taaja khabar...सुप्रीम कोर्ट से मोदी को राफेल पर बड़ी राहत, राहुल को झटका....मध्य प्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री होंगे कमलनाथ, कांग्रेस ने किया ऐलान...हिमाचल विधानसभा में पारित हुआ गाय को राष्ट्रमाता का दर्जा देने का प्रस्ताव...मुठभेड़ में मारे गए तीन लश्कर आतंकियों में हैदर मूवी में ऐक्टिंग करने वाला युवक भी शामिल...मिजोरम: पहली बार ईसाई रीति-रिवाजों के साथ होगा शपथ ग्रहण...पाकिस्तानियों को भारत में बसाने का विवादित कानून, SC ने उठाए सवाल...तीन राज्यों में हार के बाद 2019 के लिए मैराथन प्रचार में जुटेंगे पीएम मोदी, दक्षिण, पूर्व और पूर्वोत्तर पर नजर...बीजेपी का बड़ा दांव, गांधी परिवार के गढ़ से कुमार विश्वास को दे सकती है टिकट...छत्तीसगढ़ में हर तीसरे MLA पर आपराधिक केस, तीन-चौथाई करोड़पति...हार के बाद BJP ने 2019 के चुनाव के लिए भरी हुंकार, रणनीति तैयार...
J&K: आतंकियों के लिए सहानूभूति बटोरने वाले कई वॉट्सऐप ग्रुप्स को नोटिस, सरकार सख्त
जम्मू सोशल मीडिया का इस्तेमाल कर सुरक्षा एजेंसियों की छवि बिगाड़ने और आतंकियों के लिए सहानुभूति बटोरने वाले लोगों पर शिकंजा कसते हुए पुलिस ने जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ में 21 वॉट्सऐप ग्रुप्स के संचालकों के खिलाफ नोटिस जारी किया है। किश्तवाड़ के वरिष्ठ अधीक्षक अबरार चौधरी ने बताया कि पुलिस ने पिछले तीन महीने में कुछ संदिग्ध वॉट्सऐप ग्रुप्स की पड़ताल करने के बाद अब इन सभी के संचालकों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। एसएसपी ने कहा कि पुलिस ने वॉट्सऐप समेत अलग-अलग सोशल मीडिया साइट्स पर ऐसे लोगों की पहचान की थी, जिसकी रिपोर्ट किश्तवाड़ के जिला मैजिस्ट्रेट को सौंपी गई। रिपोर्ट मिलने के बाद किश्तवाड़ के जिला मैजिस्ट्रेट अंग्रेज सिंह राणा ने 29 जून को एक आदेश जारी कर वॉट्सऐप समूहों के ऐडमिन जैसे सोशल मीडिया समूहों के यूजर्स से 10 दिन के अंदर प्रशासन से अनुमति लेने के निर्देश दिए गए थे और साथ ही ऐसा ना करने पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई थी। तीन लोगों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज चौधरी ने बताया कि अभी तक सिर्फ चार पांच ग्रुप्स खुद का पंजीकरण कराने के लिए सामने आए हैं। इनमें से तीन आधिकारिक हैं और केवल दो निजी समूह हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस ने 21 वॉट्सऐप समूहों के एडमिन को तत्काल अपने ग्रुप्स का पंजीकरण कराने के लिए नोटिस जारी किया है। इसके अलावा पुलिस ने तीन लोगों के खिलाफ प्राथमिकी भी दर्ज की है। पुलिस अधिकारी ने कहा कि सामाज विरोधी और राष्ट्र विरोधी तत्व सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर इसका इस्तेमाल जनता को कानून एजेंसियों के भड़काने के लिए कर रहे हैं। वॉट्सऐप पर केंद्र ने भी दी थी चेतावनी गौरतलब है कि बीते दिनों वॉट्सऐप द्वारा फैलाई गई अफवाहों के कारण देश में पिछले दिनों मॉब लिंचिंग के कई हादसे हो चुके हैं। इन्हें देखते हुए सरकार ने पिछले दिनों वॉट्सऐप को सख्ती से कहा कि वह अपने प्लैटफॉर्म पर गैरजिम्मेदार तथा भड़काऊ संदेशों का प्रसार रोकने के उपाय करे।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/