taaja khabar.....30 करोड़ को कोरोना वैक्सीन देने के लिए चुनाव जैसी महातैयारी, पोलिंग बूथ जैसे बनेंगे 'वैक्सीन बूथ' ....लक्ष्मी विलास बैंक के DBIL में विलय को कैबिनेट की मंजूरी, NIIF को 6 हजार करोड़ ​पूंजी ...स्मृति ईरानी बोलीं- घुसपैठियों की मदद कर रहे ओवैसी और केसीआर..पंजाब के सभी शहरों में फिर से नाइट कर्फ्यू, मास्क न पहनने पर लगेगा 1000 का जुर्माना...बंगालः दिलीप घोष की रैली में आ रहे बीजेपी कार्यकर्ताओं पर हमला, TMC पर धमकाने का आरोप...'लव जिहाद' पर कानून किसी धर्म के खिलाफ नहीं, किसी धर्म के पक्ष में नहीं : वीएचपी ....वरिष्ठ कांग्रेस नेता अहमद पटेल का निधन, एक महीने पहले हुए थे कोरोना पॉजिटिव.....विजय कुमार सिन्हा बने बिहार विधानसभा के स्पीकर, हंगामे के बीच हुई वोटिंग में महागठबंधन के अवध बिहारी को हराया ,....‘बोल दो कोरोना हो गया’, सुशील मोदी का दावा- लालू ने किया BJP MLA को फोन, ऑडियो जारी...गांगुली होंगे BJP का चेहरा? टीएमसी सांसद बोले- उन्हें नहीं पता गरीबों की दिक्कत, टिक नहीं पाएंगे...यूपी के बाद हरियाणा सरकार भी बनाएगी लव जिहाद पर कानून, अनिल विज बोले- योगी जिंदाबाद...अमेरिका के नए विदेश मंत्री ऐंटनी ब्लिंकेन पाकिस्तान के लिए बुरी खबर? ...नीतीश कुमार और अशोक चौधरी का सदन में रहना गलत नहीं, कानून विशेषज्ञ....

गोमती रिवर फ्रंट घोटाला: सिंचाई विभाग के पूर्व चीफ इंजीनियर को सीबीआई ने किया गिरफ्तार

लखनऊ, 20 नवंबर 2020,अखिलेश यादव की सरकार के दौरान लखनऊ में गोमती नदी के किनारे बने रिवर फ्रंट से जुड़े घोटाले में पहली गिरफ्तारी हुई है. गोमती रिवर फ्रंट घोटाले की जांच कर रही सीबीआई ने सिंचाईं विभाग के पूर्व चीफ इंजीनियर रूप सिंह यादव को शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया है. बता दें कि करीब 1500 करोड़ रुपये के इस घोटाले की जांच फिलहाल सीबीआई कर रही थी. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने भी मनी लांड्रिंग का मामला दर्ज कर जांच शुरू की थी. सीबीआई लखनऊ की एंटी करप्शन टीम इस मामले की जांच कर रही थी. राज्य सरकार ने तीन साल पहले घोटाले की जांच सीबीआई से कराने की संस्तुति की थी. गौरतलब है कि अप्रैल 2017 में प्रदेश सरकार ने रिवर फ्रंट घोटाले की न्यायिक जांच के आदेश दिए थे. जांच के बाद गोमती नगर थाने में कई अधिकारियों के खिलाफ कमेटी ने एफआईआर दर्ज कराई थी. उसी एफआईआर को आधार बनाकर सीबीआई ने रिपोर्ट दर्ज की थी. अब रूप सिंह यादव की गिरफ्तारी के बाद इस घोटाले के अन्य आरोपितों की भी गिरफ्तारी की हो सकती है. बता दें कि अखिलेश यादव की सरकार के कार्यकाल में लखनऊ में गोमती नदी के तट पर बने रिवर फ्रंट को समाजवादी पार्टी का ड्रीम प्रोजेक्ट बताया गया था. इस प्रोजेक्ट के शुरू होने के बाद से ही इसमें बड़े घोटाले के आरोप लगते रहे थे. यूपी में योगी सरकार आने के बाद इसकी प्रारंभिक जांच के बाद केस सीबीआई के हवाले कर दी गई थी. अब सीबीआई इस घोटाले के बड़े जिम्मेदारों पर अपना शिकंजा कस रही है.

Top News