taaja khabar...सावधान! चीन से आ रहे हैं खतरनाक सीड पार्सल, केंद्र ने राज्यों और इंडस्ट्री को किया सतर्क....लद्दाख से अरुणाचल प्रदेश तक हवाई हमले की ताकत जुटा रहा चीन, सैटलाइट तस्‍वीर से खुलासा..स्वतंत्रता दिवस से पहले गड़बड़ी की बड़ी साजिश, दिल्ली में भी विदेश से आए 'जहरीले' कॉल....सुशांत सिंहः बीजेपी ने कहा, राउत और आदित्य का CBI करे नार्को, राहुल और प्रियंका गांधी तोड़ें चुप्पी..विदेश मंत्री जयशंकर बोले- भारत और चीन पर दुनिया का बहुत कुछ निर्भर करता है...चीन को बड़ा झटका देने की तैयारी, गडकरी ने बताया क्या है प्लान...कोरोना पर खुशखबरी, देश में 70% के पास पहुंचा कोरोना मरीजों का रिकवरी रेट...सुशांत के पिता पर टिप्पणी कर फंसे शिवसेना नेता संजय राउत, परिवार करेगा मानहानि का केस...राहुल-प्रियंका से मिले सचिन पायलट, घर वापसी कराने की कोशिशें तेज ...पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी कोरोना पॉजिटिव हुए, अस्पताल में भर्ती ...कोरोना पॉजिटिव पाए गए केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल, AIIMS में भर्ती ...दिल्ली हिंसा: आरोपी गुलफिशा ने किए चौंकाने वाले खुलासे, 'सरकार की छवि खराब करना था मकसद' ...

कर्नाटक सरकार ने पाठ्यक्रम से हटाया टीपू सुल्तान और हैदर अली का चैप्टर

बेंगलुरु सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी ऐजुकेशन (CBSE) ने कोरोना वायरस के चलते कक्षा 9 से लेकर 12वीं तक का पाठ्क्रम घटाया है। सीबीएसई के बाद अब कर्नाटक सरकार ने स्टेट बोर्ड स्कूलों का पाठ्यक्रम कम किया है। इस पाठ्यक्रम को अब 120 दिनों के वर्किंग डे के हिसाब से तैयार किया गया है और इसे 30 फीसदी घटाया गया है। नया पाठ्यक्रम सोमवार को कर्नाटक टेक्स्ट बुक सोसायटी की वेबसाइट में अपलोड किया गया। इस नए पाठ्यक्रम से टीपू सुल्तान और हैदर अली का चैप्टर हटा दिया गया है। कक्षा 7 की इतिहास की किताब में हैदर अली और टीपू सुल्तान का चैप्टर शामिल था। दिलचस्प बात है कि वेबसाइट पर अपलोड इस पाठ्यक्रम से दोनों चैप्टर गायब हैं। नए पाठ्यक्रम में पीपीटी के जरिए विषयों को दर्शाया गया है। चैप्टर-5 से मैसुरु के वाडियार हटा दिया गया है। इन चैप्टर का किया गया विस्तार चैप्टर 4 में कर्नाटक में ब्रिटिश शासन का विरोध, हालागली बेदास और कित्तूर चेन्नमा-रायन्ना को चार्ट के जरिए विस्तृत किया गया है। चैप्टर से टीपू सुल्तान और हैदर अली के बारे में हटाए जाने से विवाद शुरू हो गया है। शिक्षा निदेशक ने दी सफाई इस मामले में केटीबीएस के निदेशक मेड ग्वाडा ने कहा, 'हमने हैदर अली या टीपू सुल्तान को हटाया नहीं है। पाठ्यक्रम के जो बदलाव किए गए हैं, वे विशेषज्ञों ने किए हैं। हम विशेषज्ञों के काम में हस्तक्षेप नहीं कर सकते हैं। यहां तक कि हम उनके काम में कोई विशेष टिप्पणी या सुझाव भी नहीं दे सकते हैं।' 'विषय की महत्ता के हिसाब से बना पाठ्यक्रम' निदेशक ने कहा कि विशेषज्ञों ने पाठ्यक्रम में जो बदलाव किए हैं वह उन्होंने विषय की महत्ता को ध्यान में रखकर किए हैं। आखिरकार 220 दिनों के पाठ्यक्रम को मात्र 120 दिनों में करना था। यह पूरी तरह से विशेषज्ञों का काम था। सरकार ने की थी घोषणा आपको बता दें कि जब कर्नाटक में बीजेपी की सरकार आई थी, तब भी इस बात को लेकर विवाद हुआ था। सरकार ने घोषणा की थी कि पाठ्यक्रम से टीपू सुल्तान का चैप्टर हटाया जाएगा। इस घोषणा के बाद सरकार की चौतरफा आलोचना हुई थी जिसके बाद सरकार ने एक कमिटी गठित की थी और इस मामले में सुझाव मांगा था।

Top News