taaja khabar....कोरोना वैक्‍सीन कब, कैसे और कितने में मिलेगी, सर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी ने दिया हर जवाब ...तब संसद में कृषि कानून की वकालत कर रही थी कांग्रेस, सिब्बल का वीडियो वायरल..कनाडा पीएम ट्रूडो के बयान पर भारत सख्त, उच्चायुक्त को किया तलब ...अमेरिका और बाकी दुनिया के लिए चीन सबसे बड़ा खतरा: अमेरिकी खुफिया निदेशक ...उइगर मुस्लिमों को हर शुक्रवार को सूअर का मांस खाने को मजबूर कर रहा चीन ...कश्‍मीर में नागोर्नो-काराबाख दोहराने की तैयारी में पाकिस्‍तान, तुर्की भेज रहा सीरियाई हत्‍यारे ....उत्तराखंड: नए डीजीपी अशोक कुमार का भ्रष्ट पुलिसकर्मियों को साफ संदेश, 'करप्शन किया, तो वर्दी पहनना भूल जाएं' ....मेघालय में 1525 किलोग्राम विस्फोटक, 6000 डेटोनेटर बरामद, छह लोग गिरफ्तार...कंगना रनौत पर भड़कीं स्वाति मालीवाल, बोलीं- चंद फिल्में करके गंदगी फैलाने वाली ...अयोध्या में 'राम सेतू' की शूटिंग करना चाहते हैं अक्षय, CM योगी से मांगी इजाजत...ईडी से बोला अकाउंटेंट- PFI के शाहीन बाग दफ्तर में रखा गया था बेहिसाब पैसा...

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आर्मी कमांडरों को किया आगाह, चीन की हरकतों और सैन्य बातचीत के दौरान उसके इरादों को लेकर रहें सतर्क

नई दिल्ली चालबाज ड्रैगन की चालाकियों को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सेना के शीर्ष अफसरों को आगाह किया है। उन्होंने बुधवार को आर्मी के टॉप अफसरों से कहा कि वे एलएसी पर चीन की हरकतों और सैन्य बातचीत के दौरान उसके इरादों को लेकर पूरी तरह सतर्क रहे। आर्मी कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में रक्षा मंत्री ने मौजूदा सुरक्षा माहौल को संभालने के अंदाज के लिए सेना की तारीफ भी की। राजनाथ के ये बयान ऐसे वक्त आए हैं जब पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर पिछले कई महीनों से भारत और चीन के बीच जबरदस्त तनाव है। दोनों पक्ष अब तक कई दौर की सैन्य बातचीत कर चुके हैं लेकिन अभी तक बात नहीं बनी है। चीन के साथ जारी तनाव के बीच रक्षा मंत्री का बयान काफी अहम रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को शीर्ष सैन्य कमांडरों को संबोधित करते हुए 'मौजूदा सुरक्षा माहौल' को संभालने के अंदाज के लिए सेना की तारीफ की। पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सीमा पर जारी गतिरोध के बीच उनका बयान काफी अहम है। सोमवार को शुरू हुए चार दिवसीय कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में शीर्ष सैन्य कमांडर चीन के साथ लगने वाली वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारत की युद्धक तैयारियों के साथ ही जम्मू-कश्मीर में स्थिति की व्यापक समीक्षा कर रहे हैं। सेना को मजबूती देने के लिए सरकार कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी' रक्षा मंत्री ने कहा कि 'सशस्त्र बलों की भुजाओं' को मजबूती देने के लिए सरकार कोई कोर-कसर बाकी नहीं छोड़ेगी। सिंह ने ट्वीट किया, 'नई दिल्ली में आज सैन्य कमांडरों के सम्मेलन को संबोधित किया। मौजूदा सुरक्षा माहौल में भारतीय सेना की तरफ से उठाए गए कदमों पर मुझे बेहद गर्व है।' मई से ही पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर है जबरदस्त तनाव पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन की सेनाओं के बीच 5 महीने से भी ज्यादा वक्त से गतिरोध बना हुआ है और दोनों पक्षों ने क्षेत्र में 50-50 हजार से ज्यादा सैनिकों की तैनाती कर रखी है जो गतिरोध की गंभीरता को बयां करता है। गतिरोध को दूर करने के लिये दोनों पक्षों में कई दौर की बातचीत हो चुकी है लेकिन अब तक कोई सफलता नहीं मिली है। राजनाथ सिंह ने कहा, 'सुधारों के रास्ते पर आगे बढ़ रही सेना को हर सुविधा देने और सभी क्षेत्रों में बढ़त हासिल करने में मदद के लिए रक्षा मंत्रालय प्रतिबद्ध है। हम अपने सशस्त्र बलों की भुजाओं को मजबूत बनाने में कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेंगे।' रक्षा मंत्री ने सेना की खुलकर तारीफ की सेना की तारीफ करते हुए सिंह ने कहा कि आजादी के बाद से देश की संप्रभुता और सुरक्षा से जुड़ी कई चुनौतियों का बल ने सफलतापूर्वक समाधान दिया है। उन्होंने कहा, 'चाहे वह आतंकवाद की समस्या हो, उग्रवाद या बाहरी आक्रमण, सेना ने उन खतरों को नाकाम करने में हमेशा महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है।'

Top News