taaja khabar...लद्दाख में अब चीनी सैनिकों का 1962 जैसा पैंतराः बजा रहे पंजाबी गाने, PM मोदी के खिलाफ भड़का रहे ...पैंगोंग झील: भारत के ऐक्‍शन के बाद 33 साल में पहली बार सबसे ज्‍यादा अलर्ट पर चीनी सेना ...लद्दाख: राजनाथ सिंह के बयान पर चीनी मीडिया को लगी म‍िर्ची, दे डाली युद्ध की धमकी ...लद्दाख में चीन से लंबा चलेगा तनाव! देपसांग में ग्राउंड वाटर की संभावनाएं तलाश रही सेना...महाराष्ट्र सरकार ने बढ़ाई बच्चन फैमिली की सुरक्षा, बीजेपी बोली- सुशांत और कंगना को क्यों नहीं दी? ...योगी आदित्यनाथ ने 87 लाख गरीबों के खाते में ट्रांसफर की 1311 करोड़ रुपये पेंशन ...चीन से तनाव के बीच शाम 5 बजे सर्वदलीय बैठक, कांग्रेस उठाएगी LAC का मुद्दा...UP के बाहुबली MLA विजय मिश्रा पर कसा शिकंजा, पत्नी-बेटा नहीं हुए हाजिर तो संपत्ति होगी कुर्क...नवंबर तक भारत में आ जाएगा कोरोना का रूसी टीका! डॉ. रेड्डीज से हुआ करार ...सरकार किसानों को दे रही 80% सब्सिडी, ऐसे ले सकते हैं फायदा..तीन महीने का इंतजार और फिर ‘ऑपरेशन स्नो लेपर्ड’ चला सेना ने ऐसे दी चीन को मात...जया पर रवि किशन का पलटवार, 'जिस थाली में जहर हो उसमे छेद करना ही पड़ेगा'..

CDS बिपिन रावत ने संसदीय समिति को बताया- LAC पर अतिरिक्त सैनिकों के लिए भी भोजन का पर्याप्त भंडार

नई दिल्ली चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत ने रक्षा मामलों पर संसद की स्थायी समिति (Parliamentary Standing Committee on Defence) को आश्वस्त किया कि भारतीय सेना के पास हर परिस्थिति के लिहाज से पर्याप्त भंडार उपलब्ध है। सूत्रों के मुताबिक, उन्होंने समिति को भरोसा दिलाया कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर सामान्य तौर पर तैनात सैनिकों ही नहीं बल्कि चीन के साथ तनाव के कारण वहां भेजे गए अतिरिक्त बलों के लिए भी आर्मी के पास राशन का पर्याप्त भंडार है। सूत्रों ने बताया कि समिति की दूसरे दिन की मीटिंग शनिवार शाम को ठीक तीन बजे शुरू हुई जिसमें आर्मी के अधिकारियों ने राशन और युद्ध सामग्रियों के प्रावधानों और उनकी गुणवत्ता पर दो प्रजेंटेशन दिए। ध्यान रहे कि कांग्रेस सांसद और समिति के सदस्य राहुल गांधी ने शुक्रवार को सैनिकों और अफसरों के खाने की क्वॉलिटी को लेकर सवाल पूछा था। हर परिस्थिति के लिहाज से पर्याप्त भंडार एक सूत्र ने कहा, 'आपूर्तियों और भंडार की विस्तृत जानकारी देने वाले अधिकारी ने कमिटी के आश्वस्त किया कि एलएसी समेत किसी भी सीमा पर हर तरह की परिस्थिति के लिहाज से आर्मी के पास भरपूर भंडार है। उन्होंने यह भी कहा कि किसी भी आपात परिस्थिति से निपटने के लिए आर्मी के पास 10 महीने का अतिरिक्त भंडार है।' राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) चीफ शरद पवार ने कमिटी के चेयरमैन और बीजेपी सांसद जुएल उरांव से कहा कि वो सुनिश्चित करें कि सदस्यों को एलएसी पर वास्तविक स्थिति की सही-सही जानकारी मिले। एक सूत्र ने बताया, 'राहुल गांधी ने पूछा कि जवानों को उनके सीनियरों जैसी रोटियां ही क्यों नहीं दी जाती हैं?' राहुल गांधी ने पूछा था भोजन पर सवाल रक्षा मामलों की संसद की स्थायी समिति में सैनिकों की खुराक में पोषण की मात्रा पर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी की तरफ से पूछा गया सवाल मीडिया में लीक होने पर समिति के एक सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) डीपी वत्स ने चिंता प्रकट की। उन्होंने कहा कि उन्होंने भी ये खबरें पढ़ीं और यह सोचकर दुखी हुए कि संसद, समिति की बैठक के मिनट्स को रेटिफाइ करती, इससे पहले सारी जानकारियां मीडिया में लीक हो गईं। कांग्रेस पर मीटिंग की जानकारी लीक करने का आरोप राज्यसभा के सदस्य डीपी वत्स ने कहा, 'कांग्रेस ने जान-बूझकर और चुन-चुनकर पार्ल्यामेंट्री स्टैंडिंग कमिटी में हुई बातचीत के डीटेल्स संसद में जाने से पहले लीक किए। राहुल गांधी ने कमिटी की मीटिंग में पहली बार शिरकत की, मैं इसका स्वागत करता हूं। आर्मी के जवानों और अधिकारियों के भोजन में अंतर इसलिए है क्योंकि हमारी आर्मी अब भी ब्रिटिशन आर्मी की तर्ज पर ही संचालित हो रही है। उस वक्त अंग्रेज उच्च पदों पर होते थे और ब्रेड खाया करते थे और यही सिलसिला अब भी कायम है। घटिया राशन की बातें बिल्कुल फर्जी हैं।' एलएसी पर हिंसा को लेकर वत्स ने कहा, 'सीमा विवाद एक तात्कालिक घटना है। हमारी आर्मी को कहीं बढ़त मिली हुई है तो कहीं उसे संघर्ष का सामना करना पड़ रहा है। एलएसी पर दोनों देश सामान्य समझ के आधार पर पेट्रोलिंग करते हैं। अब चीन ने कुछ पॉइंट्स पर अपने सैनिकों को तैनात कर दिया तो हमने भी जवाब में ऐसा ही किया।' उन्होंने कहा, 'वो हमारे अरुणाचल पर भी सवाल उठाते हैं। दोनों देशों को सीमारेखा तय करने पर काम करना चाहिए। हिंसक घटनाओं की आशंका नहीं रहती है क्योंकि राइफल लाने की अनुमति नहीं है। चीन सही मायने में न अच्छा दोस्त है और न अच्छा पड़ोसी। हमें हर वक्त तैयार रहना होगा, हमें चीन को काबू में रखने के लिए हर वक्त हाइब्रिड वॉर लड़ना होगा।'

Top News