taaja khabar....रिकवरी रेट बढ़कर 80 प्रतिशत, अमेरिका को पीछे छोड़ टॉप पर भारत ...NCB से बोला राहिल- 'सैम' बनकर बांटता था सिलेब्‍स में ड्रग्‍स, बॉलिवुड से जुड़ा है मेरा 'बॉस' ...योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा बोले- साजिश के तहत फैलाया जा रहा लव जिहाद, जरूरत पड़ीं तो कानून लाएंगे ...कश्मीर में अमन बिगाड़ने की कोशिश में पाकिस्तान, सेना लगातार नाकाम कर रही मंसूबेः डीजीपी ...जम्मू-कश्मीर को 1350 करोड़ के आर्थिक पैकेज का तोहफा, पानी-बिजली बिल में भी 50% की छूट ...ड्रग्स मंडली पर एक्शन जारी, 14 दिन के लिए जेल भेजा गया सप्लायर राहिल विश्राम...केरल और बंगाल में NIA की रेड, अलकायदा से जुड़े 9 संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार...

दिल्ली से खत्म होता जा रहा है कोरोना, आज केवल 674 केस

नई दिल्ली कोरोना के खिलाफ जारी (Coronavirus In Delhi) जंग में दुनिया भर में ज्यादा से ज्यादा जांच करने का तरीका अपनाया गया और यह काफी सफल रहा। दिल्ली में भी यही तरीका अपनाया जा रहा है और बहुत हद तक इस महामारी के खिलाफ जारी जंग में सफलता मिली है। देश की राजधानी दिल्‍ली में कोरोना मामलों (Delhi Coronavirus) में लगातार सुधार देखने को मिल रहा है। दिल्ली में पिछले 24 घंटों में केवल 674 मामले सामने आए हैं और यहां एक्टिव मरीजों की संख्या 10,000 के नीचे पहुंच गई। इसके साथ ही दिल्ली में कोरोना रिकवरी रेट 89.98% हो गया है। यहां अब केवल 7.11% एक्टिव मरीज ही बचे हैं जबकि 2.89% मरीज़ों की मौत हो चुकी है। सीएम केजरीवाल से जताई खुशी दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने भी इस बात को लेकर खुशी जाहिर की है। उन्होंने लिखा है कि अब दिल्ली में 10 हजार से भी कम केस बचे हैं। एक्टिव केस के मामले में दिल्ली 14वें पोजीशन पर पहुंच गई है। केजरीवाल से ट्वीट करते हुए लिखा है कि आज 12 लोगों की मौत हुई है। मुझे दिल्ली वालों पर गर्व है। आज हर तरफ दिल्ली मॉडल की चर्चा हो रही है। दिल्‍ली में अब तक कोरोना के 1,39,156 हुए दर्ज हो चुके हैं। देश की राजधानी में पिछले 24 घण्टे में 12 मरीजों की मौत हुई और कुल मौत का आंकड़ा 4033 पहुंच गया है। पिछले 24 घण्टे में 972 लोग ठीक हुए और अब तक कुल 1,25,226 लोग ठीक हो चुके हैं। दिल्ली सरकार की बेस्ट नीति दिल्ली सरकार ने अग्रेसिव टेस्टिंग करने का तरीका अपनाया। जहां बाकी स्टेट कम टेस्ट कर रहे थे, वहीं संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ने के बाद दिल्ली में कोविड जांच बढ़ाने का फैसला किया गया। जहां एक समय पांच से सात हजार जांच हो रही थी, वहां अब एक दिन में 20 हजार से ज्यादा जांच की जा रही है। जून में दिल्ली में न केवल मौत बल्कि संक्रमण के मामले भी तेजी से बढ़ रहे थे। लेकिन जुलाई में दोनों ही स्थिति में काफी सुधार देखा गया। होम आइसोलेशन की नीति भी सफल टेस्टिंग के अलावा, दिल्ली सरकार के होम आइसोलेशन की रणनीति काफी सफल रही है, जिसे अब कई दूसरे राज्यों ने भी अपनाना शुरू कर दिया है। होम आइसोलेशन का फैसला इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि एक समय दिल्ली सरकार के इस फैसले से केंद्र तक सहमत नहीं थी, लेकिन दिल्ली सरकार इस पर अडिग रही और इससे होने वाले फायदे के बारे में अवगत कराती रही, जिसकी वजह से बाद में केंद्र ने भी इस रणनीति को सही माना। जून में एक समय मरीज को बेड नहीं मिलने की खबरों के बाद दिल्ली सरकार ने कोविड मरीजों के लिए अस्पतालों में बेड रिजर्व करने का फैसला किया और अब दिल्ली में कोविड मरीजों के लिए 15 हजार से ज्यादा बेड रिजर्व कर दिए। अभी दिल्ली में सिर्फ 2800 बेड पर ही मरीज हैं, बाकी सभी बेड खाली है। पॉजिटिव रेट: दिल्ली में पॉजिटिव रेट में लगातार गिरावट हो रही है, अब दिल्ली में पॉजिटिव रेट सिर्फ 6 पर्सेंट रह गया है, जो पहले 11 पर्सेंट था। एक्टिव केस: लगातार मरीज के ठीक होने और संक्रमण रेट कम होने की वजह से एक्टिव मरीजों की संख्या में कमी आई है, अब दिल्ली में एक्टिव मरीज 10356 हैं, जो पहले 11904 थी। कुछ दिन पहले दिल्ली एक्टिव केस के मामले में पूरे देश में दूसरे जगह पर थी। अब यह 14 वें स्थान पर है। रिकवरी रेट: पिछले हफ्ते यह 87.95 पर्सेंट था, जो अब 89.57 पर्सेंट हो गया है। जबकि राष्ट्रीय औसत सिर्फ 65.43 पर्सेंट है। 79 पर्सेंट बेड बेड खाली: दिल्ली में अभी कुल 79 पर्सेंट बेड खाली हैं। यानी केवल 21 पर्सेंट बेड पर ही मरीज हैं और इनकी संख्या सिर्फ 2886 है। मौत में कमी: पिछले हफ्ते दिल्ली में कुल 199 मरीजों की मौत हुई थी, जो इस हफ्ते कम होकर 177 हो गई है।

Top News