taaja khabar....भारत ने पाकिस्तान को दिखाया 'ठेंगा', नहीं भेजा सीमा शुल्क मीटिंग का न्यौता...यूपीः 69,000 सहायक शिक्षकों की भर्ती परीक्षा 6 जनवरी को....पंजाब: कैप्टन बयान पर नवजोत सिंह सिद्धू की बढ़ीं मुश्किलें, 18 मंत्रियों ने खोला मोर्चा...साबुन-मेवे की दुकान में मिले सीक्रेट लॉकर, 25 करोड़ कैश बरामद....J-K: शोपियां में सुरक्षा बलों ने 3 आतंकियों को घेरा, मुठभेड़ जारी...
दाऊद को पाकिस्तान में मिल रही पूरी सुरक्षा, सेफ हाउस की सुरक्षा में लगे हैं पाक रेंजर्स
मुंबई 1993 बम धमाकों की 25वीं बरसी पर मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर एम. एन. सिंह ने कहा था कि उन्हें लगता है कि पाकिस्तान के लिए दाऊद इब्राहिम अब किसी काम का नहीं है। लेकिन दुबई से पिछले सप्ताह डिपॉर्ट हुए फारुक टकला ने पाकिस्तान और दाऊद के रिश्तों को लेकर कुछ नए खुलासे किए हैं। फारुक को सीबीआई ने अभी 93 बम धमाकों में आरोपी बनाया है। बाद में गुटखा कांड में भी सीबीआई उसकी कस्टडी लेगी। मुंबई क्राइम ब्रांच 1992 के जे. जे शूटआउट मामले में भी उसकी हिरासत मांगेगी, जिसमें वह 16 नंबर आरोपी है। विश्वस्त सूत्रों के अनुसार, फारुक ने पूछताछ में बताया कि अब दाऊद स्थाई रूप से पाकिस्तान में बस गया है लेकिन एक वक्त ऐसा भी था, जब वह नियमित रूप से पाकिस्तान और दुबई के बीच चक्कर लगाया करता था। उस वक्त दाऊद के समुद्री और हवाई रास्ते से दुबई पहुंचने के बाद उसे रिसीव करने का काम खुद फारुक ही करता था। वह वहां पेशे से टैक्सी ड्राइवर था। लोकल गुंडों ने भी ली सुपारी सूत्रों का कहना है कि फारुक ने पूछताछ में यह भी बताया कि डेढ़ दशक पहले पाकिस्तान के लोकल गुंडों ने दाऊद को मारने की सुपारी ली थी और उस टापू के पास तक तक पहुंच गए थे, जहां उसे एक सेफ हाउस में रखा गया था। पर, पाकिस्तान की आर्मी के लोगों ने दाऊद को बचा लिया था। इसके अलावा छोटा राजन के लोगों ने भी उसे मारने की कम से कम आधा दर्जन बार कोशिश की थी। राजन का आदमी फरीद तनाशा इस सिलसिले में कई महीने तक पाकिस्तान में रहा था। कुछ साल पहले फरीद का मुंबई के तिलक नगर इलाके में मर्डर कर दिया गया था। कब बदलता है ठिकाना? फारुक टकला ने बताया कि दाऊद हमेशा कराची के क्लिफटन एरिया में ही रहता है। पर, जब भी कोई अंतरराष्ट्रीय नेता पाकिस्तान आता है तो दाऊद को क्लिफटन एरिया से कुछ किलोमीटर दूर ‘अंडा ग्रुप ऑफ़ आईलैंड्स’ पर बने एक सेफ हाउस में शिफ्ट कर दिया जाता है। जब भारत संयुक्त राष्ट्र संघ और अन्य अंतरराष्टीय मंचों से दाऊद के क्लिफटन एरिया वाले घर का खुलासा करता है, तब भी दाऊद को यहां से कुछ समय के लिए निकाल दिया जाता है। क्लिफटन एरिया वाले घर में दाऊद की सुरक्षा पाकिस्तानी रेंजर्स के जवान करते हैं, पर जब उसे सेफ हाउस में शिफ्ट किया जाता है तो पाकिस्तानी कोस्ट गार्ड की एक टीम भी इस सेफ हाउस की सुरक्षा में तैनात रहती है। इस दौरान पाकिस्तानी कोस्ट गार्ड का एक शिप सेफ हाउस के चारों तरफ लगातार गश्त करती रहती है। यहां दाऊद पाकिस्तानी अधिकारियों से एक खास तरह के सैटलाइट फोन के जरिए संपर्क में रहता है। सेफ हाउस के बाहर पाकिस्तानी कोस्टगार्ड की एक खास स्पीड बोट भी तैनात रहती है, जो किसी आपात स्थिति में महज चंद घंटों में उसे सेफ हाउस से दुबई शिफ्ट कर सकती है। चार महीने पहले एफआईआर दाऊद के खिलाफ मुंबई में आखिरी एफआईआर चार महीने पहले दर्ज हुई, जब ठाणे हफ्ता निरोधक प्रकोष्ठ सेल के प्रमुख प्रदीप शर्मा ने उसके भाई इकबाल कासकर को गिरफ्तार किया। उस केस में अनीस इब्राहिम और छोटा शकील को भी आरोपी बनाया गया है।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/