taaja khabar....फ्रांस ने भारत से आधे दाम में राफेल का ऑर्डर देने का किया खंडन, कहा- यह मौजूदा विमानों के अपग्रेडेशन की लागत...कर्नाटक का नाटक जारी, निर्दलियों के बाद कुछ कांग्रेस विधायक भी बदल सकते हैं पाला...पंजाब: आम आदमी पार्टी को एक और झटका, विधायक मास्टर बलदेव ने छोड़ी पार्टी...सुप्रीम कोर्ट जज ने कलीजियम के यू-टर्न के खिलाफ CJI गोगोई को लिखा खत...सेना में जाति-आधारित नियुक्ति पर हाई कोर्ट ने मांगा सेना-सरकार से जवाब...JNU केस: पुलिस के पास तीन तरह के सबूत...कांग्रेस की छत्तीसगढ़ सरकार ने ठुकराई केंद्र की 'आयुष्मान भारत' योजना...निजी शिक्षण संस्थाओं में आरक्षण के लिए नया बिल ला सकती है सरकार...
आलोक वर्मा मामले में जस्टिस सीकरी का वोट खड़गे की जगह पीएम मोदी के साथ क्यों गया?
नई दिल्ली, केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) में चल रहा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. 24 घंटे के भीतर ही आलोक वर्मा की सीबीआई निदेशक पद से छुट्टी हो गई. गुरुवार को पीएम मोदी के नेतृत्व वाली सेलेक्शन कमेटी ने आलोक वर्मा को हटाने का फैसला किया. अब इस पूरे मामले पर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मार्कंडेय काटजू ने फेसबुक पर पोस्ट लिखी है. उन्होंने बताया है कि जस्टिस सीकरी ने आलोक वर्मा को सीबीआई के डायरेक्टर के पद से क्यों हटाया. उन्होंने लिखा कि कल मैंने सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस एके सीकरी को लेकर एक पोस्ट लिखा था. कई लोगों ने मुझसे पूछा कि आलोक वर्मा को कमेटी के सामने अपना पक्ष रखने का मौका नहीं मिला. इसके बाद मैंने जस्टिस सीकरी को आज सुबह फोन किया और पूछा कि इस पर आपको क्या कहना है. उन्होंने जो कहा उसको फेसबुक पर लिखने की इजाजत भी मैंने उनसे ली. बातचीत में जस्टिस सीकरी ने यह बातें कहीं-- - सीवीसी के सामने जो सबूत आए थे उसके आधार पर उसने आलोक वर्मा के ऊपर पहले ही आरोप लगाए थे. - सीवीसी ने आलोक वर्मा को अपना पक्ष रखने का मौका दिया. - सीवीसी द्वारा आलोक वर्मा को दोषी पाए जाने के बाद जस्टिस सीकरी का मानना था कि आलोक वर्मा को सीबीआई के निदेशक जैसे महत्वपूर्ण पद पर नहीं होना चाहिए था. उनका मानना था कि जब तक उनका दोष साबित नहीं हो जाता या वो निर्दोष करार नहीं दे दिए जाते तब तक उन्हें इस पद पर नहीं होना चाहिए. -कुछ लोगों का मानना था कि आलोक वर्मा को हटाया नहीं गया है. यहां तक कि उनको निलंबित भी नहीं किया गया. उनका सिर्फ तबादला किया गया. सैलरी उनको मिलती रही. -जहां तक आलोक वर्मा को सुनवाई के लिए मौका नहीं देने का सवाल है तो प्रिंसिपल है कि बिना किसी सुनवाई के पद से नहीं हटाया जा सकता, लेकिन निलंबित किया जा सकता है. - आलोक वर्मा को तो निलंबित भी नहीं किया गया है, उनका सिर्फ उसी रैंक के किसी दूसरे पद पर तबादला हुआ है. बता दें कि सेलेक्शन कमेटी में पीएम मोदी, कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे और जस्टिस एके सीकरी शामिल थे. आलोक वर्मा के खिलाफ 2-1 से फैसला लिया गया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस एके सीकरी सीवीसी की सिफारिश के अनुसार आलोक वर्मा को हटाने के हक में थे, जबकि मल्लिकार्जुन खड़गे ने इसका विरोध किया. पहले पोस्ट में क्या लिखा था काटजू ने जस्टिस काटजू ने अपने पहले पोस्ट में लिखा कि आलोक वर्मा को सीबीआई निदेशक के पद से हटा दिया गया है. इसका फैसला प्रधानंत्री मोदी की अध्ययक्षता वाली 3 सदस्यीय कमेटी ने किया. प्रधानंत्री और सीकरी ने आलोक वर्मा को हटाने का फैसला किया. वहीं मल्लिकार्जुन खड़गे ने उनके फैसले का विरोध किया. इस फैसले के बाद मेरे पास कई फोन आएं, और लोगों ने पूछा कि मेरा इस पर क्या कहना है. मैं जस्टिस सीकरी को बहुत अच्छे से जानता हूं क्योंकि मैं दिल्ली हाइकोर्ट में उनका चीफ जस्टिस था. मैं उनकी ईमानदारी की तारीफ सकता हूं. उन्होंने बिना किसी सबूत के अलोक वर्मा के खिलाफ फैसला नहीं लिया होगा. मुझे नहीं पता कि वो क्या सबूत हैं, पर मैं जस्टिस सीकरी को जानता हूं और अपनी जानकारी से कह सकता हूं कि वो किसी से प्रभावित नहीं हो सकते हैं. उनके ऊपर किसी भी तरह के आरोप लगाना गलत है

Top News

http://www.hitwebcounter.com/