टीम इंडिया के पूर्व कैप्टन और 'रॉयल बंगाल टाइगर' के नाम से मशहूर सौरभ गांगुली ने बुधवार को विधिवत रूप से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का अध्यक्ष पद संभाल लिया। इसी के साथ सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में बोर्ड का कामकाज देख रही प्रशासकों की समिति (CoA) का कार्यकाल भी खत्म हो गया है। अब बोर्ड से जुड़े सभी कामकाज बीसीसीआई के चुने हुए नए प्रतिनिधि ही संभालेंगे। 47 वर्षीय गांगुली की अध्यक्षता वाली इस नई टीम में उनके अलावा उपाध्यक्ष के पद पर महीम वर्मा, सचिव के रूप में जय शाह, अरुण धूमल (कोषाध्यक्ष) के साथ केरल के जयेश जॉर्ज संयुक्त सचिव का पद संभालेंगे। बुधवार को बीसीसीआई की सालाना आम सभा बैठक (एजीएम) के दौरान गांगुली ने औपचारिक तौर पर पदभार संभाला। नए दौर की शुरुआत साल 2003 में खेले गए वनडे वर्ल्ड कप में गांगुली की कप्तानी वाली टीम इंडिया उप-विजेता रही थी। गांगुली को आक्रामक कप्तान माना जाता है जो अपने साहसिक फैसलों के लिए मशहूर रहे हैं। माना जा रहा है कि किसी पूर्व क्रिकेटर के बोर्ड अध्यक्ष बनने से बीसीसीआई में नए दौर की शुरुआत होगी। धोनी के भविष्य पर भी बात अब नए अध्यक्ष गुरुवार को सिलेक्शन कमिटी के साथ अपनी पहली बैठक करेंगे। गांगुली ने पहले ही संकेत दिए थे कि इस बैठक में वह पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के भविष्य पर चयनकर्ताओं से बात कर सकते हैं। बता दें कि गुरुवार को ही बांग्लादेश के खिलाफ होने वाली घरेलू टी20 सीरीज के लिए टीम इंडिया का ऐलान किया जाएगा। गांगुली ने साथ ही कहा था कि फर्स्ट क्लास क्रिकेट उनकी प्राथमिकता में रहेगा। राय अपने कार्यकाल से संतुष्ट बीसीसीआई एजीएम मीटिंग में शिरकत करने पहुंचे सीओए के अध्यक्ष विनोद राय ने अपने कार्यकाल पर संतुष्टि जाहिर की। राय ने बैठक में शामिल होने से पहले कहा, 'मैं बहुत संतुष्ट हूं।' राय ने यह बात सुप्रीम कोर्ट से मिली अपनी जिम्मेदारी को लेकर कही। 33 महीनों से CoA देख रही थी कामकाज इससे पहले सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस एस. ए. बोबडे और जस्टिस एल. नागेश्वर राव की बेंच ने प्रशासकों की समिति (CoA)को निर्देश दिया था कि बुधवार को जब बीसीसीआई के नवनियुक्त पदाधिकारी चार्ज संभाल लें तो वह अपना काम समेट लें। भारत के पूर्व नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (CAG) विनोद राय के नेतृत्व में यह प्रशासनिक समिति बीते 33 महीनों से बोर्ड का कामकाज देख रही थी। क्यों हुई थी समिति नियुक्त साल 2013 में आईपीएल के दौरान स्पॉट फिक्सिंग और सट्टेबाजी के आरोपों के बाद सुप्रीम कोर्ट को बीसीसीआई के कामकाज में दखल देना पड़ा था। दुनिया के सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड के कामकाज में पारदर्शिता लाने, भ्रष्टाचार खत्म करने समेत कई सुधारों के लिए सुप्रीम कोर्ट ने 22 जनवरी 2015 को जस्टिस आर. एम. लोढ़ा के नेतृत्व में एक समिति का गठन किया था। समिति ने उसी साल 14 जुलाई को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी और इसके बाद सुप्रीम कोर्ट ने लोढ़ा पैनल की सिफारिशों को लागू करने के मकसद से प्रशासनिक समिति का गठन किया था।
रांची भारत ने साउथ अफ्रीका को तीसरे टेस्ट में पारी और 202 रनों से हरा दिया है। इसके साथ ही टीम इंडिया ने तीन टेस्ट मैचों की सीरीज 3-0 से अपने नाम कर ली। रांची में मंगलवार को मैच के चौथे दिन भारत ने मैच जीत लिया। तीसरे दिन भारत ने साउथ अफ्रीका के 8 विकेट 132 रनों पर चटका दिए थे। उसे मैच जीतने के लिए सिर्फ दो विकेट की दरकार थी जो दिन के दूसरे ओवर में ही हासिल कर लिए। साउथ अफ्रीका की दूसरी पारी 133 रनों पर सिमट गई। लुंगी नगिडी आउट होने वाले आखिरी बल्लेबाज रहे। आखिरी दोनों विकेट शाहबाज नदीम ने हासिल किए। चौथे दिन भारत ने सिर्फ 9 मिनट और दो ओवरों में मैच अपने नाम कर लिया। भारत ने तीसरे दिन सोमवार का खेल खत्म होने तक दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी में आठ विकेट 132 रनों पर ही चटका दिए थे। भारत ने अपनी पहली पारी नौ विकेट के नुकसान पर 497 रनों पर घोषित की थी। इसके बाद तीसरे ही दिन साउथ अफ्रीका को पहली पारी में 162 रनों पर ढेर कर उसे फॉलोऑन दिया। दूसरी पारी में भी दक्षिण अफ्रीका की स्थिति बदल नहीं सकी और टीम लगातार विकेट खोती रही। तीसरे दिन वह भारत से 203 रन पीछे थी और भारत को जीत के लिए सिर्फ दो विकेट चाहिए थे। तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक थेयुनिस डे ब्रूयन 30 रन बनाकर खेल रहे थे। ब्रूयन इस मैच में अंतिम-11 में नहीं थे, लेकिन सलामी बल्लेबाज डीन एल्गर (16) के चोटिल होने के बाद वह कनसेशन खिलाड़ी के तौर पर मैदान में आए। उनके अलावा जॉर्ज लिंडे ने 27, डीन पीट ने 23 रन बनाए। पहली पारी में जल्दी ढेर होने वाली मेहमान टीम दूसरी पारी में भी बल्ले से कमाल नहीं दिखा सकी और भारतीय गेंदबाजों के सामने संघर्ष करती रही। दूसरे सत्र में अपनी दूसरी पारी शुरू करने वाली दक्षिण अफ्रीका ने चायकाल तक अपने चार विकेट 26 रनों पर ही खो दिए थे। क्विंटन डि कॉक (5) को उमेश यादव ने पांच के कुल स्कोर पर बोल्ड किया। पहली पारी में अर्धशतक जमाने वाले जुबेर हमजा को शमी ने खाता नहीं खोलने दिया। कप्तान फाफ डु प्लेसिस दूसरी पारी में सिर्फ चार रन बना सके और शमी का शिकार बने। टेम्बा बावुमा को शमी ने अपना अगला शिकार बनाया। इस दौरान डीन एल्गर को उमेश यादव की गेंद लगी और वह बाहर चले गए। तीसरे सत्र में हेनरिक क्लासेन (5) को उमेश ने 36 के कुल स्कोर पर पवेलियन भेज दिया। यहां से साउथ अफ्रीका की हार तय हो गई थी। उसके निचले क्रम ने हालांकि थोड़ा बहुत संघर्ष किया। जॉर्ज लिंडे ने 27 और डेन पीट ने 23 रन बनाए। कगिसो रबाडा 12 रन बनाकर अश्विन का शिकार बने। इस बीच ब्रूयन ने एक छोर संभाले रखा और किसी तरह तीसरे दिन ही अपनी टीम को हार से बचा लिया। उनके साथ एनरिक नोर्टजे पांच रन बनाकर खड़े हुए हैं। भारत को चौथे दिन सिर्फ दो विकेट चाहिए जिसके बाद वह इस सीरीज से पूरे 120 अंक लेने में सफल रहेगा। इससे पहले, साउथ अफ्रीका ने दिन की शुरुआत अपनी पहली पारी के स्कोर दो विकेट के नुकसान पर नौ रनों के साथ की थी। उसके अधिकतर बल्लेबाज संघर्ष करते रहे। हमजा ने पहली पारी में टीम के लिए सबसे ज्यादा 62 रन बनाए। उन्होंने बावुमा (32) के साथ मिलकर चौथे विकेट के लिए 91 रनों की साझेदारी की। इस साझेदारी के अलावा लिंडे (37) और नोर्टजे (4) आठवें विकेट के लिए 32 रन जोड़े जो इस पारी में साउथ अफ्रीका के लिए दूसरी सबसे बड़ी साझेदारी है। तीन बल्लेबाजों के अलावा कोई और बल्लेबाज दहाई के आंकड़े तक नहीं पहुंच सका। भारत के लिए उमेश यादव ने तीन विकेट लिए। मोहम्मद शमी, शहबाज नदीम, रवींद्र जडेजा के हिस्से दो-दो सफलताएं आईं।
कोलकाता सौरभ गांगुली का भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड का अगला अध्यक्ष बनना तय है। नामांकन दाखिल करने के बाद जबसे वह अपने गृहनगर कोलकाता पहुंचे हैं, काफी व्यस्त हैं। सौरभ अपने भविष्य के कार्यकाल को लेकर काफी खुलकर बात कर रहे हैं। गांगुली ने बताया कि 10 महीने के अपने कार्यकाल में बीसीसीआई को लेकर उनकी क्या योजनाएं हैं। गांगुली ने कहा कि शुरुआती कुछ महीने डैमेज कंट्रोल में जाएंगे। क्या आप बीसीसीआई अध्यक्ष बनने के लम्हे को अपने क्रिकेट करियर के लम्हों से आगे रखेंगे? मेरे लिए क्रिकेटीय करियर की तुलना किसी दूसरी चीज से नहीं हो सकती। कोई भी पद या भावना उसकी जगह नहीं ले सकता। क्रिकेट में मेरी उपलब्धियों के चलते ही शायद मुझे इस तरह भारतीय क्रिकेट की सेवा करने का मौका मिला है। दोनों की अपनी अलग चुनौतियां हैं और दोनों को अलग तरह से संभालना पड़ता है। 10 महीने की आपकी योजनाएं क्या हैं पहले मुझे 23 अक्टूबर को पद संभालने दीजिए। काफी काम करना बाकी है। मुझे लगता है कि 10 महीने काफी वक्त होता है। मैं टीम- जय (शाह), अरुण (धूमल) और जयेश (जॉर्ज)- के साथ बैठूंगा और आगे की योजना पर विचार करूंगा। काफी क्लीन-अप करना बाकी है और साथ ही इसके साथ ही काफी कुछ समझना बाकी है, खास तौर पर जो बीते तीन साल में हुआ उसके बारे में। बीते करीब तीन साल से लगभग आपातकाल था, हमें चीजें दोबारा सेट करनी होंगी। हमें पूरी टीम को साथ लेकर भारतीय क्रिकेट को आगे बढ़ाना होगा। पहले तीन-चार महीने डैमेज कंट्रोल करने में जाएंगे। क्या आपको लगता है कि 10 महीने का वक्त बड़े बदलाव करने और कुछ अच्छा काम करने के लिए काफी है? मैं समय के बारे में नहीं सोच रहा हूं क्योंकि मेरे पास इतना ही वक्त है। तो मैं इस वक्त में जो कर पाऊंगा वह करने की कोशिश करूंगा। अगर-मगर के बारे में सोचने का कोई फायदा नहीं होगा। हम 10 महीने में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास देंगे। नई भूमिका में जगमोहन डालमिया की प्रेरणा की कितनी भूमिका होगी वह महान हैं और एक प्रेरणा है लेकिन मैंने उन्हें एक प्रशासक के रूप में बहुत करीब से नहीं देखा चूंकि तब मैं खेल रहा था। मेरी उनसे सिर्फ क्रिकेटीय मुद्दों पर ही बातचीत हो पाती थी। मैं जिस तरीके से वाकिफ हूं उसी तरह काम करूंगा। हम पूरी कोशिश करेंगे और फिर देखेंगे कि क्या परिणाम निकलते हैं। जब आप एक कप्तान के रूप में भारतीय टीम को तैयार कर हे थे, ऐसे खबरें थीं कि आप सिलेक्टर्स को इस बात के लिए राजी करते थे कि खिलाड़ियों को अच्छा प्रदर्शन करने के लिए कई मौके दिए जाएं। अब आप दूसरी ओर हैं, क्या आप विराट कोहली को भी इतनी जगह देंगे? मैं ज्यादा दखल नहीं दूंगा। लेकिन मुझे लगता है कि अगर आप सिलेक्टर्स और कप्तान को जिम्मेदारी देतेहैं तो उन्हें उनके हिसाब से काम करने देना चाहिए। तो हम देखेंगे कि यह कैसा चलता है। कैब के अध्यक्ष के तौर पर आपका अनुभव बीसीसीआई प्रेजिडेंट के रूप में आपके कितने काम आएगा? प्रशासनिक योग्यताएं, प्रबंधन योग्यताएं, नियम व शर्तें की जानकारी हमारे काम आएंगी- पूरी टीम के काम आएंगी। महेंद्र सिंह धोनी ने आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के बाद से स्वत: ब्रेक ले रखा है, यह ब्रेक आधिकारिक रूप से 21 सितंबर को समाप्त हो गया है। अगर आप सिलेक्टर होते, क्या आप धोनी को क्रिकेट के छोटे प्रारूप में मौका देना जारी रखते? मैं काफी समय से इस सिस्टम का हिस्सा नहीं रहा हूं। तो इस बारे में कु कह नहीं पाऊंगा। पहले मुझे 23 अक्टूबर को टीम जॉइन करने दीजिए तब मैं इस बारे में कुछ कह पाऊंगा, वह क्यों नहीं खेल रहे हैं और उनके भविष्य पर सिलेक्टर्स की क्या राय है। फिलहाल मेरे पास इस सवाल का कोई जवाब नहीं है। आपको परिवार, दोस्तों, साथियों और फैंस से मुबारकबाद के काफी कॉल्स आए होंगे। क्या रवि शास्त्री ने भी आपको फोन किया था? (हंसते हुए) प्लीज मुझसे इस तरह के सवाल मत पूछिए। मैं यहां पर्सनल अजेंडा के लिए नहीं हूं। मैं यहां भारतीय क्रिकेट की सेवा करने के लिए हूं। मेरा फॉर्म्युला सिम्पल है- जो भी बेस्ट होगा, उसे मौका मिलेगा। यह सीधी सी बात है। वर्ल्ड कप के लिए बेहद प्रतिभाशाली भारतीय टीम तैयार करने के लिए क्या किए जाने की जरूरत है? क्या टीम या कोच अथवा निर्देशों में किसी बदलाव की जरूरत है? नहीं, यह एक अच्छी टीम है और अच्छा खेल रही है। शायद, यह इस समय दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीम है। टीम लगातार अच्छा खेल रही है। टीम भले ही कोई बड़ी ट्रोफी न जीत पाई हो लेकिन वह लगातार उन टूर्नमेंट के सेमीफाइनल और फाइनल में पहुंच रही है। तो मुझे कोई समस्या नजर नहीं आ रही। उम्मीद है कि विराट और टीम अगली बार जब फाइनल में पहुंचेगे तो अपने प्रदर्शन पर गौर करेंगे। हम, चयनकर्ता बोर्डरूम में बैठकर ज्यादा कुछ नहीं कर सकते। nbt
