taaja khabar....अपग्रेड होगा PM मोदी का विमान, लगेगा मिसाइल से बचने का सिस्टम.....पाकिस्तान में चुनाव नजदीक, अंतरराष्ट्रीय सीमा पर फायरिंग 400% बढ़ी....भारत, पाकिस्‍तान और चीन ने बढ़ाया परमाणु हथियारों का जखीरा....अगले चीफ जस्टिस कौन? कानून मंत्री बोले, सरकार की नीयत पर संदेह न करें....बातचीत को तैयार आप सरकार और आईएएस अफसर, अब उप राज्यपाल के पाले में गेंद....लखनऊ रेलवे स्टेशन के पास बने होटेल में भीषण आग, 5 लोगों की मौत, कई गंभीर....बिहार: रोहतास में डीजे में बजाया- हम पाकिस्तानी, 8 गिरफ्तार....प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राहुल गांधी को जन्मदिन पर दी बधाई.....भीमा कोरेगांव हिंसा: हथियार के लिए नेपाली माओवादियों के संपर्क में थे नक्सली....केजरीवाल के धरने का नौंवा दिन, क्या अफसरों-LG से बनेगी बात?....
सोनिया की डिनर डिप्लोमेसी: शरद पवार से लेकर बीएसपी नेता तक बने मेहमान
नई दिल्ली 2019 में लोकसभा चुनाव होने हैं, ऐसे में विपक्ष ने सत्तारूढ़ बीजेपी को घेरने और उसकी जीत के जश्न को फीका करने की पूरी तैयारी कर ली है। इसी सिलसिले में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज विपक्षी दलों के लिए एक बड़ा भोज रखा, जिसमें तकरीबन 17 विपक्षी पार्टियों के नेता शामिल हो सकते हैं। सोनिया के डिनर में पहुंचे ये नेता सोनिया के इस डिनर में शामिल होने के लिए जेवीएम के बाबूलाल मरांडी, डीएमके के कनिमोझी और एआईयूडीएफ के बदरुद्दीन अजमल पहुंच चुके हैं। इनके अलावा राजद के तेजस्वी यादव, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के जीतनराम मांझी, उमर अब्दुल्ला भी सोनिया गांधी के इस सियासी डिनर में शामिल होने के लिए पहुंच चुके हैं। एनसीपी से लेकर बीएसपी बनी सोनिया की मेहमान वहीं एनसीपी के शरद पवार और तारिक अनवर के अलावा बीएसपी के सतीश चंद्र, कांग्रेस के एके एंटनी, अहमद पटेल, मल्लिकार्जुन खड़गे, रणदीप सिंह सुरजेवाला और गुलाम नबी आजाद भी आज इस सियासी भोज में सोनिया गांधी के मेहमान हैं। इनके अलावा और भी कई बड़े नेता सोनिया गांधी के डिनर में पहुंच चुके हैं। सोनिया गांधी के एक तीर से दो निशाने सोनिया गांधी की यह 'डिनर डिप्लोमेसी' हर तरफ चर्चा का विषय बनी हुई है। सोनिया ने ऐसे वक्त में यह डिनर आयोजित किया है जब बीजेपी में घमासान चल रहा है और साथ ही विपक्षी एकता की बात चल रही है। जाहिर है सोनिया गांधी इस डिनर के जरिए सभी विपक्षी दलों का विश्वास बटोरना और उन्हें एकजुट करना चाहती हैं। सोनिया गांधी के इस सियासी डिनर से कहीं न कहीं यह संकेत भी जा रहा है कि आने वाले चुनावों मे अगर मोदी का विकल्प चुना गया तो वह गठबंधन कांग्रेस के नेतृत्व में ही होगा। रिपोर्ट्स के मुताबिक, सोनिया गांधी ने यह बात विपक्षी दलों के सामने रखी भी है कि वे आपसी मतभेद भुलाकर साथ आएं ताकि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनावों से बीजेपी का सफाया किया जा सके।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/