taaja khabar...सुप्रीम कोर्ट से मोदी को राफेल पर बड़ी राहत, राहुल को झटका....मध्य प्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री होंगे कमलनाथ, कांग्रेस ने किया ऐलान...हिमाचल विधानसभा में पारित हुआ गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा देने का प्रस्ताव...मुठभेड़ में मारे गए तीन लश्कर आतंकियों में हैदर मूवी में ऐक्टिंग करने वाला युवक भी शामिल...मिजोरम: पहली बार ईसाई रीति-रिवाजों के साथ होगा शपथ ग्रहण...पाकिस्तानियों को भारत में बसाने का विवादित कानून, SC ने उठाए सवाल...तीन राज्यों में हार के बाद 2019 के लिए मैराथन प्रचार में जुटेंगे पीएम मोदी, दक्षिण, पूर्व और पूर्वोत्तर पर नजर...बीजेपी का बड़ा दांव, गांधी परिवार के गढ़ से कुमार विश्वास को दे सकती है टिकट...छत्तीसगढ़ में हर तीसरे MLA पर आपराधिक केस, तीन-चौथाई करोड़पति...हार के बाद BJP ने 2019 के चुनाव के लिए भरी हुंकार, रणनीति तैयार...
'एक राष्ट्र, एक चुनाव' के लिए तैयार हैं हम: अखिलेश यादव
लखनऊ यूपी में कैराना और नूरपुर उपचुनाव के नतीजों से उत्साहित समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा है कि वह 'एक देश, एक चुनाव' के लिए तैयार हैं। यदि चुनाव आयोग 2019 के लोकसभा चुनाव के साथ ही यूपी में विधानसभा चुनाव भी करवाना चाहता है तो उनकी पार्टी इस पहल का स्वागत करेगी और पार्टी के कार्यकर्ता इसके लिए तैयार हैं। कैराना और नूरपुर उपचुनाव में जीतने वाले उम्मीदवारों से मुलाकात के बाद बुधवार को अखिलेश ने एसपी के प्रदेश कार्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस किया। पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले कोई और चुनाव नहीं था। जिन सीटों पर उपचुनाव हुए हैं, उससे साफ है गया है कि लोग भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की नीतियों से परेशान हो गए हैं। अखिलेश ने कैराना उपचुनाव में विजयी सांसद तबस्सुम और नूरपुर से जीते विधायक नईमुल हसन को बधाई भी दी। उन्होंने कहा कि कैराना और नूरपुर उपचुनाव बहुत ही महत्वपूर्ण थे। इसमें जनता, किसान और गरीबों के फैसले ने समाजिकता, एकता और भाईचारे का संदेश दिया है। किसान जो मौजूदा सरकार में सबसे ज्यादा परेशान है, उसने संगठित होकर बीजेपी को जवाब दिया। अब सत्ता में बैठे लोगों को सोचना है कि किसान और गरीबों का जीवन कितना बेहतर हुआ है। योगी सरकार पर तीखा तंज अखिलेश ने कहा कि वह किसान, गरीब, नौजवान, मजदूरों को भी धन्यवाद देते हैं। समजावादी पार्टी के साथ ही सारी पार्टियां इनकी अभारी हैं। किसान जो सबसे ज्यादा परेशान है संकट में है उसने भी एक होकर भारतीय जनता पार्टी की गलत नीतियों के खिलाफ वोट किया। उपचुनावों में करारी शिकस्त के बाद सत्ताधारी पार्टी (बीजेपी) कई सारी समीक्षाएं कर रही है, लेकिन पार्टी को मुद्दे पर आना होगा। गरीब, किसानों और गांव में रहने वालों का जीवन स्तर कितना बेहतर हो यह बीजेपी को सोचना होगा। योगी सरकार पर तंज कसते हुए उन्होंने कहा कि हमने 19 महीने में एक्सप्रेस-वे बनाया, लेकिन इनका तो समय फाइलों में निकल गया।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/