ा, मुंबई क्रिकेटर बनने के लिए कभी मैदान के बाहर गोलगप्पे बेचने और दूसरी टीमों की गुम बॉल तलाशने वाले मुंबई के युवा बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल ने इतिहास रच दिया है। उन्होंने बुधवार को बेंगलुरु में विजय हजारे ट्रोफी के मैच में झारखंड के खिलाफ 154 बॉल पर 203 रनों की तूफानी पारी खेली। ऐसा करके 17 वर्ष और 292 दिन के यशस्वी लिस्ट-ए वनडे मैचों में डबल सेंचुरी जड़ने वाले दुनिया के सबसे युवा बल्लेबाज बन गए। उन्होंने 12 छक्के जड़े, जो इस टूर्नमेंट में एक रेकॉर्ड है। इसी साल लिस्ट-ए में आगाज करने वाले यशस्वी यूपी के भदोही निवासी हैं। वह क्रिकेटर बनने का सपना लेकर 11 साल की उम्र में मुंबई आ गए थे और एक डेयरी में काम करने लगे। डेयरी वाले ने एक दिन निकाल दिया। एक क्लब मदद के लिए आगे आया, लेकिन शर्त रखी कि अच्छा खेलोगे तभी टेंट में रहने देंगे। टेंट में रातें गुजरीं उत्तर प्रदेश के भदोही के एक छोटे से दुकानदार के बेटे यशस्वी ने बहुत छोटी उम्र में क्रिकेटर बनने का सपना देखा था। इसके बाद उन्होंने पिता से मुंबई में रहने वाले एक रिश्तेदार के यहां जाने की जिद की। पिता ने उन्हें नहीं रोका, क्योंकि परिवार को पालना मुश्किल हो रहा था। मुंबई के वर्ली इलाके में संतोष नामक रिश्तेदार के घर में इतनी जगह नहीं बन पाई कि वो वहां रह पाते। एक शर्त पर मुंबई के कालबादेवी इलाके स्थित डेयरी में सोने की जगह मिली की वह वहां काम भी करेंगे। जब डेयरी वाले ने देखा कि यशस्वी दिनभर क्रिकेट खेलता है और रात को थककर सो जाता है तो उसने कुछ दिन बाद उन्हें नया ठिकाना ढूंढने को कहा। फिर पहुंचे आजाद मैदान इसके बाद 11 साल का यशस्वी अपना झोला उठाकर मुंबई क्रिकेट की नर्सरी कहे जाने वाले आजाद मैदान पहुंच गए। वहां मुस्लिम यूनाइटेड क्लब में ग्राउंड्समैन के साथ रुकने का इंतजाम हो गया। यशस्वी ने बताया कि उन्हें यहां भी इस शर्त पर रहने को मिला कि वो अच्छा खेलकर दिखाएंगे। इस क्लब में संतोष मैनेजर के तौर पर काम करते थे। करीब तीन साल यशस्वी वहीं रहे। यहीं दिनभर क्रिकेट खेलते और रात में सो जाते। मुंबई के संघर्षपूर्ण जीवन के बारे में यशस्वी ने भदोही में रह रहे अपने परिवारवालों को खबर नहीं लगने दी और टीम इंडिया के लिए खेलने के अपने सपने को सच करने के लिए मेहनत करते रहे। कोई साथी देख न ले... पिता खर्चों के लिए कुछ रुपये भेजते थे जो कम पड़ते थे। इस समस्या से निपटने के लिए आजाद मैदान में होने वाली रामलीला के दौरान उन्होंने गोलगप्पे बेचे। हालांकि उन्हें इस बात का डर भी लगा रहता कि कहीं उनका साथी खिलाड़ी उन्हें ऐसा करते हुए न देख ले। टेंट में रहते हुए यशस्वी का काम रोटी बनाने का था। यहीं उन्हें दोपहर और रात का खाना भी मिल जाता था। रुपये कमाने के लिए यशस्वी ने बॉल खोजकर लाने का काम भी किया। आजाद मैदान में होने वाले मैचों में अक्सर बॉल खो जाती हैं। बॉल खोजकर लाने पर भी यशस्वी को कुछ रुपये मिल जाते थे। कोच ने लिया गोद आजाद मैदान में जब एक दिन यशस्वी खेल रहे थे, तो उन पर कोच ज्वाला सिंह की नजरें पड़ीं। ज्वाला भी खुद उत्तर प्रदेश से हैं। वह बताते हैं, 'मैंने जब उसे ए डिविजन में खेलने वाली टीमों के बोलर्स के खिलाफ इतनी सहजता से खेलते देखा तो मैं उसके टैलंट से प्रभावित हुआ।' सिंह ने कहा कि मेरी और यशस्वी की कहानी एक जैसी है। मैं भी जब मुंबई आया तब मेरे पास भी रहने को घर नहीं था और न ही कोई गॉडफादर या गाइड था। ज्वाला सिंह की कोचिंग में यशस्वी का टैलंट ऐसा निखरा कि पिछले साल में यह होनहार खिलाड़ी 50 से ज्यादा सेंचुरी बना चुका है। यशस्वी भी ज्वाला सिंह के योगदान का बखान करते नहीं थकते और कहते हैं, 'मैं तो उनका अडॉप्टेड सन (गोद लिया हुआ बेटा) हूं। मुझे आज इस मुकाम तक लाने में उनका अहम रोल है।' एशिया कप विजता टीम के सदस्य पिछले साल भारत की अंडर-19 ने श्री लंका टीम को 144 रन से हराकर रेकॉर्ड छठी बार एशिया कप अपने नाम किया। इस सीरीज के दौरान कई खिलाड़ियों ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और उनमें से ही एक थे यशस्वी। टीम के ओपनर यशस्वी ने फाइनल मैच में 85 रनों की पारी खेली थी। साथ ही उन्होंने तीन मैचों में 214 रन बनाए जो टूर्नमेंट में किसी बल्लेबाज के सर्वाधिक रन रहे।
मुंबई पूर्व कप्तान सौरभ गांगुली भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) का अगला अध्यक्ष बनने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। उन्होंने इस पद के लिए सोमवार दोपहर लगभग डेढ बजे अपना नामाकंन दाखिल करने के लिए मुंबई स्थित बीसीसीआई के ऑफिस पहुंचे और लगभग सवा तीन बजे ऑफिस से बाहर आए। उनके साथ गृह मंत्री अमित शाह के बेटे जय शाह भी थे, जिन्होंने सचिव पद के लिए अपना नामाकंन दाखिल किया। नामाकंन के बाद उन्होंने कहा, 'कई मुद्दे हैं, जिन्हें सुलझाना है।' बीसीसीआई चीफ या कप्तान कौन-सा पद अधिक चैलेंजिंग हैं? सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'देखिए, कप्तान का काम अधिक चुनौतीपूर्ण है। वहां मैदान पर होते हुए टीम को संभालना पड़ा है। यहां भी चैलेंज हैं, लेकिन उससे अलग है।' इन दोनों के अलावा पूर्व बीसीसीआई अध्यक्ष एन. श्रीनिवासन और पूर्व आईपीएल कमिश्नर राजीव शुक्ला भी थे। बता दें कि रविवार को हुई बैठक में बीसीसीआई के अगले अध्यक्ष पद के लिए गांगुली के नाम पर मुहर लगा दी गई। उन्होंने कहा, 'नियुक्ति से मैं खुश हूं क्योंकि यह वह समय है जब बीसीसीआई की छवि खराब हुई है और यह मेरे लिए कुछ करने का अच्छा मौका है। आप चाहे निर्विरोध चुने गए हों या नहीं, लेकिन यह एक बड़ी जिम्मेदारी है क्योंकि यह क्रिकेट की दुनिया का सबसे बड़ा संगठन है। क्रिकेट के क्षेत्र में भारत एक शक्तिशाली देश है और यह एक बड़ी चुनौती होगी।' इसके अलावा पूर्व भारतीय बल्लेबाज बृजेश पटेल आईपीएल के अगले चेयरमैन होंगे। इस पद का प्रस्ताव पहले गांगुली को दिया गया था, लेकिन उन्होंने यह पद संभालने से मना कर दिया। 47 वर्षीय गांगुली का कार्यकाल एक साल से भी कम समय के लिए ही होगा क्योंकि नए नियमों के मुताबिक, अगले साल जुलाई के बाद वह ‘कूलिंग ऑफ पीरियड’ में चले जाएंगे। वह फिलहाल बंगाल क्रिकेट संघ के अध्यक्ष के पद पर काम कर रहे हैं। बीसीसीआई के नए नियमों के अनुसार, एक प्रशासक लगातार केवल छह साल तक ही अपनी सेवाएं दे सकता है। गांगुली ने कहा, ‘यह नियम है, इसलिए हमें इसका पालन करना होगा। मेरी पहली प्राथमिकता प्रथम श्रेणी क्रिकेटरों पर ध्यान देने की होगी। क्रिकेटरों के वित्तीय हित का ध्यान रखने के लिए रणजी ट्रोफी क्रिकेट पर भी ध्यान दिया जाएगा।’
पुणे भारतीय क्रिकेट टीम ने रविवार को यहां महाराष्ट्र क्रिकेट संघ मैदान पर खेले गए दूसरे टेस्ट मैच में दक्षिण अफ्रीका को एक पारी और 137 रनों से हरा दिया। भारत ने अपनी पहली पारी पांच विकेट पर 601 रनों पर घोषित कर दी थी। इसके बाद उसने मेहमान टीम की पहली पारी 275 रनों पर समेटकर उसे फॉलोऑन के लिए बाध्य किया। चौथे दिन रविवार को मेहमान टीम फॉलोऑन के लिए उतरी और 189 रनों पर ऑलआउट हो गई। उसकी ओर से दूसरी पारी में डीन एल्गर ने सबसे अधिक 48 रन बनाए, जबकि तेंदा बावुमा ने 38 तथा वर्नोन फिलैंडर ने 37 रनों की पारी खेली। दूसरी पारी में भारत के लिए रविंद्र जडेजा और उमेश यादव ने तीन-तीन विकेट लिए जबकि रविचंद्रन अश्विन को दो सफलता मिली। इसके साथ भारत ने तीन मैचों की सीरीज में 2-0 की बढ़त हासिल कर ली है। उसने विशाखापट्टनम में खेले गए पहले टेस्ट मैच में 203 रनों से जीत हासिल की थी। भारत की घर में लगातार 11वीं सीरीज जीत इस मैच के साथ ही भारतीय टीम ने अपने घरेलू मैदान पर लगातार 11वीं टेस्ट सीरीज जीत दर्ज की, जो वर्ल्ड रेकॉर्ड है। भारत को 2012/13 से अब तक कोई टीम घर में टेस्ट सीरीज में नहीं हरा पाई है। इससे पहले घर में लगातार सबसे अधिक टेस्ट सीरीज जीतने का रेकॉर्ड ऑस्ट्रेलिया के नाम था। उसने 1994/95 - 2000/01 और 2004 - 2008/09 के बीच लगातार 10-10 टेस्ट सीरीज अपने नाम की थी। 11 सीरीज: भारत 2012/13 (जारी) 10 सीरीज: ऑस्ट्रेलिया 1994/95 - 2000/01 10 सीरीज: ऑस्ट्रेलिया 2004 - 2008/09 08 सीरीज: वेस्ट इंडीज 1975/76 - 1985/86 देश से बाहर साउथ अफ्रीका की लगातार छठी हार दूसरी ओर, साउथ अफ्रीका की यह देश से बाहर लगातार छठी टेस्ट हार है। 2017 से वह देश के बाहर टेस्ट मैच नहीं जीत पाई है। देखा जाए तो यह उसका दूसरा शर्मनाक रेकॉर्ड है। इससे पहले फरवरी 1911 से अगस्त 1924 के बीच उसने लगातार 10 टेस्ट मैच हारे थे।
भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच तीन मैचों की टेस्ट सीरीज का दूसरा मुकाबला पुणे के एमसीए स्टेडियम में खेला जा रहा है. टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी टीम इंडिया ने 5 विकेट गंवाकर 601 रन बनाए और पहली पारी घोषित कर दी. विराट कोहली ने नाबाद 254 रन बनाए. कोहली ने अपने टेस्ट करियर का अब तक का सबसे बड़ा व्यक्तिगत स्कोर बनाया. कोहली ने अपनी नाबाद पारी में 336 गेंदों का सामना कर तीन चौके और दो छक्के मारे. जडेजा ने 104 गेंदों का सामना किया. उन्होंने अपनी पारी में आठ चौके और दो छक्के लगाए. इन दोनों के अलावा मयंक अग्रवाल ने 195 गेंदों पर 16 चौके और दो छक्कों की मदद से 108 रनों की पारी खेली. उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे ने 59 और चेतेश्वर पुजारा ने 58 रनों का योगदान दिया. दक्षिण अफ्रीका के लिए कैगिसो रबाडा ने तीन, केशव महाराज और सेनुरान मुथुसामी ने एक-एक विकेट लिया. टेस्ट में कोहली का सातवां दोहरा शतक कप्तान विराट कोहली ने टेस्ट करियर का सातवां दोहरा शतक जड़ दिया है. दिलचस्प बात यह है कि अपने सभी सात दोहरे शतक कोहली ने बतौर कप्तान लगाए हैं. कोहली कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा दोहरे शतक लगाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में टॉप पर हैं. इस लिस्ट में वेस्टइंडीज के दिग्गज ब्रायन लारा 5 दोहरे शतकों के साथ दूसरे नंबर पर हैं. टेस्ट में कोहली का सातवां दोहरा शतक कप्तान विराट कोहली ने टेस्ट करियर का सातवां दोहरा शतक जड़ दिया है. दिलचस्प बात यह है कि अपने सभी सात दोहरे शतक कोहली ने बतौर कप्तान लगाए हैं. कोहली कप्तान के तौर पर सबसे ज्यादा दोहरे शतक लगाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में टॉप पर हैं. इस लिस्ट में वेस्टइंडीज के दिग्गज ब्रायन लारा 5 दोहरे शतकों के साथ दूसरे नंबर पर हैं. 26वां टेस्ट शतक ठोक विराट ने बनाया रिकॉर्ड कप्तान विराट कोहली ने अपने टेस्ट करियर का 26वां शतक जड़ दिया है. कोहली ने अपने 81वें टेस्ट मैच की 138वीं पारी में अपना 26वां टेस्ट शतक लगाया. कोहली टेस्ट क्रिकेट में भारत की ओर से सबसे कम पारियों में 26 शतक लगाने वाले बल्लेबाजों की लिस्ट में दूसरे पायदान पर आ गए हैं. भारत की ओर से सचिन तेंदुलकर ने 136 पारियों में यह मुकाम हासिल किया था, वहीं सुनील गावसकर ने 144 पारियों में 26 टेस्ट सेंचुरी लगाई थीं. सबसे कम पारियों में 26 टेस्ट शतक लगाने की बात करें तो ऑस्ट्रेलिया के पूर्व महान बल्लेबाज सर डॉन ब्रैडमैन इस फेहरिस्त में टॉप पर हैं. ब्रैडमैन ने 69 पारियों में यह 26 शतक लगाए थे. ऑस्ट्रेलिया के स्टीव स्मिथ 121 पारियों में 26 शतक लगाए थे. स्मिथ ने हाल ही में एशेज सीरीज में यह मुकाम हासिल किया था. दुनिया के नंबर वन टेस्ट बल्लेबाज स्मिथ ने एशेज में 774 रन बनाए थे. मयंक अग्रवाल ने लगातार दूसरे टेस्ट में जड़ा शतक मयंक अग्रवाल ने अपनी शानदार फॉर्म बरकरार रखते हुए दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट में शतक लगाया. यह मयंक के टेस्ट करियर का दूसरा शतक था. मयंक अग्रवाल ने 108 रनों की पारी खेली, इस दौरान उन्होंने 16 चौके और 2 छक्के लगाए. बता दें कि मयंक अग्रवाल भारत में अपना दूसरा टेस्ट मैच खेल रहे हैं. मयंक अग्रवाल ने विशाखापत्तनम में खेले गए पहले टेस्ट मैच में भी शतक लगाया था जो उनका पहला टेस्ट शतक था जिसे वो दोहरे में तब्दील करने में सफल रहे थे. तब मयंक ने 215 रनों की पारी खेली इस दौरान उन्होंने 23 चौके और 6 छक्के लगाए थे. भारत की पारी पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारत ने धीमी शुरुआत की. शुरुआत में गेंद हरकतें कर रही थी और इसी कारण दोनों सलामी बल्लेबाज रोहित शर्मा और मयंक अग्रवाल संभल कर खेल रहे थे. कैगिसो रबाडा की एक ऐसी ही गेंद रोहित के बल्ले का बाहरी किनारा लेकर विकेटकीपर क्विंटन डि कॉक के हाथों में चली गई. रोहित ने 35 गेंदों का सामना किया और सिर्फ एक चौका मारा. रोहित 14 रन बनाकर आउट हो गए. कैगिसो रबाडा ने ही चेतेश्वर पुजारा (58) को आउट कर भारत को दूसरा झटका दे दिया. आउट होने से पहले पुजारा ने मयंक के साथ दूसरे विकेट के लिए 138 रनों की साझेदारी की. पुजारा ने 112 गेंदों पर नौ चौकों की मदद से 58 रन बनाए. रबाडा की एक बेहतरीन आउटस्विंगर पुजारा के बल्ले से बाहरी किनारा लेकर स्लिप में गई जहां कप्तान फाफ डु प्लेसिस ने अच्छा कैच पकड़ा. अग्रवाल अपने करियर का दूसरा शतक पूरा करने में कामयाब रहे, लेकिन वह ज्यादा देर तक कोहली का साथ नहीं निभा पाए. अग्रवाल का विकेट भी रबाडा ने चटकाया. रबाडा ने अग्रवाल को 108 रनों के निजी स्कोर पर फाफ डु प्लेसिस के हाथों कैच आउट कराया. अजिंक्य रहाणे 59 रन बनाकर केशव महाराज की गेंद पर विकेटकीपर डि कॉक के हाथों कैच आउट हुए. उन्होंने कोहली के साथ मिलकर चौथे विकेट के लिए 178 रन की साझेदारी की. दोनों के बीच किसी भी विकेट के लिए ये 10वीं शतकीय साझेदारी थी. रवींद्र जडेजा ने करियर का 12वां अर्धशतक लगाया. जडेजा ने कोहली के साथ पांचवें विकेट के लिए 225 रन साझेदारी की. दक्षिण अफ्रीका के लिए कैगिसो रबाडा ने तीन विकेट लिए. केशव महाराज और सेनुरान मुथुसामी को एक-एक सफलता मिली. टीम इंडिया ने जीता टॉस टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया और मेजबान अफ्रीका को गेंदबाजी सौंपी. टीम इंडिया में एक बदलाव हुआ है. हनुमा विहारी की जगह उमेश यादव को प्लेइंग इलेवन में मौका दिया गया है. वहीं साउथ अफ्रीका ने डेन पीट की जगह एरिक नॉर्टजे को अंतिम 11 में शामिल किया है. यह टेस्ट मैच विराट कोहली का बतौर कप्तान 50वां टेस्ट मैच है. वह ऐसा करने वाले भारत के दूसरे कप्तान हैं. उनसे पहले महेंद्र सिंह धोनी ने भारत के लिए 50 से ज्यादा टेस्ट मैचों में कप्तानी की है.
