taaja khabar....अमेरिका ने भारत को हथियार क्षमता वाले गार्जियन ड्रोन देने की पेशकश की: सूत्र....अविश्वास प्रस्ताव: मोदी सरकार को मिलेगा विपक्ष पर निशाना साधने का मौका....संसद भवन पर हमले के लिए निकले हैं खालिस्तानी आतंकी: खुफिया इनपुट....धरती के इतिहास में वैज्ञानिकों ने खोजा 'मेघालय युग'....कठुआ केस में नया मोड़, पीड़िता के 'असल पिता' कोर्ट में होंगे पेश...निकाह हलाला: बरेली में ससुर पर रेप का केस, अप्राकृतिक सेक्‍स के लिए पति पर भी मुकदमा...मॉनसून सत्र: अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन नहीं करेगी शिवसेना?....देश के हर गांव को जाएगा कुंभ का न्योता, योगी पत्र लिख मुख्यमंत्रियों को बुलाएंगे....क्या अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दे पर मोदी सरकार के दांव में फंस गया विपक्ष?...लखनऊ में बड़े कारोबारी के यहां छापे, 89 किलो सोना-चांदी बरामद, 8 करोड़ कैश भी...
सेंसेक्स बीजेपी के साथ शेयर बाजार ने भी की रिकवरी, हरे निशान में पहुंचे सेंसेक्स, निफ्टी
नई दिल्ली शेयर बाजार ने गुजरात और हिमाचल प्रदेश के लिए जारी वोट काउंटिंग में बीजेपी के प्रदर्शन के साथ कदमताल करते हुए रिकवरी कर ली है। गुजरात विधानसभा के लिए वोटों की शुरुआती मतगणना में कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिलने के बाद बीजेपी स्पष्ट बहुमत की ओर बढ़ गई। इसके साथ ही शेयर बाजार भी लाल से हरे निशान में प्रवेश कर गया। 800 अंकों की गिरावट के साथ खुलनेलाला 30 शेयरोंवाला बीएसई सेंसेक्स 10:14 बजे 157.73 अंक मजबूत होकर 33,620 पर ट्रेड करने लगा जबकि 250 अंकों की गिरावट से कारोबार की शुरुआत करनेवाले निफ्टी में 52.10 अंकों की बढ़त देखी गई और यह 10,385 पॉइंट्स पर ट्रेड करने लगा। इस दौरान निफ्टी पर वेंदांता, गेल, सिप्ला, एमऐंडएम और हिंडाल्को जैसी कंपनियां मजबूती के साथ कारोबार करने लगीं। वहीं, बीएसई में सिप्ला, एमऐंडएम, अडाणी पोर्ट्स, टाटा स्टील और एचडीएफसी बैंक के शेयर चढ़ गए। इधर, निफ्टी पर टूटनेवाले शेयरों में टेक महिंद्रा, यूपीएल, एचसीएल टेक, टीसीएस और पावर ग्रिड कॉर्पोरेशन शामिल हैं जबकि सेंसेक्स में टीसीएस, विप्रो, आईटीसी, भेल और एनटीपीसी के शेयरों में गिरावट देखी गई। इससे पहले शुरुआती रुझानों में बीजेपी को कांग्रेस के हाथों शिकस्त मिलने की आशंका में बाजार में जबर्दस्त बिकवाली का माहौल देखा गया। एक वक्त पर सेंसेक्स 850 अंक तक टूट गया था। खासकर गुजरात से जुड़ी कंपनियों पर भारी दबाव देखा गया। दरअसल, बीजेपी की हार की आशंका में निवेशक सचेत हो गए हैं और रुझानों के मुताबिक खरीदारी या बिक्री कर रहे हैं।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/