taaja khabar....अमेरिका ने भारत को हथियार क्षमता वाले गार्जियन ड्रोन देने की पेशकश की: सूत्र....अविश्वास प्रस्ताव: मोदी सरकार को मिलेगा विपक्ष पर निशाना साधने का मौका....संसद भवन पर हमले के लिए निकले हैं खालिस्तानी आतंकी: खुफिया इनपुट....धरती के इतिहास में वैज्ञानिकों ने खोजा 'मेघालय युग'....कठुआ केस में नया मोड़, पीड़िता के 'असल पिता' कोर्ट में होंगे पेश...निकाह हलाला: बरेली में ससुर पर रेप का केस, अप्राकृतिक सेक्‍स के लिए पति पर भी मुकदमा...मॉनसून सत्र: अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन नहीं करेगी शिवसेना?....देश के हर गांव को जाएगा कुंभ का न्योता, योगी पत्र लिख मुख्यमंत्रियों को बुलाएंगे....क्या अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दे पर मोदी सरकार के दांव में फंस गया विपक्ष?...लखनऊ में बड़े कारोबारी के यहां छापे, 89 किलो सोना-चांदी बरामद, 8 करोड़ कैश भी...
पाक आर्मी चीफ ने कश्मीर सहित सभी मुद्दों को सुलझाने के लिए किया बातचीत का समर्थन
इस्लामाबाद लंबे समय तक कड़वी भाषा बोलने के बाद अब पाकिस्तान के सुर ढीले पड़ते दिख रहे हैं। इसका अंदाजा पाकिस्तान के आर्मी चीफ के हालिया बयान से लगाया जा सकता है। पाक आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने कहा है कि भारत और पाकिस्तान के विवादित मुद्दों, जिनमें कश्मीर मुद्दा भी शामिल है, को बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है। पाक आर्मी चीफ का यह बयान ऐसे समय पर आया है, जब विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मंचों पर आतंकवाद और कश्मीर मुद्दे को लेकर पाक को मुंह की खानी पड़ी है। ऐसे में बाजवा के इस बयान को कश्मीर मुद्दे पर नरम पड़े सुर के तौर पर देखा जा रहा है। काकुल में पाकिस्तान मिलिटरी अकैडमी के कडेट्स की पासिंग आउट परेड के दौरान पाक आर्मी चीफ ने शनिवार को यह बात कही। यह जानकारी पाकिस्तान की आर्म्ड फोर्स की मीडिया विंग इंटर-सर्विस पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) के हवाले से मिली है। बाजवा ने कहा, 'हमारा बेहद ईमानदारी से मानना है कि कश्मीर मुद्दे सहित भारत और पाकिस्तान के विवादों का शांतिपूर्ण समाधान निकाला जा सकता है। यह व्यापक और सार्थक बातचीत से ही संभव है।' उन्होंने कहा, 'हालांकि यह बातचीत किसी एक पक्ष के लिए नहीं है, लेकिन यह पूरे क्षेत्र में शांति की अनिवार्यता जरूरी है। पाकिस्तान इस तरह की बातचीत के लिए प्रतिबद्ध है, लेकिन सिर्फ सार्वभौम समानता और सम्मान के आधार पर।' चेतावनी भी दी कडेट्स को संबोधित करते हुए बाजवा ने कहा कि पाकिस्तान शांतिप्रिय देश है और सभी देशों के साथ सामंजस्य और शांतिपूर्ण सहयोग चाहता है, खास तौर पर अपने पड़ोसी देशों के साथ। उन्होंने कहा, 'हालांकि शांति की इस इच्छा को किसी भी सूरत में कमजोरी का प्रतीक नहीं समझा जाना चाहिए। हमारी सेनाएं किसी भी परिस्थिति से निपटने और उसका मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।' बता दें कि फाइनैंशल ऐक्शन टास्क फोर्स की ओर से मनी लॉन्ड्रिंग और टेरर फाइनैंसिंग के मामले में ग्रे लिस्ट में शामिल किए के बाद पाकिस्तान आतंकी संगठनों पर शिकंजा कसने की तैयारी में है। इसके तहत ही उसने ऐंटी-टेरर ऐक्ट में संशोधन करने का फैसला लिया है। फरवरी में टास्क फोर्स ने पाकिस्तान को ग्रे लिस्ट में शामिल किया था, यही नहीं स्थितियों में सुधार न आने पर पाकिस्तान को ब्लैक लिस्ट करने की भी चेतावनी दी गई है। वहीं अमेरिका भी आतंकवाद के मुद्दे पर पाक को मिलने वाली कई तरह की मदद पर प्रतिबंध लगा चुका है। गौरतलब है कि पिछले साल दिसंबर में पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर बाजवा ने मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की तारीफ करते हुए कहा था कि उसने हर पाकिस्तानी नागरिक की तरह कश्मीर समस्या सुलझाने में सक्रिय भूमिका निभाई है।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/