विशाखापत्तनम रोहित शर्मा के लिए टेस्ट ओपनिंग की इससे अच्छी शुरुआत शायद नहीं हो सकती थी। बतौर ओपनर अपने पहले ही टेस्ट मैच में रोहित ने साउथ अफ्रीका के खिलाफ विशाखापत्तनम टेस्ट मैच में कई रेकॉर्ड अपने नाम किए। उन्होंने एक मैच में सबसे ज्यादा छक्के लगाने का रेकॉर्ड तो अपने नाम किया ही साथ ही मैच की दोनों पारियों में शतक भी लगाया। पहली पारी में 176 रन बनाने वाले रोहित शर्मा दूसरी पारी में 127 बनाकर स्टंप हुए। रोहित ने इस मैच में कुल 13 छक्के लगाए। उन्होंने पहली पारी में छह और दूसरी में सात छक्के लगाए। एक मैच मेंं 13 छक्के बरसाने वाले रोहित ने यहां पाकिस्तान के वसीम अकरम के रेकॉर्ड को तोड़ा। अकरम ने अक्टूबर 1996 में नाबाद 257 रन की पारी में 12 छक्के लगाए थे। भारतीय रेकॉर्ड था सिद्धू के नाम इस मैच की दूसरी पारी में रोहित शर्मा ने जैसे ही अपना 9वां सिक्स जड़ा, उन्होंने पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू के रेकॉर्ड को तोड़ा दिया। इसके बाद भी उन्होंने छक्कों की बरसात जारी रखी और इस पारी में कुल 7 छक्के बरसाए। उन्होंने अपनी दूसरी पारी का 7वां छक्का पीट की गेंद पर जड़ा। इसी के साथ उन्होंने एक टेस्ट मैच में सर्वाधिक सिक्स जड़ने का रेकॉर्ड अपने नाम कर लिया। सिद्धू ने कब बनाया रेकॉर्ड सिद्धू ने श्रीलंका के खिलाफ जनवरी 1994 में लखनऊ में खेले गए टेस्ट मैच में एक मैच में 8 छक्के लगाए थे। उन्होंने मैच की पहली पारी में ही यह रेकॉर्ड बनाया था, जिस मैच में दूसरी पारी खेलने की जरूरत ही नहीं पड़ी। सिद्धू ने तब 124 रन की पारी खेली जिसके लिए 223 गेंदों पर 9 चौके और 8 छक्के लगाए। भारत ने यह मैच पारी और 119 रन से जीता था। वनडे और टी20 में भी रेकॉर्ड रोहित शर्मा भारत के लिए एक वनडे इंटरनैशनल मैच में सर्वाधिक छक्के लगाने वाले बल्लेबाज भी हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2 नवंबर 2013 को बेंगलुरु में अपनी 209 रन की पारी के दौरान कुल 16 छक्के लगाए थे। रोहित ही टी20 इंटरनैशनल में भारत के लिए एक मैच में सर्वाधिक सिक्स लगाने वाले क्रिकेटर हैं। उन्होंने श्रीलंका के खिलाफ इंदौर में 22 दिसंबर 2017 को 118 रन की शतकीय पारी के दौरान 10 छक्के जड़े थे। दोनों पारी में सेंचुरी रोहित शर्मा टेस्ट मैच की दोनों पारी में सेंचुरी लगाने वाले छठे बल्लेबाज बन गए। विजय हजारे पहले भारतीय बल्लेबाज थे जिन्होंने टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक लगाया था। सुनील गावसकर ने तीन बार, राहुल द्रविड़ ने दो बार यह कारनामा किया है। कप्तान विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे भी टेस्ट मैच की दोनों पारियों में शतक लगा चुके हैं। भारत में लगातार सातवां 50+स्कोर रोहित ने भारत में अपने टेस्ट पारियों में लगातार सातवीं बार 50 का आंकड़ा पार किया। इससे पहले इवरटन वीक्स (नवंबर 1948-फरवरी 1949), राहुल द्रविड़ (नवंबर 1997-मार्च 1998), एंडी फ्लावर (मार्च 1993- नवंबर 2000) ओपनर के तौर पर पहले ही टेस्ट में सबसे ज्यादा रन रोहित शर्मा ने ओपनर के तौर पर अपने पहले ही टेस्ट मैच सबसे ज्यादा रन बनाने का रेकॉर्ड भी अपने नाम किया। रोहित ने इस मैच में 303 रन बनाए। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के कैप्टर वेसल्स के रेकॉर्ड को तोड़ा। वेसल्स ने इंग्लैंड के खिलाफ ब्रिसबेन में 1982/83 में 208 (162 और 46) रन बनाए थे। वह ओपनर के तौर पर अपने पहले ही मैच की दोनों पारियों में शतक लगाने वाले पहले बल्लेबाज भी बने। दोनों पारियों में स्टंप रोहित मैच की दोनों पारियों में स्टंप हुए। दोनों पारियों में क्विंटन डि कॉक ने उन्हें केशव महाराज की गेंद पर स्टंप किया। वह एक टेस्ट मैच की दोनों पारियों में स्टंप होने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज बन गए हैं।
विशाखापत्तनम भारत के ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा ने टेस्ट क्रिकेट में नया रेकॉर्ड बना दिया है। साउथ अफ्रीका के खिलाफ विशाखापत्तनम में खेले जा रहे सीरीज के पहले टेस्ट मैच के तीसरे दिन उन्होंने डीन एल्गर को आउट कर टेस्ट क्रिकेट में अपने 200 विकेट पूरे कर लिए। जडेजा ने अपने 44वें टेस्ट मैच में यह उपलब्धि हासिल की। वह सबसे कम टेस्ट मैच में 200 विकेट लेने वाले बाएं हाथ के गेंदबाज बन गए हैं। जडेजा ने श्रीलंका के रंगना हेराथ के 47 मैचों के रेकॉर्ड को तोड़ा। दो विकेटों की थी जरूरत इस मैच से पहले जडेजा के नाम टेस्ट में 198 विकेट थे। उन्होंने मैच के दूसरे दिन डीन पीड को आउट कर अपने विकेटों की संख्या को 199 तक पहुंचा दिया था। पहले दिन जब साउथ अफ्रीका ने 39 रनों पर अपने तीन विकेट खो दिए थे तो लग रहा था कि जडेजा तीसरे दिन जल्द ही इस रेकॉर्ड को अपने नाम कर लेंगे। हालांकि एल्गर और कप्तान फाफ डु प्लेसिस की जोड़ी ने उनके इंतजार को लंबा कर दिया। तेंबा बावुमा का विकेट ईशांत शर्मा के नाम गया और डु प्लेसिस (55) को रविचंद्नन अश्विन ने आउट किया। एल्गर को किया आउट जडेजा ने 160 रनों की मैराथन पारी खेलने वाले एल्गर को चेतेश्वर पुजारा ने कैच किया। उन्होंने पहले डु प्लेसिस के साथ पांचवें विकेट के लिए 115 और क्विंटन डि कॉक के साथ 164 रनों की भागीदारी की। और कौन है किस नंबर पर बाएं हाथ के गेंदबाजों की बात करें तो मिशेल जॉनसन ने 49 और मिशेल स्टार्क ने 50 मैचों में अपने 200 टेस्ट विकेट पूरे किए थे। इसके साथ ही बिशन सिंह बेदी और वसीम अकरम ने 51 मैचों में 200 टेस्ट विकेट पूरे किए। कुल मिलाकर कौन आगे कुल मिलाकर बात करें तो पाकिस्तान के लेग स्पिनर यासिर शाह इस लिस्ट में सबसे ऊपर हैं। उन्होंने 33 मैचों में यह उपलब्धि अपने नाम की है। वहीं ऑस्ट्रेलिया के क्लेरी ग्रिमेंट ने 36 टेस्ट मैचों में 200 विकेट लिए थे। भारत के रविचंद्रन अश्विन ने 36 मैचों में 200 टेस्ट विकेट पूरे किए थे। वह इस सूची में तीसरे नंबर पर हैं। जडेजा भारत के लिए सबसे तेजी से 200 विकेट पूरे करने वाले बोलर्स में दूसरे पायदान पर हैं। उन्होंने हरभजन सिंह (46) तीसरे पायदान पर हैं। मैच का हाल भारत ने अपनी पहली पारी में मयंक अग्रवाल के 215 और रोहित शर्मा के 176 रनों की बदौलत अपनी पहली पारी में सात विकेट पर 502 रन बनाए थे। दिन का खेल समाप्त होने तक साउथ अफ्रीका ने 8 विकेट पर 385 रन बनाए थे।
नई दिल्ली ऑस्ट्रेलिया की सलामी बल्लेबाज बेथ मूनी ने टी20 इंटरनैशनल में नया कीर्तिमान स्थापित किया है। रविवार को श्रीलंका के खिलाफ हुए टी20 इंटरनैशनल मुकाबले में उन्होंने 61 गेंदों पर ताबड़तोड़ 113 रनों की पारी खेली। अपनी पारी में उन्होंने कुल 20 चौके लगाए। यह टी20 मैच की एक पारी में सबसे ज्यादा चौके लगाने का रेकॉर्ड है। उनकी पारी की मदद से ऑस्ट्रेलिया ने 20 ओवरों में 4 विकेट पर 217 रन बनाए। उन्होंने सिर्फ 54 गेंदों पर अपना शतक पूरा किया। अपनी पारी में उन्होंने कोई भी छक्का नहीं लगाया। जवाब में श्रीलंकाई टीम सात विकेट पर 176 रन ही बना सकी। उनकी कप्तान सी. अटापट्टू ने 113 रनों की पारी खेली लेकिन यह काफी नहीं था। अपने ही रेकॉर्ड को किया बेहतर महिला टी20 रेकॉर्ड की बात करें तो मूनी ने अपने ही रेकॉर्ड को बेहतर किया। इससे पहले उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 21 नवंबर 2017 में हुए मुकाबले में 19 चौके लगाए थे। महिला क्रिकेट में दूसरे पायदान पर भी ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ही हैं। मैट लेनिंग ने आयरलैंड के खिलाफ 18 चौके लगाए थे। बिना सिक्स के सेंचुरी मूनी ने बिना सिक्स लगाए अपना शतक पूरा किया। वह टी20 इंटरनैशनल में किसी भी टेस्ट खेलने वाले देश (महिला और पुरुष) में बिना सिक्स लगाए शतक लगाने वाली पहली खिलाड़ी भी बन गईं। अहमद शहजाद के नाम है पुरुष टी20 में रेकॉर्ड पुरुष क्रिकेट की बात करें पाकिस्तानी क्रिकेटर अहमद शहजाद और इंग्लिश क्रिकेटर एडम लिथ इस लिस्ट में टॉप पर हैं। शहजाद ने 8 दिसंबर 2012 को लाहौर लॉयंस की ओर से खेलते हुए 20 चौके लगाए थे। वहीं लिथ ने 17 अगस्त 2017 को यॉर्कशर की ओर से खेलते हुए नॉर्थटंस के खिलाफ 20 चौके लगाए थे। फिंच के नाम इंटरनैशनल रेकॉर्ड अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की बात करें ऑस्ट्रेलिया के आरोन फिंच के नाम यह रेकॉर्ड दर्ज है। फिंच ने जिम्बाब्वे के खिलाफ खेली 172 रनों की पारी में 16 चौके लगाए थे। यह टी20 का किसी बल्लेबाज द्वारा बनाया गया सर्वाधिक स्कोर भी है। मूनी के करियर की दूसरी सेंचुरी यह टी20 इंटरनैशनल में मूनी की दूसरी सेंचुरी है। इससे पहले उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 70 गेंदों पर 19 चौकों और एक छक्के की मदद से 117 रन बनाए थे। अटापट्टू की शानदार पारी श्रीलंका की टीम को इस मैच में 41 रनों से हार का सामना करना पड़ा। 20 ओवरों में उनकी टीम 7 विकेट पर 176 रन ही बना सकी। हालांकि उनकी कप्तान सी. अटापट्टू ने शानदार शतकीय पारी खेली। अटापट्टू ने 66 गेंदों पर 12 चौकों और 6 छक्कों की मदद से 113 रनों की पारी खेली। हालांकि उन्हें कोई साथ मिला। बाएं हाथ की यह बल्लेबाज अकेली ही अपनी टीम के लिए चुनौती पेश करती नजर आईं।
मुंबई भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड इस महीने में टीम इंडिया के कोच का चयन करेगा। बोर्ड ने कपिल देव की अध्यक्षता वाली 3 सदस्यीय सलाहकार समिति (CAC) को नया कोच चुनने की यह जिम्मेदारी सौंपी है। वर्तमान कोच रवि शास्त्री को कोच चयन के लिए होने वाले इंटरव्यू में सीधे एंट्री मिली है। सूत्रों की मानें तो वर्तमान कोच रवि शास्त्री ही टीम इंडिया के कोच बने रह सकते हैं। उन्हें अगले दो सालों तक अपने कार्यकाल का एक्सटेंशन मिल सकता है। लिखें किकेटर से कॉमेंटर बने और फिर कोच बने शास्त्री का कार्यकाल आगामी 2020 टी20 वर्ल्ड कप तक बढ़ाया जा सकता है। अब से लेकर 2021 तक भारत को दो टी20 चैंपियनशिप में हिस्सा लेना है, जिसमें वेस्ट इंडीज दौरे से ही टेस्ट चैंपियनशिप की शुरुआत हो चुकी होगी। इसके बाद 2020 से आईसीसी की वनडे चैंपियनशिप की शुरुआत भी हो जाएगी। ऐसे में फिलहाल शास्त्री को ही यह जिम्मेदारी दी जा सकती है कि वह टीम इंडिया के लिए आगे की रणनीति तैयार करें। शास्त्री की कोचिंग में भारतीय टीम का जीत प्रतिशत 70% है, जिसके तहत टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया में ऐताहासिक टेस्ट सीरीज समते, एशिया कप के 2 खिताब, वर्ल्ड कप में सेमीफाइनल तक का सफर भी शामिल है। हालांकि इसके उलट उनकी ही कोचिंग में टीम इंडिया साउथ अफ्रीका में 1-2 से और इंग्लैंड में 1-4 से टेस्ट सीरीज भी गंवा चुकी है। इसके अलावा रवि शास्त्री कोच के रूप में टीम इंडिया की अभी भी पहली पसंद ही हैं। कप्तान विराट कोहली ने वेस्ट इंडीज रवाना होने से पहले मीडिया में बेझिझक यह बयान दिया था कि अगर शास्त्री कोच बनते हैं, तो उन्हें खुशी होगी। साल 2017 में भी शास्त्री विराट की पहली पसंद थे। टीम इंडिया के मुख्य कोच पद के लिए आवदेन की तारीख मंगलवार को खत्म हो गई। इस फेहरिस्त में ऑस्ट्रेलियाई कोच टॉम मूडी सबसे बड़ा नाम हैं। मूडी ने 2007 में आखिरी बार किसी नैशनल टीम को कोचिंग दी थी और वह लंबे समय से बतौर कोच IPL फैंचाइजी के साथ जुड़े हैं। शास्त्री के अलावा भरत अरुण का भी बोलिंग कोच बने रहना तय लग रहा है। उनकी ही देखरेख में बीते 2 सालों में टीम इंडिया का बोलिंग विश्व स्तर पर पहले से अधिक प्रभावशाली हुआ है। इस दौरान टीम ने लाल और सफेद दोनों ही गेंदों से अपनी बोलिंग में छाप छोड़ी है। इस बीच टीम इंडिया में बतौर बैटिंग कोच और फील्डिंग कोच के रूप में वर्तमान कोचों की जगह पक्की नहीं लग रही है। सूत्रों की मानें तो बोर्ड चाहता है कि इन दोनों क्षेत्रों में किसी नए कोच को जिम्मेदारी दी जानी चाहिए ताकि टीम अपनी बैटिंग और फील्डिंग पर नए आइडिया के साथ काम कर सके।
