taaja khabar..बड़े मुद्दों पर सपा का पक्ष रखेंगे कपिल सिब्बल'... राज्यसभा के लिए नामांकन के बाद बोले अखिलेश..भाजपा सांसद ने असदुद्दीन ओवैसी की तुलना जिन्ना से की, कहा- देश को बर्बाद करने पर तुले हुए हैं AIMIM प्रमुख..ट्रेनों में स्लीपर कोच हटाकर लगाए जाएंगे इकोनॉमी क्लास कोच, थर्ड एसी के भी बढ़ेंगे....जापान में नमो-नमो से चीन को लगी मिर्ची, अमेरिका के सुर बदले, भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत..विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- प्रदेश में कोई भी सरेआम अपराध करे, सरकार को स्वीकार नहीं...कमीशनखोरी के आरोप में डॉ. विजय सिंगला?, भगवंत मान कैबिनेट से बर्खास्त..ज्ञानवापी मस्जिद मामले में जिला जज की अदालत में आज की कार्यवाही पूरी, मुकदमे में अब 26 मई को होगी अगली सुनवाई..पीएफआई की रैली में बच्‍चे ने लगाए भड़काऊ नारे, केरल पुलिस ने दर्ज किया मामला, एनसीपीसीआर ने मांगी रिपोर्ट..भारत को बोलने की इजाजत देने वाली संस्थाओं पर ‘सुनियोजित हमला’ हो रहा : राहुल गांधी..विनय कुमार सक्सेना को दिल्ली का उपराज्यपाल नियुक्त किया गया..सरकारी स्कूलों में रिक्तियों, अवसंरचना की कमी संबंधी याचिका पर अदालत ने पूछा दिल्ली सरकार का रुख..प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली अंतरराज्यीय परिषद का पुनर्गठन, शाह स्थायी समिति के अध्यक्ष..

दिल्ली में हो सकता है ब्लैक आउट, मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा- बिजली घरों में बचा है बस एक दिन के कोयले का स्टाक

नई दिल्ली,दिल्ली में कोयले की किल्लत को लेकर गंभीर परेशानी हो रही है। इस समस्या पर बिजली मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि कोयले से चलने वाले बिजली घर अभी पूरी क्षमता के साथ नहीं चल रहे हैं फिर भी दिक्कत हो रही है। मैं केंद्र सरकार से आग्रह करता हूं कि वह इस मामले को देखे। उन्होंने कहा कि हमने बिजली की खरीद को लेकर समझौता किया है लेकिन हमें आधी बिजली ही मिल रही है। हमें जैसा कि पता है कि बिजली घरों को 30 दिनों का स्टाक रखना होता है लेकिन वर्तमान हालत यह है कि वहां एक दिन का ही स्टाक बचा हुआ है। लगभग सभी पावर प्लांट 55 फीसद की क्षमता से ही चल रहे हैं। बता दें कि इससे पहले सीएम केजरीवाल ने भी दिल्ली में पावर क्राइसिस को लेकर चिंता जताई थी जिसको लेकर उन्हाेंने पीएम मोदी को एक पत्र भी लिखा था। केजरीवाल ने यह भी कहा कि बिजली की किल्लत को लेकर उपजे हालात को मैं खुद मानीटर कर रहा हूं। हम इस स्थिति का पूरी तरह डट कर सामना कर रहे हैं। जल्द ही समस्या का समाधान होने की संभावना है। क्यों हो रही है कोयले की दिक्कत बिजली घरों को बिजली के उत्पादन के लिए कोयले की आवश्यकता होती है। इन्हें कोयले की आपूर्ति में इस बार असमय मानसून के कारण परेशानी हो रही है। मानसून के असमय होने के कारण इनके उत्पाद की क्षमता प्रभावित हो गई थी जिसके कारण बिजली घरों को समय पर उनकी मांग के अनुरूप कोयला नहीं मिल सका। जिसका असर पावर प्लांट अपनी पूरी क्षमता के अनुसार नहीं चले सके और बिजली कि किल्लत होने लगी।

Top News