taaja khabar....पुलवामा अटैक पर बोले PM मोदी- जो आग आपके दिल में है, वही मेरे दिल में.....धुले रैली में पाक को पीएम मोदी की चेतावनी- हम छेड़ते नहीं, किसी ने छेड़ा तो छोड़ते नहीं.....पुलवामा हमला: मीरवाइज उमर फारूक समेत 5 अलगाववादियों की सुरक्षा वापस....भारत ने आसियान और गल्फ देशों के प्रतिनिधियों को दिए जैश-ए-मोहम्मद और पाक के लिंक के सबूत...पुलवामा हमला: बदले की कार्रवाई से पहले पाक को अलग-थलग करने की रणनीति....पुलवामा अटैक: पाकिस्तान क्रिकेट को बड़ा झटका, चैनल ने PSL को किया ब्लैकआउट..पाकिस्तान ने भारतीय सैन्य कार्रवाई के डर से LoC के पास अपने लॉन्च पैड्स कराए खाली!...पाकिस्तान से आयात होने वाले सभी सामानों पर सीमाशुल्क बढ़ाकर 200 फीसदी किया गया: जेटली...पुलवामा अटैक: JeM सरगना मसूद अजहर पर अब विकल्प तलाशने में जुटा चीन....पुलवामा आतंकवादी हमले के लिए सेना जिम्‍मेदार: कांग्रेस नेता नूर बानो...
लेफ्टिनेंट जनरल कंवलजीत सिंह ढिल्लों ने चिनार कोर की कमान संभाली
श्रीनगर, नौ फरवरी (भाषा) लेफ्टिनेंट जनरल कंवलजीत सिंह ढिल्लों ने सेना की श्रीनगर स्थित रणनीतिक महत्व वाली 15वीं कोर के 48 वें कोर कमांडर का पदभार ग्रहण किया है। यह कोर कश्मीर में नियंत्रण रेखा की निगरानी करती है। लेफ्टिनेंट ढिल्लों ने शुक्रवार को 15 वीं कोर की कमान लेफ्टिनेंट जनरल ए के भट्ट से ली। इस कोर को चिनार कोर भी कहा जाता है। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘लेफ्टिनेंट जनरल को विदाई दी गयी। वह अब सेना मुख्यालय में सेना सचिव (एमएस) के तौर पर दिल्ली गये हैं। ’’ उन्होंने कहा कि लेफ्टिनेंट जनरल भट्ट के कार्यकाल में कई सफल अभियान हुए और पिछले कई दशकों में किसी एक साल में सबसे अधिक आतंकवादियों का सफाया किया गया । 259 आतंकवादियों का सफाया किया गया जबकि 64 स्थानीय आतंकवादियों को या तो पकड़ा गया या उन्होंने आत्मसमर्पण किया। प्रवक्ता ने कहा, ‘‘इस उपलब्धि का रमजान के पवित्र महीने के दौरान आक्रामक अभियान बंद करने, 60 दिनों की अमरनाथ यात्रा की लंबी अवधि तथा सफलतापूर्वक स्थानीय शहरी निकाय एवं पंचायत चुनाव होने के मद्देनजर बड़ा महत्व है। नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान के संघर्षविराम उल्लंघन और अन्य भड़काऊपूर्ण कार्रवाई पर त्वरित और जबर्दस्त दंडात्मक जवाबी कार्रवाई असरकारी साबित हुई। ’’ अपने विदाई संबोधन में लेफ्टिनेंट जनरल भट्ट ने चिनार कोर के सभी सैन्यकर्मियों की उनके समर्पण के लिए तारीफ की और जम्मू कश्मीर पुलिस, सीआरपीएफ, बीएसएफ और अन्य सुरक्षा बलों एवं नागरिक प्रशासन तथा अन्य लोगों उनके सहयोग के लिए धन्यवाद दिया। प्रवक्ता के अनुसार लेफ्टिनेंट जनरल ढिल्लों ने दिसंबर, 1983 में सेना में कमीशन मिला था और उनका 35 साल का उज्ज्वल सैन्य करियर रहा है। इस दौरान उन्होंने विभिन्न प्रतिष्ठित कमान संभाली।

Top News

http://www.hitwebcounter.com/