taaja khabar..कोयले की कमी, बिजली कटौती, पीएम से गुहार लगाते सीएम... लेकिन ऊर्जा मंत्री बोले- सब चंगा सी..बलूचों के हमलों से डरे चीन-पाकिस्‍तान, ग्‍वादर नहीं अब कराची को बनाएंगे CPEC का हब..आशीष मिश्रा 'मोनू' को रिमांड पर लेगी पुलिस, कल कोर्ट में अर्जी डालेगी लखीमपुर खीरी की पुलिस टीम..केंद्रीय मंत्री बोले, बिजली आपूर्ति बाधित होने का खतरा बिल्कुल नहीं, पर्याप्त मात्रा में मौजूद है कोयले का स्टाक...बसपा तथा कांग्रेस के आधा दर्जन से अधिक पूर्व विधायक व एमएलसी भाजपा में शामिल..बसपा तथा कांग्रेस के आधा दर्जन से अधिक पूर्व विधायक व एमएलसी भाजपा में शामिल..

कैप्टन से मांग लिया गया इस्तीफा! ये बन सकते हैं पंजाब के नए सीएम

कांग्रेस आलाकमान ने सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह को साफ कर दिया है कि वह सीएम का पद छोड़ दें। न्यूज एजेंसी ANI ने सूत्रों के हवाले से बताया कि आज कांग्रेस विधायक दल की बैठक से पहले पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने भी दोपहर 2 बजे विधायकों की एक बैठक बुलाई है। अमरिंदर के इस्तीफे के बाद पंजाब का नया सीएम बनाए जाने को लेकर तीन नामों पर चर्चा तेज हो गई है। सुनील जाखड़ की सबसे मजबूत दावेदारी पंजाब में कांग्रेस विधायक दल की महत्वपूर्ण बैठक से पहले पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष सुनील जाखड़ के नाम को लेकर चर्चा तेज हो गई है। कहा जा रहा है कि पंजाब सीएम के तौर पर वह सबसे ज्यादा मजबूत दावेदार हैं। सुनील जाखड़ ने शनिवार को ट्वीट, 'वाह राहुल गांधी, आपने बेहद उलझी हुई गुत्थी के पंजाबी संस्करण के समाधान का रास्ता निकाला है। आश्चर्यजनक ढंग से नेतृत्व के इस साहसिक फैसले ने न सिर्फ पंजाब कांग्रेस के झंझट को खत्म किया है, बल्कि इसने कार्यकर्ताओं को मंत्रमुग्ध कर दिया है और अकालियों की बुनियाद हिला दी है।' गांधी परिवार की खास, अंबिका सोनी को मिलेगा इनाम? पंजाब कांग्रेस के महासचिव परगट सिंह ने बताया कि कि कैप्टन अमरिंदर सिंह को सीएम पद से हटने के लिए कहा गया है और अंबिका सोनी, सुनील जाखड़ और अन्य के नाम सीएम के लिए संभावित रूप से सामने आ रहे हैं, उन्होंने कहा कि सीएलपी की बैठक बुलाई गई है। बैठक में इन मुद्दों पर चर्चा होगी। पंजाब सीएम की दौड़ में अंबिका सोनी का नाम भी सामने आ रहा है। 13 नवंबर 1942 को लाहौर में जन्मी अंबिका सोनी गांधी परिवार की खास हैं। उन्होंने 1969 में इंदिरा गांधी के नेतृत्व में पार्टी जॉइन की थी। वह 1976 में पहली बार राज्यसभा सदस्य चुनी गईं। यूपीए सरकार में वह सूचना एवं प्रसारण मंत्री भी रहीं थीं। इसलिए सिद्धू को नाराज नहीं करना चाहती कांग्रेस कांग्रेस को लगता है कि सिद्धू अगर किसी प्रतिद्वंद्वी के साथ जुड़ते हैं, तो पार्टी को नुकसान पहुंचाने की मारक क्षमता रखते हैं, भले ही यह व्यक्तिगत रूप से उनकी बहुत मदद न करें। वह अकाली दल में शामिल नहीं हो सकते हैं, आम आदमी पार्टी निश्चित रूप से उनके लिए एक विकल्प है। आम आदमी पार्टी ने चुनाव प्रचार के लिए पहले से ही चुनाव प्रचार के लिए प्रशांत किशोर को काम दिया है। सिद्धू को पंजाब कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया गया है लेकिन अमरिंदर से उनकी खींचतान कम नहीं हुई है। कहा जा रहा है कि सिद्धू पंजाब का सीएम बनना चाहते हैं। उनकी वजह से ही पंजाब में यह विवाद पैदा हुआ है। उन्हें सीएम बनाए जाने पर चर्चा हो सकती है।

Top News