taaja khabar....PNB ने अन्य बैंकों को चिट्ठी लिख किया सचेत, 10 अधिकारी निलंबित.....PNB केस की INSIDE स्टोरी: 7 साल पहले हुआ था फ्रॉड, सरकार की सख्ती से खुलासा....बिहार के आरा में आतंकियों के कमरे में धमाका, बड़ी साजिश नाकाम, 4 फरार.....तीन दिन में तीन यात्राएं, चुनावी मोड में बीजेपी, निशाना 2019 पर...मोदी केयर' पर केंद्र ने राज्यों की बुलाई बैठक, ममता पहले ही झाड़ चुकी हैं पल्ला....
स्मॉग: हरियाणा के सीएम खट्टर से मिले केजरीवाल, प्रदूषण से निपटने के मुद्दे पर हुई चर्चा
चंडीगढ़ राजधानी दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण से चिंतित सीएम अरविंद केजरीवाल और हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर के बीच बुधवार को चंडीगढ़ में मुलाकात हुई। राजधानी में जहरीले स्मॉग के कारण केजरीवाल पिछले कुछ समय से खट्टर और पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह से मिलने की इच्छा जता रहे थे। हालांकि पंजाब के सीएम अमरिंदर सिंह ने केजरीवाल से मुलाकात से साफ इनकार कर दिया था। खट्टर और केजरीवाल के बीच मुलाकात में किसानों द्वारा पराली जलाने के मुद्दे और प्रदूषण कम करने के उपायों पर चर्चा हुई। दोनों सीएम ने बैठक को सार्थक बताया। दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने कहा, 'हरियाणा सीएम के साथ स्मॉग के मुद्दे पर सार्थक चर्चा हुई। हम सभी इस समस्या से निपटने के लिए सभी तरह के कदम उठाने को तैयार हैं। हम सबको मिलकर यह समाधान निकालना होगा। सभी शीर्ष राजनेताओं को मिलकर इसका समाधान निकालना होगा। हमें गंभीरता से इसके ऊपर कदम उठाना होगा।' हरियाणा के सीएम खट्टर ने कहा, 'हम ऐसी समस्या के लिए आपस में बैठे हैं, जो सभी के लिए चिंता की बात है। हम सभी इसपर कदम उठा रहे हैं। राजधानी दिल्ली में पिछले कुछ दिनों से स्मॉग के कारण प्रदूषण की समस्या काफी बढ़ गई थी। यह हम सभी के लिए चिंता का सबब था। हरियाणा में इससे निपटने के लिए कदम उठाए जा रहे हैं। पराली जलाने की घटना इस साल कम हुई है। हम अपने राज्य में सीएनजी से वाहन चलाने के बारे में विचार कर रहे हैं। गौरतलब है कि दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण के मद्देनजर केजरीवाल ने 8 नवंबर को हरियाणा के सीएम को पत्र लिखा था। शुरुआत में तो सीएम खट्टर ने भी केजरीवाल से यह कहते हुए मुलाकात से इनकार कर दिया था कि उनकी सरकार प्रदूषण नियंत्रण के लिए पहले से ही उचित कदम उठा रही है। बाद में स्मॉग के मुद्दे पर एनजीटी की केंद्र सरकार, पड़ोसी राज्यों और दिल्ली सरकार को फटकार लगाने के बाद हरियाणा सीएम ने केजरीवाल को पत्र लिखकर उनसे मिलने को तैयार होने की बात कही थी। केजरीवाल ने कहा था कि हरियाणा के सीएम ने उन्हें फोन किया और कहा था कि वह मंगलवार तक दिल्ली में हैं, लेकिन बहुत व्यस्त होने के कारण दिल्ली में मीटिंग नहीं हो सकती। केजरीवाल ने कहा था कि वह बुधवार को इस मीटिंग के लिए चंडीगढ़ जाएंगे। केजरीवाल ने पराली से हो रहे पलूशन के मुद्दे पर चर्चा के लिए अमरिंदर से भी मुलाकात का समय मांगा था। पंजाब के सीएम ने केजरीवाल से मुलाकात से साफ इनकार करते हुए उल्टे उनकी जमकर खिंचाई कर डाली। दरअसल, केजरीवाल ने कैप्टन को संबोधित ट्वीट में कहा था, 'कैप्टन अमरिंदर सर, मैं बुधवार को हरियाणा के सीएम से मिलने के लिए चंडीगढ़ आ रहा हूं। आपका आभारी रहूंगा अगर मुलाकात के लिए अपना थोड़ा वक्त दें। यह सामूहिक हित के लिए है।' 'निरर्थक और बेकार चर्चा' अमरिंदर ने कहा कि वह समझ नहीं पा रहे हैं कि दिल्ली के मुख्यमंत्री जब जानते हैं कि इस तरह की चर्चा निरर्थक और बेकार है, तो क्यों इसमें जबरन हाथ डाल रहे हैं। कैप्टन ने कहा, 'दिल्ली और पंजाब इस मामले में जो भी मुश्किल झेल रहे हैं वे बिल्कुल अलग हैं। इस पर बैठक करना निराधार है।' अमरिंदर ने साथ ही कहा, 'पंजाब के उलट दिल्ली में स्मॉग की समस्या मुख्य रूप से शहरी प्रदूषण की देन है, जो यातायात कुप्रबंधन और गैर नियोजित औद्योगिक विकास की वजह से है। इन बिंदुओं पर ध्यान केंद्रित करने और समस्या सुलझाने के बजाए केजरीवाल बेकार की बहस के लिए समय खराब करना चाहते हैं। मेरे पास उनकी तरह फालतू का वक्त नहीं है।' 'राजनीतिक मसला नहीं पराली' अमरिंदर सिंह ने कहा कि जहां तक पराली जलाने की समस्या की बात है, तो यह कोई राजनीतिक मसला नहीं है जैसा केजरीवाल इसको प्रॉजेक्ट करना चाह रहे थे। यह एक इकनॉमिक समस्या है, जिसका हल करने की स्थिति में केवल केंद्र सरकार है। अमरिंदर ने कहा कि किसानों को पराली जलाने की खतरनाक आदत बंद करने और वैकल्पिक उपाय को लेकर क्षतिपूर्ति दिलाने के लिए वह केंद्र सरकार के सामने इस मुद्दे को उठाते रहेंगे।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/