taaja khabar..बड़े मुद्दों पर सपा का पक्ष रखेंगे कपिल सिब्बल'... राज्यसभा के लिए नामांकन के बाद बोले अखिलेश..भाजपा सांसद ने असदुद्दीन ओवैसी की तुलना जिन्ना से की, कहा- देश को बर्बाद करने पर तुले हुए हैं AIMIM प्रमुख..ट्रेनों में स्लीपर कोच हटाकर लगाए जाएंगे इकोनॉमी क्लास कोच, थर्ड एसी के भी बढ़ेंगे....जापान में नमो-नमो से चीन को लगी मिर्ची, अमेरिका के सुर बदले, भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत..विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- प्रदेश में कोई भी सरेआम अपराध करे, सरकार को स्वीकार नहीं...कमीशनखोरी के आरोप में डॉ. विजय सिंगला?, भगवंत मान कैबिनेट से बर्खास्त..ज्ञानवापी मस्जिद मामले में जिला जज की अदालत में आज की कार्यवाही पूरी, मुकदमे में अब 26 मई को होगी अगली सुनवाई..पीएफआई की रैली में बच्‍चे ने लगाए भड़काऊ नारे, केरल पुलिस ने दर्ज किया मामला, एनसीपीसीआर ने मांगी रिपोर्ट..भारत को बोलने की इजाजत देने वाली संस्थाओं पर ‘सुनियोजित हमला’ हो रहा : राहुल गांधी..विनय कुमार सक्सेना को दिल्ली का उपराज्यपाल नियुक्त किया गया..सरकारी स्कूलों में रिक्तियों, अवसंरचना की कमी संबंधी याचिका पर अदालत ने पूछा दिल्ली सरकार का रुख..प्रधानमंत्री की अध्यक्षता वाली अंतरराज्यीय परिषद का पुनर्गठन, शाह स्थायी समिति के अध्यक्ष..

किसान आंदोलन पर SC का सवाल- हमने कृषि कानून पर रोक लगा दी, फिर सड़कों पर प्रदर्शन क्यों?

नई दिल्ली,किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) की याचिका पर सोमवार को सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने पूछा कि अदालत द्वारा तीन कृषि कानूनों पर रोक लगाने के बाद भी सड़कों पर प्रदर्शन क्यों हो रहे हैं। किसान महापंचायत के वकील ने कहा कि उन्होंने किसी सड़क को अवरुद्ध नहीं किया है। इस पर पीठ ने कहा कि कोई एक पक्ष अदालत पहुंच गया को प्रदर्शन का क्या मतलब है? पीठ ने कहा कि कानून पर रोक लगी है सरकार ने आश्वासन दिया है कि वो इसे लागू नहीं करेंगे फिर प्रदर्शन किस बात का है? किसान महांपचायत की याचिका में जंतर मंतर पर सत्याग्रह की मांग की गई है। कोर्ट ने कहा कि आपने कानून की वैधता को चुनौती दी है। हम पहले वैधता पर फैसला करेंगे, प्रदर्शन का सवाल ही कहां है? अदालत ने पूछा कि जंतर मंतर पर प्रदर्शन का क्या तुक है। इस पर वकील ने कहा कि सरकार ने एक कानून लागू किया है। कोर्ट ने इस पर कहा कि आप कानून के पास आइए। आप दोनों नहीं कर सकते हैं कि कानून को भी चुनौती दें और फिर प्रदर्शन भी करें। लखीमपुर खीरी घटना का भी किया जिक्र सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने लखीमपुर खीरी घटना (Lakhimpur Kheri Incident) का भी जिक्र किया। कोर्ट ने कहा कि वैसे तो प्रदर्शनकारी शांतिपूर्ण प्रदर्शन का दावा कर रहे हैं, वो वहां हिंसा और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान की जिम्मेदारी नहीं लेंगे। कोर्ट ने कहा कि कानून अपना काम करेगा।

Top News