taaja khabar....टीकाकरण को गति देने के लिए केंद्र देगा विदेशी कोविड वैक्सीन को झटपट अनुमति, प्रकिया होगी तेज...दार्जिलिंग में बोले शाह- दीदी ने भाजपा-गोरखा एकता तोड़ने का प्रयास किया, देना है मुंहतोड़ जवाब...और मजबूत हुई भारतीय वायुसेना, 6 टन के लाइट बुलेट प्रूफ वाहनों को एयरबेस में किया गया शामिल...इस साल मानसून में सामान्य से बेहतर होगी बारिश, स्काइमेट वेदर का पूर्वानुमान....सुशील चंद्रा ने देश के मुख्य चुनाव आयुक्त का पदभार संभाला...प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बैसाखी त्योहार पर कड़ी मेहनत करने वालों किसानों की तारीफ की...Sputnik V को मंजूरी के बाद अब जल्द मिलेगी डोज, भारत में एक साल में बनेगी 85 करोड़ खुराक....'टीका उत्सव' के तीसरे दिन दी गईं 40 लाख से ज्यादा डोज, अब तक 10.85 करोड़ लोगों को लगी वैक्सीन....शरीर में नई जगह छिपकर बैठ रहा कोरोना, अब RT-PCR टेस्ट से भी नहीं हो रहा डिटेक्ट...

पीएम मोदी ने जस्टिन ट्रूडो से किया कोरोना वैक्‍सीन देने का वादा, कनाडा में बंद हुई आलोचना

टोरंटो भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कनाडा को कोविड-19 वैक्सीन देने के वादे का इंडो-कनाडा चैंबर ऑफ कॉमर्स समेत कई अन्य इंडो-कैनेडियन संगठनों ने स्वागत किया है। मोदी ने अपने कनाडाई समकक्ष जस्टिन ट्रूडो से यह वादा तब किया, जब बुधवार को ट्रूडो ने उनसे महामारी, आर्थिक सुधार और जलवायु परिवर्तन समेत विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करने के लिए फोन किया था। मोदी ने ट्वीट कर कहा कि ‘मैंने ट्रूडो को आश्वासन दिया है कि भारत कनाडा द्वारा मांगे गए कोविड-19 टीकों की आपूर्ति को सुविधाजनक बनाने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करेगा।’ बता दें कि वैक्सीन की उपलब्धता में कमी के कारण ट्रूडो को सार्वजनिक तौर पर खासी आलोचना झेलनी पड़ रही है। फाइजर और मॉडर्ना दोनों ने ही कनाडा के शिपमेंट में या तो देरी की है या कटौती की है। इसके चलते कनाडा को अब तक केवल 11 लाख वैक्सीन डोज ही मिले हैं। भारत में किसानों के विरोध के समर्थन में ट्रूडो द्वारा दिसंबर में एक बयान जारी करने के बाद अब उनके द्वारा मोदी को फोन करने की पहल का इंडो-कैनेडियन ट्रेड बॉडीज ने स्वागत किया है। द्विपक्षीय संबंधों में इसे एक बड़ी बात बताते हुए इंडो-कनाडा चैंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष विजय थॉमस ने कहा, ‘हाल ही में हुए कुछ विवादों को देखते हुए कनाडा को वैक्सीन देने का भारत का वादा एक स्वागत योग्य खबर है। इससे एक बड़ा अवरोध टूट गया है।' 'कनाडा के बयान से उपजी नाराजगी दूर होगी' थॉमस ने कहा, 'कभी-कभी राजनीति, व्यापार संबंधों को बेहतर करती है लेकिन बेहतर व्यापार भी एक अच्छा राजनीतिक संबंध बना सकता है। इस विकास से हमारे दोनों देशों के बीच की सभी परेशानियों को दूर करने में मदद मिलेगी।’ वहीं ओटावा स्थित ओवरसीज फ्रेंड्स ऑफ इंडिया और कनाडा (ओएफआईसी) के अध्यक्ष शिव भास्कर ने कहा, ‘किसानों के विरोध को लेकर हाल ही में कनाडा द्वारा दिए गए बयान से उपजी नाराजगी दूर होगी।' भास्‍कर ने कहा, 'भारत, कनाडा के गुड्स, कृषि, यूरिया जैसी कई चीजों के लिए बड़ा बाजार है। लिहाजा हमें भारत के आंतरिक मामलों पर बयान जारी करने के बजाय व्यापार पर ध्यान देना चाहिए।’ विनीपेग के व्यवसायी हेमंत शाह ने कहा, ‘ट्रूडो ने मोदी को फोन करके अच्छा काम किया है। हमें नकारात्मक बयानों से द्विपक्षीय व्यापार संबंधों को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए।’

Top News