taaja khabar....पीएम मोदी ने जस्टिन ट्रूडो से किया कोरोना वैक्‍सीन देने का वादा, कनाडा में बंद हुई आलोचना...बच्‍ची के लिए पीएम मोदी ने माफ कर दिया 6 करोड़ का टैक्‍स...रक्षा मंत्री का बड़ा बयान- खत्म हुआ भारत-चीन सीमा विवाद तनाव, लद्दाख में पैंगोंग झील से पीछे हटेंगे चीनी सैनिक...सेना वापसी समझौते में भारत ने कुछ नहीं खोया, पैंगोंग झील में पीछे हट रहा चीन...मुंबई एयरपोर्ट पर 20 मिनट तक बैठे रहे गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी, उद्धव सरकार ने नहीं दिया प्लेन...हमारे जवानों का अपमान कर रही है सरकार, राजनाथ के बयान पर राहुल गांधी का पलटवार...कश्मीरियों के आत्मनिर्णय में नहीं पाकिस्तान की रुचि, अमेरिकी विशेषज्ञ की राय....ट्विटर की आनाकानी पर सख्त कार्रवाई की तैयारी, सरकार ने किया साफ, करना ही होगा कानून का पालन...

कोर्ट के फैसले से सहमत नहीं किसान, टिकैत बोले- कानून बनाने वाले लोग ही कमेटी में

नई दिल्ली, 12 जनवरी 2021,सुप्रीम कोर्ट ने कृषि कानूनों पर अगले आदेश तक रोक लगा दी है. सुप्रीम कोर्ट ने प्रदर्शनकारी किसानों से वार्ता के लिए चार सदस्यों वाली एक कमेटी का गठन किया है. लेकिन इस बीच किसान संगठनों ने कमेटी को लेकर असहमति जताई है. किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि देश के किसान कोर्ट के फैसले से निराश हैं. अशोक गुलाटी की अध्यक्षता में कमेटी ने सिफारिश की थी. गुलाटी ने ही कृषि कानूनों की सिफारिश की थी. राकेश टिकैत ने ट्वीट किया, 'माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा गठित कमेटी के सभी सदस्य खुली बाजार व्यवस्था या कानून के समर्थक रहे हैं. अशोक गुलाटी की अध्यक्षता में गठित कमेटी ने ही इन कानून को लाये जाने की सिफारिश की थी. देश का किसान इस फैसले से निराश है.' राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों की मांग कानून को रद्द करने व न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानून बनाने की है. जब तक यह मांग पूरी नहीं होती तब तक आंदोलन जारी रहेगा. माननीय सर्वोच्च न्यायालय के आदेश का परीक्षण कर कल संयुक्त मोर्चा आगे की रणनीति की घोषणा करेगा. 'आजतक' से बात करते हुए राकेश टिकैत ने कहा, 'मेरा सुप्रीम कोर्ट को धन्यवाद है कि उन्होंने सुनवाई की. किसान का नाम लिया, किसान सुप्रीम कोर्ट तक आया. सुप्रीम कोर्ट ने कमेटी बना दी. कमेटी के लोग कौन हैं, वो तो सरकार के ही आदमी हैं. अशोक गुलाटी नंबर एक, किसानों का मुल्जिम नंबर एक, वो इन कमेटियों को बनवाने में शामिल था. उसी की सभी रिकमंडेशन हैं सब. वो भारत सरकार की दस कमेटियों में शामिल है. वो इस तरह के फैसले करता है.' राकेश टिकैत ने कहा, 'हमें कमेटी पर एतराज नहीं है, कमेटी लोग कौन हैं उनकी विचारधारा क्या है, उस पर ऐतराज है.' भूपिंदर सिंह मान के नाम पर भी टिकैत ने आपत्ति जताई. उन्होंने कहा कि, 'भूपिंदर सिंह मान जो कि पिछले 25 साल से अमेरिकन मल्टीनेशनल कंपनियों की वकालत करता हो, वो हिन्दुस्तान के किसानों के भाग्य का फैसला करेगा. ये कौन लोग हैं.' कोर्ट के फैसले पर ऐतराज के सवाल पर राकेश टिकैत ने कहा कि हम अवहेलना नहीं कर रहे हैं. कोर्ट के आदेश की अवहेलना बीजेपी के लोग करते हैं. हम तो सुप्रीम कोर्ट को भगवान मानते हैं. कांग्रेस ने भी जताई आपत्ति किसान संगठनों की तरह की कांग्रेस ने भी कमेटी के सदस्यों पर आपत्ति जताई है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने जो चिंता जाहिर की उसका हम स्वागत करते हैं. लेकिन जो चार सदस्यीय कमेटी बनाई वो चौंकाने वाला है. ये चारों सदस्य पहले ही काले कानून के पक्ष में अपना मत दें चुके हैं. ये किसानों के साथ क्या न्याय कर पाएंगे ये सवाल है. ये चारों तो मोदी सरकार के साथ खड़े हैं. ये क्या न्याय करेंगे. एक ने लेख लिखा, एक ने ज्ञापन दिया, एक ने पत्र लिखा, एक याचिकाकर्ता है. कृषि कानूनों का किया समर्थन विवाद सुलझाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने जिन चार सदस्‍यीय कमेटी का गठन किया है उनमें भूपिंदर सिंह मान (अध्यक्ष बेकीयू), डॉ. प्रमोद कुमार जोशी (अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति अनुसंधान संस्थान), अशोक गुलाटी (कृषि अर्थशास्त्री) और अनिल धनवट (शिवकेरी संगठन, महाराष्ट्र) शामिल हैं. इनमें कुछ नामों को लेकर किसान संगठनों को आपत्ति है. इनमें से एक किसान नेता भूपिंदर सिंह मान हैं जो केंद्र सरकार के तीनों कृषि कानूनों का समर्थन करते रहे हैं. पिछले महीने दिसंबर में उन्‍होंने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर को एक पत्र लिखा और कृषि कानूनों का समर्थन किया था. भारतीय किसान यूनियन (BKU) के अध्यक्ष और पूर्व राज्यसभा सांसद भूपिंदर सिंह मान ने पत्र में लिखकर पारित तीन कृषि कानूनों का समर्थन किया था. उनका कहना था कि उत्‍तरी भारत के कुछ हिस्‍सों में और विशेषकर दिल्‍ली में जारी किसान आंदोलन में शामिल कुछ तत्‍व इन कृषि कानूनों के बारे में किसानों में गलतफहमियां पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं. अथक प्रयासों और लंबे संघर्षों के चलते जो आजादी की सुबह किसानों के जीवन में क्षितिज पर दिखाई दे रही है आज उसे फिर से अंधेरी रात में बदल देने के लिए कुछ तत्‍व आगे आकर किसानों में गलतफहमियां पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं.

Top News