taaja khabar....पुलवामा अटैक पर बोले PM मोदी- जो आग आपके दिल में है, वही मेरे दिल में.....धुले रैली में पाक को पीएम मोदी की चेतावनी- हम छेड़ते नहीं, किसी ने छेड़ा तो छोड़ते नहीं.....पुलवामा हमला: मीरवाइज उमर फारूक समेत 5 अलगाववादियों की सुरक्षा वापस....भारत ने आसियान और गल्फ देशों के प्रतिनिधियों को दिए जैश-ए-मोहम्मद और पाक के लिंक के सबूत...पुलवामा हमला: बदले की कार्रवाई से पहले पाक को अलग-थलग करने की रणनीति....पुलवामा अटैक: पाकिस्तान क्रिकेट को बड़ा झटका, चैनल ने PSL को किया ब्लैकआउट..पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य कार्रवाई के डर से LoC के पास अपने लॉन्च पैड्स कराए खाली!...पाकिस्तान से आयात होने वाले सभी सामानों पर सीमाशुल्क बढ़ाकर 200 फीसदी किया गया: जेटली...पुलवामा अटैक: JeM सरगना मसूद अजहर पर अब विकल्प तलाशने में जुटा चीन....पुलवामा आतंकवादी हमले के लिए सेना जिम्‍मेदार: कांग्रेस नेता नूर बानो...
जींद उपचुनाव उड़ा देगा बीजेपी, कांग्रेस और इनेलो की नींद
जींद, 21 जनवरी 2019, खेती-किसानी के साथ विकास की दौड़ में जब हुक्का जगह-जगह गुड़गुड़ाता दिखे, तो समझ जाइए कि आप हरियाणा में हैं. हरियाणा की धरती पर एक वक्त तीन लालों का दबदबा था- भजनलाल, बंसीलाल और देवीलाल. लेकिन आज देवीलाल परिवार विरासत की जंग से जूझ रहा है और जींद के उपचुनाव का फैसला तय करने वाला है कि देवीलाल की विरासत किसकी होगी. दरअसल, देवीलाल ने अपनी विरासत ओमप्रकाश चौटाला को सौंपी थी, लेकिन अब ओमप्रकाश चौटाला के बेटे अजय और अभय आमने-सामने आ गए हैं. ओमप्रकाश चौटाला ने अपनी पार्टी इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) की कमान अपने बेटे अभय चौटाला के सुपुर्द कर दी तो अजय ने नई जननायक जनता पार्टी बना ली. इसके बाद अजय चौटाला के छोटे बेटे दिग्विजय ने पार्टी बनने के बाद जींद उपचुनाव से ताल ठोंककर दादा देवीलाल की विरासत पर अपना दावा भी ठोंक दिया. कप-प्लेट चुनाव चिन्ह लेकर वह इनेलो के ऐनक चुनाव चिन्ह के खिलाफ मैदान में हैं. जाटलैंड में दिग्विजय दावा करते हैं कि देवीलाल युगपुरुष थे और जींद की विरासत पर हक को लेकर जनता जबाब देगी. वैसे दिग्विजय चुटकी लेना नहीं भूलते कि चुनाव नतीजे आएंगे तो उनके दादा ओपी चौटाला को भी सुकून होगा. वैसे जींद का उपचुनाव अगर चौटाला परिवार के लिए विरासत की जंग है तो कांग्रेस के लिए भी वापसी की बड़ी कोशिश है. वर्षों से हरियाणा की सत्ता पर काबिज कांग्रेस पिछले चुनाव में राज्य में तीन नंबर की पार्टी हो गई. जींद से इनेलो विधायक के निधन के बाद बीजेपी ने उनके बेटे कृष्ण मिड्ढा को उम्मीदवार बना दिया. इलाके के मजबूत नेता जयप्रकाश उर्फ जेपी कांग्रेस छोड़ बगल की सीट से निर्दलीय विधायक बन गए. ऐसे में उपचुनाव में कांग्रेस को खोजने पर भी जिताऊ उम्मीदवार नहीं मिल रहा था. खस्ताहाल कांग्रेस पार्टी ने आखिरकार हरियाणा में वापसी की आस में जींद जिले की कैथल सीट से विधायक, कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रभारी और राहुल गांधी के करीबी रणदीप सुरजेवाला को उम्मीदवार बनाकर मुकाबले को रोचक बना दिया. दरअसल, जब जींद का मसला राहुल गांधी के सामने आया तो मजबूत उम्मीदवार नहीं होने की बात सभी ने कही. इस बीच पार्टी में लगातार बढ़ते कद के चलते सुरजेवाला राज्य के नेताओं की नजरों में खटक रहे थे. ऐसे में बाकी नेताओं ने सुरजेवाला को जींद के चक्रव्यूह में अभिमन्यु बनाकर सियासी शहीद बनाने की व्यूह रचना की, लेकिन सुरजेवाला ने सबको चौंकाते हुए राहुल के सामने चुनौती स्वीकार कर ली. इसके साथ ही पार्टी नेताओं से पहले इलाके के बाहुबली और पहले कांग्रेस में रहे जेपी को साधने के लिए राहुल गांधी ने अहमद पटेल का सहारा लिया और कामयाब हुए. अहमद पटेल से मिलने के बाद अब जेपी सुरजेवाला से अपनी पुरानी अदावत भूलकर उनके मददगार बन गए हैं और खुलकर इसका ऐलान भी कर रहे हैं. वहीं, अर्जुन की तरह कुरुक्षेत्र जीतने का ख्वाब लिए सुरजेवाला अभिमन्यु बनाए जाने के सवाल पर कहते हैं कि, वह भगवान से अपनी तुलना तो नहीं करते, लेकिन हरियाणा के कुरुक्षेत्र में अभिमन्यु नहीं, बल्कि कृष्ण की भूमिका में हैं. हालांकि, दिग्विजय हों या बीजेपी के मिड्डा, दोनों ही सुरजेवाला को बाहरी बताते हैं. जिस पर पलटवार करते हुए कांग्रेसी कहते हैं कि जनता तो सुरजेवाला को भारी उम्मीदवार मानती है. विपक्षी उम्मीदवार भी जब बाहरी कहते हैं तो जनता पलटकर भारी बता देती है. पिता के प्रति सहानुभूति लहर के साथ सत्तारूढ़ बीजेपी के उम्मीदवार डॉक्टर कृष्ण मिड्डा कहते हैं कि खट्टर सरकार की साख का सवाल तो तब आता जब कोई मुकाबला होता, यहां तो बीजेपी की जीत तय है. मिड्डा साफ कहते हैं कि मोदी सरकार के आने के बाद फिजा बदली है और यहां भी उसका फायदा ही होगा.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/