taaja khabar..जबलपुर के न्यू लाइफ हॉस्पिटल में भीषण आग, 4 लोगों की मौत, कई झुलसे..कानपुर के प्राइवेट स्कूल में बच्चों को रटवाया कलमा, घर में पढ़ने लगे तो खुली पोल, पैरेंट्स ने किया विरोध..4 अगस्‍त तक ED की कस्‍टडी में रहेंगे संजय राउत, PMLA कोर्ट से नहीं मिली राहत..आमिर खान के बदले सुर, कहा- मुझे देश से प्यार है, लाल सिंह चड्ढा का बॉयकॉट न करें प्लीज..संहार हथियारों के वित्त पोषण को रोकने के प्रावधान वाले विधेयक को संसद की मंजूरी..राज्यसभा में गतिरोध कायम, हंगामे के बीच दो विधेयक पारित..आईपीएस अधिकारी संजय अरोड़ा ने दिल्ली के पुलिस आयुक्त के तौर पर कार्यभार संभाला..सिसोदिया व जैन को बर्खास्त करने की मांग को लेकर केजरीवाल के घर के बाहर धरने पर बैठे भाजपा नेता..

पंजाब में कांग्रेस को लग सकता एक और बड़ा झटका, राजकुमार वेरका भाजपा में जाने की तैयारी में

चंडीगढ़। कांग्रेस के पूर्व कैबिनेट मंत्री व राष्ट्रीय अनुसूचित जाति कमीशन के पूर्व चेयरमैन राजकुमार वेरका भी कांग्रेस को अलविदा कहने की तैयारी में हैं। वेरका भारतीय जनता पार्टी में अपनी नई सियासी पारी खेलेंगे। माना जा रहा है कि 4 जून शनिवार को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के चंडीगढ़ दौरे के दौरान वेरका भाजपा की सदस्यता ले सकते हैं। हालांकि चर्चा पूर्व डिप्टी सीएम ओपी सोनी की भी चल रही है, लेकिन वह भाजपा ज्वाइन करेंगे या नहीं, इसे लेकर पुष्टि नहीं है। सोनी की विधानसभा चुनाव से पहले भी भाजपा के साथ बातचीत चल रही थी। तब सोनी केंद्र में कोई ओहदा चाह रहे थे, लेकिन उस समय बात नहीं बन पाई थी। पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के करीबी रहे राजकुमार वेरका लंबे समय से अपने स्तर पर कांग्रेस पार्टी के लिए बयान जारी कर रहे थे। बीते 27 मई को उन्होंने कांग्रेस हाईकमान पर हमला बोला था। उन्होंने कांग्रेस हाईकान को मूक दर्शक और तमाशबीन बताया था। वेरका का यह बयान तब आया था जब पूर्व डिप्टी मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने मुख्यमंत्री भगवंत मान से अपील की थी कि उन्हें कैप्टन से पूछताछ कर कांग्रेस के कार्यकाल के दौरान रेत-बजरी की काम करने वाले कांग्रेसी नेताओं की लिस्ट हासिल करनी चाहिए और उस पर कार्रवाई करनी चाहिए। इस पर कैप्टन ने कहा था कि मुख्यमंत्री भगवंत मान अगर उनसे लिस्ट मांगेगे तो वह उन्हें मुहैया करवा देंगे। रंधावा के इस बयान से कांग्रेस पार्टी में खासी खलबली मच गई थी। कई नेताओं की जान सांसत में आ गई थी कि अगर कहीं कैप्टन ने मुख्यमंत्री को लिस्ट दे दी तो उनकी परेशानी बढ़ जाएगी। इसी प्रतिक्रम में राजकुमार वेरका द्वारा हाईकमान को मूकदर्शक और तमाशबीन बताए जाने के बाद से ही यह संकेत मिलने लगे थे कि वह भी कांग्रेस पार्टी को अलविदा कह सकते हैं। हालांकि वेरका ने कांग्रेस पार्टी छोड़ने की अभी पुष्टि नहीं की है, लेकिन उनके करीबी सूत्र बताते हैं कि वह एक दो दिनों में ही भाजपा ज्वाइन कर सकते है। वेरका अगर भाजपा ज्वाइन करते हैं तो वह कांग्रेस पांचवें बड़े नेता होंगे, क्योंकि इससे पहले सुनील जाखड़, राणा गुरमीत सिंह सोढ़ी, फतेह जंग बाजवा, मोगा से डा. हरजोत कांग्रेस को छोड़कर भाजपा ज्वाइन कर चुके हैं। वहीं, ओपी सोनी को लेकर जिस प्रकार से चर्चा गर्म है। उसे देखते हुए लगता है कि आने वाले दिनों में ओपी सोनी भी कांग्रेस को झटका दे सकते हैं।

Top News