taaja khabar....टीकाकरण को गति देने के लिए केंद्र देगा विदेशी कोविड वैक्सीन को झटपट अनुमति, प्रकिया होगी तेज...दार्जिलिंग में बोले शाह- दीदी ने भाजपा-गोरखा एकता तोड़ने का प्रयास किया, देना है मुंहतोड़ जवाब...और मजबूत हुई भारतीय वायुसेना, 6 टन के लाइट बुलेट प्रूफ वाहनों को एयरबेस में किया गया शामिल...इस साल मानसून में सामान्य से बेहतर होगी बारिश, स्काइमेट वेदर का पूर्वानुमान....सुशील चंद्रा ने देश के मुख्य चुनाव आयुक्त का पदभार संभाला...प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैसाखी त्योहार पर कड़ी मेहनत करने वालों किसानों की तारीफ की...Sputnik V को मंजूरी के बाद अब जल्द मिलेगी डोज, भारत में एक साल में बनेगी 85 करोड़ खुराक....'टीका उत्सव' के तीसरे दिन दी गईं 40 लाख से ज्यादा डोज, अब तक 10.85 करोड़ लोगों को लगी वैक्सीन....शरीर में नई जगह छिपकर बैठ रहा कोरोना, अब RT-PCR टेस्ट से भी नहीं हो रहा डिटेक्ट...

संकट के बीच गुजरात कांग्रेस का दावा- राज्यसभा चुनाव में दूसरी सीट के लिए सिर्फ एक वोट की दरकार

अहमदाबाद गुजरात कांग्रेस को अपने विधायकों से इस्तीफे के रूप में एक के बाद झटके मिल रहे हैं लेकिन फिर भी इससे पार्टी के हौसले पस्त नहीं हुए है। गुजरात कांग्रेस का दावा है कि राज्यसभा चुनाव में उसकी दो सीटें आएंगी और इसके लिए उसे सिर्फ एक वोट की दरकार है। हालांकि यह कैसे मुमकिन है इसके बारे में पार्टी ने बताने ने इनकार कर दिया है। लिखें गुजरात मामले के कांग्रेस इनचार्ज राजीव साटव ने बताया, 'हमें दूसरी सीट निकालने के लिए सिर्फ एक वोट की जरूरत है। हम नंबर पर चर्चा नहीं करेंगे क्योंकि यह हमारी रणनीति का हिस्सा है। उन्होंने 2017 राज्यसभा में अहमद पटेल केस का उदाहरण दिया और यह भी कहा कि हम संख्याबल पर काम कर रहे हैं और बेकार नहीं बैठे हैं।' कांग्रेस ने रिजॉर्ट में भेजे अपने विधायक 2017 में गुजरात विधानसभा में 77 सीटें जीती थीं लेकिन अब पार्टी की स्ट्रेंथ घटकर 65 रह गई है। मार्च से अब तक 8 विधायक इस्तीफा दे चुके हैं। राज्यसभा चुनाव होने तक कांग्रेस ने अपने बाकी विधायकों को अंबाजी, वडोदरा और राजकोट भेज दिया है। दूसरी सीट के लिए कांग्रेस की राह कठिन कांग्रेस ने शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी को राज्यसभा चुनाव के लिए उम्मीदवार के रूप में उतारा है। पहली वरीयता के आधार पर गोहिल को वोट मिलेंगे लेकिन लेकिन दूसरी सीट के लिए कांग्रेस की राह कठिन हो गई है क्योंकि बीजेपी ने नरहारी अमीन को मैदान में उतारा है। राजीव शुक्ला ने वापस ले लिया था नाम दूसरी सीट के लिए कांग्रेस की सारी रणनीति अब भरत सिंह सोलंकी की पैंतरेबाजी और उनके पिता माधव सिंह सोलंकी की अच्छी छवि पर निर्भर करती है, जो पूर्व सीएम भी हैं। शुरुआत में कांग्रेस ने राजीव शुक्ला को उतारा था लेकिन फिर राज्य कांग्रेस के विरोध के चलते उन्होंने अपना नाम वापस ले लिया था। इसके बाद पार्टी ने सोलंकी को उतारा है। गुजरात विधानसभा में अब कुल 172 सदस्य हैं और 10 सीटें खाली हैं। बता दें कि गुजरात की 4 सीटों पर 19 जून को राज्यसभा चुनाव होने हैं। इनमें से तीन सीटें फिलहाल बीजेपी के पास हैं जबकि एक कांग्रेस के खाते में। विधायकों के इस्तीफों से बीजेपी को फायदा राज्यसभा 4 सीटों के लिए बीजेपी के तीन और कांग्रेस के दो उम्मीदवारों ने पर्चा भरा है। अब तक के गणित के लिहाज से बीजेपी सिर्फ दो सीटें ही जीत सकती थी लेकिन कांग्रेस के 3 विधायकों के इस्तीफे के बाद अब अब चौथी सीट पर भी बीजेपी का पलड़ा भारी होता दिख रहा है। कांग्रेस अब अपने विधायकों की बदौलत से अभी एक सीट ही निकालती दिख रही है। यानी शक्ति सिंह और भरत सिंह में से एक की बलि तय है। राज्यसभा चुनाव के लिए ये हैं उम्मीदवार नियमों के अनुसार, गुजरात राज्यसभा की एक सीट जीतने के लिए एक उम्मीदवार को सिंगल ट्रांसफरेबल वोट (STV) के तहत 37 वोट की दरकार है। बीजेपी के पास अभी 103 विधायक हैं जबकि राज्यसभा के लिए उसने अभय भारद्वाज, रमीलाबेन बारा और नरहारी अमीन को उम्मीदवार बनाया है। दूसरी ओर कांग्रेस ने शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी को उम्मीदवार है।

Top News