taaja khabar..कोयले की कमी, बिजली कटौती, पीएम से गुहार लगाते सीएम... लेकिन ऊर्जा मंत्री बोले- सब चंगा सी..बलूचों के हमलों से डरे चीन-पाकिस्‍तान, ग्‍वादर नहीं अब कराची को बनाएंगे CPEC का हब..आशीष मिश्रा 'मोनू' को रिमांड पर लेगी पुलिस, कल कोर्ट में अर्जी डालेगी लखीमपुर खीरी की पुलिस टीम..केंद्रीय मंत्री बोले, बिजली आपूर्ति बाधित होने का खतरा बिल्कुल नहीं, पर्याप्त मात्रा में मौजूद है कोयले का स्टाक...बसपा तथा कांग्रेस के आधा दर्जन से अधिक पूर्व विधायक व एमएलसी भाजपा में शामिल..बसपा तथा कांग्रेस के आधा दर्जन से अधिक पूर्व विधायक व एमएलसी भाजपा में शामिल..

जिस पाकिस्‍तान के सैनिकों की जान ले रहा टीटीपी, उसी से बातचीत के बचाव में उतरे बड़बोले गृह मंत्री

इस्लामाबाद पाकिस्‍तान में एक तरफ आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्‍तानी सैनिकों की जान ले रहा है, वहीं देश के गृहमंत्री अब इन आतंकियों का बचाव करने में जुट गए हैं। पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद ने 'सुलह' के लिए प्रतिबंधित आतंकवादी समूह तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के साथ बातचीत करने के सरकार के कदम का बचाव करते हुए कहा कि बातचीत 'अच्छे तालिबान' के लिए है। इस्लामाबाद पाकिस्‍तान में एक तरफ आतंकी संगठन तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्‍तानी सैनिकों की जान ले रहा है, वहीं देश के गृहमंत्री अब इन आतंकियों का बचाव करने में जुट गए हैं। पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद ने 'सुलह' के लिए प्रतिबंधित आतंकवादी समूह तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के साथ बातचीत करने के सरकार के कदम का बचाव करते हुए कहा कि बातचीत 'अच्छे तालिबान' के लिए है। रशीद की टिप्पणी तुर्की सरकार के स्वामित्व वाले टीआरटी वर्ल्ड न्यूज चैनल के साथ एक साक्षात्कार में प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा खुलासा किए जाने के बाद आई है। इसमें इमरान खान ने कहा था कि उनकी सरकार अफगानिस्तान में तालिबान की मदद से टीटीपी के साथ बातचीत कर रही है जिसकी नेताओं और आतंकवाद के पीड़ितों ने आलोचना की है। टीटीपी, जिसे आमतौर पर पाकिस्तानी तालिबान के रूप में जाना जाता है, अफगान-पाकिस्तान सीमा से गतिविधियां चलाने वाला प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन है। 'हमें बहुत अच्छे से पता है कि कौन अच्छा है और कौन बुरा' ‘डॉन’ समाचार-पत्र ने खबर दी कि सरकार के कदम का बचाव करते हुए गृहमंत्री रशीद ने कहा कि पेशावर में आर्मी पब्लिक स्कूल (एपीएस) में दिसंबर 2014 में नरसंहार सहित देश में रक्तपात के लिए जिम्मेदार आतंकवादियों के लिए बातचीत का प्रस्ताव नहीं था, जिसमें 150 से अधिक लोग मारे गए थे। उन्होंने कहा, 'हमें बहुत अच्छे से पता है कि कौन अच्छा है और कौन बुरा। अगर किसी को भी लगता है कि हमें इसकी जानकारी नहीं है, तो यह उसकी गलतफहमी है, उसे समझ नहीं है।' रशीद ने कहा कि बातचीत की पेशकश केवल 'अच्छे तालिबान' के लिए थी और इस पर बातचीत 'उच्चतम स्तर' पर हो रही थी। उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण जीवन अपनाने के लिए आत्मसमर्पण करने वालों से लड़ना उचित नहीं है। बता दें कि पाकिस्‍तान के उत्‍तरी वजीरिस्‍तान इलाके में शनिवार को हुए एक भीषण आतंकी हमले में 5 सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई है। बताया जा रहा है कि मारे गए 4 सुरक्षाकर्मी फ्रंटियर कोर के हैं, वहीं एक अन्‍य लेविस फोर्स का सब इंस्‍पेक्‍टर है। यह वही इलाका है जहां पर तहरीक-ए-तालिबान (TTP) के आतंकी सक्रिय हैं।

Top News