नई दिल्ली पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने शनिवार को साफ कर दिया कि वह भारतीय टीम के वेस्ट इंडीज दौरे के लिए उपलब्ध नहीं रहेंगे। इसके बाद इस विकेटकीपर बल्लेबाज के भविष्य को लेकर एक बार फिर सवाल उठने शुरू हो गए हैं। धोनी टैरिटोरियल आर्मी की पैराशूट रेजिमेंट में लेफ्टिनेंट कर्नल हैं, और ऐसी खबरें हैं कि अगले दो महीने में से काफी वक्त वह इस रेजिमेंट के साथ गुजारेंगे। बीसीसीआई के एक आला अधिकारी ने मामले के बारे में अधिक जानकारी दी। अधिकारी ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया, 'धोनी ने स्वयं को वेस्ट इंडीज दौरे के लिए अनुपलब्ध बताया है चूंकि वह अगले दो महीने पैरामिलिट्री रेजिमेंट के साथ समय बिताएंगे।' 38 वर्षीय धोनी ने बीसीसीआई को अपने इस फैसले के बारे में बता दिया है। रविवार को एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता वाली चयन समिति मुंबई में बैठक करेगी जिसमें वेस्ट इंडीज दौरे के लिए भारतीय टीम का चनय होगा। धोनी के इस टूर से हटने के बाद माना जा रहा है कि तीनों फॉर्मेट में ऋषभ पंत बतौर विकेटकीपर पहली पसंद होंगे। वहीं ऋद्धिमान साहा विकेटकीपर के रूप में दूसरी पसंद हो सकते हैं।
मैनचेस्टर वर्ल्ड कप के पहले सेमीफाइनल में न्यू जीलैंड से हारकर टीम इंडिया का सफर यहीं पर समाप्त हो गया है। कीवी टीम ने पहले खेलते हुए 240 रन का लक्ष्य दिया था लेकिन भारतीय टीम 18 रन से यह मैच हार गई। खराब शुराआत के बाद रविंद्र जडेजा (77) और एमएस धोनी (50) ने भारतीय पारी को पटरी पर लाने की शानदार कोशिश की। लेकिन दोनों ही बल्लेबाज अंतिम पलों में अपने विकेट गंवा बैठे और भारत को यहां 18 रन से हार का सामना करना पड़ा। एक वक्त 92 रन पर 6 विकेट गंवा चुकी टीम इंडिया को जडेजा-धोनी ने बखूबी संभाला था। दोनों ने 7वें विकेट के लिए 116 रन की साझेदारी निभाई। स्विंग होती गेंदों पर चरमराया टॉप ऑर्डर इससे पहले स्विंग लेती हुई गेंदों के सामने भारतीय बल्लेबाजी के फ्लॉप शो ने एक बार फिर यह पोल खोल दी कि जब-जब गेंद हरकत करती है, तो भारतीय बल्लेबाजी लचर ही साबित होती है। 240 रन के लक्ष्य का पीछा करने उतरी टीम इंडिया की शुरुआत यहां बेहद खराब रही। पारी के दूसरे ही ओवर में शानदार फॉर्म में चल रहे रोहित शर्मा (1) मैट हैनरी की स्विंग को संभाल नहीं पाए और गेंद उनके बैट को चूमती हुई सीधे विकेटकीपर टॉम लेथम के हाथ में पहुंची। विराट भी चूके इसके बाद अगले ही ओवर में कप्तान विराट कोहली को ट्रेंट बोल्ट ने अपना शिकार बनाया। इस लेफ्टआर्म बोलर की अंदर आती हुई गेंद पर विराट बल्ले से छूने से चूक गए और गेंद सीधे पैड पर टकरा गई। वह LBW आउट हुए। विराट ने खुद को सुरक्षित बचाए रखने के लिए DRS जरूर मांगा लेकिन कैमरे से साफ हो गया कि गेंद स्टंप की चूमते हुए जा रही थी। निर्णय अगर-मगर में था, तो नियम के अनुसार अंपायर के निर्णय को ही सही माना गया। कोहली निराश होकर पविलियन लौट गए। अगले ओवर में दूसरे ओपनर केएल राहुल भी मैट हैनरी की स्विंग को नहीं संभाल पाए और वह भी विकेटकीपर को कैच देकर पविलियन लौट गए। 3.1 ओवर में भारत ने अपने टॉप 3 बल्लेबाज गंवा दिए और स्कोरबोर्ड पर अभी सिर्फ 5 रन ही थे। नहीं चल पाए दिनेश कार्तिक यहां से दिनेश कार्तिक ने युवा बल्लेबाज ऋषभ पंत के साथ मिलकर लड़खड़ा चुकी पारी को संभालने की कोशिश की। लेकिन कार्तिक-पंत ने अभी 19 रन ही और जोड़े थे कि 10वें ओवर की अंतिम बॉल पर दिनेश कार्तिक पॉइंट पर खड़े जिम्मी नीशम के उम्दा कैच का शिकर हो गए। मैट हैनरी के खाते में यह तीसरी सफलता रही। नीशम ने अपनी बाईं ओर छलांग लगाते हुए जमीन से कुछ सेंटीमीटर पहले ही कार्तिक का यह शॉट अपने हाथ में लपक लिया। अच्छी साझेदारी के बाद पंत ने की गलती जल्दी-जल्दी 4 विकेट गंवाने के बाद हार्दिक पंड्या यहां क्रीज पर धोनी से पहले आ गए। पंड्या और पंत ने पारी को जिम्मेदारी से संभालने का प्रयास किया। दोनों बल्लेबाज धैर्य के साथ धीमी गति से पारी को आगे बढ़ा रहे थे और इस समय जरूरत विकेट बचाने की थी, तो दोनों ही अपने स्वभाव के विपरीत और परिस्थितियों के अनुरूप खेलते दिख रहे थे। दोनों ने अगली 65 बॉल तक कोई विकेट नहीं गिरने दिया। अब लगने लगा था कि ये दोनों बल्लेबाज भारत को 100 पार पहुंचा देंगे। तभी सेंटनर की बॉल पर 32 रन के निजी स्कोर पर खेल रहे पंत मिड विकेट पर छक्का जड़ने की जल्दबाजी कर गए और एक आसान सा कैच वहां बाउंड्री के पास खड़े कोलिन डि ग्रैंडहोम को थमा गए। यह भारत को 5वां झटका था। पंत के बाद पंड्या भी लौटे अब पंत के बाद पंड्या का साथ निभाने सीनियर बल्लेबाज एमएस धोनी क्रीज पर आए। दोनों ने अगले कुछ ओवर एक बार फिर पारी को संभालने की कोशिश की। 30 ओवर के बाद टीम इंडिया का स्कोर 92 ही था और अब नेट रन रेट भी ऊपर जा रहा था। यहां से भारत को अंतिम 20 ओवर में जीत के लिए 148 रन चाहिए थे तो पंड्या ने अपने गियर बदलने की सोची। यह रणनीति एक बार फिर काम नहीं की और सेंटनर की बॉल पर मिड विकेट की ओर खेला उनका शॉट खड़ा हो गया। यहां शॉर्ट मिड विकेट (30 गज के दायरे के भीतर) केन विलियमसन ने 30 गज के दायरे के भीतर पीछे की ओर उल्टी दौड़ लगाते हुए पकड़ा उम्दा कैच। यह भारतीय टीम को मात्र 92 रन के स्कोर पर छठा झटका था। इससे पहले न्यू जीलैंड ने भारतीय टीम के सामने 240 रनों का टारगेट रखा है। बुधवार को रिजर्व डे पर कीवी टीम ने मंगलवार के स्कोर 5 विकेट पर 211 में 28 रनों का इजाफा किया। न्यू जीलैंड ने अपने निर्धारित 50 ओवरों में 8 विकेट पर 239 रन बनाए। न्यू जीलैंड की ओर से रॉस टेलर ने सबसे ज्यादा 74 रनों का योगदान दिया। कप्तान केन विलियमसन ने 67 रनों की पारी खेली। भारत की ओर से भुवनेश्वर कुमार ने सबसे ज्यादा 3 विकेट लिए। इससे पहले मंगलवार को न्यू जीलैंड ने जब 46.1 ओवर में पांच विकेट पर 211 रन ही बनाए थे तभी बारिश आ गई जिसके बाद दिन में आगे का खेल नहीं हो पाया। अंपायरों ने भारी बारिश के कारण आउटफील्ड गीली होने से मैच रिजर्व दिन को पूरा करने का फैसला किया। जडेजा की फील्डिंग रविंद्र जडेजा ने सेमीफाइनल के दूसरे दिन भी अपनी उपयोगिता दिखाई उन्होंने पहले रॉस टेलर को सीधे थ्रो पर रन आउट किया और उसके बाद भुवनेश्वर की गेंद पर टॉम लेथम का बहुत बढ़िया कैच पकड़ा। जडेजा की इस फील्डिंग ने न्यू जीलैंड के स्कोर पर लगाम लगाने का काम किया। पहले दिन स्विंग हो रही थी गेंद गेंद शुरू में स्विंग ले रही थी तथा बुमराह और भुवनेश्वर ने बल्लेबाजों पर अच्छी तरह से दबाव बनाया। विराट कोहली टास गंवा बैठे और इसके बाद पहले गेंदबाजी करते हुए उन्होंने पहली गेंद पर अपना रेफरल भी गंवा दिया। मार्टिन गुप्टिल (एक) इसका फायदा नहीं उठा पाए और बुमराह ने चौथे ओवर में उन्हें कोहली के हाथों कैच कराकर स्कोर एक विकेट पर एक रन कर दिया। न्यू जीलैंड पहले पावरप्ले तक वह 27 रन तक ही पहुंच पाया जो इस विश्व कप में पहले दस ओवरों में किसी भी टीम का न्यूनतम स्कोर है। निकोल्स भले ही 18 ओवर से अधिक समय तक क्रीज पर रहे लेकिन इस बीच तेज और स्पिन मिश्रित आक्रमण के सामने उन्हें लगातार संघर्ष करना पड़ा। जडेजा का शानदार प्रदर्शन विलियमसन और निकोल्स जब पारी संवार रहे थे तब जडेजा ने ‘विकेट टु विकेट’ गेंद करके बल्लेबाजों को परेशानी में रखा। बायें हाथ के इस स्पिनर ने अंदर आती गेंद पर निकोल्स को चकमा देकर उनका मिडिल स्टंप थर्राया और उन्हें लंबी पारी नहीं खेलने दी। पहले 25 ओवरों में स्कोर दो विकेट 83 रन था। इस बीच भारतीय गेंदबाजों ने 150 में से 102 गेंदों पर रन नहीं दिए थे जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि गेंदबाज कितने हावी थे। इस बीच 14वें ओवर के बाद 28वें ओवर में गेंद ने सीमा रेखा के दर्शन किए। बुमराह 32वें ओवर में दूसरे स्पैल के लिए आए। उन्हें आते ही टेलर (तब 22 रन) का विकेट का मिल जाता लेकिन विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी एक मुश्किल कैच नहीं पकड़ पाए। विलियमसन पर दबाब बल्लेबाजों पर हालांकि रन बनाने का दबाव था और ऐसे में विलियमसन ने कदमों का इस्तेमाल किए बिना चहल की गेंद बैकवर्ड पॉइंट पर खेली लेकिन वह बल्ले का बाहरी किनारा लेकर जडेजा के सुरक्षित हाथों में चली गई। कीवी कप्तान ने छह चौके लगाए और इस बीच न्यू जीलैंड की तरफ से किसी एक विश्व कप में सर्वाधिक रन (548) बनाने वाले बल्लेबाज बने। उनका स्थान लेने के लिए उतरे जिमी नीशाम (12) ने भी हवा में गेंद लहराई। न्यू जीलैंड की पारी का पहला छक्का 44वें ओवर में टेलर ने चहल की गेंद पर लगाया जिससे उन्होंने अपना 50वां वनडे अर्धशतक भी पूरा किया। भुवनेश्वर ने कोलिन डि ग्रैंडहोम (16) को विकेट के पीछे कैच कराकर कीवी टीम को डेथ ओवरों के शुरू में बड़ा झटका दिया। बारिश के कारण जब खेल रोका गया तब टेलर के साथ टॉम लैथम तीन रन पर खेल रहे थे। टेलर ने अब तक अपनी पारी में तीन चौके और एक छक्का लगाया।
नई दिल्ली, 07 जुलाई 2019,आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप 2019 के आखिरी लीग मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका के हाथों ऑस्ट्रेलिया को मिली हार के साथ ही सेमीफाइनल के मुकाबले भी तय हो गए. इस हार के साथ ऑस्ट्रेलिया वर्ल्ड कप पॉइंट टेबल में दूसरे नंबर पर आ गई है, वहीं टीम इंडिया 15 अंकों के साथ नंबर एक पर काबिज है. शनिवार को खेले गए वर्ल्ड कप के एक अहम मुकाबले में टीम इंडिया ने श्रीलंका को 7 विकेट से रौंद दिया. वहीं एक दूसरे मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका ने ऑस्ट्रेलिया को कांटे की टक्कर वाले मैच में 10 रनों के अंतर से हरा दिया. अब 9 जुलाई को मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड स्टेडियम में खेले जाने वाले आईसीसी वर्ल्ड कप के पहले सेमीफाइनल मुकाबले में वर्ल्ड कप पॉइंट टेबल में नंबर एक पर मौजूद टीम इंडिया का मुकाबला चौथे नंबर की टीम न्यू जीलैंड से होगा. बारिश को ध्यान में रखते हुए 10 जुलाई इस मैच के लिए रिजर्व डे रखा गया है, अगर 9 जुलाई को यहां बारिश होती है और मैच नहीं हो पाता है तो 10 जुलाई को यह मैच खेला जाएगा. वहीं, 11 जुलाई को होने वाला दूसरा सेमीफाइनल मुकाबला बर्मिंगम के एजेबेस्टन क्रिकेट ग्राउंड पर मेजबान इंग्लैंड और 5 बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला जाएगा.
