taaja khabar....संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा- नागपुर से नहीं चलती सरकार, कभी नहीं जाता फोन...जॉब रैकिट का पर्दाफाश, कृषि भवन में कराते थे फर्जी इंटरव्यू...हिज्बुल का कश्मीरियों को फरमान, सरकारी नौकरी छोड़ो या मरो...एमपी, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी बीएसपी को चाहिए ज्यादा सीटें...अगस्ता डील के बिचौलिए क्रिश्चियन मिशेल का दुबई से जल्द हो सकता है प्रत्यर्पण....PM मोदी की पढ़ाई पर सवाल उठाकर फंसीं कांग्रेस की सोशल मीडिया हेड स्पंदना, हुईं ट्रोल...
सोनिया की डिनर डिप्लोमेसी: शरद पवार से लेकर बीएसपी नेता तक बने मेहमान
नई दिल्ली 2019 में लोकसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में विपक्ष ने सत्तारूढ़ बीजेपी को घेरने और उसकी जीत के जश्न को फीका करने की पूरी तैयारी कर ली है। इसी सिलसिले में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज विपक्षी दलों के लिए एक बड़ा भोज रखा, जिसमें तकरीबन 17 विपक्षी पार्टियों के नेता शामिल हो सकते हैं। सोनिया के डिनर में पहुंचे ये नेता सोनिया के इस डिनर में शामिल होने के लिए जेवीएम के बाबूलाल मरांडी, डीएमके के कनिमोझी और एआईयूडीएफ के बदरुद्दीन अजमल पहुंच चुके हैं। इनके अलावा राजद के तेजस्वी यादव, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के जीतनराम मांझी, उमर अब्दुल्ला भी सोनिया गांधी के इस सियासी डिनर में शामिल होने के लिए पहुंच चुके हैं। एनसीपी से लेकर बीएसपी बनी सोनिया की मेहमान वहीं एनसीपी के शरद पवार और तारिक अनवर के अलावा बीएसपी के सतीश चंद्र, कांग्रेस के एके एंटनी, अहमद पटेल, मल्लिकार्जुन खड़गे, रणदीप सिंह सुरजेवाला और गुलाम नबी आजाद भी आज इस सियासी भोज में सोनिया गांधी के मेहमान हैं। इनके अलावा और भी कई बड़े नेता सोनिया गांधी के डिनर में पहुंच चुके हैं। सोनिया गांधी के एक तीर से दो निशाने सोनिया गांधी की यह 'डिनर डिप्लोमेसी' हर तरफ चर्चा का विषय बनी हुई है। सोनिया ने ऐसे वक्त में यह डिनर आयोजित किया है जब बीजेपी में घमासान चल रहा है और साथ ही विपक्षी एकता की बात चल रही है। जाहिर है सोनिया गांधी इस डिनर के जरिए सभी विपक्षी दलों का विश्वास बटोरना और उन्हें एकजुट करना चाहती हैं। सोनिया गांधी के इस सियासी डिनर से कहीं न कहीं यह संकेत भी जा रहा है कि आने वाले चुनावों मे अगर मोदी का विकल्प चुना गया तो वह गठबंधन कांग्रेस के नेतृत्व में ही होगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सोनिया गांधी ने यह बात विपक्षी दलों के सामने रखी भी है कि वे आपसी मतभेद भुलाकर साथ आएं ताकि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों से बीजेपी का सफाया किया जा सके।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/