taaja khabar....राफेल डील पर नई रिपोर्ट का दावा, नियमों के तहत रिलायंस को मिला ठेका.....सीबीआई को पहली कामयाबी, भारत लाया गया विदेश भागा भगोड़ा मोहम्मद याह्या.....राजस्थान विधानसभा चुनाव की बाजी पलट कर लोकसभा के लिए बढ़त की तैयारी में BJP.......GST के बाद एक और बड़े सुधार की ओर सरकार, पूरे देश में समान स्टैंप ड्यूटी के लिए बदलेगी कानून....UNHRC में भारत की बड़ी जीत, सुषमा स्वराज ने जताई खुशी....PM मोदी के लिखे गाने पर दृष्टिबाधित लड़कियों ने किया गरबा.....मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव: कांग्रेस के साथ नहीं एसपी-बीएसपी, बीजेपी को हो सकता है फायदा....गुरुग्रामः जज की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मी ने उनकी पत्नी, बेटे को बीच सड़क गोली मारी, अरेस्ट....बेंगलुरु में HAL कर्मचारियों से मिले राहुल गांधी, बोले- राफेल आपका अधिकार....कैलाश गहलोत के घर से टैक्स चोरी के सबूत मिलेः आईटी विभाग.....मेरे लिए पाकिस्तान की यात्रा दक्षिण भारत की यात्रा से बेहतर: सिद्धू....घायल रहते 2 उग्रावादियों को किया ढेर, शहादत के बाद इंस्पेक्टर को मिलेगा कीर्ति चक्र....छत्तीसगढ़: कांग्रेस को तगड़ा झटका, रामदयाल उइके BJP में शामिल....
धार्मिक सिक्कों से नहीं बिगड़ेगा धर्मनिरपेक्ष ढांचा: हाई कोर्ट
नई दिल्ली दिल्ली उच्च न्यायालय ने धार्मिक चिन्ह वाले सिक्कों पर प्रतिबंध की मांग की याचिका को गुरुवार को खारिज कर दिया। हाई कोर्ट ने कहा कि इससे देश की धर्मनिरपेक्षता को कोई खतरा नहीं है। कार्यकारी मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और न्यायमूर्ति सी. हरि शंकर ने माता वैष्णो देवी की तस्वीर के साथ जारी पांच रुपये के सिक्कों पर सवाल उठाने वाली याचिका को खारिज करते हुए कहा कि 'सिक्का अधिनियम के तहत सरकार के पास ऐसे सिक्कों को जारी करने की शक्ति है। वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की रजत जयंती पर माता वैष्णो देवी की तस्वीर के साथ जारी सिक्कों से देश का धर्मनिरपेक्ष ढांचा नहीं बिगड़ेगा।' ऐक्टिंग चीफ जस्टिस गीता मित्तल और जस्टिस सी हरिशंकर की बेंच ने यह याचिका खारिज करते हुए कहा कि इससे देश की धर्मनिरपेक्षता वाली छवि पर दाग नहीं लगता। बेंच ने कहा, 'धर्मनिरपेक्षता किसी खास अवसर का जश्न मनाने से नहीं रोकती। याचिकाकर्ता अपनी दलील साबित नहीं कर पाए कि धार्मिक चिन्हों वाले सिक्के जारी करने से धार्मिक अभ्यास पर क्या असर पड़ता है?' बेंच ने कहा कि सरकार को कॉइन ऐक्ट 2011 के तहत किसी खास अवसर का जश्न मनाने के लिए सिक्के जारी करने का पूरा अधिकार है। इससे किसी तरह का भेदभाव या पक्षवाद जाहिर नहीं होता। नफीस काजी और अबू सैयद नाम के 2 लोगों ने यह याचिका दायर की थी। उनकी मांग थी कि केंद्र सरकार को राष्ट्रीय नीति बनाकर देश की मूर्त और अमूर्त संपत्ति पर किसी धार्मिक आकृति या चिन्ह के इस्तेमाल पर रोक लगाने के लिए कहा जाए। सरकार ने 2010 में बृहदेश्वरा मंदिर के 1000 साल पूरे होने पर उनकी आकृति वाले 5 रुपये के सिक्के जारी किए थे। इसी तरह आरबीआई ने साल 2013 में श्री माता वैष्णों देवी श्राइन बोर्ड की आकृति वाले 5 रुपये के सिक्के जारी किए थे। याचिकाकर्ता ने इसे धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ बताया था।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/