taaja khabar....अमेरिका ने भारत को हथियार क्षमता वाले गार्जियन ड्रोन देने की पेशकश की: सूत्र....अविश्वास प्रस्ताव: मोदी सरकार को मिलेगा विपक्ष पर निशाना साधने का मौका....संसद भवन पर हमले के लिए निकले हैं खालिस्तानी आतंकी: खुफिया इनपुट....धरती के इतिहास में वैज्ञानिकों ने खोजा 'मेघालय युग'....कठुआ केस में नया मोड़, पीड़िता के 'असल पिता' कोर्ट में होंगे पेश...निकाह हलाला: बरेली में ससुर पर रेप का केस, अप्राकृतिक सेक्‍स के लिए पति पर भी मुकदमा...मॉनसून सत्र: अविश्वास प्रस्ताव का समर्थन नहीं करेगी शिवसेना?....देश के हर गांव को जाएगा कुंभ का न्योता, योगी पत्र लिख मुख्यमंत्रियों को बुलाएंगे....क्या अविश्वास प्रस्ताव के मुद्दे पर मोदी सरकार के दांव में फंस गया विपक्ष?...लखनऊ में बड़े कारोबारी के यहां छापे, 89 किलो सोना-चांदी बरामद, 8 करोड़ कैश भी...
सुप्रीम कोर्ट के जज कल तक अपने मतभेद सुलझा लेंगे: अटर्नी जनरल
नई दिल्ली सुप्रीम कोर्ट के 4 सबसे वरिष्ठ जजों द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सीजेआई दीपक मिश्रा की कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल उठाने के अभूतपूर्व कदम पर अटर्नी जनरल के.के. वेणुगोपाल ने उम्मीद जताई है कि शनिवार तक विवाद खत्म हो जाएगा। वेणुगोपाल ने न्यूज एजेंसी एएनआई से कहा कि शनिवार को सुप्रीम कोर्ट के जज साथ मिलकर मतभेदों को दूर कर लेंगे। इससे पहले शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के 4 वरिष्ठ जजों ने अचानक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चीफ जस्टिस की कार्यप्रणाली पर गंभीर सवाल उठाए। जस्टिस चेलमेश्वर, जस्टिस मदन लोकुर, जस्टिस कुरियन जोसेफ, जस्टिस रंजन गोगोई ने मीडिया से मुखातिब होकर प्रशासनिक अनियमितताओं के आरोप लगाए। वरिष्ठता क्रम में जस्टिस चेलमेश्वर सीजेआई दीपक मिश्रा के बाद दूसरे नंबर पर हैं। आजाद भारत के इतिहास में यह पहला मौका था जब सुप्रीम कोर्ट के जजों ने मीडिया से मुखातिब होकर सर्वोच्च अदालत के प्रशासन पर सवाल उठाए। जस्टिस चेलामेश्वर ने मीडिया से बात करते हुए कहा, 'करीब दो महीने पहले हम 4 जजों ने चीफ जस्टिस को पत्र लिखा और मुलाकात की। हमने उन्हें बताया कि जो कुछ भी हो रहा है, वह सही नहीं है। प्रशासन ठीक से नहीं चल रहा है। यह मामला एक केस के असाइनमेंट को लेकर था।' उन्होंने कहा कि हालांकि हम चीफ जस्टिस को अपनी बात समझाने में असफल रहे। इसलिए हमने राष्ट्र के समक्ष पूरी बात रखने का फैसला किया। सुप्रीम कोर्ट के 4 वरिष्ठ जजों द्वारा प्रेस कॉन्फ्रेंस करने को लेकर कानून के जानकारों की राय बंटी हुई है। सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस आर.एस. सोढ़ी ने जहां जजों के इस कदम को अपरिपक्व करार दिया है, वहीं वरिष्ठ वकील इंदिरा जयसिंह, प्रशांत भूषण जैसे कानून के विशेषज्ञों ने जजों के कदम का स्वागत किया है।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/