मुंबई भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने बुधवार को मध्यक्रम के बल्लेबाज अंबाती रायुडू के खेल के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने के बाद एमएसके प्रसाद की अगुआई वाली सिलेक्शन कमिटी को निशाना बनाते हुए कहा कि पांच चयनकर्ताओं ने मिलकर इतने रन नहीं बनाए जितने रायुडू ने अपने करियर में बनाए। मौजूदा आईसीसी विश्व कप के लिए भारतीय टीम से अनदेखी के बाद रायुडू ने बीसीसीआई को लिखे ईमेल में बिना कारण स्पष्ट किए खेल के सभी प्रारूपों से संन्यास की घोषणा की। गंभीर ने कहा, ‘मेरे अनुसार इस विश्व कप में चयनकर्ताओं ने पूरी तरह से निराश किया। रायुडू का संन्यास लेने का फैसला उनके कारण है और इसके लिए उनकी फैसला करने का कौशल जिम्मेदार है।’ ब्रिटेन में चल रहे विश्व कप के लिए रायुडू आधिकारिक स्टैंड बाई सूची में शामिल थे, लेकिन ऑलराउंडर विजय शंकर के चोटिल होकर बाहर होने के बावजूद उनकी अनदेखी की गई। टीम प्रबंधन के जोर देने पर सलामी बल्लेबाज मयंक अग्रवाल को टीम में शामिल किया गया और पता चला है कि इन फैसलों से रायुडू काफी निराश हैं। भारत के लिए 58 टेस्ट और 147 वनडे खेलने वाले गंभीर ने चयनकर्ताओं को निशाना बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ते हुए कहा कि पांच चयनकर्ताओं ने मिलकर उतने रन नहीं बनाए जितने रायुडू ने अपने करियर में बनाए। अब भारतीय जनता पार्टी के सांसद गंभीर ने कहा, ‘पांच चयनकर्ताओं ने मिलकर उतने रन नहीं बनाए, जितने रायुडू ने अपने करियर में बनाए। उसके संन्यास को लेकर मैं बेहद दुखी हूं। ऋषभ पंत और मयंक अग्रवाल को विश्व कप में चोटिल खिलाड़ियों की जगह चुना गया और रायुडू की जगह अगर कोई और होता तो उसे भी इतना ही बुरा लगता।’ गंभीर ने संन्यास लेने के रायुडू के फैसले को भारतीय क्रिकेट के लिए दुखद लम्हा बताया। इस पूर्व सलामी बल्लेबाज ने कहा, ‘उनकी तरह का क्रिकेटर जो आईपीएल और देश के लिए इतना अच्छा खेला हो, तीन शतक और 10 अर्धशतक जड़े हों और इसके बावजूद अगर खिलाड़ी को संन्यास लेना पड़े तो यह भारतीय क्रिकेट के लिए दुखद क्षण है।’ रायुडू ने भारत के लिए 55 एकदिवसीय अंतराष्ट्रीय मैचों में 47.05 की औसत से 1694 रन बनाए।
बर्मिंगम ऑलराउंडर खिलाड़ी विजय शंकर पैर में चोट की वजह से आईसीसी वर्ल्ड कप-2019 से बाहर हो गए हैं। उन्हें नेट्स में जसप्रीत बुमराह की गेंद लगी थी। चोट शुरुआत में ज्यादा गंभीर नहीं लग रही थी लेकिन बाद में काफी गंभीर हो गई। अब बीसीसीआई आईसीसी से कर्नाटक के बल्लेबाज मयंक अग्रवाल को उनके विकल्प के तौर पर टीम में शामिल करने के लिए औपचारिक रूप से बात कर सकती है। इससे पहले शिखर धवन भी चोटिल होने के बाद वर्ल्ड कप बीच में ही छोड़कर लौट गए। स्टार गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार भी चोट के कारण फिलहाल बाहर हैं। प्रैक्टिस सीजन के दौरान चोटिल होने के बाद विजय शंकर को पिछले मैच में विश्राम दिया गया था। शंकर की जगह पर ऋषभ पंत को टीम में मौका दिया गया था। इससे पहले उम्मीद जताई जा रही थी कि शंकर की चोट अधिक गंभीर नहीं है और वह टीम में वापसी कर सकते हैं। हालांकि, अब स्पष्ट कर दिया गया है कि इस वर्ल्ड में चोट के कारण इस ऑलराउंडर का सफर खत्म हो गया है। कैसा रहा शंकर का प्रदर्शन विजय शंकर ने अबतक कुल तीन मैच खेले हैं। इसमें उन्हें पाकिस्तान, अफगानिस्तान और वेस्ट इंडीज के खिलाफ मौका मिला। इनमें उन्होंने 58 रन बनाए हैं।इसमें पाकिस्तान (15), अफगानिस्तान (29) और वेस्ट इंडीज (14) शामिल हैं। उनका अधिकतम स्कोर 29 रन था। शंकर ने तीन मैचों में सिर्फ पाकिस्तान के खिलाफ गेंदबाजी की है। इसमें उन्होंने 22 रन देकर 2 विकेट निकाले थे। धवन वर्ल्ड कप और भुवनेश्वर टीम से बाहर शिखर धवन अंगूठे के फ्रैक्चर के कारण पहले ही वर्ल्ड कप से बाहर हो गए हैं और भुवनेश्वर कुमार भी हैमस्ट्रिंग स्ट्रेन के कारण 2 मैचों से बाहर हैं। शंकर की चोट से टीम प्रबंधन की मुश्किलें बढ़ सकती है। उनके स्थान पर ऋषभ पंत को मौका दिया जा सकता है, लेकिन टूर्नमेंट में आगे के सभी मैच भारत के लिए बहुत अधिक महत्वपूर्ण हैं। कार्तिक, पंत या जडेजा में से किसी को मिल सकता है मौका कुछ क्रिकेट एक्पसपर्ट्स का मानना है कि सेमीफाइनल से पहले भारत को 2 महत्वपूर्ण मुकाबले खेलने हैं। ऐसे में अनुभवी दिनेश कार्तिक को मौका देना भी समझदारी भरा फैसला हो सकता है। कई पूर्व खिलाड़ी टीम में रविंद्र जडेजा को भी शामिल करने की मांग कर रहे हैं। जडेजा गेंद और बल्ले के साथ उपयोगी प्रदर्शन करने में सक्षम हैं और साथ ही वह टीम के सर्वश्रेष्ठ फील्डरों में से भी एक हैं। इंग्लैंड के खिलाफ अहम मुकाबले में कप्तान विराट कोहली ने युवा खिलाड़ी ऋषभ पंत पर भरोसा दिखाया।
नई दिल्ली, 26 जून 2019,आईसीसी वर्ल्ड कप 2019 के महासंग्राम के बीच टीम इंडिया की जर्सी को लेकर भारत में बवाल हो रहा है. कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के नेताओं ने इसके पीछे केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार का हाथ बताया है. साथ ही उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि केंद्र सरकार क्रिकेट में भी भगवा राजनीति को शामिल करने की कोशिश कर रही है. वहीं, बवाल बढ़ता देख इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने भी स्पष्टीकरण दिया है. बता दें कि टीम इंडिया इंग्लैंड के खिलाफ 30 जून को होने वाले आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप के मैच में पारंपरिक नीले रंग की जर्सी की बजाय नारंगी जर्सी में मैदान पर उतरेगी. हालांकि, टीम इंडिया की इस वैकल्पिक जर्सी में नीला रंग तो होगा लेकिन इसके साथ ही उसमें नारंगी रंग भी होगा. क्यों करना पड़ा बदलाव? टीम इंडिया को ये बदलाव इसलिए करना पड़ रहा है क्योंकि इंग्लैंड और भारत, दोनों टीमों की जर्सी का रंग एक जैसा है. ऐसे में मेहमान टीम को इंग्लैंड के साथ होने वाले मुकाबले में अपनी 'अल्टरनेट जर्सी' (वैकल्पिक जर्सी) का उपयोग करना होगा, जो नारंगी होगी. आईसीसी की सफाई टीम इंडिया के लिए भगवा यानी नारंगी रंग के चयन पर आईसीसी ने कहा, 'बीसीसीआई को रंग के कई विकल्प दिए गए थे और उन्होंने वही चुना जो उन्हें जर्सी के रंग के साथ बेहतर लगा. यह इसलिए करना पड़ा क्योंकि इंग्लैंड की टीम भी भारत की तरह नीले रंग का ही जर्सी पहनती है. यह डिजाइन भारत की पुरानी टी-20 जर्सी से लिया गया है, जिसमें नारंगी रंग था.' आईसीसी ने कहा, 'इस जर्सी को डिजाइन करने वाले डिजाइनर अमेरिका में बैठे हैं. उन्होंने कोई नया रंग का इस्तेमाल नहीं किया है, बल्कि जो पहले से ही मौजूद है उसी से जर्सी को बनाया है. जर्सी के डिजाइन के दौरान यह भी ध्यान में रखा गया कि क्रिकेट प्रेमियों को टीम इंडिया के खिलाड़ियों को पहचानने में कोई परेशानी न हो.' बीसीसीआई का राजनीति में दखल से इनकार बीसीसीआई के कार्यवाहक अक्ष्यक्ष सी के खन्ना ने भी जर्सी विवाद पर आजतक डॉट इन से बात की और कहा कि टीम इंडिया की जर्सी का रंग बोर्ड ने तय किया है. उन्होंने कहा, 'बोर्ड ने यह रंग तय किया है. टीम इंडिया इस जर्सी में इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले वर्ल्ड कप मुकाबले में उतरेगी. इस जर्सी को लेकर हो रही देश में राजनीति में बोर्ड किसी प्रकार का दखल नहीं देगा.' भारतीय राजनीति में बवाल कांग्रेस और समाजवादी पार्टी ने टीम इंडिया की नारंगी जर्सी का विरोध किया है. महाराष्ट्र राज्य विधानसभा में मुस्लिम विधायकों ने टीम इंडिया द्वारा के लिए तैयार की गई नारंगी जर्सी का विरोध किया है. समाजवादी पार्टी के विधायक अबू आसिम आजमी ने कहा कि इस फैसले के पीछे केंद्र सरकार का हाथ है, यह देश में बढ़ते भगवाकरण का हिस्सा है. आजमी ने कहा, 'मोदी जी पूरे देश का भगवाकरण करना चाहते हैं. एक मुसलमान वह था जिसने भारतीय तिरंगे को डिजाइन किया था. तिरंगे में अन्य रंग हैं, केवल नारंगी ही क्यों चुनें? यह बेहतर होगा कि उनकी जर्सी तिरंगे पर आधारित हो.' वहीं, पूर्व मंत्री और कांग्रेस विधायक नसीम खान ने कहा कि मोदी सरकार भगवा राजनीति कर रही है. उन्होंने कहा, 'जब से मोदी सरकार सत्ता में आई है, तब से वह भगवा राजनीति कर रही है. तिरंगे का सम्मान किया जाना चाहिए और राष्ट्रीय सद्भाव को बढ़ावा दिया जाना चाहिए. यह सरकार हर चीज का भगवाकरण करना चाहती है.' क्या कहते हैं आईसीसी के नियम? आईसीसी नियमों के अनुसार मेजबान टीम को आईसीसी टूर्नामेंट में खेलते हुए अपनी जर्सी के रंग को बरकरार रखना होता है. हालांकि, भारत की जर्सी भी नीले रंग की है, ऐसे में भारत की जर्सी में यह बदलाव किया गया है. ऐसे में मेजबान इंग्लैंड नीली ही जर्सी में उतरेगा. बता दें कि मौजूदा वर्ल्ड कप में 2 जून को दक्षिण अफ्रीका ने बांग्लादेश के खिलाफ मैच में अपनी शर्ट बदल ली थी. उस मैच में अफ्रीकी खिलाड़ी हरे रंग की जगह पीले रंग की शर्ट में मैदान पर उतर थे. क्या है वर्ल्ड कप की 10 टीमों के लिए रंगों का विकल्प? आईसीसी टूर्नामेंट में दो टीमें एक दूसरे के खिलाफ एक ही रंग की जर्सी में नहीं खेल सकती हैं. यही कारण है कि टीमों के पास एक वैकल्पिक रंग की जर्सी होती है. > अफगानिस्तान की जर्सी का रंग नीला और वैकल्पिक रंग लाल > ऑस्ट्रेलिया की जर्सी का रंग सुनहरा (गोल्ड) और वैकल्पिक रंग हरा > बांग्लादेश की जर्सी का रंग हरा और वैकल्पिक रंग लाल > इंग्लैंड की जर्सी का रंग हल्का नीला (इंग्लैंड के खिलाफ मैच में अन्य टीमें वैकल्पिक जर्सी के साथ खेल रही हैं.) > टीम इंडिया की जर्सी का रंग नीला और वैकल्पिक रंग नारंगी > न्यूजीलैंड की जर्सी का रंग काला और वैकल्पिक रंग सिल्वर ग्रे > पाकिस्तान की जर्सी का रंग हरा और वैकल्पिक रंग लाइम (चूने जैसा रंग) > साउथ अफ्रीका की जर्सी का रंग हरा और वैकल्पिक रंग सुनहरा (गोल्ड) > श्रीलंका की जर्सी का रंग नीला और वैकल्पिक रंग पीला > वेस्टइंडीज की जर्सी का रंग मैरून (क्योंकि वेस्टइंडीज की टीम की जर्सी का रंग किसी भी टीम की जर्सी के रंग से नहीं मिलता इसलिए इस टीम ने वैकल्पिक रंग नहीं चुना है.)
साउथैम्टन एक बार जब महेंद्र सिंह धोनी ने यॉर्कर फेंकने को कहा तो शनिवार को अफगानिस्तान के खिलाफ मुकाबले की हैटट्रिक बॉल को लेकर मोहम्मद शमी के मन में कोई दुविधा नहीं रही। शमी वर्ल्ड कप में हैटट्रिक लेने वाले दूसरे भारतीय गेंदबाज बन गए। इससे पहले चेतन शर्मा ने 1987 में न्यू जीलैंड के खिलाफ नागपुर में तिकड़ी ली थी। यह विश्व कप में 10वीं हैटट्रिक थी। भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 8 विकेट पर 224 रन बनाए जवाब में अफगानिस्तान की टीम 213 रनों पर ऑल आउटहो गई। मैच में 40 रन देकर चार विकेट लेने वाले शमी ने मैच के बाद पत्रकारों से कहा, 'मेरा प्लान सिंपल था। मैं यॉर्कर फेंकना चाहता था। यहां तक कि इसके बाद माही भाई ने भी मुझे यही करने को कहा। उन्होंने कहा, 'अब कुछ बदलने की जरूरत नहीं है क्योंकि अब तुम्हारे पास हैटट्रिक लेने का शानदार मौका है। यह एक दुर्लभ अवसर है, तुम्हें यही करने की जरूरत है। तो मैंने वही किया जो मुझे करने को कहा गया।' भुवनेश्वर कुमार की चोट के कारण शमी को अंतिम एकादश में मौका मिला और बंगाल के इस तेज गेंदबाज ने इसे खूब भुनाया। उन्होने कहा, 'मुझे किस्मत से अंतिम 11 में मौका मिला। मुझे जब भी मौका मिलता मैं उसके लिए तैयार था। मुझे इसका फायदा उठाना ही था। जहां तक हैटट्रिक की बात है तो यह किस्मत की बात है, खास तौर पर वर्ल्ड कप में। मैं हैटट्रिक लेकर काफी खुश हूं।' शमी ने कहा कि आखिरी ओवर में सोचने के लिए ज्यादा वक्त नहीं होता। मेरा लक्ष्य सिर्फ योजना का क्रियान्वयन करना था। उन्होंने कहा, 'आपके पास सोचने का ज्यादा वक्त नहीं होता। आपको अपने हुनर पर भरोसा करना होता है और विकल्प आपके पास नहीं होता। अगर आप ज्यादा वैरिएशन ट्राय करते हो तो रन बन सकते हैं। मैं बल्लेबाज के दिमाग को पढ़ने के बजाय अपने प्लान के हिसाब से काम करना चाहता था।' भारतीय तेज गेंदबाजों मोहम्मद शमी और जसप्रीत बुमराह को जल्द ही यह अहसास हो गया था कि अफगानिस्तान के खिलाफ शॉर्ट पिच गेंदबाजी कारगर साबित हो सकती है और उन्होंने इसका पूरा फायदा भी उठाया। इस पर शमी ने कहा, 'हम फुल लेंथ बोलिंग नहीं करना चाहते थे क्योंकि यह बैटपर अच्छी तरह आ रही थी। हमें पता था कि वे (अफगानिस्तान) शॉर्ट पिच बोलिंग के खिलाफ सहज नहीं होंगे। हमारी योजना साफ थी हम बाउंसर फेंकना चाहते थे।' ऑलराउंडर मोहम्मद नबी ने हाफ सेंचुरी बनाकर भारतीय खेमे में एक बार हलचल जरूर पैदा की। शमी ने कहा कि ऐसे वक्त पर जरूरी था कि उनकी टीम हौसला न हारे।
