taaja khabar....राफेल डील पर नई रिपोर्ट का दावा, नियमों के तहत रिलायंस को मिला ठेका.....सीबीआई को पहली कामयाबी, भारत लाया गया विदेश भागा भगोड़ा मोहम्मद याह्या.....राजस्थान विधानसभा चुनाव की बाजी पलट कर लोकसभा के लिए बढ़त की तैयारी में BJP.......GST के बाद एक और बड़े सुधार की ओर सरकार, पूरे देश में समान स्टैंप ड्यूटी के लिए बदलेगी कानून....UNHRC में भारत की बड़ी जीत, सुषमा स्वराज ने जताई खुशी....PM मोदी के लिखे गाने पर दृष्टिबाधित लड़कियों ने किया गरबा.....मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: कांग्रेस के साथ नहीं एसपी-बीएसपी, बीजेपी को हो सकता है फायदा....गुरुग्रामः जज की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी ने उनकी पत्नी, बेटे को बीच सड़क गोली मारी, अरेस्ट....बेंगलुरु में HAL कर्मचारियों से मिले राहुल गांधी, बोले- राफेल आपका अधिकार....कैलाश गहलोत के घर से टैक्स चोरी के सबूत मिलेः आईटी विभाग.....मेरे लिए पाकिस्तान की यात्रा दक्षिण भारत की यात्रा से बेहतर: सिद्धू....घायल रहते 2 उग्रावादियों को किया ढेर, शहादत के बाद इंस्पेक्टर को मिलेगा कीर्ति चक्र....छत्तीसगढ़: कांग्रेस को तगड़ा झटका, रामदयाल उइके BJP में शामिल....
गुरमीत को भगाने के लिए खून की नदियां बहाने की थी साजिश!
जींद सिरसा डेरा के दो अनुयायी राम रहीम की करीबी हनीप्रीत और डेरा चेयरपर्सन विपासना के खिलाफ खड़े हो गए हैं। सरकारी गवाह बने गुरमीत + के इन भक्तों ने हनीप्रीत और डेरा के चेयरपर्सन के काले कारनामों का चिट्ठा खोल दिया है। इन दोनों ने गवाही दी है कि 25 अगस्त को खूनी संघर्ष के पीछे गुरमीत को भगाने की योजना थी। भक्तों को संदेश दिया गया था कि गुरमीत को पुलिस से छुड़ाने के लिए खून की नदियां बहाने में भी पीछे न हटें। सिरसा निवासी अनिल कुमार और राजस्थान के हनुमानगढ़ निवासी राजेश कुमार ने सरकारी गवाह बनते हुए डेरा चेयरपर्सन विपासना के लिए मुसीबतें खड़ी कर दी हैं। दोनों की इस गवाही से साफ हो गया है कि डेरा प्रमुख को छुड़वाने के लिए जो संघर्ष हुआ था उसके पीछे हनीप्रीत और विपासना का बड़ा रोल था। हनीप्रीत ने ली थी मीटिंग राजस्थान + के संगरिया के माला रामपुरा निवासी राजेश कुमार ने पुलिस को बताया कि 17 अगस्त को डेरा सच्चा सौदा सिरसा में मुख्य कार्यक्रम था। डेरा प्रेमी होने के नाते वह उस कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचा था। उस रात डेरे के तेरावास में हनीप्रीत, आदित्य इंसां की अध्यक्षता में एक मीटिंग हुई थी। राजेश के मुताबिक वह इस मीटिंग में गलती से चला गया था। उसने बताया कि बैठक में सरदार चमकौर सिंह, विपासना, अभिजीत, गुरलीन, राकेश, ड्राइवर फूल, गोभी राम, दिलावर, राम सिंह के अलावा कुछ अन्य लोग मौजूद थे। राजेश ने दावा किया है कि वह उनके नाम तो नहीं जानता, लेकिन शक्ल पहचानता है। यूं रची गई थी साजिश इसी मीटिंग में साजिश रची गई थी कि 25 अगस्त को राम रहीम का सीबीआई कोर्ट में फैसला होना है। इस दौरान वहां से गुरमीत को भगाने के लिए लाखों की संख्या में डेरा प्रेमी पंचकूला में अलग-अलग हिस्सों से डंडों, लाठियों, छतरियों, पेट्रोल-डीजल के साथ पहुंचाने हैं। बैठक में यह तय किया गया कि अगर फैसला खिलाफ आया और गुरमीत को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया तो पंचकूला में तोडफ़ोड़, आगजनी करके किसी भी कीमत पर गुरमीत को पुलिस के चंगुल से छुड़ाना है। भक्तों को यहां तक कहा गया था कि उनके सामने जान लेने और देने की नौबत आई तो भी वह पीछे न हटें। दूसरे गवाह सिरसा के डबवाली क्षेत्र के गांव चौटाला के अनिल कुमार ने भी पुलिस को इसी तरह का बयान दिया है।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/