taaja khabar...सुप्रीम कोर्ट से मोदी को राफेल पर बड़ी राहत, राहुल को झटका....मध्य प्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री होंगे कमलनाथ, कांग्रेस ने किया ऐलान...हिमाचल विधानसभा में पारित हुआ गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा देने का प्रस्ताव...मुठभेड़ में मारे गए तीन लश्कर आतंकियों में हैदर मूवी में ऐक्टिंग करने वाला युवक भी शामिल...मिजोरम: पहली बार ईसाई रीति-रिवाजों के साथ होगा शपथ ग्रहण...पाकिस्तानियों को भारत में बसाने का विवादित कानून, SC ने उठाए सवाल...तीन राज्यों में हार के बाद 2019 के लिए मैराथन प्रचार में जुटेंगे पीएम मोदी, दक्षिण, पूर्व और पूर्वोत्तर पर नजर...बीजेपी का बड़ा दांव, गांधी परिवार के गढ़ से कुमार विश्वास को दे सकती है टिकट...छत्तीसगढ़ में हर तीसरे MLA पर आपराधिक केस, तीन-चौथाई करोड़पति...हार के बाद BJP ने 2019 के चुनाव के लिए भरी हुंकार, रणनीति तैयार...
मॉब लिंचिंग: ऐक्शन में केंद्र सरकार, मेसेज फॉरवर्ड करने वालों पर होगी कड़ी कार्रवाई
नई दिल्ली पूरे देश में वॉट्सऐप से फैल रही अफवाह के बाद लोगों की हो रही हत्या पर केंद्र सरकार चेती है। होम मिनिस्ट्री ने इस मामले में सभी राज्यों के पुलिस प्रमुख से बात कर ऐसे मेसेज फॉरवर्ड करने वालों पर कड़ा ऐक्शन लेने को कहा है। सरकार इस मामले की तह में जाकर जांच करना चाहती है। सूत्रों के अनुसार ऐसे अफवाह भरे संदेश को रोकने के लिए सरकार वॉट्सऐप से बात कर नई सोशल मीडिया नीति को भी अंतिम रूप देने में जुटी है। मालूम हो कि महज चार महीने में पूरे देश में अफवाह के आधार पर 29 लोगों की हत्या भीड़ ने कर दी है। सुरक्षा एजेंसियों के अनुसार सबसे हैरान करने वाली बात है कि आंध्र प्रदेश से लेकर त्रिपुरा, झारखंड से लेकर महाराष्ट्र तक, सभी ऐसी हत्याओं के पीछे न सिर्फ कारण एक ही थे बल्कि वॉट्सऐप से ऐसी अफवाह भी एक ही तरीके से फैलाई भी गई। मतलब इन सभी हत्याओं के पीछे मॉडस-ऑपरेंडी एक ही रहा। ऐसे में सबसे बड़ी चिंता इस बात को लेकर है कि वॉट्सऐप संदेश को अफवाह के रूप में देश के अलग-अलग हिस्सों में खास साजिश के तरह फैलाया जा रहा है। इसके लिए खास नेटवर्क है। हालांकि अभी तक जांच में कड़ी जुड़ने के संकेत नहीं मिले हैं। अब तक आए तमाम मर्डर में अफवाह का पैटर्न एक ही तरह का दिखा है। इलाके में एक वॉट्सऐप मेसेज फॉरवर्ड कर वायरल होता है, जिसमें कहा जाता है कि उनके इलाके में दूसरे प्रदेश से आया एक बच्चा चुराने वाला गिरोह सक्रिय है। वह बच्चों की चोरी कर उसके अंग को बेचता है। कब-कब भीड़ ने लोगों को मारा -1 जुलाई: महाराष्ट्र के धुले में 5 मारे, मालेगांव में 5 को पुलिस ने बचाया। -28 जून: त्रिपुरा में 3 की मौत, एक तो अ‌फवाह के खिलाफ कैंपेन चलाता था -8 जून: असम में दो टूरिस्टों की भीड़ ने ले ली जान, बाद में हिंसा भी हुई। -मई: आंध्र, तेलंगाना में 8 की पीटकर हत्या, कई अन्य राज्यों में भी मौतें हुईं।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/