taaja khabar...सुप्रीम कोर्ट से मोदी को राफेल पर बड़ी राहत, राहुल को झटका....मध्य प्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री होंगे कमलनाथ, कांग्रेस ने किया ऐलान...हिमाचल विधानसभा में पारित हुआ गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा देने का प्रस्ताव...मुठभेड़ में मारे गए तीन लश्कर आतंकियों में हैदर मूवी में ऐक्टिंग करने वाला युवक भी शामिल...मिजोरम: पहली बार ईसाई रीति-रिवाजों के साथ होगा शपथ ग्रहण...पाकिस्तानियों को भारत में बसाने का विवादित कानून, SC ने उठाए सवाल...तीन राज्यों में हार के बाद 2019 के लिए मैराथन प्रचार में जुटेंगे पीएम मोदी, दक्षिण, पूर्व और पूर्वोत्तर पर नजर...बीजेपी का बड़ा दांव, गांधी परिवार के गढ़ से कुमार विश्वास को दे सकती है टिकट...छत्तीसगढ़ में हर तीसरे MLA पर आपराधिक केस, तीन-चौथाई करोड़पति...हार के बाद BJP ने 2019 के चुनाव के लिए भरी हुंकार, रणनीति तैयार...
संकट में संजय निरूपम की कुर्सी? क्या बदलेगा कांग्रेस का चेहरा
मुंबई, मुंबई कांग्रेस की गुटबाजी का मसला अब पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के दरवाजे तक पहुंच गया है. सूत्रों के मुताबिक मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष की कुर्सी पर संजय निरूपम आगे भी बने रहेंगे या नहीं, ये फैसला राहुल गांधी ही लेंगे. महाराष्ट्र के लिए पार्टी के प्रभारी महासचिव मल्लिकार्जुन खरगे 16 सितंबर को मुंबई में थे तो निरूपम के विरोधी खेमे के नेता उनसे मिले. सूत्रों के मुताबिक उन्होंने खरगे से निरूपम को मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटाने की मांग की. खड़गे जल्दी ही राहुल गांधी को इस मामले की अपनी रिपोर्ट सौंप देंगे. अंतिम फैसला राहुल गांधी को करना है. मुंबई कांग्रेस के तीन खेमे दरअसल, अरसे से मुंबई कांग्रेस के तीन खेमों में बंटे होने के कयास लगाए जाते रहे हैं. एक खेमा खुद संजय निरूपम का बताया जाता रहा है. दूसरा खेमा मिलिंद देवड़ा का, और तीसरा मुंबई कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष गुरुदास कामत से जुड़े होने की अटकलें लगती रही हैं. बताया जाता है कि गुरुदास कामत के निधन के बाद उनसे जुड़े खेमे ने भी मिलिंद देवड़ा के खेमे से हाथ मिला लिया. इसके बाद निरूपम के खिलाफ विरोध के सुर और तेज हो गए. मुंबई के नेताओं ने राहुल गांधी से मिलने का वक्‍त मांगा हाल में मुंबई कांग्रेस के कई नेताओं, विधायकों, सांसदों, पूर्व विधायकों और पूर्व सांसदों ने राहुल गांधी से मिलने का वक़्त मांगा. सूत्रों के मुताबिक, राहुल के दफ्तर ने सभी को पहले राज्य प्रभारी खरगे से मिलने को कहा. सूत्रों के मुताबिक खरगे रविवार को मुंबई गए तो निरूपम के विरोधी खेमे के नेताओं ने उनसे निरूपम को हटाने की मांग की. साथ ही आरोप लगाया कि निरूपम 'एकला चलो' की नीति पर चलते हैं, सबको साथ लेकर नहीं. इसके बाद खरगे ने सभी को यही कहा कि वो पूरे मामले की रिपोर्ट दिल्ली जाकर राहुल गांधी देंगे और आखिरी फैसला राहुल गांधी ही करेंगे. बताया जा रहा है कि खरगे जल्द ही अपनी रिपोर्ट राहुल गांधी को सौंप देंगे. कुल मिलाकर निरूपम रहेंगे या जाएंगे, ये तो राहुल गांधी तय करेंगे, फिलहाल मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष की उनकी कुर्सी पर जरूर तलवार लटक रही है.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/