साउथैम्टन भारत ने अफगानिस्तान को शनिवार 11 रनों से हरा दिया। भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 8 विकेट पर 224 रन बनाए। जवाब में मोहम्मद नबी की हाफ सेंचुरी के बावजूद अफगानिस्तान की टीम 49.5 ओवरों में 213 रन बनाकर ऑल आउट हो गई। नबी ने 52 रन बनाए। भारत की जीत में हैटट्रिक लेने वाले मोहम्मद शमी का अहम योगदान रहा। इसके अलावा जसप्रीत बुमराह की शानदार बोलिंग ने उन्हें प्लेयर ऑफ द मैच का खिताब दिलाया। दिल की धड़कन थामने वाले इस मुकाबले ने कई बार पासा पलटा। लेकिन कुछ लम्हे ऐसे रहे जो भारत की जीत में अहम रहे। एक नजर ऐसे ही लम्हों पर- कहां-कहां पलटा मैच 29वां ओवर- बुमराह ने दो शॉर्ट बॉल्स पर सेट हो चुके बल्लेबाजों रहमत शाह और हशमतुल्लाह शाहिदी को आउट किया। दोनों के बीच 42 रनों की साझेदारी हुई थी। बुमराह की शॉर्ट बॉल पर शाह ने हुक करने का प्रयास किया। ऑफ स्टंप के बाहर की इस गेंद पर टॉप एज लगकर गेंद फाइन लेग पर गई और वहां युजवेंद्र चहल ने अच्छा लो कैच पकड़ा। शाह की 63 गेंदों की पारी में 3 चौके लगाए। ओवर की आखिरी गेंद पर शाहिदी 21 रन बनाकर बुमराह की शॉर्ट ऑफ लेंथ बॉल को पुल करने गए। गेंद बल्ले का किनारा लेकर हवा में गई और बुमराह ने अपनी ही गेंद पर आसान कैच लपका। 48वां ओवर आखिरी तीन ओवरों में अफगानिस्तान को 24 रनों की जरूरत थी। मोहम्मद नबी क्रीज पर थे और अफगानिस्तान टीम को मजबूत माना जा रहा था। मोहम्मद शमी ने इस ओवर में सिर्फ तीन रन दिए। इस ओवर की पहली ही गेंद पर शमी ने नबी के खिलाफ LBW की जोरदार अपील की। अंपायर ने उंगली उठाकर नबी को आउट का इशारा किया। पूर्व कप्तान ने इस पर रिव्यू लेने का फैसला किया और तीसरे अंपायर ने मैदानी अंपायर के फैसले को पलट दिया। 49वां ओवर अफगानिस्तान को आखिरी दो ओवरों में 21 रन चाहिए थे। बुमराह के इस ओवर में सिर्फ पांच रन बने। वह लगातार यॉर्कर पर यॉर्कर फेंकते रहे और अफगानिस्तानी बल्लेबाज उसके सामने संघर्ष करते दिखाई दिए। 50वां ओवर अब 6 गेंदों पर अफगानिस्तान को 16 रनों की जरूरत थी। नबी ने पहली गेंद पर शानदार चौका लगाया। अगली गेंद फुल थी। नबी ने मिडविकेट पर शॉट खेला लेकिन रन लेने से इनकार कर दिया। अगली तीन गेंदों पर जो हुआ वह इतिहास में दर्ज हो गया। शमी ने पहले नबी को लॉन्ग ऑन पर कैच कराया। शमी ने चौथी गेंद पर आफताब आलम के डिफेंस को छकाते हुए बोल्ड कर दिया। पांचवीं गेंद पर मुजीब उर रहमान को बोल्ड कर हैटट्रिक पूरी की।
नई दिल्ली अपने बाएं हाथ के अंगूठे में फ्रैक्चर के कारण टीम इंडिया के वर्ल्ड कप मिशन से बाहर हुए शिखर धवन को प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर उनका हौसला बढ़ाया है। अपने इस ट्वीट में पीएम नरेंद्र मोदी ने उम्मीद जताई कि वह जल्दी ठीक होकर मैदान पर लौटेंगे और देश की जीत में एक बार फिर से अहम भूमिका निभाएंगे। बुधवार को टूर्नमेंट से बाहर होने के बाद शिखर धवन ने इस खबर पर मायूसी जताते हुए फैन्स के लिए एक भावुक विडियो ट्वीट किया था। गुरुवार को धवन के इसी ट्वीट पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनका हौसला बढ़ाने वाला यह ट्वीट किया है। पीएम मोदी ने लिखा, 'प्रिय शिखर धवन, इस बात में कोई शक नहीं कि आपके खेल को पिच भी मिस करेगी लेकिन मैं आपके जल्दी ठीक होने की उम्मीद करता हूं, जिससे आप जल्द से जल्द मैदान पर लौटें और एक बार फिर देश की जीत में ज्यादा से ज्यादा योगदान दें।' इससे पहले बुधवार को धवन के टूर्नमेंट से बाहर होने की खबर आई थी। हालांकि टीम इंडिया ने उनके कवर के तौर पर युवा विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत को पहले ही इंग्लैंड बुला लिया था और शिखर के बाहर होने के बाद उन्हें टीम में शामिल कर लिया है। चोट के कारण वर्ल्ड कप से बाहर होने के बाद शिखर धवन ने टि्वटर पर अपना एक विडियो शेयर किया था। इसमें वह भावुक दिख रहे थे और टूर्नमेंट से बाहर होने पर उन्होंने अफसोस जताया था। धवन ने कहा कि अब वह जल्दी ठीक होकर अपने अगले ऐक्शन की तैयारी में जुटेंगे। बता दें धवन 9 जून को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच के दौरान चोटिल हो गए थे। उन्होंने इस मैच में 117 रन की पारी खेली थी और इस दौरान वह पैट कमिंस की एक बाउंसर पर घायल हो गए थे। धवन ने इस दौरान ट्रीटमेंट लेने के बाद हाथ में दर्द और सूजन के साथ ही बैटिंग की थी और शतक जमाकर टीम इंडिया की जीत में अहम योगदान निभाया था। बाद में जब उनकी चोट का स्कैन किया गया, तो उसमें हेयरलाइन फ्रैक्चर पाया गया। इससे पहले धवन के टूर्नमेंट के दौरान ही उबरने की उम्मीद थी लेकिन गुरुवार को टीम इंडिया की मेडिकल टीम ने उनकी चोट में उम्मीद के मुताबिक सुधार नहीं पाया तो उन्हें टूर्नमेंट से बाहर होना पड़ा।
नई दिल्ली वर्ल्ड कप के कुछ मैचों में भारतीय टीम नीले रंग के बजाय ऑरेंज जर्सी पहनकर उतर सकती है। भारतीय टीम का अगला मुकाबला 22 जून को अफगानिस्तान से होना है और जिसके बाद 27 जून को वेस्ट इंडीज से और फिर 30 जून को उसकी भिड़ंत मेजबान इंग्लैंड से होगी। सोशल मीडिया पर भी इस बात की चर्चा हो रही है कि टीम इंडिया की वैकल्पिक जर्सी किस रंग की होगी। इस बीच यह भी कहा जा रहा है कि भारतीय टीम अफगानिस्तान के खिलाफ शनिवार को ऑरेंज रंग की जर्सी पहनकर उतर सकती है। सूत्रों की मानें तो ऐसा इंग्लैंड के खिलाफ होने वाले मुकाबले में होगा कि टीम ऑरेंज रंग की जर्सी पहनकर खेलने उतरे। यह है कारण ऐसा इसलिए है क्योंकि अफगानिस्तान और इंग्लैंड दोनों टीमों के खिलाड़ियों की जर्सी का रंग नीला है। आईसीसी के नियमों के मुताबिक, किसी भी ऐसे मैच में, जिसका प्रसारण टीवी पर होता है, दोनों टीमें एक ही रंग की जर्सी पहनकर नहीं उतर सकती हैं। यह नियम फुटबॉल के 'होम और अवे' मुकाबलों में पहनी जाने वाली जर्सी से प्रेरित होकर बनाया गया है। ऑरेंज रंग की जर्सी पर होगी नीली पट्टी टीम इंडिया की जर्सी की रंग नीला है और उसमें कॉलर पर ऑरेंज रंग की पट्टी है। ऐसे में माना जा रहा है कि यह इंग्लैंड के खिलाफ मैच में उल्टा हो सकता है। टीम इंडिया की जर्सी ऑरेंज हो सकती है जिसमें नीले रंग की पट्टी कॉलर पर होगी। साथ ही, यह भी संभावना है कि इंग्लैंड के खिलाफ सभी वनडे मैचों में भारत की जर्सी का रंग बदला हुआ होगा। मेजबान इंग्लैंड को छूट मेजबान टीम को ऐसे मामलों में छूट मिलेगी। ऐसे नियम में कोई भी मेजबान टीम को अपनी पूर्व ‌निर्धारित रंग की जर्सी पहनने की अनुमति होती है। वर्ल्ड कप का मौजूदा सीजन इंग्लैंड में खेला जा रहा है और मेजबान होने के नाते उसे पूर्व निर्धारित नीले रंग की जर्सी पहनने की अनुमति होगी। साउथ अफ्रीका ने बदली जर्सी फाफ डु प्लेसिस की कप्तानी वाली टीम साउथ अफ्रीका ने बांग्लादेश की हरी जर्सी को देखते हुए पीले रंग की जर्सी पहनी थी। हालांकि पाकिस्तान की जर्सी का रंग भी हरा है और उसे इससे छूट दी गई। इस मामले से जुड़े एक सूत्र ने कहा, 'भारतीय खिलाड़ियों ने पिछले सप्ताह से पहले तक अपनी जर्सी नहीं देखी थी। हालांकि कुछ स्टेकहोल्डरों को इस पर अब भी जानकारी नहीं है कि टीम को नए रंग की जर्सी पहनने की जरूरत है या नहीं। भारतीय टीम की किट स्पॉन्सर कंपनी नाइक के प्रवक्ता ने इस बारे में कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। बता दें कि ऑस्ट्रेलिया, न्यू जीलैंड और वेस्ट इंडीज को अपनी जर्सी का रंग बदलने की जरूरत नहीं होगी क्योंकि उनका रंग किसी भी टीम की जर्सी से मेल नहीं खाता है। सेमीफाइनल की ओर बढ़ रही टीम इंडिया इंग्लैंड की मेजबानी में खेले जा रहे वर्ल्ड कप के 25 मैच खेले जा चुके हैं और भारतीय टीम ने अब तक एक मैच भी नहीं हारा है। भारतीय टीम सेमीफाइनल की ओर मजबूती से आगे बढ़ रही है। विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम ने अभी तक अपने 4 मैचों में से 3 में जीत दर्ज की, जबकि न्यू जीलैंड के खिलाफ मुकाबला बारिश के चलते रद्द हो गया।
नई दिल्ली, 18 जून 2019, इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन ने ओल्ड ट्रेफर्ड मैदान पर वर्ल्ड कप मुकाबले के दौरान अफगानिस्तान के खिलाफ 148 रनों की धमाकेदार पारी खेली. टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड की टीम ने मॉर्गन (148 रन) की तूफानी पारी की मदद से 50 ओवरों में 397/6 रनों का पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा किया. कप्तान इयोन मॉर्गन ने 148 रनों की धुआंधार पारी खेली जिसमें उनके 4 चौके और रिकॉर्ड 17 छक्के शामिल रहे. मॉर्गन ने 57 गेंदों में शतक पूरा किया इसके बाद उन्होंने 71 गेंदों में 148 का आंकड़ा छू लिया. हालांकि, गुलबदीन नाइब की गेंद पर वो अपना विकेट गंवा बैठे. इयोन मॉर्गन ने 57 गेंदों में वनडे इंटरनेशनल करियर का अपना 13वां शतक पूरा किया. 211वीं वनडे पारी खेलते हुए 32 साल के इंग्लिश कप्तान ने अपने पहले 50 रन 36 गेंदों में बनाए, लेकिन इसके बाद के 50 रन उन्होंने महज 21 गेंदों में पूरे किए. इस पारी वनडे इंटरनेशनल की एक पारी में सर्वाधिक छक्के लगाने की बात करें, तो मॉर्गन ने वर्ल्ड रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. उन्होंने 17 छक्के लगाकर रोहित शर्मा, एबी डिविलियर्स और क्रिस गेल को पछाड़ दिया. इन तीनों ने एक पारी में संयुक्त रूप से सर्वाधिक16-16 छक्के लगाए थे. वनडे इंटरनेशनल: एक पारी में सर्वाधिक छक्के 1. इयोन मॉर्गन (इंग्लैंड) : 17 छक्के, विरुद्ध अफगानिस्तान, मैनचेस्टर 2019 2. रोहित शर्मा (भारत) : 16 छक्के, विरुद्ध ऑस्ट्रेलिया, बेंगलुरु 2013 - एबी डिविलियर्स (साउथ अफ्रीका) : 16 छक्के, विरुद्ध वेस्टइंडीज, जोहानिसबर्ग 2015 - क्रिस गेल (वेस्टइंडीज) : 16 छक्के, विरुद्ध जिम्बाब्वे, केनबरा 2015
नई दिल्ली, 18 जून 2019, सेकेंड इलेवन चैम्पियनशिप में एमसीसी यंग क्रिकेटर्स की तरफ से खेल रहे सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर ने अपनी बेहतरीन गेंदबाजी से कई लोगों का दिल जीता है. उनकी गेंदबाजी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. अर्जुन ने इस टूर्नामेंट में सरे की सेकेंड डिविजन टीम के खिलाफ सोमवार को खेले गए मैच में शानदार गेंदबाजी की. अर्जुन ने अपनी विपक्षी टीम के सलामी बल्लेबाज नाथन टिले को जिस तरह से बोल्ड किया उस गेंद ने सभी का दिल जीता. इस विकेट का वीडियो लॉर्ड्स क्रिकेट ग्राउंड के आधिकारिक ट्वीटर हैंडल से ट्वीट किया गया है जिसने कई लोगों का ध्यान अपनी तरफ खिंचा. अर्जुन तेंदलुकर ने एमसीसी यंग क्रिकेटर्स के लिए 50 रन देकर 2 विकेट झटके. ट्वीट में लिखा है, 'अर्जुन तेंदुलकर की शानदार गेंदबाजी. उन्होंने MCCYC4L के लिए इस सुबह यह शानदार विकेट लिया.' अर्जुन बाएं हाथ के तेज गेंदबाज हैं. वह भारत की अंडर-19 टीम का हिस्सा भी रह चुके हैं. अर्जुन तेंदलुकर ने 11 ओवर की गेंदबाजी की जिसमें उन्होंने 2 मेडन ओवर किए. अर्जुन की शानदार गेंदबाजी के बावजूद सरे ने 6 विकेट खोकर 340 रन बनाए.
