taaja khabar...सुप्रीम कोर्ट से मोदी को राफेल पर बड़ी राहत, राहुल को झटका....मध्य प्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री होंगे कमलनाथ, कांग्रेस ने किया ऐलान...हिमाचल विधानसभा में पारित हुआ गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा देने का प्रस्ताव...मुठभेड़ में मारे गए तीन लश्कर आतंकियों में हैदर मूवी में ऐक्टिंग करने वाला युवक भी शामिल...मिजोरम: पहली बार ईसाई रीति-रिवाजों के साथ होगा शपथ ग्रहण...पाकिस्तानियों को भारत में बसाने का विवादित कानून, SC ने उठाए सवाल...तीन राज्यों में हार के बाद 2019 के लिए मैराथन प्रचार में जुटेंगे पीएम मोदी, दक्षिण, पूर्व और पूर्वोत्तर पर नजर...बीजेपी का बड़ा दांव, गांधी परिवार के गढ़ से कुमार विश्वास को दे सकती है टिकट...छत्तीसगढ़ में हर तीसरे MLA पर आपराधिक केस, तीन-चौथाई करोड़पति...हार के बाद BJP ने 2019 के चुनाव के लिए भरी हुंकार, रणनीति तैयार...
रोजाना सिर्फ एक कैप्सूल खाने से दूर होगा मोटापा!
एक नई स्टडी की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि विटामिन डी सप्लीमेंट लेने से बच्चों में बढ़ रहे मोटापे को कम किया जा सकता है. आजकल अधिकतर बच्चे मोटापे से पीड़ित हैं. इन सभी बच्चों की डाइट में मिनरल्स, विटामिन के साथ-साथ विटामिन डी की भी अधिक कमी देखी गई है. स्टडी में बच्चों का मोटापा रोकने का सबसे बेहतरीन विकल्प हेल्दी डाइट और एक्सरसाइज को बताया है. ग्रीस की एक नई स्टडी की रिपोर्ट के मुताबिक, रोजाना विटामिन डी की डोज लेने से बच्चों में बढ़ रहे मोटापे और कोलेस्ट्रोल के स्तर को नियंत्रण में रखने में मदद मिलती है. स्टडी की रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि मोटे और ज्यादा वजनी बच्चों में बढ़े होने पर मोटापे का शिकार होने की संभावना ज्यादा होती है. साथ ही उनमें डायबिटीज, दिल की बीमारी और कैसंर जैसी घातक बीमारी होने का खतरा भी अधिक होता है. इस स्टडी में बताया गया है कि जिन लोगों का पेट जरूरत से ज्यादा बढ़ा होता है, उन लोगों में विटामिन डी की कमी हो सकती है. साथ ही शरीर में न्यूट्रिएंट्स की कमी के कारण हड्डियां और इम्यून सिस्टम भी कमजोर होने लगता है. विटामिन डी से भरपूर चीजें, जैसे मछली और दूध, डायबिटीज, कैसंर और बालों के झड़ने जैसी समस्या को कम करने में मददगार साबित होती हैं. स्टडी के दौरान शोधकर्ताओं ने 232 मोटे बच्चों की 1 साल से ज्यादा समय तक जांच की. उनमें से आधे बच्चों को रोजाना विटामिन डी के कैप्सूल दिए गए, जबकि 115 बच्चों को प्लेसबो यानी उन्हें इंजेक्शन या चीनी को गोली दी गई. नतीजों में सामने आया कि जिन बच्चों को रोजाना विटामिन डी सप्लीमेंट दिया गया उनमें 12 महीने के बाद वजन और कोलेस्ट्रोल का स्तर उन बच्चों के मुकाबले बेहद कम पाया गया जिन्हें प्लेसबो दिया गया था. स्टडी के मुख्य लेखक Dr. Evangelia Charmandari ने बताया कि इस स्टडी कि रिपोर्ट के जरिए मोटापे से ग्रस्त बच्चों में दिल और दूसरी गंभीर बीमारियों को दूर करने में मदद मिलेगी.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/