taaja khabar....रिकवरी रेट बढ़कर 80 प्रतिशत, अमेरिका को पीछे छोड़ टॉप पर भारत ...NCB से बोला राहिल- 'सैम' बनकर बांटता था सिलेब्‍स में ड्रग्‍स, बॉलिवुड से जुड़ा है मेरा 'बॉस' ...योगी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा बोले- साजिश के तहत फैलाया जा रहा लव जिहाद, जरूरत पड़ीं तो कानून लाएंगे ...कश्मीर में अमन बिगाड़ने की कोशिश में पाकिस्तान, सेना लगातार नाकाम कर रही मंसूबेः डीजीपी ...जम्मू-कश्मीर को 1350 करोड़ के आर्थिक पैकेज का तोहफा, पानी-बिजली बिल में भी 50% की छूट ...ड्रग्स मंडली पर एक्शन जारी, 14 दिन के लिए जेल भेजा गया सप्लायर राहिल विश्राम...केरल और बंगाल में NIA की रेड, अलकायदा से जुड़े 9 संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार...

चीन विवाद पर राजनाथ ने दो घंटे तक किया मंथन, जल्द हो सकती है कॉर्प्स कमांडर लेवल की बात

नई दिल्ली, 11 सितंबर 2020, भारत और चीन के बीच सीमा पर जारी विवाद से इतर शुक्रवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दिल्ली में अहम बैठक की. इस बैठक में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत के अलावा तीनों सेनाओं के प्रमुख मौजूद रहे. इस दौरान लद्दाख सीमा पर मौजूदा हालात और आगे की रणनीति पर मंथन किया गया. शुक्रवार को हुई ये बैठक करीब दो घंटे तक चली. जिसमें विदेश मंत्रियों की मुलाकात के बाद किस तरह बातचीत को आगे बढ़ाना है, इसपर मंथन हुआ. साथ ही अब उम्मीद जताई जा रही है कि अगले एक या दो दिनों में लद्दाख सीमा पर कॉर्प्स कमांडर लेवल की बातचीत हो सकती है. इस दौरान चर्चा में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल भी शामिल हुए, जो चीन के साथ बॉर्डर विवाद पर चर्चा के लिए भारत के विशेष प्रतिनिधि भी हैं. विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने गुरुवार को ही रूस के मॉस्को में चीनी विदेश मंत्री वांग यी से मुलाकात की थी. दोनों देशों की ओर से जारी साझा बयान में बातचीत के जरिए टेंशन को कम करने, सैनिकों की संख्या घटाने और मिलिट्री-डिप्लोमेटिक चैनल को खुला रखने की बात कही गई है. गौरतलब है कि 29-30 अगस्त के बाद से चीन ने कई बार बॉर्डर पर घुसपैठ की कोशिश की है. जिसके बाद हालात बिगड़े हैं, हालांकि इस दौरान भारतीय सेना ने कई पहाड़ियों पर अपना कब्जा कर लिया है और अब फिंगर चार तक पहुंच बना ली है. लेकिन इसी तनाव को कम करने के लिए बातचीत का रास्ता फिर से शुरू किया जा रहा है. भारतीय सेना ने अपने सैनिकों की संख्या को बढ़ा दिया है, साथ ही बॉर्डर पर अब बोफोर्स तोपों को भी तैनात किया गया है. दूसरी ओर चीन ने भी अपनी तरफ सेना की मौजूदगी बढ़ाई है और सैनिकों की संख्या करीब पचास हजार तक पहुंच गई है.

Top News