taaja khabar..चेहरे ढके थे, पर चाल बता रही थी रियाज-गौस का पूरा हाल, कोर्ट में उठाकर ले गए पुलिसवाले..कन्हैयालाल के हत्यारों को मिल नहीं रहे वकील, दो और साथी हुए गिरफ्तार..कन्हैया लाल केस को लेकर सरकार का एक्शन, उदयपुर SP और IG पर गिरी गाज, राजस्थान में 32 IPS का ट्रांसफर..अमरावती में उदयपुर जैसी घटना? 54 साल के केमिस्ट की गला काटकर हत्या, NIA टीम कर रही जांच..20 करोड़ लोगों तक पहुंचने का लक्ष्य, हर घर तिरंगा अभियान चलाएगी बीजेपी..हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की पत्नी को जान से मारने की धमकी, लखनऊ पुलिस ने बढ़ाई सुरक्षा..दिल्ली की अदालत ने जुबैर की जमानत याचिका खारिज की, 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा..नुपुर शर्मा को 18 जून को नोटिस जारी किया गया था, हुई थी पूछताछ: दिल्ली पुलिस..

लालू यादव के घर CBI: पटना, दिल्ली, गोपालगंज के किन 17 ठिकानों पर हुई छापेमारी

पटना: राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव के 17 ठिकानों पर सीबीआई ने शुक्रवार सुबह छापेमारी करने पहुंची। सीबीआई की टीम ने एक साथ पटना, गोपालगंज और नई दिल्ली के ठिकानों पर छापेमारी की गई। टीम सबसे पहले 10 सुर्कलर रोड स्थित पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी के सरकारी आवास पर छापेमारी करने पहुंची। इसके चंद मिनटों बाद सीबीआई की टीम लालू यादव के पटना स्थित अलग-अलग ठिकानों पर छापेमारी करने लगी। पटना में इन ठिकानों पर हुई छापेमारी अब तक मिली जानकारी के अनुसार सीबीआई की टीम ने लालू यादव के पटना स्थित 4 ठिकानों पर छापेमारी की। पटना के रंजन पथ स्थित राबड़ी देवी के फ्लैट में छापेमारी की। इसके अलावा पटना के गोला रोड स्थित लालू यादव के गौशाला (खटाल) पर भी छापेमारी की। सीबीआई की टीम फुलवारी शरीफ स्थित लालू यादव के ठिकाने पर भी तलाशी में लगी है। इसके अलावा लालू यादव के गोपालगंज और दिल्ली स्थित ठिकानों पर भी तलाशी अभियान जारी है। सीबीआई की टीम सामान्य रूप से लालू यादव के ठिकानों पर पहुंची और छापेमारी शुरू कर दी। इसके अलावा सीबीआई की टीम दिल्ली स्थित मीसा भारती के आवास पर भी पहुंची है। वहां टीम लालू यादव से पूछताछ करने पहुंची है। तेज प्रताप यादव और राबड़ी देवी से पूछताछ राबड़ी देवी के 10 सर्कुलर वाले आवास पर सीबीआई की टीम जब पहुंची और तलाशी लेने लगी। सीबीआई की टीम में आवास पर मौजूद राबड़ी देवी और तेजप्रताप यादव को अलग-अलग कमरों में पूछताछ की गई। टीम दोनों लोगों से रेलवे भर्ती घोटाले की फाइल मांग रहे हैं। हालांकि राबड़ी देवी ने कहा कि उन्हें कुछ भी मालूम नहीं है। इसी बीच तेजप्रताप यादव के समर्थक राबड़ी आवास के बाहर जुटे और नारेबाजी करने लगे। क्या है मामला आरोप है कि साल 2004-2009 के बीच लालू यादव के रेलमंत्री रहते हुए लोगों को गलत तरीके से नौकरी दिलाई थी। आरोप है कि नौकरी देने के एवज में लालू यादव ने गरीब लोगों से जमीन लिखवा लिए थे। दायर शिकायत पत्र में कहा गया है कि लालू यादव ने नौकरी के बदले प्राइम लोकेशन पर जमीन ली थी। इस मामले में जेडीयू नेता ने भी शिकायत दर्ज कराई थी।

Top News