मैनचेस्टर बारिश की आंख आंखमिचौनी के बीच दिलों की धड़कने रोक देने वाला भारत और पाकिस्तान का मुकाबला आखिरकार टीम इंडिया ने जीत लिया। वर्ल्ड कप के इस मुकाबले में भारतीय खिलाड़ियों ने टीम को जीत दिलाने के साथ-साथ कुछ खास रेकॉर्ड्स भी अपने नाम किए। साथ ही मैच में भी कुछ ऐसी खास बातें हुईं, जो अब से पहले नहीं हुईं थी। पहली बार चुनी गेंदबाजी भारत पाकिस्तान के बीच वर्ल्ड कप में हुए मैच में पहली बार ऐसा हुआ कि टॉस जीतने वाली टीम ने गेंदबाजी चुनी। इससे पहले दोनों टीमों के बीच वर्ल्ड कप में कुल 6 मुकाबले हुए, जिसमें हर बार टॉस जीतने वाली टीम ने पहले बल्लेबाजी ही चुनी। बता दें कि वे सभी 6 मुकाबले भारत ने जीते थे और इस बार 7वां जीतकर अजय बढ़त कायम रखी। रविवार को हुए मैच में पाकिस्तान के कप्तान सरफराज ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी चुनी। इसके पीछे मैनचेस्टर का मौसम था। वहां हुई बारिश की वजह उम्मीद की जा रही थी कि पिच गेंदबाजों को फायदा देगी। टॉस हारने के बाद कप्तान विराट कोहली ने भी कहा था कि अगर वह टॉस जीतते तो पहले गेंदबाजी ही चुनते। लगातार दो शतकीय साझेदारी पहली बार वर्ल्ड कप के लगातार दो मैचों में भारतीय टीम की ओपनिंग जोड़ी ने शतकीय साझेदारी की। पहले शिखर धवन और रोहित शर्मा ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 127 रन जोड़े। फिर पाकिस्तान के साथ हुए मैच में रोहित शर्मा ने केएल राहुल के साथ मिलकर 136 रन जोड़े। इसके साथ रोहित और राहुल की जोड़ी पहली ऐसी भारतीय जोड़ी बन गई, जिसने वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ 100 रनों की साझेदारी की। पाकिस्तान के खिलाफ सबसे ज्यादा रन पाकिस्तान के खिलाफ रोहित शर्मा (140) की बैटिंग शानदार थी। इस पारी के साथ ही वह वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ सबसे ज्यादा स्कोर बनाने वाले भारतीय बन गए। रोहित ने 113 गेंदों में 140 रन बनाकर विराट कोहली (107) को पीछे छोड़ दिया। कोहली ने यह स्कोर 2015 में बनाया था। अब रोहित विराट के बाद दूसरे बल्लेबाज हैं, जिसने वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ शतक लगाया है। इसके साथ ही रोहित ने वर्ल्ड कप 2019 का अपना दूसरा शतक लगाया। अबतक वर्ल्ड कप 2019 में रोहित के अलावा सिर्फ इंग्लैंड के जो रूट ने दो शतक लगाए हैं। हसन अली का 'रेकॉर्ड' मैच में वैसे तो पाकिस्तान के सभी गेंदबाजों की पिटाई हुई, लेकिन इसी मैच में हसन अली ने खराब गेंदबाजी की वजह से रेकॉर्ड बना दिया। हसन से 9 ओवर गेंदबाजी करवाई गई, इसमें उन्होंने 84 रन देकर सिर्फ एक विकेट लिया। वर्ल्ड कप में किसी पाकिस्तानी गेंदबाज द्वारा यह सबसे खराब प्रदर्शन है। सबसे तेज 11 हजार रन पाकिस्तान के खिलाफ खेले गए मैच में विराट कोहली ने वनडे के अपने 11 हजार रन पूरे किए। सिर्फ 222 पारियों में इतने रन बनाकर वह सबसे तेज 11 हजार रन बनानेवाले क्रिकेटर बन गए। बता दें कि सचिन तेंडुलकर ने इस मुकाम तक पहुंचने के लिए 276 पारियां खेली थीं, यानी विराट से पूरी 54 पारियां ज्यादा। बाबर-फखर की जोड़ी भारत से हुए मैच में सिर्फ एक चीज पाकिस्तान के हक में गई। वह रही बाबर आजम और फखर जमां के बीच हुई पार्टनरशिप। दोनों ने मिलकर दूसरे विकेट के लिए 104 रन जोड़े। यह किसी पाकिस्तानी जोड़ी द्वारा वर्ल्ड कप में भारत के खिलाफ बनाई गई पहली शतकीय साझेदारी थी। दोनों ने मिलकर आमिर सोहेल और जावेद मियांदाद का रेकॉर्ड तोड़ा। उन्होंने 1992 वर्ल्ड कप में सिडनी ग्राउंड में तीसरे विकेट के लिए 88 रन जोड़े थे। मैच में भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान के खिलाफ 336 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया था। हालांकि बारिश से प्रभावित मैच में जीत का फैसला डकवर्थ लुईस नियम से हुआ और भारत ने पाकिस्तान को 89 रन से मात दी।
नई दिल्ली, 16 जून 2019,आईसीसी वर्ल्ड कप-2019 में भारत और पाकिस्तान का मैच रविवार को मैनचेस्टर में खेला जाएगा. इस मैच को लेकर सट्टा बाजार 1500 करोड़ के पार चला गया है. सट्टेबाजों का फरीदाबाद, गाजियाबाद, नोएडा और गुड़गांव जैसे दिल्ली से सटे इलाकों में नेटवर्क बहुत मजबूत माना जाता है. सूत्रों के मुताबिक, भारतीय खिलाड़ियों को लेकर आधार कीमत तय है, उदाहरण के तौर पर जसप्रीत बुमराह के लिए 15 रुपये और मोहम्मद आमिर के लिए 6 रुपये. बल्लेबाजों पर भी दांव लगाए गए हैं कि कौन अर्धशतक जमाएगा और कौन शतक. उदाहरण के तौर पर भारतीय कप्तान विराट कोहली और रोहित शर्मा और पाकिस्तान के लिए बाबर आजम तथा फखर जमां के ऊपर दांव है. 60 फीसदी दांव भारत पर पुलिस के सूत्रों ने बताया कि सट्टाबाजार में भारत का पलड़ा भारी है. वहीं, सट्टा सिर्फ मैच के परिणाम पर नहीं, बल्कि एक-एक ओवर, एक-एक गेंद, कौन कितने रन बनाएगा, कौन कितने विकेट लेगा इस पर भी लगता है. एक सट्टेबाज ने आईएएनएस से कहा कि आईपीएल मैच की तरह इस वर्ल्ड कप में भी कॉलेज के छात्र, व्यवसायी, होटल के मालिक, क्रिकेट प्रशंसक, व्यापारी, कॉरपोरेट महिलाएं, हवाला कारोबारी, हमारे साथ हैं. 60 प्रतिशत से ज्यादा दांव भारत की जीत पर हैं. करोल बाग और पुरानी दिल्ली में पुलिस मुस्तैद पुलिस उपायुक्त मधुर वर्मा ने आईएएनएस से कहा कि रविवार को भारत-पाकिस्तान के बीच होने वाले मैच को लेकर हमारी सट्टेबाजों पर पैनी नजर है. हम हर तरीके से उन्हें देख रहे हैं. हम पांच सितारा होटलों, गेस्ट हाउस, खासकर करोल बाग और पुरानी दिल्ली के इलाके की मॉनिटरिंग कर रहे हैं, क्योंकि ये इलाके बड़े सट्टेबाजों की निगाह में रहते हैं. इन सट्टेबाजों का नेटवर्क मजबूत होता है. इन्हें पकड़ पाना काफी मुश्किल होता है, लेकिन हम अपना काम कर रहे हैं. पुलिस उपायुक्त ने कहा कि पहले पुलिस ने उत्तरी दिल्ली से कुछ बड़े सट्टेबाजों को पकड़ा था, जिनके पास इंटरनेट सॉफ्टवेयर था जो सट्टेबाजी के लिए फोन से जुड़ा हुआ था.
लंदन विश्व कप में भारतीय टीम को बड़ा झटका लगा है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में चोटिल हुए शिखर धवन अब 3 हफ्ते तक नहीं खेल सकेंगे। चोटिल होने के कारण धवन को टीम से बाहर होना पड़ा है। धवन के बाएं हाथ के अंगूठे में आई सूजन के बाद आज उनका स्कैन कराया गया। स्कैन के बाद उनके चोट को गंभीर बताते हुए डॉक्टरों ने 3 हफ्ते आराम की सलाह दी है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में हुए थे चोटिल विवार को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विश्व कप मैच में भारत की जीत के हीरो धवन को तेज गेंदबाज नाथन कुल्टर नाइल की उछाल लेती गेंद लगी थी लेकिन वह दर्द के बावजूद खेले थे। काफी दर्द होने के बावजूद धवन ने 109 गेंद में 117 रन की पारी खेली। धवन चोट की वजह से फील्डिंग के लिए नहीं उतरे और उनकी जगह रविंद्र जडेजा ने पूरे 50 ओवर फील्डिंग की थी। धवन की जगह किसे मिलेगा मौका? भारतीय टीम के पास सलामी बल्लेबाज के तौर पर के एल राहुल का विकल्प है। राहुल ने कुछ मैचों में पहले भी ओपनिंग की है। धवन के स्थान पर टीम में किसे मौका मिलेगा, इसे लेकर अभी तस्वीर साफ नहीं है। सूत्रों के अनुसार, टीम की तरफ से श्रेयस अय्यर का नाम आगे बढ़ाया गया है।मौजूदा परिस्थितियों को देखकर कुछ एक्सपर्ट्स का कहना है कि ऋषभ पंत को टीम में शामिल किया जा सकता है। माना जा रहा है कि श्रेयस अय्यर और ऋषभ पंत में से ही किसी को मौका मिल सकता है। धवन के स्थान पर राहुल करेंगे ओपनिंग तो क्या होगी मुश्किल? शिखर धवन लेफ्ट हैंडर हैं और जबकि के एल राहुल दाहिने हाथ से बल्लेबाजी करते हैं। आम तौर पर लेफ्ट और राइट हैंड बल्लेबाज के साथ ओपनिंग साझेदारी को आदर्श माना जाता है। ऐसी परिस्थिति में के एल राहुल से ओपनिंग कराने से टीम मैनेजमेंट इस वजह से हिचक सकती है। हालांकि, लेफ्ट और राइट हैंड बल्लेबाजों से ओपनिंग कराने की आदर्श परिस्थिति को ध्यान में रखकर श्रेयस अय्यर का नाम आगे चलने की बात कही जा रही है। भारतीय टीम का अगला मुकाबला न्यू जीलैंड के साथ है। हालांकि, टूर्नमेंट के शुरुआत में ही शिखर धवन के चोटिल होने से भारतीय टीम को बड़ा झटका लगा है। अब सलामी जोड़ी आने वाले मैच में कितना दम दिखाती है, यह देखना होगा।
विश्व कप 2019 में भारतीय टीम ने लगातार दूसरी जीत हासिल की। केनिंग्टन ओवल में विराट कोहली की टीम ने गत चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हरा दिया। भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए शिखर धवन (117) और विराट कोहली (82) के दम पर 5 विकेट पर 352 रन बनाए। जवाब में ऑस्ट्रेलिया की पूरी टीम 50वें ओवर में 316 रनों पर आउट हो गई। भारत की ओर से जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार ने तीन-तीन विकेट लिए। धवन की सेंचुरी, कोहली का साथ रोहित शर्मा (57) के आउट होने के बाद भी धवन ने रन बनाने की रफ्तार को कायम रखा। धवन ने 92 गेंदों पर अपने वनडे करियर का 17वां शतक पूरा किया। यह विश्व कप में उनका तीसरा शतक था। इस बीच विराट कोहली ने भी अपने एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय करियर की 50वीं हाफ सेंचुरी पूरी की। उन्होंने 77 गेंदों पर 82 रन बनाए। अपनी पारी में उन्होंने 4 चौके और दो छक्के लगाए। रोहित-धवन की मजबूत शुरुआत, 16वीं शतकीय साझेदारी रोहित शर्मा और शिखर धवन ने मिलकर भारतीय पारी को मजबूत शुरुआत दी। दोनों ने सधी शुरुआत की। एक बार नजरें सेट होने के बाद भारतीय जोड़ी ने रनों की रफ्तार बढ़ाने का काम किया। पहले विकेट के लिए 22.3 ओवर में 127 रन जोड़े। रोहित और धवन की सलामी जोड़ी ने 16वीं बार शतकीय साझेदारी की। वह इस लिस्ट में ऑस्ट्रेलिया के एडम गिलक्रिस्ट और मैथ्यू हेडन के बराबर आ गए। सचिन और गांगुली के नाम ओपनिंग में 21 शतकीय साझेदारियां हैं। हालांकि सचिन-सौरभ ने कुल 26 बार सेंचुरी पार्टनरशिप की हैं। कोहली का स्ट्रोक, पंड्या का दम धवन के आउट होने के बाद नंबर-4 पर बल्लेबाजी करने के लिए हार्दिक पंड्या को भेजा गया। टीम प्रबंधन का यह दांव सटीक साबित हुआ। पंड्या ने महज 27 गेंदों पर 48 रनों की पारी खेली। पंड्या ने अपनी पारी में चार चौके और तीन छक्के लगाए। केएल राहुल ने सिर्फ तीन गेंदों का सामना किया और उस पर 11 रन बनाए। 353 रनों के टारगेट का पीछा करते हुए कंगारू टीम को शुरुआत से ही तेज गति से रन बनाने थे। हालांकि टीम ऐसा नहीं कर पाई। डेविड वॉर्नर और आरोन फिंच ने पहले विकेट के लिए 13 ओवर में सिर्फ 61 रन जोड़े। फिंच और स्मिथ की जोड़ी विकेटों के बीच गलतफहमी के चलते टूटी। फिंच 36 रन बनाकर रन आउट हुए।
लंदन भारत और 5 बार की चैंपियन टीम ऑस्ट्रेलिया आज द ओवल मैदान पर वर्ल्ड कप-2019 के 14वें मुकाबले में भिड़ रही हैं। भारत ने यहां टॉस जीतकर पहले बैटिंग करने का फैसला किया। रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी ने भारतीय पारी की शानदार शुरुआत की और दोनों ने 127 रन जोड़े। रोहित 57 रन बनाकर आउट हुए जबकि धवन (117) ने शतकीय पारी खेली। कप्तान विराट कोहली ने 82 रन बनाए जबकि हार्दिक पंड्या ने 48 रन की तेजतर्रार पारी खेली। धोनी ने 27 रन का योगदान दिया। भारत ने 50 ओवर में 5 विकेट के नुकसान पर 352 रन बनाए जिसमें ओपनर शिखर धवन (117) ने शतकीय पारी खेली। कप्तान विराट कोहली (82) और रोहित शर्मा (57) ने अर्धशतक जड़े। हार्दिक पंड्या ने 48 रन और एमएस धोनी ने 27 रन का योगदान दिया। लोकेश राहुल 11 रन बनाकर नाबाद लौटे। ऑस्ट्रेलिया के लिए मार्कस स्टॉयनिस ने 2 विकेट लिए, जबकि पैट कमिंस, मिशेल स्टार्क और कूल्टर नाइल को 1-1 विकेट मिला। 50वां ओवर- स्टॉयनिस W 6 1 2 Wd W 4 धोनी (27) को पहली ही गेंद पर लपका, फिर अगली ही गेंद पर लोकेश राहुल ने छक्का जड़ा.. 5वीं गेंद पर विराट कोहली (82) को पैट कमिंस ने लपका.. विराट ने 77 गेंदों की अपनी पारी में 4 चौके और 2 छक्के जड़े 49वां ओवर- मिशेल स्टार्क 6 4 2 0 1 0 धोनी अपने ही अंदाज में नजर आ रहे हैं, ओवर की शुरुआत सिक्स से की, फिर अगली ही गेंद पर चौका जड़ा 48वां ओवर- स्टॉयनिस 1 0 2 Wd 4 1 0 धोनी ने ओवर की चौथी गेंद पर लगाया चौका 47वां ओवर- मिशेल स्टार्क 6 1 4 2 1 1 कोहली अपने ही अंदाज में खेल रहे हैं, छक्के से ओवर की शुरुआत की और फिर धोनी ने फाइन लेग दिशा में शानदार चौका लगाया.. ओवर की समाप्ति तक भारत का स्कोर 316 रन हो गया जो वर्ल्ड कप में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ किसी भी टीम का सर्वोच्च स्कोर है हैं। 46वां ओवर- पैट कमिंस 1 0 4 Wd 2 W 0 हार्दिक पंड्या ने तीसरी गेंद पर चौका जड़ा, फिर डबल से भारत के 300 रन पूरे.. 