taaja khabar.....इंडोनेशिया के पहले दौरे पर जाएंगे पीएम मोदी, भारतीय नौसेना को मिल सकता है बड़ा तोहफा.....पाकिस्तान ने किया सीजफायर उल्लंघन, 1 बीएसफ जवान शहीद....कानूनी पैंतरे और लिंगायत कार्ड से विपक्षी विधायकों का समर्थन हासिल करेगी BJP?....कर्नाटक: सियासी उठापटक के बीच हैदराबाद पहुंचे कांग्रेस-जेडीएस के विधायक...रमजान में नो ऑपरेशन फैसले के बाद सेना की टेंशन पत्थरबाजों से निपटना...पाकिस्तान मुस्लिम लीग के नेता ने सेना पर लगाए आरोप, नवाज शरीफ का किया समर्थन....नवाज के खिलाफ देशद्रोह का मुकदमा चलाने की याचिकाएं खारिज.....अयोध्या मामला: 'राम की जन्मभूमि कहीं और शिफ्ट नहीं हो सकती'...रेलगाड़ियों के फ्लेक्सी फेयर में एक जून से मिल सकती है छूट...J&K: रमजान के पहले दिन आतंकियों ने की युवक की हत्या..
हरियाणा एसएससी एग्जाम में ब्राह्मणों पर अपमानजनक सवाल पर बवाल
चंडीगढ़/गुड़गांव 10 अप्रैल को हुए हरियाणा स्टाफ सिलेक्शन कमिशन के जेई(जूनियर इंजिनियर) के एग्जाम्स को लेकर एक विवाद पैदा हो गया है। आरोप है कि इस परीक्षा में ब्राह्मणों पर एक ऐसा सवाल पूछा गया जो उनके लिए अपमानजनक है। सोशल मीडिया पर जेई एग्जाम के 75वें सवाल का स्क्रीनशॉट वायरल होने लगा, जिसपर हरियाणा में विपक्षी पार्टियों की तीखी प्रतिक्रियाएं आने लगीं। सवाल था- नीचे दिए गए 4 विकल्पों में से किसे बुरा शगुन नहीं माना जाता है? विकल्प थे- खाली घड़ा, ईंधन से भरा डिब्बा, काले ब्राह्मण से मुलाकात और ब्राह्मण लड़की का दिखना। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने हरियाणा एसएससी और मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की आलोचना करते हुए इसे शर्मनाक बताया है। इसकी आलोचना करते हुए आम आदमी पार्टी की हरियाणा इकाई के प्रमुख नवीन जयहिंद ने ब्राह्मणों से बीजेपी के बॉयकॉट की अपील की। पार्टी का कहना है कि प्रदेश सरकार ने ऐसा कर ब्राह्मण समाज के प्रति अनादर की भावना का प्रदर्शन किया है, खासतौर से लड़कियों के सम्मान को लेकर। जयहिंद ने कहा, 'खट्टर को सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी चाहिए और हरियाणा एसएससी के अध्यक्ष को पद से हटाया जाना चाहिए। उन्हें उस शख्स के खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए, जिसने पेपर सेट किया था।' सोशल मीडिया पर ट्रोल होने के बाद शनिवार शाम को हरियाणा एसएससी ने सवाल संख्या 75 को विदड्रॉ करने का फैसला लिया। आयोग ने इसके लिए माफी भी मांगी। आयोग के चेयरमैन ने कहा कि सवाल देखे नहीं गए थे, आयोग के किसी सदस्य ने न उन्हें पढ़ा था और न चेक किया था। उन्होंने आगे कहा कि प्रश्नपत्र पहली बार एग्जामिनेशन हॉल में ही खोले गए थे।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/