taaja khabar.....इंडोनेशिया के पहले दौरे पर जाएंगे पीएम मोदी, भारतीय नौसेना को मिल सकता है बड़ा तोहफा.....पाकिस्तान ने किया सीजफायर उल्लंघन, 1 बीएसफ जवान शहीद....कानूनी पैंतरे और लिंगायत कार्ड से विपक्षी विधायकों का समर्थन हासिल करेगी BJP?....कर्नाटक: सियासी उठापटक के बीच हैदराबाद पहुंचे कांग्रेस-जेडीएस के विधायक...रमजान में नो ऑपरेशन फैसले के बाद सेना की टेंशन पत्थरबाजों से निपटना...पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता ने सेना पर लगाए आरोप, नवाज शरीफ का किया समर्थन....नवाज के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने की याचिकाएं खारिज.....अयोध्या मामला: 'राम की जन्मभूमि कहीं और शिफ्ट नहीं हो सकती'...रेलगाड़ियों के फ्लेक्सी फेयर में एक जून से मिल सकती है छूट...J&K: रमजान के पहले दिन आतंकियों ने की युवक की हत्या..
ज्यादा ग्रीन टी पीने से लिवर को हो सकता है नुकसान
ब्रसल्स अगर आप भी फिट और हेल्दी रहने के लिए ग्रीन टी का सेवन करते हैं तो यह खबर आपके लिए है। जरूरत से ज्यादा ग्रीन टी पीना आपके लिवर को नुकसान पहुंचा सकता है। यूरोपियन फूड सेफ्टी अथॉरिटी (EFSA) की तरफ से की गई एक नई रिसर्च में यह बात सामने आयी है ग्रीन टी के सप्लिमेंट्स के हाई डोज से लिवर डैमेज हो सकता है। ऐंटीऑक्सिडेंट की मात्रा ज्यादा ब्रूअ्ड टी या इंस्टेंट टी ड्रिंक्स को सुरक्षित माना जाता है क्योंकि इन ड्रिंक्स में ग्रीन टी में प्राकृतिक रूप से मौजूद ऐंटिऑक्सिडेंट की मात्रा कम होती है। लेकिन इन ऐंटीऑक्सिडेंट्स का ज्यादा सेवन शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है और यही वजह है कि ग्रीन टी सप्लिमेंट्स में मौजूद ऐंटीऑक्सिडेंट्स की मात्रा लिवर को नुकसान पहुंचा सकती है। 800 mg से ज्यादा का सेवन खतरनाक EFSA की मानें तो ज्यादातर ग्रीन टी सप्लिमेंट्स में 5 से 1000 मिलीग्राम तक ग्रीन टी होती है जबकि ब्रूअ्ड टी या टी इन्फ्यूजन में 90-300 मिलीग्राम तक। अनुसंधानकर्ताओं की मानें तो हर दिन 800 मिलीग्राम से ज्यादा ग्रीन टी का सेवन करना सेहत के लिए बड़ा खतरा साबित हो सकता है। हालांकि EFSA की मानें तो एक्सपर्ट्स ने अब तक कोई ऐसा डोज तैयार नहीं किया है जिसे पूरी तरह से सुरक्षित माना जा सके। वजन कम करने के लिए ग्रीन टी का इस्तेमाल ग्रीन टी प्रॉडक्ट्स के इस्तेमाल से उत्तरी यूरोप के कई देशों में लिवर डैमेज के केसेज में काफी बढ़ोतरी हुई है जिसे देखते हुए EFSA ने ग्रीन टी और ग्रीन टी सप्लिमेंट्स में मौजूद कैटचिन्स का मूल्यांकन करने का फैसला किया। साथ ही EFSA ने कैटचिन्स के सेवन और लिवर डैमेज के बीच क्या संबंध है यह जानने की भी कोशिश की। दरअसल, वजन कम करने के लिए इस्तेमाल होने वाले ग्रीन टी सप्लिमेंट्स का सेवन या तो खाली पेट किया जाता है या फिर हर दिन एक सिंगल डोज के तौर पर।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/