taaja khabar..भारत में बड़ा आतंकी हमला करने की फिराक में है इस्लामिक स्टेट, रूस ने साजिश रच रहे आत्मघाती हमलावर को हिरासत में लिया..भाजपा का सिसोदिया पर पलटवार, कहा- केजरीवाल जिसे देते हैं ईमानदारी का सर्टिफिकेट वो जरूर जाता है जेल..शहनवाज हुसैन को सर्वोच्च न्यायालय से मिली बड़ी राहत, हाई कोर्ट के आदेश पर लगी रोक..आबकारी घोटाले में 'टूलकिट माड्यूल' की जांच, स्टैंडअप कामेडियन और हैदराबाद से जुड़े शराब के व्यापारी भी रडार पर..प्रधानमंत्री 24 अगस्त को हरियाणा और पंजाब में अस्पतालों का उद्घाटन करेंगे..आबकारी नीति मामला: भाजपा की दिल्ली इकाई का केजरीवाल के आवास के बाहर प्रदर्शन..

लोकसभा चुनाव 2024: पसमांदा मुसलमानों को कैसे रिझाएगी BJP? तैयार हो गया पूरा खाका

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से कुछ दिन पहले भाजपा कार्यकर्ताओं को हिंदुओं के अलावा अन्य समुदायों के कमजोर वर्गों पर ध्यान केंद्रित करने का सुझाव दिया गया था। इसी कड़ी में पार्टी की अल्पसंख्यक शाखा ने मुस्लिमों में सबसे पिछड़े पसमांदा मुसलमानों तक पहुंचने का खाका तैयार किया है। भाजपा के अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रमुख जमाल सिद्दीकी ने कहा कि पसमांदा समुदाय तक पहुंच के लिए पार्टी की गतिविधियां मोटे तौर पर दो पहलुओं पर आधारित हैं– यह सुनिश्चित करना कि उन्हें मोदी सरकार की कल्याणकारी योजनाओं का लाभ मिले, और जिलों की पार्टी इकाई में उनको प्रतिनिधित्व मिले, खासकर जहां वे बहुमत में हैं। सिद्दीकी खुद एक पसमांदा मुस्लिम हैं। 'देशभर के पसमांदा मुसलमानों से संपर्क करेंगे' उन्होंने कहा, ‘हमारी पार्टी के कार्यकर्ता खासकर अल्पसंख्यक मोर्चा के सदस्य इसके लिए देशभर के पसमांदा मुसलमानों से संपर्क करेंगे।’ उन्होंने कहा कि भाजपा की अल्पसंख्यक शाखा के अधिकांश पदाधिकारी पसमांदा समुदाय के विभिन्न वर्गों से हैं। पार्टी के एक अन्य नेता ने कहा कि भाजपा वर्ष 1965 के युद्ध नायक और परमवीर चक्र विजेता अब्दुल हमीद (इदरीसी जाति के) जैसे समुदाय के राष्ट्रीय नायकों की जय-जयकार करने और उनकी जयंती पर समारोह आयोजित करने की योजना बना रही है। अच्छी खासी आबादी है पसमांदा मुसलमानों की पसमांदा कुल मुस्लिम आबादी का 70 प्रतिशत से अधिक हैं और भाजपा का लक्ष्य विभिन्न राज्यों के चुनाव और 2024 के लोकसभा चुनाव की तैयारी के दौरान उन तक पहुंचना है। विभिन्न दलों में मुस्लिम नेता अशराफ में से आते हैं, जिनमें सैयद, मुगल और पठान (हिंदुओं में उच्च जातियों के समान) शामिल हैं। पसमांदा में मलिक (तेली), मोमिन अंसार (बुनकर), कुरैशी (कसाई), मंसूरी (रजाई और गद्दे बनाने वाले), इदरीसी (दर्जी), सैफी (लोहार), सलमानी (नाई) और हवारी (धोबी) शामिल हैं। पिछले हफ्ते हैदराबाद में भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मोदी ने सुझाव दिया था कि पार्टी कार्यकर्ताओं को पसमांदा मुसलमानों जैसे अल्पसंख्यकों के पिछड़े वर्गों तक पहुंचना चाहिए। उन्होंने ये टिप्पणी भाजपा की उत्तर प्रदेश इकाई के प्रमुख स्वतंत्र देव सिंह की आजमगढ़ और रामपुर लोकसभा उपचुनावों में हालिया जीत पर प्रस्तुति के दौरान हस्तक्षेप करते हुए की। उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली नयी भाजपा सरकार ने पूर्वी उप्र के बलिया के पसमांदा मुस्लिम दानिश अंसारी को अल्पसंख्यक मामलों का राज्य मंत्री नियुक्त किया है।

Top News