taaja khabar.....मन की बात में जीएसटी और श्यामा प्रसाद मुखर्जी पर बोले पीएम नरेंद्र मोदी.......J&K: कुलगाम में सुरक्षा बलों और आतंकियों में मुठभेड़, लश्कर कमांडर समेत 2 आतंकी ढेर...घाटी में 250-275 आतंकी सक्रिय, फिलहाल माहौल बेहतर: लेफ्टिनेंट जनरल ऐके भट्ट....जम्मू-कश्मीर पुलिस की कमान संभालेंगे एसएम सहाय? बन सकते हैं नए डीजीपी....पीएम मोदी ने किया मुंडका-बहादुरगढ़ ग्रीन लाइन मेट्रो सेवा का उद्घाटन....मिशन 2019: TMC को शिकस्त देने के लिए बंगाल BJP का ब्लूप्रिंट तैयार...अगले लोकसभा चुनाव तक हर वोटर 'पुलिस' का काम करेगा: मुख्य चुनाव आयुक्त....पेंशन बढ़ाकर दूर होगी ब्याज कटौती की नाराजगी...'स्पेशल चिप' लगाकर ट्रैक किए जाएंगे अमरनाथ यात्रियों के वाहन, ड्रोन से भी होगी निगरानी....कश्मीर में ISIS के टेलीग्राम ग्रुप का खुलासा, 'लोन वुल्फ' अटैक का बढ़ा खतरा...
राहुल 13 जून को देंगे इफ्तार पार्टी, विपक्षी एकता दिखाने की होगी कोशिश
नई दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी 13 जून को इफ्तार पार्टी का आयोजन करने वाले हैं। माना जा रहा है कि राहुल की इफ्तार पार्टी में कांग्रेस के नेताओं के अलावा विपक्षी दलों के भी कई नेता शिरकत करेंगे। इसे विपक्षी दलों को एक मंच पर लाने की कोशिश के रूप में भी देखा जा रहा है। बता दें कि कांग्रेस दो साल के अंतराल के बाद इफ्तार का आयोजन करने जा रही है। पार्टी के अल्पसंख्यक विभाग को इफ्तार के आयोजन की जिम्मेदारी दी गई है। राहुल के कांग्रेस अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी की ओर से पहली बार इफ्तार का आयोजन किया जा रहा है। कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के अध्यक्ष नदीम जावेद ने बताया, 'कांग्रेस अध्यक्ष राहुल की मेजबानी में 13 जून को इफ्तार का आयोजन किया जाएगा। यह आयोजन ताज पैलेस होटल में होगा।' कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस गठबंधन की सरकार बनने के बाद देश के अलग-अलग राज्यों में स्थानीय स्तर पर बीजेपी के खिलाफ गठबंधन बनाने की कोशिश चल रही हैं। वहीं, 2019 लोकसभा चुनाव से पहले राष्ट्रव्यापी स्तर पर एनडीए के खिलाफ महागठबंधन बनाने की कवायद तेज हो गई है। कांग्रेस के साथ पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश तथा तेलंगाना के सीएम और यूपी में मायावती और अखिलेश यादव भी महागठबंधन की कवायद में अहम भूमिका निभा रहे हैं। इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष रहने के दौरान सोनिया गांधी ने 2015 में इफ्तार का आयोजन किया था। कांग्रेस अध्यक्ष की ओर से इफ्तार का आयोजन उस वक्त किया जा रहा है जब राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रपति भवन में होने वाली इफ्तार का आयोजन नहीं करने का फैसला किया है। उनका मानना है कि करदाताओं के पैसों से भवन में किसी भी धार्मिक कार्यक्रम का आयोजन नहीं होगा। बता दें कि 11 साल बाद यह पहला मौका होगा जब राष्ट्रपति भवन में इफ्तार पार्टी का आयोजन नहीं होगा। इससे पहले पूर्व राष्ट्रपति एपीजे कलाम के कार्यकाल (2002-2007) में इफ्तार पार्टी का आयोजन नहीं होता था।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/