taaja khabar...रोहिंग्या की अवैध बस्तियों को बढ़ावा दे रहे तृणमूल कांग्रेस के नेता: एजेंसियां.....नरम पड़े चीन के तेवर? साझा सैन्य अभ्यास का दिया प्रस्ताव......चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को लेकर फिर सक्रिय हुए विपक्षी दल, आज बैठक.....लंदन में पीएम मोदी के सेशन से मिले साफ संकेत, क्या है बीजेपी का इलेक्शन प्लान?...कठुआ कांड के बाद किस करवट बैठेगी जम्मू-कश्मीर की सियासत?...
सेना प्रमुख बिपिन रावत बोले- चीन शक्तिशाली देश, लेकिन भारत भी कमजोर नहीं
नई दिल्ली: सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत करते हुए चीन पर सीधा हमला बोला. उन्होंने कहा कि, चीन एक शक्तिशाली देश है, लेकिन भारत कोई कमजोर राष्ट्र नहीं है. सेना प्रमुख ने आगे कहा, चीन दबाव डाल रहा है. हम इससे निपट रहे हैं. हां, हमें यह प्रयास करना चाहिए कि यह दबाव बढ़े नहीं. हम अपने क्षेत्र को आतंकित करने की अनुमति नहीं देंगे. सैनिक तैनात हैं, यदि जरूरत पड़ती है तो हमारी सेना तैयार हैं. पड़ोसी देशों को चीन के पाले में नहीं जाने दे सकते जनरल बिपिन रावत ने चीन पर ही आगे बात करते हुए कहा, चीन की हठधर्मिता से निपटने में हम सक्षम हैं. उन्होंने कहा कि हम अपने पड़ोसियों को चीन के पाले में जाने नहीं दे सकते. सेना प्रमुख ने क्षेत्र में अपना प्रभाव बढ़ाने के आक्रामक चीन के प्रयासों के बीच कहा कि भारत अपने पड़ोसियों को देश से दूर होकर चीन के करीब नहीं जाने दे सकता. हम कमजोर नहीं रावत ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘चीन एक शक्तिशाली देश है लेकिन हम कमजोर देश नहीं हैं.’’ उन्होंने भारत में चीनी घुसपैठ से जुड़े एक प्रश्न के उत्तर में कहा, ‘‘हम किसी को भी हमारे क्षेत्र में घुसपैठ की अनुमति नहीं देंगे’’ उन्होंने ने आतंकवाद से निपटने को लेकर पाकिस्तान को दी गई अमेरिका की चेतावनियों पर भी बयान दिया और कहा कि भारत को इंतजार करना होगा और पाकिस्तान पर अमेरिकी दबाव के असर को देखना होगा. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में आतंकवादी केवल इस्तेमाल करके फेंकने की चीज हैं और भारतीय सेना का नजरिया यह सुनिश्चित करना रहा है कि उसे दर्द का एहसास हो. उत्तरी कश्मीर पर ध्यान सैन्य स्तर पर, यदि कोई खतरा है तो हमें तैयार रहना चाहिए. अब हमें अपना ध्यान उत्तरी सीमा पर स्थानांतरित करना चाहिए. 2017 में हमारा ध्यान दक्षिण कश्मीर पर था. इस साल हम उत्तरी कश्मीर के बारामुला, पट्टन, हंडवारा, कुपवाड़ा, सोपोर और लोलाब और बांदीपोर के कुछ उत्तरी क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं, ताकि घुसपैठ को रोका जा सके. हमें आधुनिक हथियारों और तकनीक की जरूरत है. हमें यह देखना होगा कि हमें भविष्य के युद्धों से लड़ने के लिए क्या जरूरतें हैं. हमें ऐसा सिस्टम बनाना होगा जो हमारे अनुकूल हो.

Top News

http://www.hitwebcounter.com/