उपचुनाव: आजम से हार का बदला लेने की तैयारी में बीजेपी, दिनेश शर्मा को बनाया रामपुर का प्रभारी

मेरठ लोकसभा चुनाव में प्रचंड जीत के बाद अब बीजेपी यूपी में होने वाले उपचुनाव को लेकर खास तैयारियां कर रही है। बीजेपी के नए ऐक्शन प्लान में यूपी की सभी सीटों के साथ-साथ खास तौर से रामपुर विधानसभा सीट पर जीत के लिए विशेष बल दिया गया है। एसपी के नेता आजम खान के इस क्षेत्र में सूबे के डेप्युटी सीएम दिनेश शर्मा को रामपुर का प्रभारी बनाया गया है। इससे पहले डेप्युटी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने दो दिन पहले मीटिंग में साफ किया कि बीजेपी ने उपचुनाव में 60 फीसदी वोट हासिल करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। बीजेपी ने लोकसभा चुनाव में एसपी बीएसपी और आरएलडी के गठबंधन की उम्मीद पर पानी फेरकर बड़ी सफलता हासिल की। चुनावों में प्रत्याशी रहे कई बीजेपी विधायक सांसद बने। इनमें गोविंदनगर (कानपुर), टूंडला (फिरोजाबाद), कैंट (लखनऊ), जैदपुर (बाराबंकी), मानिकपुर (चित्रकूट), बलहा (बहराइच), गंगोह (सहारनपुर), इगलास (अलीगढ़), प्रतापगढ़, हमीरपुर से बीजेपी के विधायकों को सांसद चुना गया। इसके अलावा रामपुर से एसपी और जलालपुर (अंबेडकरनगर) से बीएसपी के विधायक के सांसद बनने के बाद यह सीट भी खाली हुई। इसी के साथ मुजफ्फरनगर की मीरापुर सीट से बीजेपी के अवतार सिंह भड़ाना के विधायकी छोड़कर कांग्रेस में जाने से खाली हुई है। अब इन सभी सीटों पर उपचुनाव कराए जाने है। सभी 13 सीटों पर जीत का लक्ष्य बीजेपी सूत्रों के मुताबिक पार्टी हर हाल में सभी 13 सीटों पर कमल खिलाने के लक्ष्य के साथ काम कर रही है। इसके लिए उसने हर सीट पर एक मंत्री और संगठन के एक सीनियर पदाधिकारी को प्रभारी बनाया है। सूत्रों के मुताबिक बीजेपी की सबसे ज्यादा नजर रामपुर सीट पर है। इस सीट से एसपी के चर्चित नेता आजम खां सांसद बने हैं। आजम के खिलाफ बीजेपी ने रामपुर से दो बार सांसद रही पूर्व फिल्म अभिनेत्री जयप्रदा को मैदान में उतारा था। तमाम घेराबंदी और मोदी लहर के बाद भी बीजेपी आजम को हरा नहीं सकी। आजम एक लाख से अधिक वोटों से जीते। चुनाव प्रबंधन के माहिर हैं दिनेश शर्मा बीजेपी का मानना है कि लोकसभा में यूपी में बड़ी जीत पार्टी को मिली। प्रदेश में बीजेपी की सरकार भी हैं। ऐसे में उपचुनाव में इसका फायदा मिलना तय है। वहीं उपचुनाव में बीजेपी ने रामपुर में कमल खिलाने का जिम्मा अपने कद्दावर नेता डेप्युटी सीएम दिनेश शर्मा को दिया है। दिनेश शर्मा को पार्टी में चुनाव प्रबंधन का माहिर माना जाता है, हालांकि रामपुर सीट हासिल करने में बीजेपी को काफी मशक्कत करनी पड़ सकती है। इसके अलावा माना जा रहा है कि इस सीट पर आजम अब अपने परिवार के किसी सदस्य को चुनाव लड़ा सकते हैं।

Top News