taaja khabar..जबलपुर के न्यू लाइफ हॉस्पिटल में भीषण आग, 4 लोगों की मौत, कई झुलसे..कानपुर के प्राइवेट स्कूल में बच्चों को रटवाया कलमा, घर में पढ़ने लगे तो खुली पोल, पैरेंट्स ने किया विरोध..4 अगस्‍त तक ED की कस्‍टडी में रहेंगे संजय राउत, PMLA कोर्ट से नहीं मिली राहत..आमिर खान के बदले सुर, कहा- मुझे देश से प्यार है, लाल सिंह चड्ढा का बॉयकॉट न करें प्लीज..संहार हथियारों के वित्त पोषण को रोकने के प्रावधान वाले विधेयक को संसद की मंजूरी..राज्यसभा में गतिरोध कायम, हंगामे के बीच दो विधेयक पारित..आईपीएस अधिकारी संजय अरोड़ा ने दिल्ली के पुलिस आयुक्त के तौर पर कार्यभार संभाला..सिसोदिया व जैन को बर्खास्त करने की मांग को लेकर केजरीवाल के घर के बाहर धरने पर बैठे भाजपा नेता..

जुबैर के अकाउंट में 50 लाख किसने भेजे? अब ED और आयकर विभाग करेगा फैक्ट चेक

नई दिल्ली: फैक्ट चेकर वेबसाइट 'ऑल्ट न्यूज' के सह संस्थापक मोहम्मद जुबैर (Alt News Zubair) की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। एक तरफ चार दिन की हिरासत अवधि बढ़ने के बाद पुलिस उन्हें लेकर आज बेंगलुरु जाने वाली है, तो दूसरी तरफ 50 लाख रुपये के कथित ट्रांजैक्शन के मामले में उन पर शिकंजा कस सकता है। दिल्ली पुलिस ने कहा है कि उसे इस बात के सबूत मिले हैं कि पिछले तीन महीनों में जुबैर के बैंक खाते में 50 लाख रुपये आए हैं। पुलिस इस धन के स्रोत की जांच कर रही है और अब वह ED और आयकर विभाग जैसी केंद्रीय एजेंसियों को भी जांच के लिए लिखने जा रही है। सूत्रों ने टाइम्स ऑफ इंडिया को बताया है कि कुछ संस्थाएं/कंपनियां पुलिस के राडार पर हैं जिन्होंने कथित रूप से फंड ट्रांसफर किया था। बताया जा रहा है कि पुलिस से संबंधित दस्तावेज मिलने के बाद प्रवर्तन निदेशालय (ED) मनी लॉन्ड्रिंग के पहलू से जांच शुरू कर सकता है। अब तक, पुलिस अधिकारी इस बड़े लेनदेन की जांच कर रहे हैं और इस बाबत जुबैर से सवाल-जवाब भी किया जाएगा। जुबैर की नहीं चली फिल्मी दलील हिंदू देवता के खिलाफ 2018 में आपत्तिजनक ट्वीट करने से जुड़े मामले में दिल्ली की एक अदालत ने मोहम्मद जुबैर से पूछताछ के लिए हिरासत की अवधि मंगलवार को चार दिन के लिए बढ़ा दी। दिल्ली पुलिस ने अदालत को बताया है कि जुबैर ने प्रसिद्धि पाने के लिए धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाले विवादास्पद ट्वीट किए। सुनवाई के दौरान मोहम्मद जुबैर के वकील ने अदालत में कहा कि आरोपी ने ट्वीट में जिस तस्वीर का इस्तेमाल किया था वह 1983 में आई ऋषिकेश मुखर्जी की हिंदी फिल्म ‘किसी से ना कहना’ की है और उस फिल्म पर रोक नहीं लगी थी। हालांकि, अदालत ने इस दलील को खारिज कर दिया। आज पुलिस आरोपी जुबैर को लेकर बेंगलुरु जाने वाली है। पुलिस उपायुक्त (इंटेलिजेंस फ्यूजन एंड स्ट्रेटेजिक ऑपरेशन) के. पी. एस. मल्होत्रा ने बताया है कि सबूत जुटाने के लिए पुलिस की चार सदस्यीय टीम बुधवार को जुबैर के बेंगलुरु स्थित आवास पर भेजी जाएगी। सुबूत में मोबाइल फोन या वह लैपटॉप शामिल है जिसका इस्तेमाल जुबैर ने ट्वीट करने में किया था। अधिकारी ने कहा कि जिस मोबाइल फोन का वह फिलहाल इस्तेमाल कर रहा है, उसे फॉर्मेट किया गया है और उसमें इस मामले से जुड़ी जानकारी नहीं है, जिसकी जांच की जा रही है इसलिए फोन को फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा जाएगा। Alt News के सह संस्थापक को दिल्ली पुलिस की ओर से गिरफ्तार किए जाने के बाद अधिकारियों ने कहा था कि जुबैर के 2018 के आपत्तिजनक ट्वीट पर नफरती बयानों की बाढ़ आ गई थी जिससे सांप्रदायिक सद्भाव को नुकसान पहुंचा। पूछताछ के दौरान वह सवालों के जवाब देने से बच रहे थे। हमें पता चला है कि उनका फोन फॉर्मेट हुआ था। जवाब नहीं देने पर उन्हें गिरफ्तार किया गया। पुलिस की इस कार्रवाई की कई विपक्षी नेताओं, मीडिया संगठनों ने निंदा की है। उधर, ऑल्ट न्यूज के सह संस्थापक प्रतीक सिन्हा ने इस बात से इनकार किया है कि पिछले महीनों में जुबैर के खाते में 50 लाख रुपये आए। पुलिस ने बताया है कि अभी तक सिन्हा की इस मामले में संलिप्तता नहीं पाई गई है।

Top News