5वीं गेंद पर उन्हें फिंच ने लपका, 48 रन की पारी में उन्होंने 27 गेंदों पर 4 चौके और 3 छक्के जड़े 45वां ओवर- स्टार्क 1 0 2 6 2 1 कोहली ने ओवर की चौथी गेंद पर सिक्स जड़ा, भारत का स्कोर 45 ओवर बाद 2 विकेट खोकर 293 रन पहुंच गया है 44वां ओवर- पैट कमिंस 6 4 0 2 Wd 1 0 हार्दिक पंड्या ने ओवर की शुरुआत सिक्स से की, फिर अगली ही गेंद पर चौका जड़ा .. ओवर से कुल 14 रन मिले 43वां ओवर- पैट कमिंस 1 1 1 0 6 1 हार्दिक पंड्या का शानदार शॉट, उनकी पारी का दूसरा सिक्स 42वां ओवर- कूल्टर नाइल 4 1 1 0 1 4 कोहली ने ओवर की शुरुआत चौके से की और हार्दिक पंड्या ने अंतिम गेंद पर चौका जड़ा, इसी के साथ भारत का स्कोर 42 ओवर बाद 2 विकेट खोकर 257 रन पहुंच गया है 41वां ओवर- मैक्सवेल 1 0 1 6 1 1 कोहली ने सिंगल से अपने वनडे करियर की 50वीं फिफ्टी जड़ी, उन्होंने इसके लिए 55 गेंदों का सामना किया 40वां ओवर- कूल्टर नाइल 1 0 4 0 0 1 39वां ओवर- पैट कमिंस 1 1 0 2 1 0 38वां ओवर- कूल्टर नाइल 0 1 1 2 0 1 विराट कोहली (44*) अर्धशतक के करीब पहुंच गए हैं, हार्दिक पंड्या साथ दे रहे हैं 37वां ओवर- मिशेल स्टार्क 1 4 0 1 1 W स्टार्क ने दिया भारत को दूसरा झटका, शिखर धवन (117) को सब्स्टीट्यूट नाथन लॉयन ने लपका, उन्होंने 109 गेदों की अपनी पारी में 16 चौके लगाए.. हार्दिक पंड्या क्रीज पर पहुंचे 36वां ओवर- कूल्टर नाइल 1 1lb 0 4 1 0 35वां ओवर- मिशेल स्टार्क 1 0 2 1 0 1 फिंच ने स्टार्क को फिर थमाई गेंद, भारत ने 35 ओवर में 1 विकेट के नुकसान पर 206 रन बना लिए हैं.. शिखर धवन (112*) और कप्तान विराट कोहली (32*) क्रीज पर हैं 34वां ओवर- मैक्सवेल 1 4 0 4 1 1 शतक जड़ने के बाद धवन ने हाथ खोलने शुरू किए, ओवर में जड़े 2 चौके.. 5वीं गेंद पर शिखर के सिंगल के साथ भारत के 200 रन पूरे 33वां ओवर- स्टॉयनिस 4 1 0 1 1 Wd 0 शिखर धवन ने 95 गेंदों पर पूरा किया वनडे करियर का 17वां शतक.. ड्रिंक्स टाइम 32वां ओवर- मैक्सवेल 1 0 1 0 1 1 भारत ने 32 ओवर में 1 विकेट पर 182 रन बना लिए हैं, धवन (99*) और विराट (22*) क्रीज पर हैं 31वां ओवर- स्टॉयनिस 2 0 2 1 1 2 30वां ओवर- मैक्सवेल 0 0 4 1 1 0 भारत ने 30 ओवर में 1 विकेट पर 170 रन बना लिए हैं, धवन (96*) और विराट (13*) क्रीज पर हैं 29वां ओवर- पैट कमिंस 2 0 4 1 0 0 ओवर की तीसरी गेंद पर धवन का चौका, अंपायर ने कोशिश की लपकने की लेकिन सफल नहीं हो पाए 28वां ओवर- मैक्सवेल 1 1 1 0 0 1 27वां ओवर- पैट कमिंस 0 0 0 Wd 4 1 0 विराट कोहली के चौके के साथ भारत के 150 रन 26.4 ओवर में पूरे 26वां ओवर- जम्पा 0 1 4 1 1 4 धवन ने तीसरी और अंतिम गेंद पर चौके जड़कर अपना निजी स्कोर 82 रन पहुंचाया, भारत 147/1 25वां ओवर- कूल्टर नाइल 0 1 1 0 1 1 ऑस्ट्रेलिया के लिए अच्छा ओवर, केवल 4 रन गए 24वां ओवर- जम्पा 2 1 0 1 1 0 23वां ओवर- कूल्टर नाइल 0 0 W 0 0 0 भारत को पहला झटका, रोहित (57) को एलेक्स कैरी ने लपका, उन्होंने 70 गेंदों की अपनी पारी में 3 चौके और 1 छक्का जड़ा.. विराट कोहली बल्लेबाजी को उतरे 22वां ओवर- जम्पा 2 1 1 0 1 1 फिंच ने फिर जम्पा को गेंद थमाई, उन्होंने ओवर में 6 रन दिए 21वां ओवर- मिशेल स्टार्क 4 0 2 2 1 1 रोहित शर्मा ने चौके के साथ 61 गेंदों पर पूरा किया वनडे करियर का 42वां अर्धशतक 20वां ओवर- स्टॉयनिस 0 1 4 4 1 1 धवन ने तीसरी और चौथी गेंद पर जड़े लगातार चौके, 20 ओवर में भारत 111/0 19वां ओवर- मिशेल स्टार्क 1 0 1 0 1 1 भारत के 100 रन 19 ओवर में पूरे, शिखर (53*) और रोहित (44*) क्रीज पर 18वां ओवर- स्टॉयनिस 0 1 2 1 1 1 धवन ने 53 गेंदों पर पूरा किया वनडे करियर का 28वां अर्धशतक 17वां ओवर- कूल्टर नाइल 6 0 1 1 0 1 रोहित ने खोले हाथ, ओवर की पहली गेंद पर ही फाइन लेग के ऊपर से शानदार सिक्स 16वां ओवर- स्टॉयनिस 4 0 1 0 1 0 धवन ने ओवर की शुरुआत चौके से की, हालांकि गेंद विकेटकीपर के ऊपर से निकल गई, ड्रिंक्स टाइम 15वां ओवर- कूल्टर नाइल 1 0 4 1 0 0 धवन का ओवर की तीसरी गेंद पर शानदार शॉट, फाइन लेग दिशा में चौका, भारत ने 15 ओवर में बिना कोई विकेट खोए 75 रन बना लिए हैं, रोहित (31*) और धवन (41*) क्रीज पर हैं 14वां ओवर- जम्पा 1 1 1 1 2 1 13वां ओवर- मैक्सवेल 4 0 1 1 1 0 रोहित ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सबसे जल्दी 2000 प्लस रन पूरे किए, उन्होंने इसके लिए 37 पारियां लिए 12वां ओवर- एडम जम्पा 4 1 4 1 0 1 भारत के लिए अच्छा ओवर, 2 चौकों समेत कुल 11 रन मिले 11वां ओवर: ग्लेन मैक्सवेल (बोलिंग में दूसरा परिवर्तन) 0 1 1 0 1 0 मैक्सवेल की अच्छी शुरुआत- ओवर से 3 रन 10वां ओवर: नाथन कूल्टर नाइल 0 1 1 0 0 0 ओवर से 2 रन 9वां ओवर: पैट कमिंस (स्टार्क वाले छोर से अब पैट कमिंस) 0 1 1 0 1 0 ओवर से 3 रन (अभी तक 5 ओवर फेंककर कमिंस ने खर्चे हैं सिर्फ 15 रन) 8वां ओवर: नाथन कूल्टर नाइल- बोलिंग में पहला परिवर्तन 0 0 4 Wd 4 4 1 (महंगा ओवर- 14 रन) 7.5 ओवर: चौका! एक बार फिर 4 रन। ऑफ स्टंप के बाहर यह गेंद। धवन ने इंतजार किया और कट कर दिया इसे गली और बैकवर्ड पॉइंट के बीच में चौका। 7.4 ओवर: चौका! ऑफ स्टंप के बाहर खराब गेंद। उतना ही अच्छा शॉट, कवर पॉइंट बाउंड्री की ओर 4 रन 7.3 ओवर: चौका! इस बार क्रीज से बाहर निकलकर आए धवन। मिड ऑफ की घुमाया। गेंद नॉन स्ट्राइक पर खड़े रोहत शर्मा के पास से होती हुई सीमा रेखा के बाहर। धवन का दूसरा चौका। 7वां ओवर: पैट कमिंस 0 0 0 0 1 0 6.4 ओवर: शॉर्ट बॉल। पुल करना चाहते थे धवन। मिस हुई गेंद। कॉट बिहाइंड की उत्साहजनक अपील। अंपायर ने नकारा। कोई नुकसान नहीं। पैट कमिंस वापस अपने रनअप की ओर ओवर से 1 रन छठा ओवर: मिशेल स्टार्क 1L 2 0 0 0 0 ओवर से 3 रन- किसी तरह की जल्दबाजी में नहीं है भारत के दोनों ओपनर 5वां ओवर: पैट कमिंस 2 0 0 0 4 1 4.5 ओवर: चौका! मैच की 29वीं गेंद पर शिखर धवन ने जड़ा मैच का पहला चौका। कमिंस ने आगे खिलाया इस गेंद को। धवन ने एक्स्ट्रा कवर्स की ओर ड्राइव कर दिया। 4 रन ओवर से 7 रन चौथा ओवर: मिशेल स्टार्क 0 1 0 0 1 0 ओवर से 2 रन- संभलकर खेलते हुए दोनों ओपनर्स तीसरा ओवर: पैट कमिंस 0 1 0 0 1 0 ओवर से 2 रन- शानदार बोलिंग करते हुए पैट कमिंस दूसरा ओवर: मिशेल स्टार्क 1 0 2 1 1L 0 1.3 ओवर: ओह! आह....। कैच छूटा, रोहित शर्मा को जीवनदान। शॉर्ट बॉल पर स्क्वेअर लेग में गेंद गई। कूल्टर नाइल का उम्दा प्रयास गेंद हाथ पर लगकर छिटकी। भारत को राहत ओवर से 5 रन पहला ओवर: पैट कमिंस 0 0 2 0 0 0 अच्छी शुरुआत ओवर से 2 रन दोनों ही टीमें इस मैच में बिना किसी बदलाव के उतरी हैं। टीम इंडिया का इस वर्ल्ड कप अभियान में यह दूसरा ही मैच है, जबकि ऑस्ट्रेलियाई टीम का यह तीसरा मैच है। भारत ने अपने पहले मैच में साउथ अफ्रीका को हराया था तो वहीं कंगारू टीम ने भी अफगानिस्तान और वेस्ट इंडीज को हार का स्वाद चखाया है। टॉस जीतकर कप्तान विराट कोहली ने कहा, 'यह अच्छी पिच दिख रही है और हम यहां पहले बैटिंग करेंगे। इस पिच का इस्तेमाल पहले हो चुका है तो यह खेल के साथ-साथ धीमी होती जाएगी। पहले बैटिंग के लिए कंडिशंस भी शानदार हैं कि हम यहां बोर्ड बड़ा स्कोर टांग पाएं। खेल के दूसरे हाफ हमारा बोलिंग अटैक विरोधी पर दबाव डालने में सक्षम है।' टॉस के बाद कंगारू कप्तान एरॉन फिंच ने कहा, 'मैं भी अगर टॉस जीतता तो पहले बैटिंग का ही फैसला लेता। इस पिच की सतह सूखी है और बाद में यह धीमी हो सकती है। पहले 10 ओवरों में आपको अच्छा करने की जरूरत है।' इस मैच के लिए कंगारू टीम का विश्वास जरूर बढ़ा होगा क्योंकि वेस्ट इंडीज के खिलाफ वह मुश्किल में फंस चुकी और एक वक्त पर उसने महज 79 रन पर ही 5 विकेट गंवा दिए थे। इसके बावजूद वह 288 रन तक अपने स्कोर को ले गई और 15 रन से उस मैच में जीत दर्ज की। दूसरी ओर टीम इंडिया भी अपनी इस प्रतिद्वंद्वी टीम को चुनौती देने के लिए तैयार है और वह अपने पेस और स्पिन बोलिंग के वर्ल्ड क्लास मिश्रण में फांसने के लिए पूरा जोर लगाएगी। प्लेइंग XI टीम इंडिया: रोहित शर्मा, शिखर धवन, विराट कोहली (कप्तान), केएल राहुल, एमएस धोनी (WK), केदार जाधव, हार्दिक पंड्या, भुवनेश्वर कुमार, कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल, जसप्रीत बुमराह ऑस्ट्रेलिया: आरोन फिंच (कप्तान), डेविड वॉर्नर, उस्मान ख्वाजा, स्टीव स्मिथ, ग्लेन मैक्सवेल, मार्कस स्टॉयनिस, एलेक्स कैरी (WK), नाथन कूल्टर नाइल, पैट कमिंस, मिशेल स्टार्क, एडम जांपा
नई दिल्ली मुंबई इंडियंस (MI) ने रविवार को चेन्नै सुपर किंग्स (CSK) को आखिरी गेंद तक चले मुकाबले में एक रन से हराकर खिताब अपने नाम किया। हैदराबाद में खेले गए खिताबी मुकाबले में रोहित शर्मा की टीम ने पहले बैटिंग करते हुए निर्धारित 20 ओवरों में 8 विकेट पर 149 रन बनाए। उसके लिए सबसे अधिक पोलार्ड ने 25 गेंदों में 3 चौके और 3 छक्के लगाते हुए नाबाद 41 रन की पारी खेली। जवाब में चेन्नै सुपर किंग्स ने 9 विकेट पर 148 रन बनाए और महज एक रन से जीत से दूर रह गई। 4 खिताब जीतने वाली पहली टीम मुंबई इंडियंस (149/8) ने चेन्नै सुपर किंग्स (148/7) को हराकर आईपीएल का चौथा खिताब अपने नाम किया। दूसरी ओर, एमएस धोनी की कप्तानी वाली चेन्नै सुपर किंग्स ने तीन बार खिताब जीता है। मुंबई 5वीं बार फाइनल में पहुंची थी, जबकि चौथी बार खिताब अपने नाम किया। उसने 2013, 2015, 2017 और 2019 में खिताब अपने नाम किया है। मलिंगा का कमाल यॉर्कर किंग कहे जाने वाले लसिथ मलिंगा ने पारी के 16वें ओवर में कुल 20 रन खर्च किए, जबकि आखिरी ओवर में 8 रन का बचाव किया। यही नहीं, उन्होंने शार्दुल ठाकुर का विकेट आखिरी गेंद पर लिया। CSK के दो रन आउट सीएसके की पारी में 2 रन आउट रहे। पहला कप्तान एमएस धोनी का रहा, जो रन दो रन बनाकर ईशान किशन की डायरेक्ट हिट पर चलते बने। शेन वॉटसन (80 रन, 59 गेंद) रन आउट होने वाले दूसरे बल्लेबाज रहे। वह आईपीएल के लगातार दो सीजन के फाइनल में शतक और अर्धशतक बनाने वाले बल्लेबाज भी बन गए। जब CSK को जीत के लिए 2 गेंदों में 4 रन चाहिए थे तो क्रुणाल पंड्या के सटीक थ्रो पर क्विंटन डि कॉक ने उन्हें रन आउट कर दिया। फाइनल में कायरन पोलार्ड का जलवा अब तक हुए चेन्नै बनाम मुंबई चार आईपीएल में सबसे अधिक कायरन पोलार्ड ने 82 की औसत से 164 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 85 गेंदों का सामना किया। इस दौरान मुंबई 3, जबकि चेन्नै एक बार चैंपियन बनी। पोलार्ड ने रविवार को खेले गए फाइनल में 25 गेंदों में नाबाद 41 रन की पार खेली। दूसरी बार एक रन से जीती मुंबई यह दूसरा मौका था, जब मुंबई टीम ने खिताब एक रन से अपने नाम किया था। इससे पहले 2017 में उसने पुणे सुपरजॉयट्स को इस अंतर से मात दी थी। वह मैच भी हैदराबाद के राजीव गांधी स्टेडियम में ही खेला गया था। बुमराह बने मैन ऑफ द मैच बुमराह बने मैन ऑफ द मैच पोल 4 ओवर में 14 रन देकर दो विकेट झटकने वाले जसप्रीत बुमराह को मैन ऑफ द मैच चुना गया, जबकि कोलकाता नाइट राइडर्स के ऑलराउंडर आंद्रे रसेल सीजन के सबसे वैल्यूएबल प्लेयर रहे।
नई दिल्ली मुंबई इंडियंस (MI) और कोलकाता नाइट राइर्डर्स (KKR) के बीच खेला गया इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 12वें सीजन का 56वां मैच खत्म हो गया। इस मैच में मुंबई इंडियंस ने कोलकाता टीम को 9 विकेट से मात दी। इसके साथ ही प्लेऑफ की टीमें और मुकाबले भी साफ हो गए हैं। प्लेऑफ में चेन्नै सुपर किंग्स (CSK), दिल्ली कैपिटल्स (DC) और मुंबई इंडियंस (MI) पहले ही पहुंच चुकी थीं, लेकिन चौथे स्थान पर संशय था जो अब साफ हो गया। प्लेऑफ की चौथी टीम सनराइजर्स हैदराबाद है। इस जीत के साथ मुंबई पॉइंट्स टेबल में भी टॉप पर पहुंच गई। पहला क्वॉलिफायर मैच टॉप की दो टीमों मुंबई इंडियंस और चेन्नै सुपर किंग्स के बीच 7 मई को चेन्नै में खेला जाएगा, जबकि तीसरे और चौथे नंबर की टीम यानी दिल्ली कैपिटल्स और सनराइजर्स हैदराबाद टीम के बीच एलिमिनेटर मैच 8 मई को विशखापत्तनम में होगा। दूसरा क्वॉलिफायर 10 मई को पहले क्वॉलिफायर की हारी हुई टीम और एलिमिनेटर की जीती हुई टीम के बीच खेला जाएगा। यह मैच भी विशाखापत्तनम में होगा। केकेआर क्यों हुई बाहर मुंबई (नेट रन रेट 0.421), चेन्नै (0.131) और दिल्ली (0.04) तीनों टीमों के समान 18 अंक रहे लेकिन पहली दो टीमें बेहतर रन गति के कारण शीर्ष दो स्थानों पर रही। केकेआर (नेट रन रेट 0.028) को प्लेऑफ में पहुंचने के लिए केवल जीत की जरुरत थी, लेकिन हारने से उसने 12 अंकों के साथ अपने अभियान का अंत किया। सनराइजर्स (0.577) और किंग्स इलेवन पंजाब (-0.251) के भी 12-12 अंक रहे, लेकिन हैदराबाद की टीम बेहतर रन गति के आधार पर प्लेऑफ में पहुंच गई। राजस्थान रॉयल्स (नेट रन रेट -0.449) सातवें और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (-0.607) 11-11 अंक लेकर क्रमश: सातवें और आठवें स्थान पर रहे। इस तरह से पहली बार शीर्ष पर रहने वाली टीम और सबसे निचले पायदान वाली टीम के बीच केवल सात अंक का अंतर रहा। कब और कहां होंगे प्लेऑफ के मुकाबले पहला क्वॉलिफायर मैच (7 मई) चेन्नै में खेला जाएगा। एलिमिनेटर (8 मई) और क्वॉलिफायर 2 (10 मई) को विशाखापत्तनम में होंगे, जबकि फाइनल हैदराबाद में 12 मई को खेला जाएगा। फाइनल हैदराबाद में क्यों आमतौर पर प्लेऑफ मुकाबले मौजूदा विजेता और फाइनल तक पहुंचने वाली टीम के घरेलू मैदान पर खेले जाते हैं, लेकिन कुछ कठिनाइयों के कारण भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) को हैदराबाद में मैच कराने का निर्णय लेना पड़ा। पिछले सीजन में धोनी की कप्तानी वाली चैन्नै सुपर किंग्स (CSK) ने यह खिताब अपने नाम किया था और ऐसे में इस सीजन का खिताबी मुकाबला चेन्नै में ही खेला जाना था।

Top News