taaja khabar.....राजस्थान: कांग्रेस की लिस्ट में पैराशूट कैंडिडेट, कार्यकर्ताओं ने पूछा क्या हुआ राहुल का वादा?....राजस्थान कांग्रेस की 152 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, पायलट टोंक तो गहलोत सरदारपुरा से लड़ेंगे चुनाव...CBI vs CBI: SC का आदेश- आलोक वर्मा को मिलेगी CVC रिपोर्ट, अस्थाना को झटका....लखनऊ: अचानक पुलिस लाइन पहुंचे सीएम योगी, अफसरों में हड़कंप ...पेट्रोल और डीजल की कीमतों में राहत जारी, आज भी घटे दाम ...शेयर बाजार की तेज शुरुआत, सेंसेक्स 96 और निफ्टी 23 अंक बढ़कर खुला....राजस्थान कांग्रेस की लिस्ट पर बवाल, राहुल के घर के बाहर धरने पर बैठे कार्यकर्ता...अमृतसर में दिखा खूंखार आतंकी जाकिर मूसा, दिल्ली में घुसने की आशंका, अलर्ट जारी....तेलंगाना में कांग्रेस को बड़ा झटका, दो मुस्लिम नेताओं ने छोड़ी पार्टी...सालभर में 14 करोड़ रुपये के चादर-तौलिया चुरा ले गए AC के यात्री....
2019: सरकारी योजनाओं के लाभार्थियों को साधने के लिए गांवों में जोर लगा रही बीजेपी
मेरठ भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) 2019 में भी 2014 जैसा रिजल्ट हासिल करने के लिए गांवों पर नजर बनाए हुए है। ऐसे में आने वाले वक्त में `लाभार्थी संपर्क प्रमुख’ पार्टी के खेवनहार बनेंगे। क्षेत्र, जिला, मंडल और बूथ स्तर पर इन 'लाभार्थी संपर्क प्रमुखों' को तैनात किया जाएगा। इन पर पार्टी के पक्ष में समर्थन जुटाने और सीनियर नेताओं के गांव-गांव लगने वाली चौपाल और प्रवास के दौरान जनता से जुड़ाव पैदा करने का जिम्मा होगा। इसी के साथ सीएम योगी आदित्यनाथ को किसान हितैषी के तौर पर पेश किए जाने की तैयारी है। इसके लिए 20 से 25 अक्टूबर और 28 अक्टूबर से 2 नवंबर तक बीस हजार से ज्यादा गांवों के किसानों से धन्यवाद पत्र लिखवाने को अभियान चलेगा। बीजेपी की चुनावी रणनीति से जुड़े लोगों का कहना है कि शहरी क्षेत्र में पार्टी पहले से मजबूत है, संगठन भी सशक्त है। गांवों में लोगों को जोड़ने पर जोर देना चाहिए। बीजेपी के एक सीनियर नेता के मुताबिक, 'तय किया गया है कि सरकारी योजनाओं का लाभ लेने वालों का समर्थन हासिल करने के लिए बनाए प्लान के मुताबिक इन `लाभार्थी संपर्क प्रमुख’ की तैनाती तय की जाए। इनका जाल ऐसा होगा कि सरकारी योजना का लाभ हासिल करने वाले किसी भी वर्ग के लाभार्थी तक उनकी पहुंची होगी। यूपी के हर बूथ, हर मंडल, हर जिला और हर क्षेत्र पर इनको रखा जाएगा। इनका काम लाभार्थी से मिलकर यह समझाने की कोशिश करना होगा कि सरकार उनके जरूरत के वक्त में काम आई, अब चुनाव में वह सरकार यानी बीजेपी के साथ खड़े हों।' 'सांसद-विधायक गांवों में करेंगे प्रवास' पार्टी के प्लान के मुताबिक `लाभार्थी संपर्क प्रमुख’ की इस कवायद के बाद ग्राम संपर्क अभियान में नवंबर से जनवरी तक पार्टी के एमपी-एमएलए गांवों में प्रवास करेंगे। बीजेपी के वेस्ट यूपी प्रवक्ता गजेंद्र शर्मा के मुताबिक, 'तीन महीने में हर एमपी-एमएलए को कम से कम 50 गांव या सेक्टर में जाना होगा। एक महीने में पूरे प्रदेश में तीन दिन एक साथ यह प्रवास अभियान चलेगा। इस अभियान में एक दिन में कम से पांच से सात गांव और सेक्टर को कवर करना होगा। यानी तीन महीने में 50 गांव पूरे करने होंगे। ग्राम संपर्क अभियान के तहत `लाभार्थी संपर्क प्रमुख’ एमपी-एमएलए को लाभार्थियों से मिलवाकर पुख्ता समर्थन हासिल करने की स्क्रिप्ट लिखी जाएगी।' दरअसल, पार्टी का मानना है कि अगर सरकारी योजनाओं का लाभ पाने वाले लोग ईमानदारी से सरकार के साथ खड़े हो गए, तब गैर बीजेपी दलों के संभावित गठबंधन से पार पाना आसान हो जाएगा। इसी के तहत ग्राम चौपाल अभियान की दूसरी कड़ी भी शुरू होगी, जिसमें सीएम, मंत्री, पदाधिकारी गांव में रात बिताएंगे। इसकी तिथि इसी सप्ताह घोषित होने की उम्मीद पार्टी में जताई जा रही हैं। इस बार उन गांवों में चौपाल लगाई जाएगी, जहां पहले चरण में नहीं लगी थी। योगी को किसान हितैषी के तौर पर पेश करने की तैयारी किसानों को लेकर उमड़े सभी राजनीतिक दलों के प्रेम के मद्देनजर बीजेपी ने सीएम योगी आदित्यनाथ को किसान हितैषी के तौर पर पेश करने की तैयारी में है। बीजेपी का प्लान है कि यूपी के हर किसान बाहुल्य गांव से योगी सरकार के किसानों के हित में उठाए कदम के पक्ष में धन्यवाद पत्र भिजवाया जाए। 20 अक्टूबर से 25 अक्तटूबर और 28 अक्तूबर से 2 नवंबर तक दो चरण में पत्र लिखवाने का अभियान बीजेपी किसान मोर्ची शुरू करेगा। मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष संजय त्यागी का कहना है, '20 हजार से ज्यादा गांव के लाखों किसान योगी को अपने हक और भले के लिए किए गए कामों के बदले धन्यवाद पत्र लिखकर देंगे। योगी सरकार में गन्ने का बकाया भुगतान, मिलों के विस्तारीकरण, फसलों के दाम में वृद्धि, कर्जमाफी आदि ऐतिहासिक काम हुए, जो पहले किसी और सरकार ने नहीं किए।'

Top News

http://www.hitwebcounter.com/