taaja khabar...सुप्रीम कोर्ट से मोदी को राफेल पर बड़ी राहत, राहुल को झटका....मध्य प्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री होंगे कमलनाथ, कांग्रेस ने किया ऐलान...हिमाचल विधानसभा में पारित हुआ गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा देने का प्रस्ताव...मुठभेड़ में मारे गए तीन लश्कर आतंकियों में हैदर मूवी में ऐक्टिंग करने वाला युवक भी शामिल...मिजोरम: पहली बार ईसाई रीति-रिवाजों के साथ होगा शपथ ग्रहण...पाकिस्तानियों को भारत में बसाने का विवादित कानून, SC ने उठाए सवाल...तीन राज्यों में हार के बाद 2019 के लिए मैराथन प्रचार में जुटेंगे पीएम मोदी, दक्षिण, पूर्व और पूर्वोत्तर पर नजर...बीजेपी का बड़ा दांव, गांधी परिवार के गढ़ से कुमार विश्वास को दे सकती है टिकट...छत्तीसगढ़ में हर तीसरे MLA पर आपराधिक केस, तीन-चौथाई करोड़पति...हार के बाद BJP ने 2019 के चुनाव के लिए भरी हुंकार, रणनीति तैयार...
कर्नाटक: 'रोटेशन प्लान' से हर दो साल पर मंत्री बदल असंतुष्ट कार्यकर्ताओं को साधेगी कांग्रेस!
बेंगलुरु कर्नाटक में कुमारस्वामी सरकार में अपने मंत्रियों को कांग्रेस दो साल के बाद नए चेहरे से रिप्लेस करेगी ताकि वेटिंग लाइन में लगे अन्य लोगों को भी मौका दिया जा सके। इतना ही नहीं, कांग्रेस अपनी नॉन परफॉर्मर्स को छमाही होने वाले असेसमेंट के आधार पर पहले भी पद से हटा सकती है। कांग्रेस इस 'रोटेशन प्लान' के जरिए यह संदेश भी देना चाहती है कि वह वेटिंग लाइन में लगे और असंतुष्ट कार्यकर्ताओं के लिए भी प्रतिबद्ध है। पीसीसी यानी कर्नाटक प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रेजिडेंट जी परमेश्वरा ने इससे पहले सिद्धारमैया सरकार में भी परफॉर्मेंस असेसमेंट की घोषणा की थी लेकिन यह मूर्त रूप नहीं ले सकी थी। आॅल इंडिया कांग्रेस कमिटी के जनरल सेक्रेटरी और कर्नाटक प्रभारी केसी वेणुगोपाल ने टीओआई को बताया कि किन नए मंत्रियों को हटाना है और किन्हें लाना है, इसपर पार्टी हाई कमान ने थ्री पॉइंट फॉर्म्यूला निकाला है। उन्होंने कहा, ''मौजूदा कैबिनेट को अंतिम कैबिनेट मानकर नहीं चलना चाहिए। मिनिस्टर्स की परफॉर्मेंस का हर छमाही रिव्यू होगा और जो भी अपने टार्गेट्स को पूरा नहीं करते पाए जाएंगे, उनको हटा दिया जाएगा। फिलहाल, पहली बार एमएलए बने किसी शख्स को कैबिनेट में जगह नहीं दी जाएगी। मंत्रियों का कार्यकाल दो साल के रोटेशन बेसिस पर होगा।' केपीसीसी के कार्यकारी मुखिया दिनेश गुंडू राव ने कहा कि दो साल बाद होने वाले मंत्रियों के फेरबदल के बाद नए मंत्रियों का कार्यकाल तीन साल का होगा। हालांकि, इनमें जो अच्छा परफॉर्म नहीं कर सकेंगे उनको छमाही असेसमेंट के आधार पर बाहर का रास्ता दिखाया जाएगा। बता दें कि कैबिनेट में जगह नहीं पाने वाले कांग्रेस के कुछ सदस्यों ने वेणुगोपाल और परमेश्वरा पर सही फैसला ले पाने के मामले में फेल करार दिया था। एक सोर्स ने बताया कि जो लोग पार्टी नेतृत्व के खिलाफ बोल रहे हैं उनको भविष्य में मंत्री नहीं बनाया जाएगा। सोर्सेज के मुताबिक, बेंगलुरु में गुरुवार को हुई एक मीटिंग में कांग्रेस के कुछ नेता नाराज थे। इनका मानना है कि पार्टी को राज्य में मजबूत करने के बावजूद इन्हें मंत्री पद नहीं दिया गया।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/